POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: वन्दे मातरम

Blogger: surya prakash
उन मां-बाप के दुर्भाग्य की सिर्फ कल्पना ही की जा सकती है, जिन्हें मीठी ईद से पहले अपने जिगर के टुकड़े को अंतिम विदाई देनी पड़ी। वह भी तब, जबकि उनके बेटे को मामूली झगड़े में कुछ लोगों ने पीट-पीटकर मार डाला हो। पलवल-मथुरा शटल में सफर कर रहे जुनैद के साथ जो हुआ, वह बर्बरता की ह... Read more
clicks 82 View   Vote 0 Like   8:36am 2 Jul 2017
Blogger: surya prakash
श्रीनगर की जामिया मस्जिद के बाहर राज्य पुलिस के डीएसपी मोहम्मद अयूब पंडित को उन्मादी भीड़ ने सिर्फ इसलिए पीट-पीटकर मार डाला क्योंकि उनके नाम में ‘पंडित’ शब्द शामिल था। वह अपना नाम एम.ए. पंडित लिखते थे। मस्जिद के बाहर सुरक्षा में तैनात पंडित किसी से फोन पर बात कर रहे थे,... Read more
clicks 74 View   Vote 0 Like   8:26am 2 Jul 2017
Blogger: surya prakash
तीन तलाक पर इन दिनों तीखी बहस चल रही है। टीवी ऐंकर और भाजपाई प्रवक्ता मौलवियों पर जोरदार हमले कर रहे हैं और साथ में बैठी पीड़िताएं अपना दर्द बयां कर रही हैं। इनके जवाब में मौलवियों और मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड जैसी संस्थाओं से जुड़े लोगों के तर्क हैं- हिंदुओं में तलाक ज्... Read more
clicks 82 View   Vote 0 Like   7:59am 2 Jul 2017
Blogger: surya prakash
5 राज्यों के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में बहुमत हासिल कर लिया है। पूर्वोत्तर राज्य मणिपुर में भी वह कांग्रेस से आगे निकली है। खासतौर पर यूपी में बीजेपी का 300 सीटों के आंकड़े पर पहुंचना राजनीतिक विश्लेषकों को चौंकाने वाला है, लेकिन सेक्यु... Read more
clicks 65 View   Vote 0 Like   7:47am 2 Jul 2017
Blogger: surya prakash
भारत की आजादी के 70 साल होने को हैं। बंटवारे के समय उत्पीड़न के चलते पश्चिमी पाकिस्तान से भागकर जम्मू-कश्मीर आए शरणार्थियों को आज भी अपने अस्तित्व की तलाश है। मौजूदा बीजेपी-पीडीपी सरकार ने उन्हें मामूली राहत देते हुए आवास प्रमाण पत्र जारी करने का फैसला लिया है ताकि वे ... Read more
clicks 76 View   Vote 0 Like   7:40am 2 Jul 2017
Blogger: surya prakash
विकास क्या है?उन्होंने बातचीत के दौरान जब यह सवाल पूछा तो मैंने औपचारिक शिक्षा से लेकर समाज और मीडिया से विकास के बारे में जो समझा था, वह उड़ेल दिया। सब गलत साबित हुआ और विकास की जो अवधारणा उन्होंने बताई, मुझे वही सही जान पड़ी और आज भी ऐसा ही लगता है। वह शख्स कोई और नहीं, त... Read more
clicks 47 View   Vote 0 Like   7:24am 2 Jul 2017
Blogger: surya prakash
‘दलित ईसाइयों को बड़े पैमाने पर छुआछूत और भेदभाव का शिकार होना पड़ता है। देश भर के कैथलिक चर्च में 5,000 से ज्यादा बिशप हैं, लेकिन इनमें दलित ईसाइयों की संख्या महज 12 है।’ यह किसी दक्षिणपंथी नेता का दावा नहीं है, बल्कि भारत के कैथलिक चर्च की स्वीकारोक्ति है। इतिहास में पहली... Read more
clicks 46 View   Vote 0 Like   7:03am 2 Jul 2017
Blogger: surya prakash
सुबह के करीब 4 बजे थे, मैं नाइट शिफ्ट में ऑफिस में था। इस बीच एक  न्यूज वेबसाइट पर मैं गया तो मुख्य खबर से ठीक नीचे एक विज्ञापन देखा, जो इस बात का प्रचार था कि आप कैसे मुसलमान बन सकते हैं और इसके क्या फायदे हैं। उत्सुकता में मैंने इस पर (IslamReligion.com) क्लिक किया तो वहां मुझ जैसे वि... Read more
clicks 83 View   Vote 0 Like   5:52am 27 Nov 2016
Blogger: surya prakash
आरएसएस के लोगों परमहात्मा गांधी की हत्या का आरोप लगाने, मुकरने और फिर मानहानि केस में डटने का फैसला लेकर राहुल गांधी ने बहुत समझदारी का परिचय नहीं दिया है। एक कुशल राजनेता के लक्षण यह होते हैं कि पहले तो वह बोलता ही तौल कर है और गलती से कुछ गड़बड़ हो जाए तो माफी मांगने से... Read more
clicks 84 View   Vote 0 Like   4:51pm 6 Sep 2016
Blogger: surya prakash
जम्मू-कश्मीर में भारत सरकार और सेना की भूमिका के मद्देनजर स्थानीय लोगों के मानवाधिकारों की अक्सर बात की जाती रही है। एक तबका तो ऐसा है, जो जम्मू-कश्मीर की तथाकथित आजादी के नाम पर अलगाववादियों को भी बौद्धिक समर्थन देता रहा है। लेकिन, हर सिक्के के दो पहलू होते हैं। जम्मू-... Read more
clicks 87 View   Vote 0 Like   12:31pm 1 Sep 2016
Blogger: surya prakash
पत्रकार की भूमिका क्या है? एक पत्रकार के नाते इस सवाल का जवाब मुझे हमेशा यही मिला है कि जहां भी आप हो, वहां से हर मसले को निरपेक्ष दृष्टि से देखना। लेकिन, जब कोई पत्रकार किसी राजनीतिक दल का कार्यकर्ता अधिक हो जाए और उसका अपने पेशे से सरोकार सिर्फ अपनी विचारधारा के पोषण तक... Read more
clicks 91 View   Vote 0 Like   8:20am 10 Aug 2016
Blogger: surya prakash
घृणा, घृणा करनेसे कम नहीं होती, बल्कि प्रेम से घटती है, यही शाश्वत नियम है। यह कहना था भगवान बुद्ध का। बीजेपी नेता दयाशंकर सिंह की ओर से मायावती की तुलना ‘वेश्या’ से किए जाने के बाद उबले बीएसपी के ज्यादातर नेताओं और कार्यकर्ताओं ने जिस तरह की प्रतिक्रिया दी, वह इस संदेश ... Read more
clicks 88 View   Vote 0 Like   9:25am 25 Jul 2016
Blogger: surya prakash
मौत। हर इंसानका अंत एक दिन इसके साथ ही होता है, लेकिन जीवन भर उसके कामों के हिसाब से ही मौत के बाद उसे जाना जाता है। कई बार तो उसके कामों के आधार पर ही तय होता है कि उसे कौन सी मौत मिलेगी। तो हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकी बुरहान वानी को जो मौत मिली, वह उसके कर्मों के मुताबिक ही ... Read more
clicks 80 View   Vote 0 Like   9:11am 25 Jul 2016
Blogger: surya prakash
बाबासाहेब आंबेडकर नेहिंदू समाज की जाति-व्यवस्था पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि यह एक ऐसी बहुमंजिला इमारत की तरह है, जिसमें कोई सीढ़ी नहीं है। उनका कहना था कि यह व्यवस्था ऐसी है, जिसमें ऊपर का व्यक्ति नीचे नहीं आ सकता और नीचे का व्यक्ति ऊपर नहीं आ सकता, उन्हें अपनी ही मंजि... Read more
clicks 64 View   Vote 0 Like   9:00am 25 Jul 2016
Blogger: surya prakash
जेएनयू में पिछले दिनों कुछ छात्रों ने जब कश्मीर की कथित आजादी को लेकर नारेबाजी की तो एक बार फिर समूचे देशवासियों का ध्यान राष्ट्र के इस महत्वपूर्ण हिस्से की ओर गया। आमतौर पर जम्मू-कश्मीर की चर्चा दिल्ली या अन्य हिस्सों में तभी होती है, जब कोई विवाद होता है या सरकार गठन ... Read more
clicks 68 View   Vote 0 Like   8:47am 25 Jul 2016
Blogger: surya prakash
बीते कुछ दशकों में भारतीय राजनीति को यदि सबसे बड़ा नुकसान हुआ है तो वह है ‘वामपंथ का बर्बादी की ओर बढ़ना’। जेएनयू में कुछ वामपंथी विचारधारा के छात्रों की ओर से भारत विरोधी नारे लगाने से लेकर रोहित वेमुला की मौत पर राजनीतिक रोटियां सेंकने, याकूब की फांसी पर अनर्गल विला... Read more
clicks 64 View   Vote 0 Like   8:31am 25 Jul 2016
Blogger: surya prakash
अमेरिका के हाथों बर्बाद हो चुकी दुनिया की सबसे पुरानी सभ्यताओं में से एक मेसोपोटामिया यानी इराक एक बार फिर अस्थिरता के दौर से गुजर रहा है। सद्दाम हुसैन को सबक सिखाने के लिए 20 मार्च, 2003 को हुए अमेरिकी हमले में देश की तबाही तो पहले ही हो चुकी थी, अब विखंडन की राह पर भी आगे बढ... Read more
clicks 149 View   Vote 0 Like   6:13am 10 Jul 2014
Blogger: surya prakash
किसी भी देश में लोकतंत्र को बनाए रखने, जनहित की आवाज उठाने के लिए मीडिया को महत्वपूर्ण माना जाता है। लेकिन अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कूटनीति में भी मीडिया का योगदान होता है, जिसे नकारा नहीं जा सकता।खाड... Read more
clicks 152 View   Vote 0 Like   7:00pm 10 Jul 2013
Blogger: surya prakash
औपनिवेशिक और आधुनिक भारत में किसी भी जनांदोलन का महत्वपूर्ण वाहक पत्रकारिता ही रही है। जनसंचार एवं जनमत निर्माण करने के अलावा भारत में पत्रकारिता ने जनांदोलनों में भी अपना योगदान दिया है।स्वाभाविक है&nbs... Read more
clicks 182 View   Vote 0 Like   6:54pm 10 Jul 2013
Blogger: surya prakash
भारतीय संस्कृति, मूल्यों की रक्षा करना हिंदी पत्रकारिता की सीरत है। हिंदी पत्रकारिता अपने शुरूआती समय से ही स्वतंत्रता के महान लक्ष्य को समर्पित रही। स्वतंत्रता संग्राम के लिए जनमानस को तैयार करने में हिंदी पत्रकारिता का महत्वपूर्ण योगदान था। लोकमान्य तिलक, महात... Read more
clicks 197 View   Vote 0 Like   6:46pm 10 Jul 2013
Blogger: surya prakash
खुशहोकरदेखतेहोक्यामेरीतबाहीको, कोईसुहानीशामकामंजरनहींहूंमैं।यहपंक्तियांउत्तराखंडकेहालातऔरउसपरजारीसियासतकीवस्तुस्थितिकोबयांकरनेकेलिएसटीकहैं।बीते 15 जूनकोउत्तराखंडमेंआसमानसेबरसीआफतनेजहांपहाड़केलोगोंपरमुसीबतोंकापहाड़तोड़दिया, वहींसियासतइसमौक... Read more
clicks 154 View   Vote 0 Like   7:38pm 28 Jun 2013
Blogger: surya prakash
  आजलोगोंमेंयहजुमलाआमप्रचलितहोगयाहैकिकोईभीजानकारीचाहिएतोइंटरनेटपरसर्चकरलो।सबकुछमिलजाएगा।लगभगसबकुछमिलताभीहै।गूगलकीदुनियानेलोगोंकोज्ञानऔरसंवादकाएकसुलभमंचउपलब्धकरायाहै।यहीकारणहैकिकिसीभीजानकारीकेलिएलोगोंकीनिर्भरताइंटरनेटपरबढ़तीजारहीहै।यु... Read more
clicks 172 View   Vote 0 Like   7:42pm 27 May 2013
Blogger: surya prakash
क्या छिनेगा भला मुझसे कोई,मैं अपना सब कुछ खोकर आया हूँ।               अब तेरा ग़म भी क्या सताएगा मुझे,              अश्कों के सैलाब में सब गम बहा के आया हूँ।बेख़ौफ़, निडर होकर अब चलूँगा मैं,जो खो सकता था, वह खोकर आया हूँ।               ठोकर महसूस नहीं होती अब ज़माने की,              तेरे दर से ठ... Read more
clicks 151 View   Vote 0 Like   5:14pm 29 Apr 2013
Blogger: surya prakash
सीमाएं हैं असुरक्षित मेरी, संप्रभुता पर है खतरा,रक्षा करने को मेरी दे दो रक्त का कतरा-कतरा।बलिदानी वीर सपूतों, सीमाओं की करो पहरेदारी,चीन-पाक जता रहे अब हिस्सेदारी।                  देखो! विखंडित न होने पाए, अब भारत माता,                  युगों-युगों से रहा है जिससे अपना अटूट नाता।    ... Read more
clicks 136 View   Vote 0 Like   5:45pm 25 Apr 2013
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3911) कुल पोस्ट (191527)