रविकर की कुण्डलियाँ

मर कर पाये मोक्ष तू, बचने पर बेदाग़ |ख़ुशी ख़ुशी ख़ुदकुशी कर, खतम खलल खटराग | खतम खलल खटराग, नहीं अपराध ख़ुदकुशी |जा झंझट से भाग, असंभव जहाँ वापसी |जो रविकर कविराय, समस्या से भग जाए |वह भोगेगा नर्क,  शान्ति ना मरकर पाये || ...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  December 12, 2014, 2:25 pm
मर कर पाये मोक्ष तू, बचने पर बेदाग़ |ख़ुशी ख़ुशी ख़ुदकुशी कर, खतम खलल खटराग | खतम खलल खटराग, नहीं अपराध ख़ुदकुशी |जा झंझट से भाग, असंभव जहाँ वापसी |जो रविकर कविराय, समस्या से भग जाए |वह भोगेगा नर्क,  शान्ति ना मरकर पाये || ...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  December 12, 2014, 2:25 pm
बाजीगर सैनिक डटे, मौत सामने ठाढ़ |ग्राम नगर कश्मीर के, झेल रहे हैं बाढ़ |झेल रहे हैं बाढ़, देश राहत पहुँचाया |फौजी रहे बचाय, सामने जो भी आया |फ़ौजी का सम्मान, करो रे मुल्ला-काजी |तुर्क-युवक नादान, बंद कर पत्थरबाजी ||...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  September 10, 2014, 9:01 am
घाटी की माटी बही, प्राणांतक सैलाब |कुछ भी न बाकी बचा, कश्मीरी बेताब |कश्मीरी बेताब, जान पर फौजी खेलें |सतलुज रावी व्यास, सिंधु झेलम को झेलें |राहत और बचाव, रात बिन सोये काटी |फौजी सच्चे दोस्त, समझ ना पाये घाटी ||...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  September 9, 2014, 9:48 am
 भला भयातुर भी कहीं, कर सकता अपराध । इसीलिए तो चाहिए,  भय-कारक इक-आध । भय-कारक इक-आध, शिकारी खा ना पाये । चलता रहे अबाध, शांतिप्रिय जगत बनाये । धर्म-भीरु इस हेतु, डरे प्रभु से यह पगला । सँभला जीवन-वेग, आचरण सँभला सँभला । ...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  September 6, 2014, 4:08 pm
गाली देते ही रहे, बीस साल तक धूर्त |अब गलबहियाँ डालते, सत्ता-सुख आमूर्त |सत्ता-सुख आमूर्त, देखिये प्यार परस्पर |गए गोद में बैठ, मंच पर बैठे सटकर |यह कोसी की बाढ़, इकट्ठा हुवे बवाली |एक नाँद पर ठाढ़, करें दो जीव जुगाली ||...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  August 12, 2014, 4:23 pm
आदरणीय!! व्याकरण की दृष्टि से क्या यह कुण्डलियाँ छंद खरा उतरता है ?? आलोचक चक चक दिखे, सत्ता से नाराज । अच्छे दिन आये कहाँ, कहें मिटायें खाज । कहें मिटायें खाज, नाज लेखन पर अपने। रखता धैर्य समाज, किन्तु वे लगे तड़पने । बदलोगे क्या भाग्य ? मित्र मत उत्तर टालो ।...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  July 19, 2014, 12:36 pm
ताना-बाना बिगड़ता, ताना मारे तन्त्र । भाग्य नहीं पर सँवरता,  फूंकें लाखों मन्त्र । फूंकें लाखों मन्त्र, नीयत में खोट हमारे । खुद को मान स्वतंत्र, निरंकुश होते सारे । साधे रविकर स्वार्थ, बंद ना करे सताना । कुल उपाय बेकार, नए कुछ और बताना ॥ ...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  July 14, 2014, 4:38 pm
फ़री फ़री मारा किये, किया किये तफ़रीह । -परजीवी पीते रहे, दारु-रक्त पय-पीह। दारु-रक्त पय-पीह, नहीं चिंता कुदरत की। केवल भोग विलास, आत्मा भटकी भटकी । आगे अन्धा-मोड़, गली सँकरी अति सँकरी । रविकर मत कर होड़, मचेगी अफरा-तफरी ॥ ...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  July 9, 2014, 9:30 pm
(1)पड़े हुवे हैं जन्म से, मेरे पीछे लोग । मरने भी देते नहीं, देह रहे नित भोग । देह रहे नित भोग, सुता भगिनी माँ नानी । कामुकता का रोग, हमेशा गलत बयानी । कोई देता टोक, कैद कर कोईअकड़े । कहीं चाल अश्लील, कहीं पर छोटे कपड़े ॥ (2)पड़ेहुवे हैं जन्म से मेरे पीछे मर्द |मरने भी देते न...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  July 1, 2014, 2:14 pm
पड़े हुवे हैं जन्म से, मेरे पीछे लोग । मरने भी देते नहीं, देह रहे नित भोग । देह रहे नित भोग, सुता भगिनी माँ नानी । कामुकता का रोग, हमेशा गलत बयानी । कोई देता टोक, कैद कर कोईअकड़े । कहीं चाल अश्लील, कहीं पर छोटे कपड़े ॥ ...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  July 1, 2014, 2:14 pm
पुरानी रचना पाई नाव चुनाव से, खर्चे पूरे दाम |लूटो सुबहो-शाम अब, बिन सुबहा नितराम |बिन सुबहा नितराम, वसूली पूरी करके |करके काम-तमाम, खजाना पूरा भरके |सात समंदर पार, चली रविकर अधमाई |थाम नाव पतवार,  जमा कर पाई पाई  ||लाज लूटने की सजा, फाँसी कारावास |देश लूटने पर मगर,  ...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  June 29, 2014, 11:10 am
बैठा जाये दिल मुआ, कैसे बैठा जाय |उठो चलो आगे बढ़ो, कर लो उचित उपाय |कर लो उचित उपाय, अगर सुरसा मुंह बाई |राई लगे पहाड़, ताक मत राह पराई |उद्यम करता सिद्ध, बिगड़ते काम बनाये |धरे हाथ पर हाथ, नहीं अब बैठा जाये ||...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  June 27, 2014, 10:40 am
थाने में उत्कोच दे, कोंच कोंच कंकाल । तन मन नोंच खरोच के, दे दरिया में डाल । दे दरिया में डाल, बड़े अच्छे दिन आये । कर ले भोग विलास, आधुनिकता उकसाये। रवि कर मत संकोच, पड़े सैकड़ों बहाने । व्यस्त आज-कल कृष्ण, नहीं कालिया नथाने ॥  ...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  June 7, 2014, 6:16 pm
बातें करते हवा से, हवा हुई सरकार |हवा-हवाई घोषणा, भूले भ्रष्टाचार |भूले भ्रष्टाचार, भूल जाते मँहगाई |करने लगे प्रचार, उन्हीं सेक्युलर की नाई |पानी पी पी कोस, होंय खुश कई जमातें |देखो अपने दोष, बनाओ यूँ ना बातें ||...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  March 7, 2014, 9:33 am
कड़े बयानों के लिए, चुलबुल करती दाढ़ |छोड़ केकड़े को पड़ा, मकड़े पीछे साँढ़ |मकड़े पीछे सांढ़ ,जाल मकड़ा फैलाये |करवाये दल बदल, बैल तेरह बहकाये |किन्तु बचे नौ बैल, चार मकड़े ने जकड़े |मारे मन का मैल, मरे तू भी ऐ मकड़े ||...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  February 26, 2014, 11:25 am
तालू से लगती नहीं, जिभ्या क्यूँ महराज |हरदिन पलटी मारते,  झूँठों के सरताज  |झूँठों के सरताज, रहे सर ताज सजाये |एकमात्र  ईमान, किन्तु दुर्गुण सब आये |मिर्च-मसाला झोंक, पकाई सब्जी चालू ।दे *दिल्ले में आग, बिगाड़े आप रतालू ॥*किवाड़ के पीछे लगा  लकड़ी का च...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  February 25, 2014, 1:45 pm
पाना-वाना कुछ नहीं, फिर भी करें प्रचार |ताना-बाना टूटता, जनता करे पुकार |जनता करे पुकार, गरीबी उन्हें मिटाये  |राजनीति की मार, बगावत को उकसाए |आये थे जो आप, मिला था एक बहाना |किन्तु भगोड़ा भाग, नहीं अब माथ खपाना ||साही की शह-मात से, है'रानी में भेड़ |खों खों खों भालू करे, दे गीदड़ ...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  February 24, 2014, 12:01 pm
दखलंदाजी खेल में, करती खेल-खराब |खले खिलाड़ी कोच को, लेकिन नहीं जवाब |लेकिन नहीं जवाब, प्रशासक नेता हॉबी |हॉबी सट्टेबाज, पूँछ कुत्तों की दाबी |ताकें दर्शक मूर्ख, हारते रविकर बाजी |बड़ी व्यस्त सरकार, करे क्यूँ दखलंदाजी --...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  February 22, 2014, 9:38 am
खरी खरी कह हर घरी, खूब जमाया धाक |अपना मतलब गाँठ के, किया कलेजा चाक |किया कलेजा चाक, देश भर में अब घूमे |दिल्ली दिखी अवाक, आप मस्ती में झूमे |डाल गए मझधार, धोय साबुन से कथरी |मत मतलब मतवार, महज कर रहे मसखरी || ...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  February 20, 2014, 10:49 am
(१)खाँसी की खिल्ली उड़े, खीस काढ़ते आप |खुन्नस में मफलर कसे, गया रास्ता नाप |गया रास्ता नाप, नाव मझधार डुबाये |सहा सर्द-संताप, गर्म लू सदा सताये |अब चुनाव आसन्न, व्यस्त फिर भारतवासी |जन-गण दिखें प्रसन्न, हुई संक्रामक खाँसी॥ ...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  February 19, 2014, 12:11 pm
भारत का भुरता बना, खाया खूब अघाय |भरुवा अब तलने लगे, सत्तारी सौताय |सत्तारी सौताय, दलाली दूजा खाये |आम आदमी बोल, बोल करके उकसाए |इज्जत रहा उतार, कभी जन-गण धिक्कारत  |भागे जिम्मेदार, अराजक दीखे भारत ||अंतर-तह तहरीर है, चौक-चाक में आग-अंतर-तह तहरीर है, चौक-चाक में आ...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  January 21, 2014, 12:05 pm
"ओ बी ओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव"अंक-34दोहादारु दाराधीन पी, हुआ नदारद मर्द  |दारा दारमदार ले, मर्दे गिट्टी गर्द ||कंकरेत कंकर रहित, काष्ठ विहीन कुदाल |बिन भार्या के भवन सम, मन में सदा मलाल ||अड़ा खड़ा मुखड़ा जड़ा, उखड़ा धड़ा मलीन |लीन कर्म में उद्यमी, कभी दिखे ना दीन ||*कृतिकर-...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  January 20, 2014, 12:20 pm
असम में हिंदीभाषी हुए हमले के शिकार जागरण - ६ घंटे पहलेचिंदी-चिंदी तन-बदन, पांच मरे इक साथ । *बोड़ा निगले जिंदगी, हिंदी हुई अनाथ ॥ *अजगर हिंदी हुई अनाथ, असम-पथ ऊबड़-खाबड़ । है सत्ता कमजोर, धूर्त आतंकी धाकड़ । हिंदी-भाषी पाय, बना माथे पर बिंदी । अपने रहे निकाल, यहा...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  January 19, 2014, 4:07 pm
सपने नयनों में पले, वाणी में अरदास |बुद्धि बनाये योजना, करे कर्म तनु ख़ास |करे कर्म तनु ख़ास, पूर्ण विश्वास भरा हो |शत-प्रतिशत उद्योग, भाग्य को तनिक सराहो |पाय सफलता व्यक्ति, लक्ष्य पा जाये अपने |रविकर इच्छा-शक्ति, पूर्ण कर देती सपने ||...
रविकर की कुण्डलियाँ...
Tag :
  January 18, 2014, 9:09 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]
Share:
  गूगल के द्वारा अपनी रीडर सेवा बंद करने के कारण हमारीवाणी की सभी कोडिंग दुबारा की गई है। हमारीवाणी "क्...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3259) कुल पोस्ट (123218)