POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: Devotional_thoughts

Blogger: ChandraShekhar Karwa
लेख सार : प्रभु भक्ति की अदभूत शक्ति के दर्शन करवाता लेख  | हर परिस्थिती में सदैव दृढ प्रभु भक्ति का आह्रान करता लेख   | ____________________________________________एक नन्हे दुधमुँहे बच्चे को अर्धनग्न अवस्था में भुखा-प्यासा तपती धुप में अपनी माँ की गोद में भीख मांगने हेतु दया का पात्र बनकर शहर ... Read more
clicks 215 View   Vote 0 Like   9:40am 19 Sep 2012 #
Blogger: ChandraShekhar Karwa
लेख सार : हर परिस्थिती में सदैव प्रभु कृपा के दर्शन करने का आह्रान करता लेख |____________________________________________जीव पर पल पल, हर पल प्रभु की कृपा- वृष्टि होती रहती है । उस कृपा के दर्शन करने हेतु हमें भक्ति-नेत्रचाहिए । मनुष्य अपने साधारण नेत्रों से अपने जीवन में प्रभु कृपा का पूर्ण अनुभव न... Read more
clicks 251 View   Vote 0 Like   9:36am 19 Sep 2012 #
Blogger: ChandraShekhar Karwa
लेख सार:प्रभु भक्ति के साथ जीवन यापन एंव  सैर सपाटा, मौज मस्ती,एशोआराम और आने वाली पीढियों के लिए धन-संपति संग्रह में लगे जीवन के बीच तुलना की गई है। मानव जीवन का श्रेप्ठत्तम उपयोग पर लेख प्रकाशडालता है।____________________________________एक कहानी / लोककथा प्रायः सबने सुन रखी होगी - एक ज्ञानी... Read more
clicks 241 View   Vote 0 Like   12:13pm 7 May 2012 #
Blogger: ChandraShekhar Karwa
लेखसार :सफलता और सुख के समय प्रभु की कृपा एवं विफलता और दुःख के समय में प्रभु की दया कोयाद रखने पर केन्द्रित लेख है    | वास्तव में,हम शायद ही कभी हमारी सफलता और सुख में प्रभु की कृपा याद रखते हैं |और वास्तव में,हम शायद ही कभी हमारी विफलता और  दुःख के   लिए प्रभु को दोष देने ... Read more
clicks 274 View   Vote 0 Like   9:07pm 13 Apr 2012 #
Blogger: ChandraShekhar Karwa
बड़े शहरो को जोड़ने वाली हाईवे में दो सड़के होती है | एक आने की और एक जाने की | आमने सामने की दिशा से आने जाने वाले वाहन अपने मार्ग पर चलते हैं | बीच में हर १५ - २० किलोमीटर पर हाईवे की दोनों सड़को के बीच एक कट आता है जहाँ से आप अपने वाहन को मोड़कर दिशा बदल सकते हैं |ऐसे ही मान... Read more
clicks 285 View   Vote 0 Like   6:22pm 13 Feb 2012 #
Blogger: ChandraShekhar Karwa
सबसे " उत्तम धन " की व्याख्या क्या है ? दो मूल सिद्धांत के कारण ही धन की उत्तमता की व्याख्या संभव है | पहला सिद्धांत - वही उत्तम धन जो सब जगह चले ( जैसे यूरो प्राय: सभी यूरोपियन देशो में चलता है | इसलिए यूरोप के किसी एक देश की मुद्रा के बजाय यूरो उत्तम क्योंकि वह उस देश के अला... Read more
clicks 219 View   Vote 0 Like   6:20pm 13 Feb 2012 #
Blogger: ChandraShekhar Karwa
क्या हमने एकांत में बैठकर कभी यह सोचा है या सोचने का प्रयास भी किया है की मानव जन्म हमें क्यों मिला है | चोरासी लाख योनियों में भ्रमण करते हुए और इस लम्बी यात्रा में जलचर, नभचर, थलचर और वनस्पति बनने के बाद हमें मानव जीवन मिला है | मानव जीवनरूपी यह अदभुत मौका परम कृपालु और प... Read more
clicks 280 View   Vote 0 Like   6:19pm 13 Feb 2012 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3930) कुल पोस्ट (194378)