Hamarivani.com

kishtiyan

वन्दना षर्माषादी व्यक्ति के जीवन का सबसे यादगार लम्हा होता है। इस समारोह में परिवार, रिष्तेदार और मित्र एकत्रित हो आनंद उठाते हैं। खाना-पीना, नाचना-गाना, हंसी-मज़ाक के बीच सब संपन्न होता है और नया जोड़ा अपने दांपत्य जीवन की षुरूआत करता है। समाज में होने वाली हर षादी का ...
kishtiyan...
Tag :dowry
  April 18, 2015, 3:38 pm
लोकसभा चुनाव 2014 के चुनाव के प्रचार का आज आखिरी दिन है। वाराणसी में राहुल का रोड शो और पीछे चलती भारी भीड़।  चुनावों में इस बार महिलाओं को बहुत बढ़ावा दिया गया। नेता चाहे मोदी हो या राहुल—प्रियंका, सभी महिलाओं को एक बड़े वोटर के तौर पर देखने लगे हैं। उनकी सुरक्षा के मुद...
kishtiyan...
Tag :
  May 10, 2014, 3:52 pm
विश्वभर में चार फरवरी का दिनकैंसरदिवस के रूप में मनाया जाता है जिसका उद्देश्य कैंसर जैसी घातक बिमारी के प्रति लोगों में जागरूकता फैलाना है। जब लोगों में जागरूकता होगी तभी वे इसके इलाज और बचाव के प्रति सजग हो सकेंगे। विश्व कैंसर रोकथाम संघ की ओर से 2008में चार फरवरी को 'व...
kishtiyan...
Tag :
  February 5, 2014, 10:53 am
वन्दना शर्मादेश की राजधानी दिल्ली में इन दिनों महिलाओं के खिलाफ बढ़ते जा रहे अपराधों से यहां की महिलाएं खुद को असुरक्षित महसूस करने लगी हैं। आप सभी के देखते-देखते दिल्ली कैपिटल से रेप कैपिटल में तब्दील हो गई है। ऐसे में जरूरी है कि आप स्वयं ऐसे कदम उठाने के लिए तैयार रह...
kishtiyan...
Tag :
  September 29, 2013, 1:53 pm
वन्दना शर्माहाल ही में उच्चतम न्यायालय ने एसिड अटैक की शिकार लक्ष्मी की याचिका पर  फैसला सुनाया है कि अब दुकानों पर खुलआम तेजाब की बिक्री करना एक अपराध होगा। इसके लिए विक्रेता के पास लाइसेंस का होना जरूरी है और साथ ही 18साल से कम उम्र के व्यक्ति को तेजाब नहीं बेचा जाएग...
kishtiyan...
Tag :
  August 29, 2013, 3:10 pm
दिल्ली! दिल्ली बस दिलवालों की नहीं बल्कि सबकी है, दिल हो चाहे न हो। यहां हर दिन लाखों लोग ट्रेन से उतरते हैं कुछ लौटने को आते हैं तो कुछ बस जाने को। कुछ मैट्रो सिटी की चकाचौंध में काम की तलाश को आए तो कुछ अपने सपनों की पोटली लिएभविष्य संवारने यानी पढ़ाई को। यहां स्वागत है ...
kishtiyan...
Tag :
  August 13, 2013, 12:12 pm
खुश रहना मैंने तुमसे सीखा हैहंसना मैंने तुम्हारी मुस्काराहट से सीखा हैदिए जलानामैंने तुम्हारी शाम से सीखा हैसात रंगों को छूनामैंने छांव से सीखा हैफर्ज़ तुम्हारा है हमेशामुझे सीखाते रहोखुश रहना जो मैंने तुमसे सीखा है......
kishtiyan...
Tag :
  August 2, 2013, 3:39 pm
 तंग गलियारों से मैं निकलीखुली खिड़कीखुले दरवाजेखुला वो आसमानसिरहाने रखी रौशनीमेरे हिस्से का प्यारतेरे इश्क की खुश्बूसब कुछ तो है मेरे पासनजाकत भरे वो पलगुनगुनाती सांसेलहराती जुल्फेंझुकती निगाहेंमुस्कुराते होंठसब कुछ तो है मेरे पास......
kishtiyan...
Tag :
  August 2, 2013, 3:34 pm
चेहरे पर एक दाग लग जाता है तो उसे हम जल्दी से जल्दी साफ करने को दौड़ते हैं और तब तक बेचैन रहते हैं जब तक चेहरा पहला-सा नहीं हो जाता। ऐसे में उन लोगों की बेचैनी का अंदाजा लगाया जा सकता है जो ‘एसिड अटैक‘ का शिकार हो रहे हैं। इन दिनों ऐसी घटनाओं का ग्राफ बढ़ता ही जा रहा है। ले...
kishtiyan...
Tag :
  October 29, 2012, 5:05 pm
वन्दना शर्माहाल ही में दिल्ली की कुछ गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) के साथ मुझे हरियाणा राज्य के कुछ क्षेत्रों में घूमने का अवसर मिला। हरियाणा राज्य का नाम लेते ही अनायास ही मन में यह बात सामने आती है कि यहां लिंगानुपात बेहद कम है। और यही गिरता लिंगानुपात देश और सरकार के लि...
kishtiyan...
Tag :
  October 6, 2012, 11:01 am
वन्दना शर्माहाल ही में दिल्ली की कुछ गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) के साथ मुझे हरियाणा राज्य के कुछ क्षेत्रों में घूमने का अवसर मिला। हरियाणा राज्य का नाम लेते ही अनायास ही मन में यह बात सामने आती है कि यहां लिंगानुपात बेहद कम है। और यही गिरता लिंगानुपात देश और सरकार के लि...
kishtiyan...
Tag :
  October 6, 2012, 11:01 am
"आने वाली पीढ़ी को शायद ही यह यकीन होगा कि गांधी जैसा  भी कोई हाड़-मांस का पुतला इस धरती पर चला होगा" यह कथन विश्व प्रसिद्ध वैज्ञानिक आइन्स्टाइन ने गांधी जी के व्यक्तित्व से प्रभावित होकर  कहे थे. इस वैज्ञानिक के द्वारा कहे गए ये शब्द  आज सच लगते हैं.  हाल ही में मेरा और ...
kishtiyan...
Tag :
  October 2, 2012, 11:53 am
मेरी एक करीबी अच्छी मित्र का सुनाया हुआ एक बेहतरीन किस्सा सांझा कर रही हूं आप के साथ - एक बार गांधी जी रवीन्द्र नाथ टैगोर जी से मिलने उनके आश्रम गये। वहां उन्होने देखा कि टैगोर उनसे मिलने के लिए अपनी लंबी दाढ़ी और बालों को शीशे में देखकर संवार रहे हैं।ये सब देख गांधी जी ...
kishtiyan...
Tag :
  September 21, 2012, 3:29 pm
यह एक गहन सोच का विषय बन गया है कि हमारा समाज किस ओर बढ़ रहा है? मुश्किल हो रहा है इसका पता लगाना! महिलाएं आगे बढ़ रही हैं या पुरूष पिछड़ रहा है? शिक्षा का स्तर ऊंचा हुआ है या अपराधों का? पश्चिम के लोगों को हमारे पूर्वजों ने भगाया तो अब हम खुद उनके पीछे भागने लगे। बार, लेट नाइट पा...
kishtiyan...
Tag :
  July 17, 2012, 6:13 pm
समय जैसे-जैसे भागता है वह अपने पीछे हमारे लिए कुछ न कुछ छोड़कर चलता जाता है। यह समय की खूबी भी है और कमी भी। हम खुद को इस कदर ढ़ाल चुके हैं कि अब इंटरनेट हमारे लिए न होकर हम इंटरनेट के लिए ही हो गए हैं। आज जिस स्तर से सूचना तकनीक और प्रौद्योगिकी रिकॉर्ड तोड़ बुलंदियों को छू रह...
kishtiyan...
Tag :
  July 17, 2012, 5:45 pm
विकलांगता एक ऐसी अवस्था का नाम है जो मनुष्य को शारीरिक या मानसिक स्तरपर अक्षम बनाती है. भारत में विकलांगों का प्रतिशत स्पष्ट नहीं है. 2001 के सरकारी आकंड़ों में इनकी संख्या 2 .17 करोड़ बताई गई, जबकि स्यवंसेवीसंगठनों और मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय ने इनकी संख्या 10 करोड़ त...
kishtiyan...
Tag :
  June 8, 2012, 5:51 pm
मीडिया का वर्चस्व भारतीय समाज में निरंतर अपना जाल बुनता जा रहा है. एकवक़्त ऐसा भी था जब घरों में टेलीविजन होना एक बड़ी बात होती थी. फिर लगभगइसके एक दशक बाद ही सभी घरों के शोकेस में टेलीविजन ने अपनी जगह पक्की करली. घरों में टीवी की पहुँच के बाद बारी आई केबल टीवी की, फिर ...
kishtiyan...
Tag :
  June 8, 2012, 5:44 pm
मीडिया का वर्चस्व भारतीय समाज में निरंतर अपना जाल बुनता जा रहा है. एकवक़्त ऐसा भी था जब घरों में टेलीविजन होना एक बड़ी बात होती थी. फिर लगभगइसके एक दशक बाद ही सभी घरों के शोकेस में टेलीविजन ने अपनी जगह पक्की करली. घरों में टीवी की पहुँच के बाद बारी आई केबल टीवी की, फिर तो ...
kishtiyan...
Tag :
  June 8, 2012, 5:44 pm
वन्दना शर्मापिछले दिनों अपनी परिक्षाओं के चलते मैं परीक्षा हॉल में बैठी थी। अपने लिखते से जा रहे हाथों को कुछ समय के लिए थोड़ा आराम दिया। खाली बैठे मैंने यूं ही इधर-उधर बैठे लोगों को देखा। परीक्षा में बैठने वालों का स्वभाव अक्सर ऐसा बन जाता है कि वह खुद से ज्यादा औरो पर ...
kishtiyan...
Tag :
  June 4, 2012, 6:04 pm
वन्दना शर्मापिछले दिनों अपनी परिक्षाओं के चलते मैं परीक्षा हॉल में बैठी थी। अपने लिखते से जा रहे हाथों को कुछ समय के लिए थोड़ा आराम दिया। खाली बैठे मैंने यूं ही इधर-उधर बैठे लोगों को देखा। परीक्षा में बैठने वालों का स्वभाव अक्सर ऐसा बन जाता है कि वह खुद से ज्यादा औरो पर ...
kishtiyan...
Tag :
  June 4, 2012, 6:04 pm
कल एक अजीब सी बात हुईअपनी ही धुन में चली जा रही थीकोई आया या पता नहीं मैं ही गई...बस हम टकरा गएएक फिल्मी सा सीन था किपहले वो संभल गए और थाम लिया अपनी बाहों मेंआ गए इतने करीब जो सांसें भी सुन सकें...नज़र भर देखा अभी भी थामे हुए हैंशायद मैं ही इस आगोश में हूंअचानक!कानों में कुछ आव...
kishtiyan...
Tag :
  May 28, 2012, 1:11 pm
कल एक अजीब सी बात हुईअपनी ही धुन में चली जा रही थीकोई आया या पता नहीं मैं ही गई...बस हम टकरा गएएक फिल्मी सा सीन था किपहले वो संभल गए और थाम लिया अपनी बाहों मेंआ गए इतने करीब जो सांसें भी सुन सकें...नज़र भर देखा अभी भी थामे हुए हैंशायद मैं ही इस आगोश में हूंअचानक!कानों में कुछ आव...
kishtiyan...
Tag :
  May 28, 2012, 1:11 pm
पिछले दिनों मुंबई शहर में चौपाटी, मरीन ड्राइव की शाम को करीब से देखने का मौका मिला। कुछ देर टहलने के बाद समन्दर से आती ठण्डी हवा मे कुछ देर के लिये मैं और मेरी मित्र बैठ गये। किनारे पर जरा बैठने पर ही आसपास के छोटे-मोटे हॉकर्स ने अपना काम शुरू  कर दिया जिनसे हम किसी न किस...
kishtiyan...
Tag :
  May 18, 2012, 4:44 pm
आज न्यू मीडिया के रूप में हमारे सामने सोशल नेटवर्किंग साइट्स (फेसबुक, माइस्पेस, ट्विटर, ऑरकुट, फ्रेंडस्टर), विकीपीडिया और ब्लॉग और बहुत कुछ दिखाई देता हैं। हालांकि, इस डिजिटल दुनिया का कोई दायरा नहीं है। नए ज़माने के इस मीडिया के बीच सूचनाओं में क्रिएटिविटी, शेयरिंग या...
kishtiyan...
Tag :
  May 17, 2012, 5:21 pm
महाराष्ट्रके पुणे जिले की बारामती तहसील से 10 किमी. की दूरी पर एक छोटा सा गांव है, काटेवाड़ी। ये है देश का पहला ‘ईको- विलेज‘।इस साफ सुथरे गांव में दस्तक देते ही सामने एक दीवार पर मोटे अक्षर की एक पक्ति आपका ध्यान खींच लेती हैं-‘समाज शक्ति हिच खारी राष्ट्र शक्ति होए‘ यानी ...
kishtiyan...
Tag :model village
  May 13, 2012, 3:53 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163613)