Hamarivani.com

"लिंक-लिक्खाड़"

अॉफिस समय से आ गया, आखिर खुशी का मामला।दिनभर लतीफे, मौज-मस्ती, चाय-पानी भी चला।हँसते हुए रविकर प्रफुल्लित, एक दिन लौटा मगरकारण बताते रात बीती, पर न टल पाई बला।रहते हुए मेरे भला, कैसे प्रफुल्लित हो रहेहै कौन जिसने दी खुशी पति हो रहा क्यों बावला।पत्नी परेशां प्यार से पुचक...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  November 22, 2018, 11:37 am
खुशी तो हड़बड़ी में थी, घरी भर भी नहीं ठहरी।मगर गम को गजब फुरसत, करे वो मित्रता गहरी।।उदासी बन गयी दासी दबाये पैर मुँह बायेसुबह तक तो गिने तारे, कटे काटे न दोपहरी।।हुआ यूँ शान्तिमय जीवन, तड़प मिट सी गई तन की।सहन ताने करे नियमित, व्यथा कैसे कहे मन की।सवेरे काम पर जाता, अँधेरे ...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  October 23, 2018, 12:16 pm
खुद से नाड़ा बाँध ले, वो ही बाल सयान।ढीला होने दे नहीं, वही तरुण बलवान।।मित्र सुदामा के चरण, धुलें द्वारिकानाथ।शक्ति कहाँ थी अन्यथा, बैठ सके वो साथ।।जब #दारू हर सोच को, करे प्रकट बिंदास।तब अपनी #दारा करे, बन्द सकल बकवास।।करें न सज्जन खुद प्रकट, नापसन्द व्यवहार।दे...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  October 16, 2018, 11:17 am
रंगमंच पर दो जमा, रविकर ऐसा रंग। अश्रु बहे, पर्दा गिरे, ताकि तालियों संग।।रस्सी जैसी जिंदगी, तने तने हालात |एक सिरे पे ख्वाहिशें, दूजे पे औकात ||धत तेरे की री सुबह, तुझ पर कितने पाप।ख्वाब दर्जनों तोड़ के, लेती रस्ता नाप।।चंद चुनिंदा मित्र रख, जिंदा रख हर शौक।हारे तब बढ़ती उ...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  June 4, 2018, 2:44 pm
शुभ अवसर देता सदा, सूर्योदय रक्ताभ।हो प्रसन्न सूर्यास्त यदि, उठा सके तुम लाभ।।रविकर उफनाती नदी, उफनाता सद्-प्यार।कच्चा घट लेकर करे, वो वैतरणी पार।।सूर्य उगा प्रेमी मिले, आलिंगन मजबूत।अस्ताचल को चल पड़े, आ पहुँचे यमदूत।।जीवन की संजीवनी, हो हौंसला अदम्य |दूर-दृष्टि, प्र...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  June 4, 2018, 10:36 am
ड्राफ्ट दोहा दुर्बल शाखा वृक्ष की, पर "गुरु-पर"पर नाज | कभी नहीं नीचे गिरे, उड़े खूब परवाज ||  कुछ तो गुरु में ख़ास है, ईर्ष्या करते आम | वृक्ष देख फलदार वे, लेते पत्थर थाम ||शब्द-शब्द में भाव का, समावेश उत्कृष्ट |शिल्प देखते ही बने, हर रचना सारिष्ट ||यूँ ही गुरुवर रचें , ...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  May 11, 2018, 11:02 am
बत्ती कली सुबुद्धि जब, गुल हो जाय हुजूर।चोर भ्रमर दीवानगी, मौज करें भरपूर।।कलियों के सौंदर्य का, करे मधुप गुणगान।गुल बनते ही वह कली, करे कैद ले जान।तेज छात्र मैं मैथ का, करना कठिन प्रपोज़।तुम हो मेरी प्रियतमा, करता रोज सपोज।।बिजली गुल, गुल का नशा, और शोर-गुल तेज।बाँट गुल...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  May 2, 2018, 3:40 pm
उधर तमन्ना रो उठी, इधर सिसकती पीर।कहाँ करे फरियाद फिर, रविकर अधर अधीर।।लगी "महान गरीयसी", सोच महानगरीय।किन्तु महानगरीय दिल, की हालत दयनीय।।उछल-उछल अट्टालिका, ले शहरों को घेर।वायु-अग्नि-क्षिति-जल-गगन, आँखे रहे तरेर।।सोते सूखे प्राकृतिक, भोजन डब्बा बंद।करे शोरगुल शाँत...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  April 11, 2018, 10:37 am
सह सकता सारे सितम, सुन सम्पूरक स्नेह।किन्तु कृपा-करुणा-दया, सह न सके यह देह।।इंद्रजाल पर भी किया, जो कल तक विश्वास।उसे हकीकत भी नहीं, अब आती है रास।।हौले हौले हौसले, हों प्रियतम के पस्त।हो ली होली में प्रिया, भाँग छान अलमस्त।।पहले कुल पत्ते झड़े, फिर गिरते फल-फूल।पुन: यत्...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  March 22, 2018, 4:24 pm
शुभ अवसर देता सदा, सूर्योदय रक्ताभ।हो प्रसन्न सूर्यास्त यदि, उठा सके तुम लाभ।।असफलता बोती रहे, नित्य सफलता बीज।उगे बढ़े निश्चय फले, रे रविकर मत खीज।।रविकर इच्छा स्वप्न का, यूँ मत करना खून।बल्कि काट नाखून सम, पा ले खुशी सुकून।रस्सी जैसी जिंदगी, तने तने हालात |एक सिरे पे ख...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  February 26, 2018, 1:21 pm
अदालत में गवाही हित निवेदन दोस्त ठुकराया।रहे चौबीस घण्टे जो, हमेशा साथ हमसाया।सुबह जो रोज मिलता था, अदालत तक गया लेकिनवहीं वह द्वार से लौटा, समोसा फाफड़ा खाया।बहुत कम भेंट होती थी, रहा इक दोस्त अलबेलाअदालत तक वही पहुंचा, हकीकत तथ्य बतलाया।बदन ही दोस्त है पहला, पड़ा रहता ...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  February 19, 2018, 3:40 pm
कैलाश पति त्रिपुरारि भोलेनाथ भीमेश्वर नमः।नटराज गोरापति जटाधारी किरातेश्वर नमः।जागेश बैजूनाथ पशुपति सोम-नागेश्वर नमः।भूतेश त्रिपुनाशक नमः भद्रेश रामेश्वर नमः।।...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  February 13, 2018, 3:19 pm
पानी मथने से नहीं, निकले घी श्रीमान |साधक-साधन-संक्रिया, ले सम्यक सामान ||सत्य बसे मस्तिष्क में, होंठों पर मुस्कान।दिल में बसे पवित्रता, तो जीवन आसान।।खड्ग तीर चाकू चले, बरछी चले कटार।कौन घाव गहरा करे, देखो ताना मार ।।मार बुरे इंसान को, जिसकी है भरमार।कर ले खुद से तू शुरू, ...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  February 5, 2018, 10:10 am
मुल्क सुपर पावर बने, जनगणमन धनवान।सारे भोंपू बेंच दे, यदि यह हिंदुस्तान।|करे आत्महत्या कृषक, दे किस्मत को दोष।असली दोषी मस्त क्यों, क्यों विपक्ष में रोष।।रस्सी रिश्ते एक से, अधिक ऐंठ उलझाय।हो जाये यदि ऐंठ कम, लड़ी-लड़ी खुल जाय ।।रस्सी जैसी जिंदगी, तने तने हालात।एक सिरे प...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  January 15, 2018, 2:52 pm
मैंने* तुझसे कहा, तूने* मुझसे कहा।तू तो* समझी नहीं, मैं भी* उलझा रहा।।देती* चेतावनी, ठोकरें भी लगींतू तो* पत्थर उठा किन्तु देती बहा।तंग करती रही, हिचकियां भी मे*री पानी* पी पी मगर तू तो* लेती नहा।दाँत के बीच मे जीभ मेरी फँसीपर लगाती रही तू सदा कहकहा।।देख रविकर रहा, गम के आंस...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  January 8, 2018, 2:58 pm
सच्चे शुभचिंतक रखें, तारागण सा तेज़।अँधियारे में झट दिखें, रविकर इन्हें सहेज।।शीशा सिसकारी भरे, पत्थर खाये भाव।टकराना हितकर नहीं, बेहतर है अलगाव।।खोज रहा बाहर मनुज, राहत चैन सुकून।ताप दाब मधुमेह कफ़, अन्दर करते खून।।ठोकर खा खा खुद उठा, रविकर बारम्बार।लोग आज कहते दिखे...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  November 30, 2017, 2:46 pm
जब मैल कानों में भरा, आवाज देना व्यर्थ तब।आवाज़ कब अपनी सुने, मन में भरा हो मैल जब।करता नजर-अंदाज खुद की गलतियाँ रख पीठ पे-पर दूसरे की गलतियों पर रह सका वह मौन कब।।...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  November 9, 2017, 1:55 pm
जिंदा मिला तो मारते, हम सर्प चूहा देश में।लेकिन उसी को पूजते, पत्थर शिला के वेश में।कंधा दिया जब लाश को तो प्राप्त करते पुण्य हमयद्यपि सहारे बिन जिया वह लाश के ही भेष में।।खिचड़ीहुआ गीला अगर आटा, गरीबी खूब खलती है।करो मत बन्धुवर गलती, नहीं जब दाल गलती है।लफंगे देश दुनिया...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  November 7, 2017, 8:17 am
प्रवंचक दे रहे प्रवचन सुने सब अक्ल के अंधे।बड़े उद्योग में शामिल हुये अब धर्म के धंधे।।अगर जीवन मरण भगवान के ही हाथ में बाबा।सुरक्षा जेड श्रेणी की चले क्यों साथ में बाबा।हमेशा मोह माया छोड़ना रविकर सिखाते जबबना क्यों पुत्र को वारिस बिठाते माथ पे बाबा।।समस्यायें सुना...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  November 6, 2017, 2:13 pm
तलाशे घूर में रोटी, गरीबी व्यस्त रोजी में।अमीरी दूर से ताके डुबा कर रोटियाँ घी में।प्रकट आभार प्रभु का कर, धनी वो हाथ फिर जोड़े।गरीबी वाकई रविकर, कहीं का भी नहीं छोड़े।।विचरते एक पागल को गरीबी दूर से ताकी।कई पागल पड़े पीछे, बड़े बूढ़े नहीं बाकी।प्रकट आभार प्रभु का कर, गरीबी ...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  October 30, 2017, 2:40 pm
जद्दोजहद करती रही यह जिंदगी हरदिन मगर।ना नींद ना कोई जरूरत पूर्ण होती मित्रवर।अब खत्म होती हर जरूरत, नींद तेरा शुक्रियायह नींद टूटेगी नहीं, री जिंदगी तू मौजकर।।व्यवहार घर का शुभ कलश, इंसानियत घर की तिजोरी।मीठी जुबाँ धन-संपदा, तो शांति लक्ष्मी मातु मोरी।पैसा सदा मेहम...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  October 16, 2017, 11:20 am
दानवीर भरसक भरें, रविकर भिक्षा-पात्र।करते इच्छा-पात्र पर, किन्तु कोशिशें मात्र।।भरता भिक्षा-पात्र को, दानी बारम्बार।लेकिन इच्छा-पात्र पर, दानवीर लाचार।।है सामाजिक व्यक्ति का, सर्वोत्तम व्यायाम।आगे झुककर ले उठा, रविकर पतित तमाम।रखे सुरक्षित जर-जमीं, रविकर हर धनवान...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  September 26, 2017, 1:11 pm
बहस माता-पिता गुरु से, नहीं करता कभी रविकर ।अवज्ञा भी नहीं करता, सुने फटकार भी हँसकर।कभी भी मूर्ख पागल से नहीं तकरार करता पर-सुनो हक छीनने वालों, करे संघर्ष बढ़-चढ़ कर।।किसी की राय से राही पकड़ ले पथ सही रविकर।मगर मंज़िल नही मिलती, बिना मेहनत किए डटकर।तुम्हें पहचानते बेशक...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  September 18, 2017, 10:33 am
जो जंग जीती औरतों ने आज भी आधी-अधूरी ।नाराज हो जाये मियाँ तो आज भी है छूट पूरी।शादी करेगा दूसरी फिर तीसरी चौथी करेगा।पत्नी उपेक्षा से मरेगी वह नही होगी जरूरी।पड़ी जब आँख पर पट्टी, निभाती न्याय की देवी।तराजू ले सदी चौदह, बिताती न्याय की देवी।मगर जब देवियाँ जागीं, मिला अध...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  August 26, 2017, 11:39 am
सुना दो राग दरबारी हृदय आघात टल जाये।अनिद्रा दूर हो जाए अगर तू भैरवी गाये।हुआ सिरदर्द कुछ ज्यादा सुना दो राग भैरव तुममगर अवसाद में तो राग मधुवंती बहुत भाये।विहागी राग गा लेना अगर वैराग्य आये तो।अजी मल्हार गा लेना गरम ऋतु जो सताये तो।जलाया राग दीपक से दिया संगीत कारो...
"लिंक-लिक्खाड़"...
Tag :
  August 26, 2017, 11:37 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3889) कुल पोस्ट (190071)