Hamarivani.com

चर्चा-ए-खास

मई-जून के महीनों में जब तीन-चौथाई देश पानी के लिए त्राहि -त्राहि कर रहा था, पूर्वोत्तर राज्यों में भी बाढ़ से तबाही का दौर शुरू हो चुका था। अभी बारिश के असली महीने सावन की शुरुआत है और लगभग आधा हरियाणा, पंजाब का बड़ा हिस्सा, पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार का बड़ा हिस्सा नदियो...
चर्चा-ए-खास...
Tag :बाढ़
  April 9, 2012, 2:32 pm
पिछले कुछ सालों में मध्य प्रदेश समेत देश भर में पानी का संकट बढ़ा है। यह समस्या प्रकृति से ज्यादा मानव-निर्मित है। वर्षा की कमी के साथ, वनों की अवैध कटाई, पुराने तालाबों पर अतिक्रमण, गाद भरने से सरोवरों की भंडारण क्षमता में कमी, पानी की फिजूलखर्ची, नदी, जलाशयों का पानी औद...
चर्चा-ए-खास...
Tag :जल संसाधन
  April 9, 2012, 2:14 pm
बीते दिनों ऊर्जा एवं संसाधन संस्थान (टेरी) एवं जल संसाधन मंत्रालय द्वारा दिल्ली स्थित इंडिया हैबिटेट सेन्टर में आयोजित भारतीय जल गोष्ठी के उद्घाटन भाषण में उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने जल संसाधनों में व्यापक सुधार की जरूरत बतायी, उन्होंने कहा कि बढ़ती जनसंख्या और ...
चर्चा-ए-खास...
Tag :जल संसाधन
  April 9, 2012, 2:06 pm
इसे अपनी संस्कृति की विशेषता कहें या परंपरा, हमारे यहां मेले नदियों के तट पर, उनके संगम पर या धर्म स्थानों पर लगते हैं और जहां तक कुंभ का सवाल है, वह तो नदियों के तट पर ही लगते हैं। आस्था के वशीभूत लाखों-करोड़ों लोग आकर उन नदियों में स्नान कर पुण्य अर्जित कर खुद को धन्य समझ...
चर्चा-ए-खास...
Tag :environment change
  April 9, 2012, 1:59 pm
कैसे किया जाता है?मानसून की अवधि 1 जून से 30 सितंबर यानी चार महीने की होती है। हालांकि इससे संबंधित भविष्यवाणी 16 अप्रैल से 25 मई के बीच कर दी जाती है। मानसून की भविष्यवाणी के लिए भारतीय मानसून विभाग कुल 16 तथ्यों का अध्ययन करता है। 16 तथ्यों को चार भागों में बांटा गया है और सार...
चर्चा-ए-खास...
Tag :
  April 9, 2012, 1:51 pm
वर्तमान में मानसून का अनियमित होना और वर्षा की मात्रा में स्पष्ट कमी, गंभीर समस्या के रूप में सामने है। यह समस्या पूरे देश के जन-जीवन को प्रभावित कर रही है। सिर्फ भारत में ही नहीं ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका, सोवियत यूनियन और चीन जैसे देशों में भी यह समस्या बढ़ी है।भारतीय उपम...
चर्चा-ए-खास...
Tag :environment change
  April 9, 2012, 1:46 pm
कृषि अब पर्यावरण असंतुलन की मार भी झेल रही है। रासायनिक उर्वरकों के बेइंतिहा इस्तेमाल से खेत बंजर हो रहे हैं और सिंचाई के पानी की कमी हो चली है। साठ के दशक में हरित क्रांति की शुरुआत के साथ ही देश में रासायनिक उर्वरकों, कीटनाशक दवाओं, संकर बीजों आदि के इस्तेमाल में भी क...
चर्चा-ए-खास...
Tag :प्राकृतिक खेती; खाद; farming; chemical fertilizer
  April 9, 2012, 1:33 pm
Vallabh Bhai PatelREAD IN ENGLISH; CLICK HERE इतिहास कैसे रचा जाता है इसका इतिहास जानने के लिए भारत में वल्लभ भाई पटेल का प्रयास प्रत्यक्ष प्रमाण है। संकल्प, साहस, सूझ-बूझ केधनी पटेल ने तत्कालीन 565 से भी अधिक देशी रियासतों का भारत मे विलीनीकरण करके राष्ट्रीय एकता के सूत्रधार के रूप में इतिहास रच द...
चर्चा-ए-खास...
Tag :कश्‍मीर समस्‍या
  April 8, 2012, 12:13 pm
Swami Vivekanand READ IN ENGISH; CLICK HEREदौर कोई भी हो, युवापीढ़ी ने उसे अपने दम पर "जोर" से "दौर" बदला है। कला का क्षेत्र हो या विज्ञान का, क्रीड़ा काक्षेत्र हो या ध्यान का, युवा पीढ़ी ने साहस की स्याही और कर्मकी कलम से उपलब्धियों की इबारत लिखी है। यद्यपि हर युग में युवा पीढ़ी केसामने प्रश्नों के ...
चर्चा-ए-खास...
Tag :भारत का युवा
  April 8, 2012, 11:25 am
 READ IN ENGLISH: CLICK HEREकुछ दिन पहले एक रक्षा मामलों  से जुडी पञिका ने चीनी सरकार की नीति और उसके मुखपञ का हवाला देते हुए आशंका जताई थी कि देश की रक्षा कमजोरियों को देखते हुए चीन 2014 तक भारत पर हमला करने का दुस्‍साहस कर सकता हैं लेकिन अभी हाल में ही भारतीय सुरक्षा सलाहकार परिषद के सदस...
चर्चा-ए-खास...
Tag :
  April 7, 2012, 2:02 pm
PLZ READ THIS IN ENGLISH; CLICK HEREआज पूरी दुनि‍या आतंक के साये में जीने को मजबूर है। समाचार पत्र चरमपंथ और उग्रवाद से संबंधित घटनाओं से भरे रहते हैं।  तथाकथित जिहाद के नाम पर अपनी बात को मनवाने का यह कैसा तरीका है, जिसमें आदमी जान लेने और देने पर तुल हुआ  है! उन्माद का यह कैसा रूप है जहां मान...
चर्चा-ए-खास...
Tag :cause of terrorism
  April 6, 2012, 2:51 pm
Pakistani terrorism 26/11 जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के जंगलों में सुरक्षा बलों व पाकिस्तानी आतंकवादियों के बीच पिछले एक सप्ताह से मुठभेड़ जारी है। नियंत्रण रेखा के नजदीक दो स्थानों पर चल रही मुठभेड़ में सेना के एक मेजर सहित आठ जवान शहीद हुए हैं, ......... जम्मू पुलिस ने सोमवार को होटल ...
चर्चा-ए-खास...
Tag :terrorist
  April 4, 2012, 12:01 pm
.हम बातें बहुत बड़ी-बड़ी करते हैंलेकिन जीना हो तो, एक छोटी सी बात नहीं जी पाते हैं हम दुनिया को खूब अनुभव करते हैं लेकिन अपने जीवन में, अनुभव के पल बहुत कम ही आते हैंवह आदर्शों पर चलें ऐसी उम्मीद करते हैं लेकिन खुद चलना हो तो,                                                  सिद्धांतो...
चर्चा-ए-खास...
Tag :
  April 2, 2012, 8:31 pm
मेरा जीवन अज्ञात पहेली, प्रश्‍नों की अविरल धारा सी भाव, विचार, कर्मों की कडियां, स्वर्णिम धागा बंधन सी संस्कार, पाप, पुण्य प्रवाह, जन्मों की गठरी बोझिल सी रिश्‍ते- नाते, धन, प्रेम की दुनिया, मन मोहित दिव्य दृश्‍य सी सरल जीवन को समझ न पाया, प्रकाशित सत्य को झुठलायाअंतस के जं...
चर्चा-ए-खास...
Tag :life travel
  March 31, 2012, 9:24 pm
भारत का कश्मीर अलगाववाद और हिंसा की आग में झुलस रहा है | युवा हिंसा पर उतारू हैं| सार्वजनिक संपंती को नुकसान पहुंचाकर आन्दोलनकारी अपना आक्रोश जाहिर कर रहे हैं| अनेक युवा और सेना के जवान इस बेबुनियाद आन्दोलन की चपेट में आकर अपनी जान गवा चुके हैं | बहुतों के घर उजड़ चुके...
चर्चा-ए-खास...
Tag :कश्मीर शांति और उमर अब्दुल्लाह
  March 31, 2012, 11:16 am
भारत के लिए आगामी सप्ताह बड़ा ही चुनौतीपूर्ण रहने वाला है सबसे बड़ी बात अयोध्या मसले पर २४ सितम्बर को इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ पीठ का बहुप्रतिक्षित निर्णय आने वाला है वही दूसरी और कश्मीर में अलगाववाद अलाव को हवा देने के मकसद से हुर्रियत कांफ्रेस के नेता सैयद अली रज...
चर्चा-ए-खास...
Tag :अयोध्या
  March 31, 2012, 11:15 am
बारहमासी हो चुकी जल की समस्‍या गर्मियों में चरम पर होती है। शहरों के गरीब और मध्‍यमवर्गीय तबके में बूंद-बूंद के लिए हाहाकर मचा रहता है। बिडंबना तो यह है कि इस विकराल समस्‍या को गंभीरता से नहीं लिया जाता हैं। सरकारों के  साथ आम जन में भी जल संरक्षण के प्रति संजीदगी  दिखा...
चर्चा-ए-खास...
Tag :पर्यावरण
  March 31, 2012, 11:13 am
शहीद होने से एक दिन पूर्व रामप्रसाद बिस्मिल ने अपने एक मित्र को निम्न पत्र लिखा -"19 तारीख को जो कुछ होगा मैं उसके लिए सहर्ष तैयार हूँ।आत्मा अमर है जो मनुष्य की तरह वस्त्र धारण किया करती है।"यदि देश के हित मरना पड़े, मुझको सहस्रो बार भी।तो भी न मैं इस कष्ट को, निज ध्यान में ल...
चर्चा-ए-खास...
Tag :
  March 31, 2012, 11:10 am
 साभारमेरा  क्या  परिचय  पूछ  रहे,   रचियता , रक्षक,  पोषक हूँ lमैं शून्य किन्तु फिर भी विराट,  मै आदि-त्राता, उद्घोषक हूँ llमैं एक किन्तु संकल्प किया, तो एकोSहं बहुस्याम हुआ l...मैंने विस्तार किया  अपना,   ब्रम्हांड उसी का नाम हुआ llये  चाँद  और  सूरज  मेरी,   आँखों  में  उगने   वाले...
चर्चा-ए-खास...
Tag :poem
  March 31, 2012, 11:06 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3666) कुल पोस्ट (165981)