POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: राज दरबार

Blogger: Raj Kumar Kushwaha
आए थे मेरे बागो मेंजो कुछ रोज़ पहलेऔर सूखे पत्तों पर तुम कुछ देर थे टहलेमटमैली पोशाक में जो तुमने फूलो को तोडाबिना परवाह किये उन पत्तों की जो कदमो के नीचे दबे थे उन पत्तों के बीच एक दिल भी था तेरे कदमो से बिस्मिल भी था लेकिन खुश था के तुम आए दिल में मेरे   &n... Read more
clicks 79 View   Vote 0 Like   2:07pm 9 Aug 2016
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
आज भी मेरी जेबो मे कुछ कंकर और मिट्टी है,अलमारी के कोनो मे रखी जैसे कुछ चिट्ठी है,कुछ तेरे खत है, कुछ मेरे खत है, और कुछ खत हम दोनो के,बन गए है हिस्से जैसे, अलमारी के कोनो के,और पडी है एक डायरी मेरी, कुछ खाली पन्नो के साथ,जज़्बातो की कमी नही, पर रह गया मै खाली हाथ,कुछ पत्ती और ... Read more
clicks 75 View   Vote 0 Like   4:05pm 16 Jul 2016
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
बचपन की कुछ नाजायज फ़रियादे अब भी वाकी है,दिल के कोने मे सिमटी कुछ यादे अब भी वाकी है|वाकी है वो साईकिल लेना पैसे जिसके मैने जोडे थे,तब शायद गुल्लक मे मेरी सिक्के बहुत हि थोडे थे|और भी वाकी है कुछ सपने जो तकिये मे लिपटे थे,गेहरी प्यारी सी नींदो के ख्यावो मे जो दिखते थे|... Read more
clicks 102 View   Vote 0 Like   2:21pm 7 May 2016
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
लो आ गया चुनावी विश्वकप, इस बार दिल्ली मे । अबकी विश्वकप 1 साल बाद ही आ गया, पिछली बार मैच ड्रा जो हो गया था । माहौल काफ़ी गर्म है, कारण है किरण - अर्थात किरण बेदी। कल तक जो दोस्त थे, आज वही दुश्मन है । मतदाता भी बडा कन्फ़्यूज है। पिछ्ली बार जो झाडू लिये खडे थे आज वही कमल पर विराजम... Read more
clicks 158 View   Vote 0 Like   10:54am 31 Jan 2015
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
दीदार-ए-हुस्न मिला था जो वो साच्चा था,मैं एक तस्वीर बना लेता तो अच्छा था.मेह्फ़िले नज़रे मिलाना उनको पड गया मेहंगा,नज़र मैं खुद झुका लेता तो अच्छा था.अभी एक ज़ख्म बाकी है कही मेरे,मैं खुद मरहम लगा लेता तो अच्छा था.के इन्तेजार मे उनके कट गई ता-उम्र मेरीपता मैं खुद लगा लगा... Read more
clicks 146 View   Vote 0 Like   7:16am 28 Sep 2013
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
ले के हाथ कटोरा भीख मागते क्यो है हम,अक्सर घर जल जाने के बाद जागते क्यो है हम । क्यो इन्तेजार करते है किसी की अस्मित लुटने का,क्यो राह तकते है चौराहे पर भीड जुटने का,एक और गांधी के मरने की राह ताकते क्यो है हम,खुद का गिरेवान देखा नही तो दूसरो को आकते क्यो है हम । ठेकेदार कान... Read more
clicks 181 View   Vote 0 Like   2:04pm 2 Jun 2013
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
ले के हाथ कटोरा भीख मागते क्यो है हम,अक्सर घर जल जाने के बाद जागते क्यो है हम । क्यो इन्तेजार करते है किसी की अस्मित लुटने का,क्यो राह तकते है चौराहे पर भीड जुटने का,एक और गांधी के मरने की राह ताकते क्यो है हम,खुद का गिरेवान देखा नही तो दूसरो को आकते क्यो है हम । ठेकेदार कान... Read more
clicks 107 View   Vote 0 Like   2:04pm 2 Jun 2013
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
जाने क्या हुआ इसे, जाने क्यो बेहोश है,अक्सर खुश देखा, अब जाने क्यो खामोश है।खत्म हो गई सारी खुशियां, मातम सा छा गया,दम तोड चुकी हो जैसे, यह किसकी आगोश है।कुछ न कह सका मै, दबी रह गई सीने मे,तोड रहा है मुझको जैसे, मेरे दिल का ही बोझ है।गैरो से क्या लडना यारो, गैर तो फिर गैर है,जीत... Read more
clicks 140 View   Vote 0 Like   5:49am 5 Jan 2013
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
लो आ गई दीपावली, माफ़ कीजिएगा ..... "दीवाली" . दीपावली तो दीपो का त्यौहार होता है, परंतु यह तो दीवालिया होने का त्यौहार है। रुपयो मे आग लगाने का और खर्चे करने का। हमे बचपन से हि बताया गया है कि दीवाली पर घर मे लक्ष्मी का प्रवेश होता है, तो लो भईया माता लक्ष्मी को प्रसन्न करने के ल... Read more
clicks 177 View   Vote 0 Like   4:15am 13 Nov 2012
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
वर्तमान भारत की सामाजिक व्यवस्था में लाईन का बड़ा महत्व है, 99% कार्य आज भारत में इसी के कारण सुचारू रूप से पूर्ण होते है। हालाकि सामाज मे शायद हि कोई ऐसा व्यक्त्ति होगा जो इसकी चपेट मे आना चाहेगा, पर क्या करे लाईन मे लगना हमारी मजबूरी भी बन चुकी है और आदत भी। अपनी छोटी-छोट... Read more
clicks 139 View   Vote 0 Like   6:55am 23 Oct 2012
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
बधाई हो दोस्तोंभारत अब तरक्की की रह पर तेजी से अग्रसर हो चला है, जल्द ही भारत विकासशील देश से विकसित देश होने वाला है। मंहगाई कम होने वाली है, किराया भत्ता सब सस्ता होने वाला है, शिक्षा दर 100  % होने वाली है हर बच्चा शिक्षित होगा और आप में से अगर कोई अपने बच्चो के लिए लैपटॉप, ... Read more
clicks 191 View   Vote 0 Like   5:22pm 26 Jan 2012
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
जगजीत सिंह जी ने अपने नाम के अनुरूप अपनी ग़ज़ल गायीकी से सारे जग को जीत लिया . 1941को राजस्थान के श्रीगंगा नगर में जन्म के उपरांत इनके पिता ने इन्हें जगमोहन नाम दिया था, परन्तु अपने गुरु की सलाह पर जगजीत नाम दिया गया. जगजीत सिंह जी ने अपने नाम के अनुरूप ही काम किया . वे दिल से ... Read more
clicks 193 View   Vote 0 Like   8:28am 11 Oct 2011
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
Message sent by M.S. Dhoni to Shri Anna HazareRespected Anna ji,We all thank u from the core of our Hearts for taking away public attention from the TEST SERIES.RegardsM.S. Dhoni & All Team Members... Read more
clicks 157 View   Vote 0 Like   2:07pm 21 Aug 2011
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
50 years ago......3 Categories in INDIA1. High Class2. Middle Class3. Lower ClassAfter 25 years ago........Categories increase to 51. High Class2. High Class cum Middle Class3. Middle Class4. Middle Class cum Lower Class5. Lower ClassNow..After 50 years one more category has created1. High Class2. High Class cum Middle Class3. Middle Class4. Middle Class cum Lower Class5. Lower Class 6. Lower Class cum Lower Class... Read more
clicks 149 View   Vote 0 Like   7:57am 26 Jun 2011
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
Nowadays Baba Ramdev becomes favorite among news channels. Many people had said that Baba is doing politics but he always says that he has no intention towards politics. Whatever, but after the night in which his Satyagrah has demolished, the fight against corruption is converted into fight against congress and other political parties are ready to grab this issue. On the other side Anna Hazare is still fighting in Gandhian way and his movement still in his hand. In the democratic country having a specific way to change the system without affecting the peace, Anna on that way. Actually our system is not weak, weak is our society, Police, Ministers, Political Parties, Public all are the differ... Read more
clicks 114 View   Vote 0 Like   5:50am 9 Jun 2011
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
रोशनी यूँ आती रही सलाख़ों से मेरी खाट पर,जाने क्यूँ अब नींद आती नही मुझे रात भर,दिनो बाद दिखी थी झिलमिलाती चाँदनी ,मानो कोई दे गया खुशी मुझे खैरात पर।... Read more
clicks 151 View   Vote 0 Like   3:43pm 1 May 2011
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
रोशनी यूँ आती रही सलाख़ों से मेरी खाट पर,जाने क्यूँ अब नींद आती नही मुझे रात भर,दिनो बाद दिखी थी झिलमिलाती चाँदनी ,मानो कोई दे गया खुशी मुझे खैरात पर।                                                    &n... Read more
clicks 100 View   Vote 0 Like   3:43pm 1 May 2011
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
आज से करीब 10 साल पहले जब कोई व्यक्ति अपने शुभचिन्तको से किसी व्यपार को शुरु करने कि सलाह माँगता था तो वह लोग उसे कोई दुकान खोलने कि सलाह देते थे किन्तु आजकल लोग उसे इन्जीनियरिंग कालेज खोलने कि सलाह देते है, जी हाँ ये भी एक तरह कि दुकान है जहॉ शिक्षा का सौदा किया जाता है, ऊँ... Read more
clicks 137 View   Vote 0 Like   1:33pm 17 Jan 2011
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
मिले सुकूं कहीं ऐसी कोई बात हो,मै हूँ तनहा और मेरे जज़्बात हो,हुए महफ़िल से मायूश बहुत हम आज,डशे ख़ामोशी मुझे, काश ऐसी भी कोई रात हो.................                                                                           - राज ... Read more
clicks 174 View   Vote 0 Like   6:24pm 7 Sep 2010
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
मिले सुकूं कहीं ऐसी कोई बात हो,मै हूँ तनहा और मेरे जज़्बात हो,हुए महफ़िल से मायूश बहुत हम आज,डशे ख़ामोशी, काश ऐसी कोई रात हो.................                                                                           - राज ... Read more
clicks 96 View   Vote 0 Like   6:24pm 7 Sep 2010
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
मिले सुकूं कहीं ऐसी कोई बात हो,मै हूँ तनहा और मेरे जज़्बात हो,हुए महफ़िल से मायूश बहुत हम आज,डशे ख़ामोशी मुझे, काश ऐसी भी कोई रात हो.................                                                                           - राज ... Read more
clicks 114 View   Vote 0 Like   6:24pm 7 Sep 2010
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
सबेरा तो सदियों पहले हो गया,इंतज़ार बस उस रौशनी का करता हूँ,के हो उजाला और इंसानियत दिखे मुझे,यही दुआ मै पिछली कई रातो से करता हूँ..............                                                                     - राज ... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   6:08pm 7 Sep 2010
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
आज मैं आपको अपनी अमरनाथ यात्रा का किस्सा सुनाना चाहूँगा । बात आज से ठीक 2 साल पहले की हे , मैं अपने पिताजी के ऑफिस के स्टाफ लगभग 80 लोगो के साथ अमरनाथ यात्रा पर निकला था। भोपाल से जम्मू तक हम लोग ट्रेन से गए और फिर जम्मू से पहलगाओ तक के लिए बस बुक करी, बस से ऊँची ऊँची वादियों क... Read more
clicks 123 View   Vote 0 Like   8:40pm 27 Jul 2010
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
हुआ मन की आज फिर कलम उढाई जाये,दिल से निकली श्याही कागज़ पर गिराई जाये,सोच सोच के सारी रातें उनके बारे में,एक नयी कविता फिर रचाई जाये.......छोड़ के अपनी सारी शैली ,एक नयी शैली फिर अपनाई जाये,छंद , रस , रंग से हो परे वो,बस सुन्दरता उनकी समाई जाये..........लिख के उनका नाम सादे कागज़ पे स... Read more
clicks 145 View   Vote 0 Like   6:27pm 30 Jun 2010
Blogger: Raj Kumar Kushwaha
हुई मुददत के अब न रहा इंतज़ार बाकि, तेरे दर से अबकी ऐ गद्दार गुजरूँगा, तुझसे मिलने की चाह में मौत से मिल बैठे,मैं अबकी मैयत पे सवार गुजरूँगा.....................                                                                       -राज ... Read more
clicks 175 View   Vote 0 Like   1:56pm 12 May 2010
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3910) कुल पोस्ट (191408)