Hamarivani.com

हृदयानुभूति

जब भी होते खुश बहुत तुममिलता अजब सुकूं सा हमकोपर देख तुम्हें परेशाँ कभीदिल का हर कोना दुखता हैबस एक यही तो  न चाहा था।बरसों बीते ये साथ न छूटाअरमा बिखरे विश्वास न टूटाहाँ हिस्से के सुख तु्म्हे न मिलेजब भी सोचा ये न चाहा था।है उलझा जीवन,हो उलझन में तुमसिलवट सा जीवन सोचा ...
हृदयानुभूति...
Tag :कविता
  February 7, 2012, 10:53 am
सदा तुम्हारा इंतज़ार क्यूँ रहतावज़ूद क्या नहीं, कोई मेरामाना कि तुम हो उजली साफतो क्या? जीवन नहीं घनेराहर आशा को सदा,तुझसे हीजोड़ा जाता,जबकिनिराश और थके आते हैं सबसदा,मेरी बाँहों में समाते हैं सब।समझती उन्हे और हौसला भी भरतीचूम पलकों को झट आगोश में लेतीफिर भी कहते है...
हृदयानुभूति...
Tag :कविता
  February 3, 2012, 11:14 am
“आज बात करने का दिल ही नहींख़ुदा के लिये,न मजबूर कीजिएअभी टूटा है दिल,सम्भाल तो लूंफिर चाहे जितने ही ज़ख्म दीजिए”...
हृदयानुभूति...
Tag :शेरो-शायरी
  February 1, 2012, 10:54 am
चाहे कोई आपको,आपकी तरहमुमकिन होता नहींसुने अनकहे लफ़्ज़ों के जज़बातमुमकिन होता नहींक्यूँ नहीं ये ज़िंदगी,उन्हें उन से मिलातीजो पूरे कर सके सारे ख़्वाबमुश्किल तो नहीं,फिर भीमुमकिन होता नहींन परवाह है कोई,कि चाहे कोई क्याजब दर्द उठे दिल में,फिर चुप रहनामुमकिन होता न...
हृदयानुभूति...
Tag :कविता
  January 30, 2012, 10:42 am
पूरे हुए तिरसठ वर्ष आजहमारी ज़िंदगी केवो वर्ष,जिनमें साँसें ली हमनेस्वेच्छा सेहर चीज़ है पाई अपनीइच्छा से।इन वर्षों में,हमजिये हैं स्वतंत्रता सेये निधि है,जो रखनी हैसम्भाल करमिली है हमें अपनेदादा-पुरखों से।उनके खून से सनी न जानेकितनी गलियाँऔर आहों से भरी हजारोंम...
हृदयानुभूति...
Tag :कविता
  January 26, 2012, 8:31 am
Don’t know why Missing you a lot You are not my friend You are  not my love Even then Don’t know why Missing you a lot. We haven’t met ever We just hear voice Only once Even then Don’t know why Missing you a lot Such a long time You are busy with work You want to reach very high I want to see you fly Even then Don’t know why missing you a lot It doesn’t mean That I love you It doesn’t mean That I have some thing for you It doesn’t mean That you know about this Even then Don’t know why Missing you a lot…my first ever attempt in English....
हृदयानुभूति...
Tag :कविता
  January 23, 2012, 8:40 am
“ख़ता ये हुई,तुम्हे खुद सा समझ बैठेजबकि,तुम तो…‘तुम’ ही थे”...
हृदयानुभूति...
Tag :शेरो-शायरी
  January 21, 2012, 11:31 am
दूर रहता जो सदा वही भातापास की निगाह कमज़ोर क्यों होतीदूर की हँसी की,दिल में गूँज उठतीपास का दर्द नज़र अंदाज़ हो जाता।दूर के अल्फ़ाज़ भी मिश्री से घुलते,पास की मासूमियत पे सदा शक आता।रिश्ते तो रिश्ते हैं,होते सदा’रिश्ते’हीफिर क्यूँ दूर-पास का फर्क नज़र आता।...
हृदयानुभूति...
Tag :कविता
  January 19, 2012, 10:53 am
शायराना सा हो रहा आज दिल मेराडर लगता है कहीं,हो न जाए ख़ताकल होगा मिलन फिर हमारा तुम्हाराआशा है नयी,मिल जाएगा किनारा।सोचता हूँ कौन से रंग में दिखोगी तुमबेख़बर,मेरे रंग में रंगी हो तुमपर फिर भी नीला रंग,सदा तुम पे भातावो बात है अलग,निगाह आँखों से न हटा पाता।खनक तेरे लबों...
हृदयानुभूति...
Tag :कविता
  January 16, 2012, 11:21 am
फासला उम्र का दिख जाता है बस यूँ हीविचारों के फासले की उम्र नहीं दिखतीफिर भी सदा उम्र से विचारों को आँका जाता,क्या अधिक उम्र से ही,जीवन दिख पाता?सच है कि अनुभव सब सिखा जाताहम सीखे हैं कितना,ये कौन जान पाता।सीखने की चाह ही सदा जीत पातीसोच का है फेर बस,समझ यही आताविचारों की...
हृदयानुभूति...
Tag :कविता
  January 13, 2012, 4:17 pm
सर्द दोपहर में,बालकनी का वो कोनाजहाँ सूरज अपना छोटा साघर बनाता है,अच्छा लगता है।हर’पहर’के साथखिसकता हुआ वो घर,जीवन पथ परचलना सिखाता है।हो कितनी ही ठण्ड,पर उसकी गर्म सेंकसुकून देती है।है जीवन भी ऐसा,कभी सर्द तो कभी गर्महर कोने की सर्दी को सेंक देना है,हर गर्म घर को शीत...
हृदयानुभूति...
Tag :कविता
  January 11, 2012, 11:29 am
रामसरन चाचा की माँजिन्हें कहते सब काकी,हमारे गाँव पँहुचने की ख़बरन उनसे छुप पाती।झट सन्देसा ले कोई आ ही जाताकैसी हो बिटिया,बड़ा समय काटा।काकी हैं बूढ़ी़, न चल फिर पातींफिर भी अपने हाँथों से पेड़े बनातींखाकर उन पेड़ों का अमृत सा स्वादनम आँखों से आती,फिर काकी की याद।सा...
हृदयानुभूति...
Tag :कविता
  January 7, 2012, 3:36 pm
“इंतज़ार उनका,कुछ हुआ इस तरहहो बेचैन रूह भी मचलने लगी,हर लम्हे पे टिकी थी बेसब्र नज़रहुआ हमें इश्क,उन्हें दिललगी लगी।”...
हृदयानुभूति...
Tag :शेरो-शायरी
  January 6, 2012, 11:14 am
नव वर्ष लेकर आ रहामन में नया सा हर्ष,कैसे करें और क्या भलाछिड़ रहा यही संघर्ष।दिल खुशी से झूमता,स्वागत को ये आतुरचहुँ ओर फैले नव किरणचाहे यही दिवाकर।सब का जीवन जगमगाएनव ज्योति सा पावनहो चाहतें भी सारी पूरीन बचे कोई चुभन।आओ मन में ठान लें अबलें नया संकल्प,सदभावना हो सब...
हृदयानुभूति...
Tag :कविता
  December 31, 2011, 11:42 am
जब भी दिखता है घना कोहरायूँ लगता है जीवन का रूप दिख गयाघना है बहुत, पर साफ भी बहुतन छुपने छुपाने को कुछ रह गया।दूर से लगे, न कुछ दिख रहागर घुसते चलें तो वो छँट भी रहाकभी लगे घना कभी बहुत गहनफिर भी है उसे,चीरती सूरज की किरणहोता अपने चरम पर, फिर भी ख़त्म होतापार करना उसे यूँ न ...
हृदयानुभूति...
Tag :कविता
  December 26, 2011, 12:05 pm
सैन्टा तुम आना, इस बार भी ज़रूरभर लाना अपनी झोली में खुशियों का सुरूर।ठण्ड से कहना,कि आए थोड़ा हौलेकई बच्चे-बूढ़े हैं सड़कों पे फैलेरात की गर्म चादर,है न उनके करीबभर लाना अपनी झोली में उनका नसीब।सैन्टा तुम आना, इस बार भी ज़रूरभर लाना अपनी झोली में खुशियों का सुरूर।सूर...
हृदयानुभूति...
Tag :कविता
  December 22, 2011, 7:27 am
अलसाई हुई आँखों मेंएक अक्स उभरता हैदेखने पर ध्यान सेवो अर्श ठहरता हैफिर बोझिल सी आँखेंकुछ खुली कुछ मुँदीस्मृति पटल पर कोईख़याल नहीं घूमता।आख़िर कौन है यह,जिसेमन नहीं समझ रहातमाम कोशिशों पर भी येनहीं पिघल रहातभी एक सिहरन सी औरआँख कुछ खुलीनज़र गई सीधे अर्श परचेहरा न ...
हृदयानुभूति...
Tag :कविता
  December 20, 2011, 10:28 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163583)