POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: अनुगूँज

Blogger: sujit sinha
विदा होकर डरी-सहमी सी वह सकुचाती लजाती हुई ससुराल के आंगन में कदम रख चुकी थी। भव्यता के साथ स्वागत हुआ नई बहु का। नई-नवेली दुल्हन को ले जाकर एक बड़े से कमरे में बैठा दिया गया। घर की सारी औरतें उसे घेरे बैठी थी। मुंहदिखाई की रस्म के साथ-साथ जान-पहचान भी हो रही थी। सहमी सी वह ... Read more
clicks 55 View   Vote 0 Like   4:41pm 2 Jan 2018
Blogger: sujit sinha
राजीव चौक में हुडा सिटी सेंटर जाने वाली मेट्रो में अचानक सालों बाद निशि मिली, बिल्कुल आमने सामने। सार्थक को निशि को पहचानने में पल भर भी न लगे। निशि, सार्थक का पहला व अंतिम प्यार जिसे वह कई सालों से ढूंढ रहा था, उसके सामने थी। सार्थक ने उसे टोकना चाहा ही कि उसे निशि से अं... Read more
clicks 48 View   Vote 0 Like   4:28pm 2 Jan 2018
Blogger: sujit sinha
अशोक बाबू बड़े उत्साह से आये मेहमानों को अपना नया घर  दिखा रहे थे । इस घर में तीन बेड रूम है ।  यह मेरा  बेडरूम है, ये  बेटे किसू  का स्टडी रूम और बगल में उसके लिए  एक सेप्रेट बेड रूम । बेटी के लिए भी यही अरेंजमेंट है । यह बड़ा सा हाल इसलिए बनवाया है कि घरे... Read more
clicks 171 View   Vote 0 Like   3:41am 5 Apr 2014
Blogger: sujit sinha
पार्क के कोने में अपने प्रेमी संग बैठी हनी ने उसके डिमांड को मानने से इंकार कर दिया था | लड़का उसे समझाने की कोशिश कर रहा था, "तुम भी न बेहद दकियानूसी हो , केवल दिखती मॉडर्न हो | पुरानी सदियों में यह एक गुनाह समझा जाता था | अब तो सब चलता है |"अभी वह उसे कन्विंस करने की कोशिश कर ही ... Read more
clicks 197 View   Vote 0 Like   6:08am 8 Feb 2014
Blogger: sujit sinha
सिग्नल ने रंग बदला और लाल हो गया | उसके सामने भागती- दौड़ती गाड़ियाँ एक-एक कर रूकती चली गयी |गाड़ियों के रूकते ही फेरीवालों का झुंड सलामती, दुआ के आफर के साथ किस्म -किस्म के सामान बेचने की जुगत में गाड़ियों के पास भिनभिनाने लगे | इसी रेलपेल में एक तेरह-चौदह साल की लड़की एक कार वाल... Read more
clicks 126 View   Vote 0 Like   3:21am 1 Feb 2014
Blogger: sujit sinha
 लोकतंत्र की असली शक्ति 'जनादेश'है | एक लोक प्रसिद्ध जुमला है कि 'जनता है सब जानती है' | जनता सब समझती है और माकूल समय आने पर सत्ता को अपनी हैसियत भी समझा देती है | दिल्ली विधानसभा के चुनाव परिणाम में यह चरितार्थ होता दिखा है | दिल्ली विधानसभा का चुनाव परिणाम सबसे दिलचस्प औ... Read more
clicks 184 View   Vote 0 Like   7:36pm 8 Dec 2013
Blogger: sujit sinha
उसे पुराने सिक्के जमा करने का शौक था | आज वह पुराने सिक्कों को निकाल कर देख रहा था | एक दस पैसे का सिक्का पिछलकर नीचे कहीं गिर गया | काफी मशक्कत के बाद उसे वह सिक्का टेबल के नीचे मुस्कराता मिला | सिक्के को हाथ में लेते ही विस्मृत स्मृति ने उसे घेर लिया |"माँ , दस पैसे दो ना, लट्ठ... Read more
clicks 164 View   Vote 0 Like   11:14am 5 Dec 2013
Blogger: sujit sinha
आज हाट में खड़ा हुआ हूँ मैं,मेरे परिजन मोलजोल कर रहे हैं मेरा, आये ग्राहक के संग |'रेट तो पता ही है सबको आएइअस 1 करोड़ , पीओ की है 20 लाख '|हम आपसे ज्यादा कहाँ मांग रहे हैं |और हाँ "सौदा"हो मनभावन,गोरी, लंबी, छरहरी औरसंस्कारी सीता की तरह |उपजाऊ भी हो ताकि जन सके 'कुलदीपक' |जवाब मे... Read more
clicks 159 View   Vote 0 Like   2:18pm 28 Nov 2013
Blogger: sujit sinha
पांच वर्षीया गुड़िया के साथ हुए दरिंदगी से समूचा देश-समाज स्तब्ध है | चहुँओंर जुगुप्सा कहकहे लगा रही है | मानवता शर्मशार है | इस जघन्य अपराध के प्रतिकार में जन हुजूम सड़कों पर उमड़ पड़ा है , ठीक वैसे ही जैसे दिसम्बर में दामिनी के साथ हुए हादसे के बाद एकजुट खड़ा हुआ था | विश... Read more
clicks 125 View   Vote 0 Like   12:57pm 27 Apr 2013
Blogger: sujit sinha
                                                       उत्सव को धर्म से खतरा है उत्सव हमारे तंग-परेशान जिन्दगी में हंसी-ख़ुशी के कुछ पल लाते हैं और सांस्कृतिक विरासत का भान कराते हैं | राम-कृष्ण से जुड़े किस्से और उनके आदर्श का जनमानस पर गहरा प्रभा... Read more
clicks 140 View   Vote 0 Like   5:37am 19 Apr 2013
Blogger: sujit sinha
हिन्दू  और हिन्दुस्तानी कौन हैं ? इसका फैसला कौन करेगा ? हिंदी, हिन्दू और हिन्दुस्तानी कल्चर पर हो-हल्ला करने और स्वयंभू निर्णायक  होने की जिम्मेवारी एक  समूह विशेष ने ले रखी  है । जो लोग मनुवादी सिस्टम  का समर्थन करे, अप्रासंगिक पुरानी मिथकों को परम्परा के ना... Read more
clicks 137 View   Vote 0 Like   9:05am 21 Apr 2012
Blogger: sujit sinha
आज कुछ लिखने का मन हो रहा है | किस विषय पर लिखूं ! एक व्यक्ति में छुपी असीम संभावनाओं पर या उसकी क्षुद्रता पर....| कृत्रिमता के आत्केंद्रित रवैये पर या फिर प्रकृति की विराट सृजनात्मकता पर....| कोलाहल के बीच कोने पर टंगी ख़ामोशी और 'आत्म-पहचान' की तलाश में भटकती जिन्दगी के साथ-स... Read more
clicks 173 View   Vote 0 Like   10:04am 17 Apr 2012
Blogger: sujit sinha
समालोचन: मति का धीर : निर्मल वर्मा... Read more
clicks 174 View   Vote 0 Like   4:23pm 3 Apr 2012
Blogger: sujit sinha
राजनामा.कॉम। मैं सोच सकता हूँ , इसलिए मेरा अस्तित्व है”, रिनी देकार्ते के इस कथन को स्वीकार लेने मात्र से आदमी के चेतना और उसके अस्तित्व की सार्थकता की शुरुआत होती है | प्रकृति ने चिंतन -मनन की क्षमता केवल आदमी को दी है | उसकी अपनी संवेदनशीलता और चेतनशीलता ने प्रकृति की&... Read more
clicks 142 View   Vote 0 Like   1:53pm 12 Oct 2011
Blogger: sujit sinha
 मनुष्य एक  जिज्ञासु व विवेकशील प्राणी है | अनुभवों से सीखना और किसी भी घटना पर अपनी राय बनाना उसकी सहज प्रवृति रही है | इसी रेसिनिलिती  ने उसे सामुदायिक जीवन की और प्रेरित किया |उसके तार्किक क्षमता व चुनौतियों से लड़ने के अनाहत जज्बा ने विकाश के कई अप्रतिम प्रतिमा... Read more
clicks 113 View   Vote 0 Like   6:59am 19 Jun 2011
Blogger: sujit sinha
शांत, स्नेहिल, निर्द्वंद , क्षण में,जब मेरी भावनाएं शुन्य से टकराकर ,वापस लौटती है,तो सहज कमी महसूस होती है ,एक मनमीत की ,जो समझ सके ,मर्म को ,मेरे जीवन संधर्भ  को .        आज मन मेरा सुधा रस पीकर ,        प्रेम की धारा से जुड़कर ,        तुम्हारा अनुराग चाहता ह... Read more
clicks 148 View   Vote 0 Like   12:44pm 2 Jan 2011
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3911) कुल पोस्ट (191547)