Hamarivani.com

ब्लाग तड़ाग

कलम से..: खूबसूरत अंजलि उर्फ़ बदसूरत लड़की की कहानी - सुधीर ...: बहुत खूबसूरत थी वो लड़कपन में।       लड़कपन में तो सभी खूबसूरत होते है।   क्या लड़के , क्या लड़कियां।   पर वो कुछ ज्यादा...for gazal, nazm & poems...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :
  May 16, 2015, 8:39 am
कमर पे रखे हुए घड़े से छलकते हुए पानी से खाली हुए घड़े को वापस भर देता है उसकी आँख से बहता हुआ पानी लोग करते हैं अश्लील इशारे पानी से भीग कर  अधफटे वस्त्र चिपक जाते हैं नितम्बो से  आँख झुका कर निकल जाती है वह फ़िक़रे कसती हुई गलियों सेआँगन में सास की गोद में र...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :कविता
  May 23, 2014, 11:30 pm
मिटानाचाहतामुझकोज़माना समझकरहमकोएकमुफलिसदीवाना यहाँमरकज़मेंअब रोटीनमक है वहांसोनेकेबिस्कुटकाखजाना     हुनरआताहैतुमकोयेअज़लसे दबेकुचले गरीबों को साताना      करोडो खाकेलाखोपर नज़रहै   तिजोरीहैकिसुरसाकामुहाना    न...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :
  December 20, 2013, 9:33 pm
जनवरीकी सर्दसडकोंके दोनोंओर हल्कीहवासे सरसराते सूखेपेड़-हरेपत्ते मेरीबेबसीपर कभीरोते कभीहँसते बड़ागहरा ताल्लुकहैमेरा इससड़क औरइनकेकिनारेके इनपडोंसे जिन्होंनेमुझे निहाराथाकभी मेरेगाँवकी दोखेजदोशीजाके क़दमोंसेकदम मिला...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :कविता
  August 23, 2013, 7:47 pm
Sudheer Maurya********************मेरादिल आहेजब सर्द-सर्द भरनेलगाथा कदमदहलीजपे जवानीकेजब रखनेलगाथा तबमेरे आँखोंसेटकराईथी मेरेएक गाँवकीलड़कीजवानी तिफ्ली सेउसके गलेलगके हंसती थीहिरनऔर मोरतकतेथे  जबकेचाल चलतीथी उसकीबाहें सुनहरीथी जुल्फकाली घनेरीथी नैनफरिश्तोंके कातिलथ...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :Sudheer Maurya 'sudheer'
  February 6, 2013, 9:13 pm
Sudheer Maurya*********************मेरी मय्यत से लिपट कर वो गुलो का हार रो पडा शायद वो भी उसका ठुकराया हुआ था सुधीर मौर्य 'सुधीर' गंज जलालाबाद, उन्नाव 209869     for gazal, nazm & poems...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :कविता
  January 26, 2013, 9:00 pm
Sudheer Maurya 'Sudheer' ********************************लांघकर अपनी अटारीकी मुंडेर मेरीअटारीपे आके उसनेबांधाथा मेरीकलाईपे लजाते - सकुचाते फ्रेंडशिपबेंड जिसकारंगथा राजहंसकेपंखोजेसा।बेंडतोबेंडथा वक़्तकेसाथ टूटकरबिखरगया। लेकिनउसकाउजलापन अबभीमेरीरातोंमें चांदनीबिखेरताहै मेरीकलाई...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :Sudheer Maurya 'sudheer'
  January 14, 2013, 11:15 pm
Check out हिन्दू सामग्री देवल देवी.. « sudheer ek kavi, ek kahanikarfor gazal, nazm & poems...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :
  January 8, 2013, 8:56 pm
मेरी ७९ नज़्म का संग्रह...सुधीर मौर्य 'सुधीर' Vpo- Ganj Jalalabad, Unnao209869for gazal, nazm & poems...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :सुधीर मौर्य की पुस्तके
  January 4, 2013, 9:22 am
मेरी ७९ नज़्म का संग्रह...सुधीर मौर्य 'सुधीर' Vpo- Ganj Jalalabad, Unnao209869for gazal, nazm & poems...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :हो न हो
  January 4, 2013, 9:22 am
Sudheer Maurya 'Sudheer'*********************************बरसो बाद पतझड़ो के मौसम मेंउनका दीदार हुआ..हाथ में चूडियाँपावं में महावरआँखों में काजलऔरमाथे पे सिंदूर..मुझे देख करउनके होठों पेतैर गई, वही मुस्कानजो बचपन से उनकी सूरत की सहेली रही...और सच  पुछो तो यही मेरे जीवन की सबसे बड़ी पहली रही..हाँ, हम जा...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :
  December 26, 2012, 8:29 am
सुधीरमौर्य 'सुधीर'********************सलामकरताहूँ मेंतेरीहिम्मतकोओ! हिन्दकीबेटी'दामिनी'तुझेलड़नाहैमौतसे औरदेनाहैउसे शिकस्तउठ औरबिजलीकीतरह चमककरसार्थक करदे अपना नाम औरलिखदे उनदरिंदोकेखूनसेआसमानकेकेनवासपर तूँअबलानहीं  जोदमतोड़देघबराकेजहाँके सितमसेतूँतो वो सब...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :
  December 23, 2012, 8:17 pm
हर फैसला मेरे बाबत उसी का थावो शक्स जो मुझे अब पहचानता नहींउसकी यादो के सहारे ही जी लेतेजो वो ख्वाबो में आकर सताता नहींनहीं-नहीं ये खबर मेरे दुश्मनों की होगीउसके बालो में अब गजरा महेकता नहींकुछ मेरी भी खता होगी जो वो यूँ खफा हुआमेरे शहर में आये और मेरी गली से गुजरता नह...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :
  November 13, 2012, 1:02 pm
तेरे होंठ की सुर्खी ले-ले करहर फूल ने आज किया सिंगारतेरे ज़ुल्फ़ की खुशबु मौसम मेंतेरे दम सेकालियों पे है निखारजिस महफ़िल में तुम आ जाववहां एक सुरूर आ जाता हैमेरे शानो पे जब सर रखती होमुझे खुद पे गुरुर आ जाता हैकविता संग्रह 'हो न हो' से..for gazal, nazm & poems...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :
  October 13, 2012, 11:35 am
ओ मेरी सुरमई प्रियतमेतुम्हे याद है,जब मुझे अपनी आँखों सेतुम महुवे का रस पिलाती थीऔर में मदहोश होकरतुम्हारी गोद में सर रखकरलेट जाता था-तब तुमअपनी नर्म कोमल अँगुलियों सेमेरे बालो में कंघी करती रहती थी...ओ हिरनी सी आँख वाली मेरी प्रेयसीतुम्हे याद हैजब मेरे गालों पर, त...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :
  September 26, 2012, 11:23 pm
ओ मेरे गावं कीनोखेज़ दोशीजा !मेरी प्रियतमा...मैंने महसूस किया हैतेरी पिंडलियों की थरथराहट कोउस वक़्तजब म्रेरे होठों के लम्स सेतेरे होठभीगती रात में सरशार हुए...अरी ओ रसगंधा !मेरे जन्मो की प्रेयसी इसी जन्म में चुकणी थी क्यातेरे बदन की मह्वाई  गंधया आठवां जन्म था हमा...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :
  September 19, 2012, 8:59 pm
तेरे इश्क में सितमगर कैसे अज़ाब देखेकाँटों पे ज़बीं रखे रोते गुलाब देखेगैरों की बज़्म में यूं बेरिदा ही झमकेहमने तो रुख पे तेरे हरदम नकाब देखेबनके रकीबे जां तुम उल्फत में मुस्कराएमिटा के मुझको तुने कैसे शवाब देखेइश्क की बला से कोई बच न सका 'सुधीर'इसके कहर से खाक में म...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :
  September 14, 2012, 12:48 pm
इन दिनोंपलाश सा खिला हैचेहरा उसका...कोयल सी कुहक हैहोठों पे उसके...झील सी आँखें करती हैंअठखेलियाँ उसकी...खिलने लगी हैचंद्रिमा पूनम कीगालों में उसके...हिरन सी लचक हैचाल में उसकी...लगता है जेसेअवतरित हुआ है मधुमासशरीर में उसके...हो न हो...चड़ने लगा है उसपेप्रीत का रंग किसी-...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :
  September 8, 2012, 8:13 pm
नदी पे तैरते अंगारेउन अंगारों से निकलतीधुंए की स्याह लकीरउन लकीरों मेंदफन होते मेरे ख्वाबउन दफन क्वाबो में भटकती मेरी रूह...तुम्ही को तलाश करती हैपर तुम खोये कहाँ थे...तुम तो छोड़ गए थे मुझेएक बेगाना समझ करकिसी अपने के लिए...कौन ढूंढेगा हल इस सवाल का...क्यों एक गैर कोम...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :
  August 25, 2012, 6:46 pm
फांका से दम न रहा कुछ यूँ कमज़ोर भी हैंइक मुहब्बत के सिवा जहाँ में गम और भी हैंमैंने सोचा था तेरे वस्ल से हसीं क्या होगातेरी जुदाई सा दर्द जहाँ में कहीं क्या होगासाडी दुनिया है सनम गम की सताई हुईअपना कुछ दर्द नहीं जो यूँ जुदाई हुईहाँ तू मिल जाती जो तकदीर सवंर जाती मेरीत...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :
  August 24, 2012, 10:44 pm
भ्रष्टाचारी कब तक लगायंगे दाग हिंद के भाल में,कब तक समायंगे बेगुनाह असमय काल के गाल में.एक तरफ तो चीन हे एक तरफ नापकियाँ हें,फंस रहा हे देश फिर से दुश्मनों के जाल में.कौन करेगा मुकाबला अब देश के आतंकियों  से,न प्रताप में वो तड़प रही न ख़म शिवा की चाल में.गा...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :
  August 15, 2012, 8:03 am
बाद मुद्दत के आया मेरे ख्वाब मेंपुरखार-ऐ-बयाबां इरम हो गयाउल्फत से  खुल गई मिज्गा-ऐ-तश्नाहाय ये क्या हुआ क्या गजब हो गयादोशीजा-ऐ-नखवत की गिरी बर्क ऐसेआशियाना-ऐ-मुहब्बत ख़तम हो गयाखेल-ऐ-उल्फत में था कितना पुरकार वोदेख ग़ुरबत रकीब-ऐ-सनम हो गयाकैसी उम्मीद अब नादां तुझको ...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :
  August 1, 2012, 12:09 am
एक दरिया जो मेरी आँख से बहता है अभीउसके साहिल पे तेरे नाम की इमारत है कोईमेरी आँखों के नमकीन पानी की वजहखंडहर सी दिखती हुई वो मिस्मार सी हैतेरे इश्क में ये बात मैंने कुफ्र की कर दीतेरी याद में वहां इबादत तेरे बुत की कर दीन धुप, न कपूर, न लोबान की खुशबूतेरी यादें , मेरी आं...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :
  July 23, 2012, 7:35 pm
सिसक रहें हैज़मीं के ज़ख़्मरिस रहा है लहूपहाडो के बदन सेजल रहें हैं जंगल के जंगलहर रोज़ शमशान मेंइंसान अब इंसान कहाँ रह  गया हैनोचने लगा है बदनअपने ही जन्मदाताओं काअपने ही पालनहार काहाँ वो बदल रहा हैआदमी से हैवान में अब शहर,शहर नहीं रहेजिनकी राहों से गुजरते थे लो...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :
  July 10, 2012, 7:37 pm
सबक आख़िरी भी मुहब्बत का सीखातुझे दुश्मनों में खडा हमने  देखा...   हो न हो  से...सुधीर मौर्यfor gazal, nazm & poems...
ब्लाग तड़ाग...
Tag :
  July 6, 2012, 11:08 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3685) कुल पोस्ट (167835)