Hamarivani.com

KAVITA RAWAT

 22 मार्च पानी बचाने  का संकल्प, उसके महत्व को जानने  और संरक्षण के लिए सचेत होने का दिन है।   अनुसंधानों से पता चला है  कि विश्व के 1.5 अरब लोगों को पीने का शुद्ध पानी नही मिल रहा है। पानी के बिना मानव जीवन की कल्पना अधूरी है। इस विषय पर आज सबको गहन मंथन की आवश्यकता है कि 'जल की ...
KAVITA RAWAT...
Tag :लेख
  March 22, 2017, 12:19 pm
होली पर्व से सम्बन्धित अनेक कहानियों में से हिरण्यकशिपु के पुत्र प्रहलाद की कहानी बहुत प्रसिद्ध है। इसके अलावा ढूंढा नामक राक्षसी की कहानी का वर्णन भी मिलता है, जो बड़ी रोचक है।  कहते हैं कि सतयुग में रघु नामक राजा का सम्पूर्ण पृथ्वी पर अधिकार था। वह विद्वान, मधुरभाषी ...
KAVITA RAWAT...
Tag :राजा रघु
  March 12, 2017, 2:26 pm
भले ही हम "यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते, रमन्ते तत्र देवता"वाली बात सुनकर खुशफहमी में जीते आ रहे हैं, लेकिन वास्तविकता इसके उलट नज़र आता  है।  जहाँ एक ओर नारी के सम्मान की बात की जाती है, वही दूसरी ओर इसकी वास्तविकता की तस्वीर जब आए-दिन समाचार पत्रों और टीवी आदि के जरिये सबके ...
KAVITA RAWAT...
Tag :अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर एक रपट
  March 8, 2017, 8:00 am
भले ही हम "यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते, रमन्ते तत्र देवता"वाली बात सुनकर खुशफहमी में जीते आ रहे हैं, लेकिन वास्तविकता इसके उलट नज़र आता  है।  जहाँ एक ओर नारी के सम्मान की बात की जाती है, वही दूसरी ओर इसकी वास्तविकता की तस्वीर जब आए-दिन समाचार पत्रों और टीवी आदि के जरिये सबके ...
KAVITA RAWAT...
Tag :अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर एक रपट
  March 8, 2017, 8:00 am
...
KAVITA RAWAT...
Tag :
  February 25, 2017, 1:24 pm
भोपाल स्थित नार्थ टी.टी.नगर में न्यू मार्केट के पास एक विशाल मैदान है, जिसे दशहरा मैदान के नाम से जाना जाता है। इस मैदान में दशहरा के दिन हजारों की संख्या में शहरवासी एकत्रित होकर रावण के साथ कुम्भकरण और मेघनाथ का पुतला दहन कर दशहरा मनाते हैं। यहाँ हर वर्ष जनवरी के प्रथ...
KAVITA RAWAT...
Tag :भोपाल उत्सव मेला 2017
  February 7, 2017, 9:00 am
पृथ्वी सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाती है। सूर्य के चक्रण मार्ग में कुल 27 नक्षत्र तथा उनकी 12 राशियां क्रमशः मेष, वृष, मिथुन, कर्क, सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक, धनु, मकर, कुम्भ और मीन आती हैं। किसी मास की जिस तिथि को सूर्य एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करता है, उसे संक्रान्ति क...
KAVITA RAWAT...
Tag :पर्व विशेष
  January 14, 2017, 8:30 am
तन-मन में रहे सदा, माटी की सौंधी गंध कर्मों में गूंजे सदा, भारतीयता के छंद जन-जन से हो उल्लास, प्रेम के अनुबंध नववर्ष में महक उठे, घर-घर ये मकरंद ...................... कविता रावत की ओर से आप सभी को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं! ...
KAVITA RAWAT...
Tag :कविता
  January 1, 2017, 8:00 am
लाठी मारने से पानी जुदा नहीं होता है। हर पंछी को अपना घोंसला सुन्दर लगता है।। शुभ कार्य की शुरुआत अपने घर से की जाती है। पहले अपने फिर दूसरे घर की आग बुझाई जाती है।। दूसरे के भरे बटुए से अपनी जेब के थोड़े पैसे भले होते हैं। समझदार पराया महल देख अपनी झोंपड़ी नहीं गिराते है...
KAVITA RAWAT...
Tag :कंकर की चुभन
  December 26, 2016, 8:30 am
आजाद हिन्द फौज के सिपाही और संगीतकार रहे कैप्टन राम सिंह ठाकुर ने ही भारत के राष्ट्र गान “जन गण  मन” की धुन बनाई थी। वे मूलतः पिथौरागढ़ जनपद के मूनाकोट गांव के मूल निवासी थे, उनके दादा जमनी चंद जी १८९० के आस-पास हिमाचल प्रदेश में जाकर बस गये थे। प्रस्तुत है एक पोस्टर के मा...
KAVITA RAWAT...
Tag :जन गण मन
  December 17, 2016, 8:00 am
बिना साहस कोई ऊँचा पद प्राप्त नहीं कर पाता है। निराश होने पर कायर में भी साहस आ जाता है।। मुर्गा अपने दड़बे पर बड़ा दिलेर होता है। कुत्ता अपनी गली में शेर बन जाता है।। शेर की मांद में घुसने पर ही उसका बच्चा पकड़ा जा सकता है। स्वयं को सुरक्षित देखकर कायर अपने दुश्मन को ललका...
KAVITA RAWAT...
Tag :कायर
  December 8, 2016, 9:00 am
जब से मिले तुम मुझको मेरे ख्याल बदल गए जीने से बेजार था दिल तुम बहार बन के आ गए ख़ुशी होती है क्या जिंदगी में न थी इसकी खबर मन को जब से तुम मिले प्यार से लगता पा लिया गगन को सूनी फुलवारी में तुम तुम बहार बन के आ गए जब से मिले तुम मुझको मेरे ख्याल बदल गए दिल की बस्ती में राज ते...
KAVITA RAWAT...
Tag :दीपावली की शुभकामनाएं
  November 30, 2016, 9:00 am
विस्तृत स्वर्णिम भारत का भाल यह प्यारा ऊंचा गढ़वाल ।। गिरि शिखरों से घिरा हुआ है तृण कुसुमों से हरा हुआ है विविध वृक्षों से भरा हुआ है जैसे शीशम, सेब और साल यह प्यारा ऊंचा गढ़वाल ।।   गिरी गर्त से भानु चमकता मानो अग्निवृत दहकता बहुरंगी पुष्पाहार महकता ऐसा मनो...
KAVITA RAWAT...
Tag :कविता
  November 8, 2016, 9:00 am
बड़े मुर्गे की तर्ज पर छोटा भी बांग लगाता है। एक खरबूजे को देख दूसरा भी रंग बदलता है।। एक कुत्ता कोई चीज देखे तो सौ कुत्ते उसे ही देखते हैं। बड़े पंछी के जैसे ही छोटे-छोटे पंछी भी गाने लगते हैं।। जिधर एक भेड़ चली उधर सारी भेड़ चल पड़ती है। एक अंगूर को देख दूजे पर जामुनी रंगत ...
KAVITA RAWAT...
Tag :देखादेखी
  November 3, 2016, 9:00 am
दशहरा गया दिवाली आई हो गई घर की साफ-सफाई व्हाट्सएप्प और फेसबुक पर दनादन लोग देने लगे बधाई आई दिवाली आई खुशियों की सौगात लाई देखकर दुकानें दुल्हन सी सजी-धजी मैं भी सरपट दौड़ी-भागी बाजार गई खरीद लाई नये लत्ते-कपड़े घर भर के अब कैसे कहूँ बड़ी कमरतोड़ है महंगाई देख खुश हुई मुरझ...
KAVITA RAWAT...
Tag :घर की साफ-सफाई
  October 27, 2016, 9:00 am
घर के आसपास पानी जमा न होने, शरीर ढंककर सोने, मच्छरदानी और मास्क्यूटो क्वायल  लगाने, टंकियों व कूलर में जमा पानी हर दिन बदलने से लेकर हर दिन बगीचे में रखे गमलों में पानी जमा न होने देने और उन्हें सड़ने से बचाए रखने के उपरांत भी जाने कैसे मेरे शिवा को पिछले सप्ताह डेंगू हुआ ...
KAVITA RAWAT...
Tag :डेंगू का आयुर्वेदिक उपचार
  October 20, 2016, 9:00 am
मानव की प्रकृति हमेशा शक्ति की साधना ही रही है। महाशक्ति ही सर्व रूप प्रकृति की आधारभूत होने से महाकारक है, महाधीश्वरीय है, यही सृजन-संहार कारिणी नारायणी शक्ति है और यही प्रकृति के विस्तार के समय भर्ता तथा भोक्ता होती है। यही दस महाविद्या और नौ देवी हैं। यही मातृ-शक्त...
KAVITA RAWAT...
Tag :दुर्गा अवतरण
  October 7, 2016, 9:00 am
नमक का स्वाद से जितना गहरा रिश्ता है, उतना ही बीमारियों से भी है। भोजन में इसकी अधिक मात्रा तमाम बीमारियों के लिए न्यौता देना है। एकेडमी ऑफ न्यूट्रीशन एंड डाइटेटिक्स और यूएस डिपार्टमेमेंट ऑफ एग्रीकल्चर 1500 से 2300 मिलीग्राम सोडियम प्रतिदिन लेने की सलाह देते हैं। बाहरी य...
KAVITA RAWAT...
Tag :लेख
  October 1, 2016, 9:00 am
इन दिनों आश्विन कृष्णपक्ष प्रतिपदा से दुर्गा पूजा की पहली पूजा तक समाप्त होने वाले पितृपक्ष यानि पितरों (पूर्वजों) का पखवारा चल रहा है। मरने के बाद हम हमारे पूर्वजों के प्रति  श्रद्धा स्वरूप श्राद्धकर्म कर उन्हें याद करते हैं। हमारे धार्मिक कर्मकांडों अथवा त्यौहार...
KAVITA RAWAT...
Tag :पिण्डदान
  September 25, 2016, 9:00 am
प्रत्येक अति बुराई का रूप धारण कर लेती है। उचित की अति अनुचित हो जाती है।। अति मीठे को कीड़ा खा जाता है। अति स्नेह मति बिगाड़ देता है।। अति परिचय से अवज्ञा होने लगती है। बहुत तेज हवा से आग भड़क उठती है।। कानून का अति प्रयोग अत्याचार को जन्म देता है। अमृत की अति होने पर वह व...
KAVITA RAWAT...
Tag :अति नम्रता
  September 19, 2016, 9:00 am
शिक्षक को राष्ट्र का निर्माता और उसकी संस्कृति का संरक्षक माना जाता है। वे शिक्षा द्वारा  छात्र-छात्राओं को सुसंस्कृतवान बनाकर उनके अज्ञान रूपी अंधकार को दूर कर देश को श्रेष्ठ नागरिक प्रदान करने में अहम् दायित्व निर्वहन करते हैं। वे केवल बच्चों को न केवल साक्षर बना...
KAVITA RAWAT...
Tag :डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन
  September 5, 2016, 2:42 pm
हर आदमी किसी न किसी के काम का जरूर होता है लेकिन  ...............                           कुछ लोग कहते हैं कि कुछ लोग किसी काम के नहीं होते फिर भी बहुत लोग जाने क्यों उन्हें हरदम घेरे रहते हैं ? मैं कहती हूँ कि कुछ न कुछ छुपी कला तो है उनमें वर्ना यूँ ही लोग कहाँ किसी की पूछ-परख करते हैं (सनद रह...
KAVITA RAWAT...
Tag :शायरी
  September 1, 2016, 9:00 am
मथुरा प्राचीनकाल से एक प्रसिद्ध नगर के साथ ही आर्यों का पुण्यतम नगर है, जो दीर्घकाल से प्राचीन भारतीय संस्कृति एवं सभ्यता का केन्द्र रहा है। भारतीय धर्म, कला एवं साहित्य के निर्माण तथा विकास में मथुरा का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। मथुरा चौसठ कलासम्पन्न तथा भगवद्गीता ...
KAVITA RAWAT...
Tag :मथुरा
  August 24, 2016, 9:30 am
जो अपना स्वामी स्वयं नहीं, उसे  स्वतंत्र नहीं कहा जा सकता है । जिसे अत्यधिक स्वतंत्रता मिल जाय, वह सबकुछ चौपट करने लगता है ।। फरिश्तों की गुलामी करने से, शैतानों पर हुकूमत करना भला । पिंजरे में बंद शेर की तरह जीने से, आवारा पशु की तरह रहना  भला ।। दासता की हाल...
KAVITA RAWAT...
Tag :गुलामी
  August 13, 2016, 9:30 am
एक पक्ष की नम्रता बहुत दिन तक नहीं चल पाती है। एक बार शालीनता छोड़ने पर वह लौटकर नहीं आती है।। दूध में उफान आने पर वह चूल्हे पर जा गिरता है। नम्र व्यक्ति अपनी नम्रता धृष्ट व्यक्ति से सीखता है।। नम्र बनने के लिए कोई मोल नहीं लगता है। सदा तराजू का वजनदार पलड़ा ही झुकता है।। ...
KAVITA RAWAT...
Tag :नम्रता
  August 8, 2016, 9:30 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163590)