Hamarivani.com

नूतन ( उद्गार)

“भारतीय नारी कभी भी कृपा की पात्र नहीं थी, वह सदैव से समानता की अधिकारी रही हैं।” -भारत कोकिला सरोजिनी नायडू । अल्टेकर के अनुसार प्राचीन भारत में वैदिक काल में स्त्रियों की स्थिति समाज और परिवार में उच्च थी, परन्तु पश्चातवर्ती काल में कई कारणों से उसकी स्थिति में ह्रा...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  October 2, 2016, 5:28 pm
ग्रीष्म के अवसान पर काले-काले कजरारे मेघों को आकाश मे घुमड़ता देख पावस ऋतु के प्रारम्भ मे पपीहे की पुकार और वर्षा की फुहार से आभ्यंतर आप्लावित एवं आनंदित होकर जीव जन्तु सभी इस मास को पर्व की तरह मनाने लगता है। मनुष्य तो सावन के मतवाले मौसम में झूम उठता है ,पक्षियों की भी ...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  August 6, 2015, 4:40 pm
पूरा आलेख पढ़िये - तिरस्कार का दंश झेलते बुजुर्ग---------------------------------------------------------------बाल्यावस्था में भगवान बुद्ध एक कृशकाय वृद्ध की दयनीय दशा देखकर द्रवित हो उठे थे, उनका हृदय वितृष्णा से भर गया था. इसीलिए कुछ लोग वृद्धावस्था को जीवन का अभिाप मानते हैं. क्योंकि इस अवस्था तक आते-आते ...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  October 1, 2014, 7:02 pm
दया के सिक्के - ये सत्य घटना  है--------------------------------------------बात मैं अपने बचपन से आरंभ करती हूँ - एक समय था जब मैं गरीबों पर बहुत करुणा करती थी मुझे लगता था कि ये बेचारे गरीब हैं और इन्हे हमारी जरूरत है । इनकी हर संभव मदद करनी चाहिए । सो मैं किसी भी गरीब को खाली हाथ नहीं जाने देती थी यहा...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  September 22, 2014, 6:41 pm
आलेख ----------साहित्य के स्वरूप को लेकर चलने वाली बहस कोई नयी चीज़ नहीं है। किसी पुराने ज़माने की कालातीत कहानी जैसे ही पुरातन साहित्य शास्त्रियों की पुस्तकों के सिद्धान्त, हमारी आधुनिक साहित्यिक चिंतन में प्रतिष्ठित हैं। यूँ साहित्य के स्वरूप पर हमारे विद्वान साहि...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  July 21, 2014, 11:31 pm
आकाश में काले-काले बादलों के छाते ही मन में उमंग जाग उठती है। मन करता है कि उड़ कर बादलों को छू लिया जाए। इसी इच्छा को पूरी करने के लिए वृक्षों की शाखाओं पर झूले डाल दिए जाते हैं और उन झूलों पर बैठ कर ऊंची-ऊंची पींगें लेने की होड़ लग जाती है। झूला झूलने वाला हर व्यक्ति बादलों...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  July 16, 2014, 3:23 pm
प्यारी गुड़िया चंचला ,खेले दौड़े धूप । नन्हे नन्हे पाँव हैं ,मनभावन है रूप ॥मनभावन है रूप , तोतली बातें करती । बात बात मुस्कात ,सभी के मन को हरती॥करे जतन से प्यार ,हमारी मुन्नी न्यारी । सभी लड़ाते लाड़, मोहिनी गुड़िया प्यारी ।।...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  May 12, 2014, 1:41 pm
कुछ मुस्कुरा लें :-गम का मारा मनुष्यमंदिर मे पहुँच लगा रोने बार बारप्रभु को दोषी ठहरानेप्रभु जी मगनटिकाये अपने हाथ पर सीससोने मे लगे , वो लगा ज़ोर से घंटा बजानेटन्न टन्न टन्न टन्न टन्नखुली आँख प्रभु की, कसमसायेबोले क्या है ? तूने मेरी नींद खराब कर दीमनुष्य रोने लगा , गि...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  May 10, 2014, 6:52 pm
ऐसे नेता को क्या कहिएजो पीटे हिन्दू मुस्लिम रागसांप्रदायिकता का बिगुलबजा कर लगाये देश मे आग ऐसे नेता .......जिनका कोई ईमान नहीं धर्म से कोई प्रेम नहीं राष्ट्र प्रेम का ढोंग दिखाएँ बेबस जनता को लूटें खाएं ऐसे नेता .......गिरगिट से होते नेता पल मे रंग बदलते नेता पल...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  May 2, 2014, 11:59 pm
आने वाली सरकार से लोगो क्या अपेक्षाएं है -मैंने कई गण मान्य लोगो से इस विषय पर बात की । उन सबके विचार इस प्रकार रहे--1) प्राइवेट स्कूलों , कलेजो,की फीस बहुत ज्यादा है अंधाधुंध पैसा बहाओ तब कहीं जाकर अपने बच्चों की अच्छी शिक्षा दिला सको । स्कूल हो या कालेज सभी जगह यही हाल है ।...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  April 30, 2014, 8:27 am
कोहरा सूरज धूपआदरणीय बृजेश नीरज जी की काव्य कृति कोहरा सूरज धूप अपने नमानुकूल ही छाप छोड़ती है । जिस प्रकार सर्दी मे कोहरा छाया होता है और सूरज के निकलते ही धीरे छटने लगता है और चारों ओर अच्छी धूप फैल जाती है यह धूप जनमानस को राहत पहुंचाती है । उनकी कृति यथार्थ का सम्पूर...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  April 22, 2014, 7:30 pm
इकड़ियाँ  जेबी से‘ये इयकड़ियाँ नहीं अनमोल अशरफियाँ है’ आ0 योगराज सर की ये पंक्ति इस रचना संकलन के लिए एकदम उपयुक्त बैठती है । आदरणीय सौरभ पाण्डेय जी का शब्द संसार बहुत विस्तृत है । उन्होने अपने मनोभावों को बड़ी ही सुंदरता से एक एक नगीना सा जड़ा है । उनकी प्रयोग धर्मिता हर ...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  April 17, 2014, 8:57 pm
तेरी आँखों मे वो नूर है साई जब भी विकल हो शरण मे आई तूने संभाला है मुझको मेरे साईं गले से हर बार तूने लगाया है साईं मेरे साईं ............ बहुत जख्म खाये जहां मे हमने तुमने ही आके मेरी बिगड़ी बनाई तेरी रहमत का जलवा है बिखरा और तेरी कृपा का ही नूर है साईं मेरे साई ..........
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  April 3, 2014, 12:18 am
लीजिये फिर आ गई है होली !! चलिये मनाए प्यार से , उत्साह से , उमंग से !!होली जहां एक ओर सामाजिक एवं धार्मिक त्योहार है वहीं यह रंगो का भी त्योहार है । होली आते ही हर ओर रंग ही रंग दिखने लगता है । टेसू डालियो पर दहकने लगता है , रंग बिरंगे फूल खिल खिलखिलाते से लगते है ,  वातावरण  ...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  March 15, 2014, 1:41 am
मूक नहीं हूँ लिखते जाना ही मेरी  जात है ,तम की स्याही से लिखती नित्य नव प्रभात हूँ ।  उजियारा फैलाने को रोज नया सूरज मै लाती हूँ  ,जो मूक हो जीते है उनकी जुबान मै बन जाती हूँ ।   पढा लिखा कर सम्मान की अलख मै जगाती हूँ  ,झूठे हो चाहे जितने पर सच्चाई की धार लगाती हूँ ।अ...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  March 5, 2014, 12:40 pm
चाँदी के रथ पे सवार लिए जीवन नवल चिर प्रीतम संग चंद्रिका आयी धवल .............. प्रिय सखी निशा संग भरती किलकारियाँ गगन से धरा तक करती अठखेलियाँ रूप किशोरी सी चंद्रिका आयी धवल .........शशि प्रियतम संगचमचम सितारों वाली श्याम चुनरिया ओढ़े  धीरे धीरे दबे पाँव प्रिय सुंद...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  February 27, 2014, 12:05 am
( 1 ) दो पुष्प खिले हर्षित हृदय लीं बलैयां ( 2 )धीरे धीरे बढ़ चले राह पकड़ी बचपन डगर ( 3 )मार्ग दुर्गम वे थामे अंगुली आशित जीवन ( 4 )हुये बड़े बीता बचपन डाले गलबहियाँ ( 5 )संस्कार भरे करते मान सम्मान न कभी अपमान ( 6 )जीवन बदला खुशियाँ आईं सुखद क्षण ( 7 ) ...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  February 24, 2014, 9:25 pm
कुछ त्रिपदियाँ ...शिरोमणि कहलाने वाले !!क्या पीड़ा हर लोगे तुम ... क्या व्यथाओं को समझ सकोगे तुम ?इन चिथड़ों मे  जीवन हैचिथड़ों की हो रही चिन्दियाँक्या ये  चिन्दियाँ समेट सकोगे तुम  ?भग्न हो चुका मन प्राण हैखो रही आशाओं की रशमियांक्या रश्मियां प्रेषित कर सकोगे तुम ?पी र...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  February 20, 2014, 2:54 pm
ओबीओ लखनऊ चैप्टर का पादप कुछ  अधिक पुष्पित पल्लवित हो  इस आशा के साथ कानपुर की सर जमीं पर इसका आयोजन किया गया । मेरी और कानपुर की ही ओबीओ की सदस्या आ0 मीना जी की  हार्दिक अभिलाषा थी कि एक काव्य गोष्ठी का आयोजन हमारे शहर कानपुर मे भी किया जाय जिसे लखनऊ चैप्टर के संयोजक ...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  February 13, 2014, 11:07 pm
अतुकांतबागों बहारों और खलिहानों मेबांसो बीच झुरमुटों मेमधुवन और आम्र कुंजों मेचहचहाते फुदकते पंछीगाते गीत प्रणय केश्यामल भौंरे और तितलियाँफुली सरसों , कुमुद सरोवरनाना भांति फूल फूलतेप्रकृति की गोद ऐसीफलती फूलती वसुंधरा वैसीक्या कहूँ किन्तु कुम्हलायाहै मन का स...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  February 11, 2014, 11:51 pm
शाख पर लगा अलौकिक सौंदर्य पर इतराता वसुधा को मुंह चिढ़ाता मुसकुराता इठलाता मस्त बयार मे कुलांचे भरता गर्वीला पुष्प !.......... सहसा !!!कपि अनुकंपा से धराशायी हुआ कण कण बिखरा अस्तित्व ढूँढता उसी धरा पर भटकता यहाँ से वहाँ उसी वसुधा की गोद मे समा जाने को आतु...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  January 25, 2014, 6:00 pm
जाग रे मन ! कब तक यूं ही सोएगाजग मे मन भरमाएगा अब तो जाग रे मन !!1)सत्कर्मों की माला काहे न बनाईपाप गठरिया है  सीस  धराई  जाग रे !!!! 2)माया औ पद्मा कबहु काम न आवे नात नेवतिया साथ कबहु न निभावे जाग रे !!!! 3)दिवस निशि सब विरथा ही गंवाई प्रीति की रीति अबहूँ  न निभाई जाग रे !!!!! 4)सारा ...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  January 16, 2014, 7:45 pm
मेरी कविताओं के झरोखे से ................लाड़ली चली !!!बाबा की दहलीज लांघ चलीवो पिया के गाँव चलीबचपन बीता माँ के आंचलसुनहरे दिन पिता का आँगनछूटे संगी सहेली बहना भैयामिले दुलारी को अब सईंयामीत चुनरिया ओढ़ चली बाबा की ...........माँ की सीख पिता की शिक्षादुलार भैया का भाभी की दीक्षासखियों ...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  December 25, 2013, 8:01 pm
मै नारी हूँ ................मै दुर्गा , अन्नपूर्णा मै हीमै अपूर्ण  , सम्पूर्णा मै ही ।मै उमा , पार्वती मै ही ,मै लक्ष्मी , सरस्वती मै ही ।मै सृजक , संचालिका मै ही ,मै प्रकृति , पालिका मै ही ।मै रक्षिका , संहारिका मै ही ,मै धारिणी ,   वसुंधरा मै ही ।मै जननी , जानकी मै ही ,मै यशोदा , देवकी मै ...
नूतन ( उद्गार)...
Tag :
  December 15, 2013, 11:45 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163572)