POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: भावनायें...

Blogger: Reetesh Gupta
समझ नहीं आ रहा कहाँ से शुरु करुँमानो जैसे कल ही की तो बात हैनई सोच के साथ उत्साहित मुस्कुराता हुआ नया चेहराआया और जल्द ही सभी के दिलों दिमाग में छा गयानये पुरुस्कारों का सृजन, compliance , quality , contentलगभग हर जगह हमने नई ऊचाइयों को छुआतनाव को अपने तक सीमित रखने की आपकी अदभुत छमता न... Read more
clicks 402 View   Vote 0 Like   5:33am 25 Oct 2018
Blogger: Reetesh Gupta
अरविन्द और जोश के साथ चलती CPSD को दौड़ा गये बालाजीCPSD तो पास हो गई पर दूर हो गये बालाजीमीटिंगों में नोंकझोंक में मुस्कुराते बालाजीचाय पाईटं की चर्चाओं में धुआँ उड़ाते बालाजीनये मित्रों के नये साथ मेंउच्च शिखर की चकाचौंध मेंभूल ना जाना हमको तुमदुआ हमारी सदा रहेगी खुश रहो त... Read more
clicks 125 View   Vote 0 Like   5:43am 7 Sep 2018
Blogger: Reetesh Gupta
मैं बुद्ध सी शांत समाधि में हूँ देख तू मुझे न भड़का मैं कर रहा हूँ तुझे आगाह क्योंकि गर जंग हुई तो कुछ तीर तेरे होंगे कुछ तीर मेरे होंगे कुछ वीर तेरे होंगे कुछ वीर मेरे होंगे और वीरगति को प्राप्त हो जायेंगे लाखों बेगुनाह ... Read more
clicks 46 View   Vote 0 Like   4:19am 22 May 2018
Blogger: Reetesh Gupta
नागेश जैसे हीरे को तो एक दिन खोना ही थाजिसके नाम में ही प्रभु हों उसे तो एक दिन अमर होना ही था-------संग मधु के जिसने थी टूल्स टीम सजाई उसे हमारी ह्रदय से है लाखों लाख बधाई... Read more
clicks 40 View   Vote 0 Like   3:54am 1 Feb 2018
Blogger: Reetesh Gupta
हमारी ह्रदय से विनय है विनय की तुम मत जाओतुम नहीं रहोगे फिर भी टीम सफ़लताओं के हर शिखर को छुऎगीपर विनय तुम्हारी कमी तो फ़िर भी खलेगीशायद ही कोई हो जिससे तुम्हारी जमी न होईश्वर करे हम सभी के बीच विनय की कभी कमी न हो... Read more
clicks 49 View   Vote 0 Like   8:19am 25 Jan 2018
Blogger: Reetesh Gupta
हमारी ह्रदय से विनय है विनय की तुम मत जाओतुम नहीं रहोगे फिर भी टीम सफ़लताओं के हर शिखर को छुऎगीपर विनय तुम्हारी कमी तो फ़िर भी खलेगीशायद ही कोई हो जिससे तुम्हारी जमी न होईश्वर करे हम सभी के बीच विनय की कभी कमी न हो... Read more
clicks 53 View   Vote 0 Like   8:19am 25 Jan 2018
Blogger: Reetesh Gupta
जवान बेटा अपने पिता से बोलापिताजी अब मैं सयाना हो गया हूँऔर व्यापार को नये समय के अनुसार आपसे बेहतर ढंग से चला सकता हूँपिता बोला बेटा व्यापार को चलाने के लिये सिर्फ़ नई सोच और तरीके ही काफ़ी नहींदूसरों के प्रति कृतज्ञता का भाव और अपने काम के प्रति निष्ठा और प्यार भी जर... Read more
clicks 77 View   Vote 0 Like   11:44am 5 Aug 2016
Blogger: Reetesh Gupta
मुझे याद है जब इस सफ़र पर चलना किया हमने शुरूहम ही थे चेले यहाँ और हम ही थे अपने गुरुहराकर हर ताप को कुंदन से हम हरदम खिलेखुशियाँ मिलीं शोहरत मिली और कई नये मकसद मिलेआज फ़िर से आई है वैसी परीक्षा की घड़ीअब मैं अंधेरों से क्यों डरूं मेरी राह है रोशन बड़ी... Read more
clicks 167 View   Vote 0 Like   5:37am 20 Dec 2015
Blogger: Reetesh Gupta
अमृतकुंड के पास पहुँच कर भी चूके लालूपुत्र मोह में फ़सकर आज फ़िर समोसे तक ही रह गये लालूखुशी हुई जब बिहार में अहंकार हारा और नीतीश परचम के दंड बने लालूआशा है अब इस जीत के बन न जायें दंड लालू ... Read more
clicks 127 View   Vote 0 Like   5:35am 20 Dec 2015
Blogger: Reetesh Gupta
जीवन में कई बार हार के बाद जीत मिलती हैलेकिन आज हर तरफ़ तैयारी जीत की लगती हैहार में नेत्रत्व की सबसे अधिक जरूरत होती हैलेकिन वह भी आज हार को निरुत्साहित और अकेला छोड़जीत को गले लगा रहा हैबोर्नवीटा भी तैयारी जीत की करा रहा हैहार में संभालकर स्फूर्ति देने वाला टॉनिकब... Read more
clicks 158 View   Vote 0 Like   2:39pm 3 Aug 2015
Blogger: Reetesh Gupta
कभी-कभी सोचता हूँ EMC तुम ना होती तो क्या होता....तुमसे मिलकर ही मैंने सीखा रोटी कमाने का कौशलकैसे अनुज बनकर भी बड़े काम किये जा सकते हैंऔर कीर्ति को पाया जा सकता हैयहाँ ही मन जान सकावैभव के साथ धीरज का होना कितना जरूरी हैअपने काम को निष्ठा और ईमानदारी से करते हुये अमर हुआ जा ... Read more
clicks 123 View   Vote 0 Like   3:48pm 21 Jul 2015
Blogger: Reetesh Gupta
कभी-कभी सोचता हूँ EMCतुम ना होती तो क्या होता....तुमसे मिलकर ही मैंने सीखा रोटी कमाने का कौशलकैसे अनुजबनकर भी बड़े काम किये जा सकते हैं और कीर्तिको पाया जा सकता हैयहाँ ही मन जान सकासिर्फ़ नाम से ही नहीं काम से भी अमरहुआ जा सकता हैवैभवके साथ धीरजका होना कितना जरूरी हैहँसी-विन... Read more
clicks 130 View   Vote 0 Like   7:26am 17 Jul 2015
Blogger: Reetesh Gupta
समझ नहीं आ रहा कहाँ से शुरू करूँ कौशलक्योंकि सारे ही बड़ॆ कमाल के हैं तुम्हारे कौशलसिर्फ़ जबाब ही नहीं कठिन सवालों को बड़ी आसानी से खा जाने का कौशलहर परिस्तिथि में रिसोर्स जुगाड़ने का कौशलटीम से जुड़ाव का कौशलकौशल से कहाँ किसी को खतरा लगता हैकौशल तो सभी को अपना लगता हैहमें... Read more
clicks 133 View   Vote 0 Like   1:07pm 24 Apr 2015
Blogger: Reetesh Gupta
सरकार किसी की भी हो ईमानदार आई.ए.एस आफ़िसर अशोक खेमका का ट्रांस्फ़र जारीचैनल चेंज...गाना चल रहा है..♪♪♫♫..ईमानदारी की बिमारी छोड़ के आजा...छोड़ के आजाचैनल चेंज...साइना नहवाल दुनियाँ की नंबर १ बैडमिंटन खिलाडी बनीचैनल चेंज...गाना चल रहा है..♪♪♫♫..सारी नाइट बेशर्मि की हाइट-हाइट...एक त... Read more
clicks 137 View   Vote 0 Like   6:30am 4 Apr 2015
Blogger: Reetesh Gupta
अब कोई मौसम खास नहीं, डांडिया है पर रास नहींहर मौका पीने का मौका, खोलो बोतल जामखाईये श्रीमान हर मौसम आम...धार्मिक होना अब और हुआ आसाँबस कहो तुम गर्व से जय-जय श्री रामखाईये श्रीमान हर मौसम आम...लगंड़ा, केसर, मल्लिका सब एकरस हो गयेबोतल से पीजिये सारी किश्मे आमखाईये श्रीमान हर ... Read more
clicks 193 View   Vote 0 Like   5:44pm 10 Jan 2015
Blogger: Reetesh Gupta
आजकल  मक्कार लोग बड़े परेशान हैंकमबख़्त सीधे लोग नहीं मिलतेधोखा देने की तलब हैपर धोखा खाने वाले नहीं मिलतेहर तरफ होशियारों की जमात सेहम प्राकृतिक संतुलन खो रहे हैंजहाँ इरादे छोटी-मोटी लूट केवहाँ  मर्डर हो रहे हैंमक्कारों का दर्द समझते हुए हम उनके साथ डटे है... Read more
clicks 168 View   Vote 0 Like   5:23am 4 Oct 2014
Blogger: Reetesh Gupta
राम मेरा भाई तेरे राम सेइतना यार झगड़ता क्यों हैमेरे राम मुझे तारेंगेंतारें तुझे तेरे रघुवीरसहज-सरल सी बात है लेकिनतू फ़िर भी नहीं समझता क्यूँ हैराम मेरा भाई तेरे राम से....राग-द्वेष अपने अंतर् मेंकहाँ राम को भाते हैंमन को करते दुखीदेह को रोग नया दे जाते हैंइन्हें हराक... Read more
clicks 160 View   Vote 0 Like   1:44pm 17 Dec 2009
Blogger: Reetesh Gupta
कैसे राम ने जीता रावणकैसे राम बने जगदीशशीश एक क्यूँ जीत ना पायादस सिर लेकर भी दसशीशनिश्छल मन और निर्मल ह्रदयजहाँ राम की ढाल बनेमलिन ह्रदय और कपट वहीं परदशानन का काल बनेबुद्धी-कौशल और राजनीति काजहाँ रावण ने अभिमान कियाभेज अनुज को उसे सीखनेराम ने उसका मान कियाहर बुराई... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   1:59pm 28 Jan 2009
Blogger: Reetesh Gupta
पाया नहीं यह ज्ञान सेसमझा नहीं विज्ञान सेयह नहीं कोई कलाजिसको तराशा ध्यान सेसंस्कारों से मिली जोयह तो बस एक भावना हैजिसने दिया विश्वास मुझकोइंसान आता है जगत मेंहाथ में क्षमता लियेकोई शिखर ऎसा नहींजिसे वो पा सकता नहीं----------आदमी कुछ भी नहींउसका पता है वह घड़ीजिसमें है ब... Read more
clicks 135 View   Vote 0 Like   8:22pm 8 Jan 2009
Blogger: Reetesh Gupta
प्रश्न कुछ ऎसे हैं जिनसेरोज होता रूबरू मैंकौन हूँ क्या चाहता हूँजानने की पीर हूँ मैंइंतहानों को दिये अबसाल बीते हैं बहुतअब भी मगर ये स्वप्न मेंआकर डराते हैं बहुतज्ञान जो निर्भय बनायेपाने को गंभीर हूँ मैंकौन हूँ...राह जैसे सूर्य कीदेती है सबको उष्माचन्द्र जैसे दे रहा... Read more
clicks 200 View   Vote 0 Like   1:47am 26 Sep 2008
Blogger: Reetesh Gupta
भरा पेट खाली पेट पर आसन जमायेपास रखी रोटी को पाने कीअसफ़ल कोशिश कर रहेखाली पेट से कहता हैरोटी तक पहुँचने काआसान रास्ता न चुनो मित्रभूख पर विजय हीहमारेस्वर्णिम भविष्य...भविष्य शब्द पर अचानक भरा पेट रुकाफ़ुर्ति से रोटी उठाई और बोलाहाँ तो मैं क्या कह रहा था... Read more
clicks 174 View   Vote 0 Like   3:44pm 23 Sep 2008
Blogger: Reetesh Gupta
कितनी लगन से उसने जी होगी जिंदगीयूँ ही नहीं हँसते हुये यहाँ दम निकलता हैइबादतें, वो बड़ी बेमिसाल होतीं हैंइंसान जब भगवान से आगे निकलता हैजिंदगी में हार को तुम मात न समझोइंसान ही तो यारों गिरकर संभलता हैपहली नज़र के प्यार से हमको परहेज हैकभी-कभी ही साथ यह लंबा निकलता है... Read more
clicks 193 View   Vote 0 Like   4:23pm 25 May 2008
Blogger: Reetesh Gupta
कर्तव्य से बड़कर जहाँ पद हैयह मान नहीं मान का मद हैजहाँ खुलती नहीं वक्त से गाँठेंघर नहीं वो तो बस छत हैकौन फ़िर लगाये वहाँ मरहमदृड़ जो सबके यहाँ मत हैंदिल दुखाये जो अगर वाणीमान लो झूठ जो अगर सच हैकद पर उसके तुम मत जानाफ़ल नहीं छाया भी रुकसत हैकैसे रहें वहाँ पर खुशियाँदर्द ए... Read more
clicks 193 View   Vote 0 Like   1:19am 6 May 2008
Blogger: Reetesh Gupta
जीवन कठिन डगर हैजो साँसें नहीं हैं गहरीकैसे प्रभु मिलेगेंमन जो रहेगा लहरी~~~~~~~~~~मैनें धर्म को अधर्म के साथचुपचाप खड़े देखा हैमैं अधर्म की अट्टाहस से नहींधर्म की खामोशी से हैरान हूँ~~~~~~~~~~जहाँ छोड़ रख्खा हो उजालासबने भरोसे सूर्य केवहाँ जलता हुआ एक दीप भीकिसी सूरज से कम नहीं... Read more
clicks 185 View   Vote 0 Like   1:30pm 12 Apr 2008
Blogger: Reetesh Gupta
तेरी इस दुनियाँ में प्रभु जीरंग-बिरंगे मौसम इतनेक्यों फ़िर सूखे-फ़ीके लोगथोड़ा खुद हँसने की खातिरकितना रोज रुलाते लोगबोतल पर बोतल खुलती यहाँरहते फ़िर भी प्यासे लोगपर ऎसे ही घोर तिमिर मेंमेधा जैसे भी हैं लोगसत्य, न्याय और धर्म की खातिरलड़ते राह दिखाते लोगएक राम थे जिनने ह... Read more
clicks 183 View   Vote 0 Like   5:50pm 6 Apr 2008
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3910) कुल पोस्ट (191408)