Hamarivani.com

My Unveil Emotions

सौदागर” प्रोफेसर सैन और प्रोफेसर देशपांडे सरकारी मुलाजिम हैं, तनख्वाह भी एकै जैसी मिलत है लेकिन ई दुइनो जब से निरीक्षक भइ गए हैं तब से प्रोफेसर सैन तो बड़ी बड़ी लग्जरी गाड़ियों में दौरा करत है और बड़े आलीशान होटलों में बसेरा करत हैं लेकिन ..लेकिन बेचारे देशपांडे कभी धर्मश...
My Unveil Emotions...
Tag :
  September 19, 2018, 2:51 pm
२१२ २१२  २१२  २१२हम तो बस आपकी राह चलते रहेये ख़बर ही न थी आप छलते रहेबादलों से निकल चाँद ने ये कहाभीड़ में तारों की हम तो जलते रहेहिम पिघलती हिमालय पे ज्यों धूप  मेंयूँ हसीं प्यार पाकर पिघलते रहेचांदनी भाती , आशिक हूँ मैं चाँद का सच कहूं तो दिए मुझको  खलते रहेजुल्फ ...
My Unveil Emotions...
Tag :
  May 7, 2018, 11:40 am
22 22 22 22 22 22ज़िंदा है आदमी यहाँ उम्मीदों के सहारेमझधार फंसी कश्ती भी लग जाती है किनारेइस जिंदगी में मुझसे न देखे गए कभी हैंयारों की आँखों बहते हुए अश्कों के धारेपागल कोई कहे कोई कहता है दीवानाजिसको लगूँ मैं जैसा मुझे बैसे पुकारेनजरें टिकी भले हों जमानें की चाँद परगाफिल हू...
My Unveil Emotions...
Tag :
  September 15, 2017, 5:12 pm
2222          2222        2222  22  चलते चलते इन राहों में जब मिल जाती  हो तुमजाने क्या हो जाता है जो यूं सकुचाती  हो तुमतेरी आँखों में लगता है काला कोइ जादू जिसपे नजरें पड़ जाती उसको भरमाती हो तुम इक पल को आती  हो छत पर फिर गुम हो जाती हो क्या बच्चो के जैसा...
My Unveil Emotions...
Tag :
  July 28, 2017, 3:26 pm
2222          2222        2222  22  चलते चलते इन राहों में जब मिल जाती  हो तुमजाने क्या हो जाता है जो यूं सकुचाती  हो तुमतेरी आँखों में लगता है काला कोइ जादू जिसपे नजरें पड़ जाती उसको भरमाती हो तुम इक पल को आती  हो छत पर फिर गुम हो जाती हो क्या बच्चो के जैसा...
My Unveil Emotions...
Tag :
  July 28, 2017, 3:26 pm
जौ की रोटी महुए की चटनी पड़ोस में रहने वाले मेरे एक मित्र मिस्टर शर्माएक दिन बड़े सबेरे ही घर पर आयेऔर चाय की चुस्कियो के साथ साथचुनावों पर चर्चा करते हुएस्वास्थ्य के मुद्दे पर प्रश्न उठायेबोले मिश्रा जी सेहतमंद होने केकुछ बेहतर तरीके बताईयेज्यादा दौड़ भाग के बिना का...
My Unveil Emotions...
Tag :
  May 5, 2017, 1:30 pm
जौ की रोटी महुए की चटनी पड़ोस में रहने वाले मेरे एक मित्र मिस्टर शर्माएक दिन बड़े सबेरे ही घर पर आयेऔर चाय की चुस्कियो के साथ साथचुनावों पर चर्चा करते हुएस्वास्थ्य के मुद्दे पर प्रश्न उठायेबोले मिश्रा जी सेहतमंद होने केकुछ बेहतर तरीके बताईयेज्यादा दौड़ भाग के बिना का...
My Unveil Emotions...
Tag :
  May 5, 2017, 1:30 pm
जिन्दगी कितनी ही जाने इक कहानी हो गयीं ताज बदले तो कई बातें पुरानी हो गयीं इक नए सूरज के उगते ही छितिज़ पर यूं लगा चारसू जैसे फिजाये ही सुहानी हो गयीं अब कलम कागज की उनको है जरूरत ही कहाँ जिन को लिखना था वो सब बातें जुवानी हो गयीं कृष्ण के भीतर कही कुछ बात निश्चित खास थी यूं...
My Unveil Emotions...
Tag :jindagee gopiyan
  March 25, 2017, 9:46 am
जिन्दगी कितनी ही जाने इक कहानी हो गयीं ताज बदले तो कई बातें पुरानी हो गयीं इक नए सूरज के उगते ही छितिज़ पर यूं लगा चारसू जैसे फिजाये ही सुहानी हो गयीं अब कलम कागज की उनको है जरूरत ही कहाँ जिन को लिखना था वो सब बातें जुवानी हो गयीं कृष्ण के भीतर कही कुछ बात निश्चित खास थी यूं...
My Unveil Emotions...
Tag :jindagee gopiyan
  March 25, 2017, 9:46 am
अपनी जाईगोद में खिलाईलाडली सी बिटियाजो कभी फूलतो कभी चाँद नजर आती है/जिसके लिए पिता का पितृत्वऔर माँ की ममतापलकें बिछाते हैं;किन्तु उसी लाडली केयौवन की दहलीज पर कदम रखते ही,उसके सुखी जीवन की कामना में जबउसके हमसफ़र की तलाश की जाती है/तब उसके चाल चलनउसकी बोली , उसकी शिक्...
My Unveil Emotions...
Tag :
  March 23, 2017, 9:33 am
अपनी जाईगोद में खिलाईलाडली सी बिटियाजो कभी फूलतो कभी चाँद नजर आती है/जिसके लिए पिता का पितृत्वऔर माँ की ममतापलकें बिछाते हैं;किन्तु उसी लाडली केयौवन की दहलीज पर कदम रखते ही,उसके सुखी जीवन की कामना में जबउसके हमसफ़र की तलाश की जाती है/तब उसके चाल चलनउसकी बोली , उसकी शिक्...
My Unveil Emotions...
Tag :
  March 23, 2017, 9:33 am
रोजानाफेस बुक पर,कभी कनिष्ठों, कभी वरिष्ठोंकभी मित्रों तो कभी सहपाठियों कीकोट पेंट पहने टाई लगाएकभी हाथों में प्रशस्ति पत्रकभी गले में लड़ी ढेर सारी मालाओं वालीकोई तस्वीर जब दिल को भातीतो बरबस तस्वीर पर होने वाली प्रतिक्रिया पर भी नजर जातीकिसी को नयी तकनीक लाने परक...
My Unveil Emotions...
Tag :दूध
  March 18, 2016, 5:22 pm
रोजानाफेस बुक पर,कभी कनिष्ठों, कभी वरिष्ठोंकभी मित्रों तो कभी सहपाठियों कीकोट पेंट पहने टाई लगाएकभी हाथों में प्रशस्ति पत्रकभी गले में लड़ी ढेर सारी मालाओं वालीकोई तस्वीर जब दिल को भातीतो बरबस तस्वीर पर होने वाली प्रतिक्रिया पर भी नजर जातीकिसी को नयी तकनीक लाने परक...
My Unveil Emotions...
Tag :दूध
  March 18, 2016, 5:22 pm
दो घड़ी जब ठहरना नहीं आपको तय ही है प्यार करना नहीं आपको चाँद अम्बर पे भी चाँद छत पे भी है कुछ भी हो है बहकना नहीं आपको रात दिन हुस्न क्यूँ यूं संवरता फिरे आँखों से कुछ समझना नहीं आपको बात गुल बुलबुलों तोता मैना कि क्या है कभी जब चहकना नहीं आपको सूखती जूड़े मे...
My Unveil Emotions...
Tag :घड़ी
  December 30, 2015, 10:50 am
यूं कतरा कतरा शराब पीकरहूँ  जिन्दा अब तक जनाब पीकरसवाल मुश्किल थे जिन्दगी केमगर दिए सब जवाब पीकरये मय लगी  कडवी सच के जैसी न कह सका मैं  ख़राब पीकरपहाड़ सीने पे दर्दो गम केनहीं रहा कोई दबाव  पीकरजिन्हें मयस्सर न रोटियाँ थीं वो बन गए थे  नवाब पीकरथा खौफ आँखों मे...
My Unveil Emotions...
Tag :
  May 14, 2015, 6:54 am
तुमको पत्थर में नहीं मूरत दिखाई दे रही हैनदियों की कल कल न बांधों में सुनायी दे रही हैकोई भी इल्जाम मैंने तो लगाया था नहीं फिरवो हंसी गुल जाने क्यूँ इतनी सफाई दे रही हैचीख बस बच्चों कि ही तुमको सुनायी देती है क्यूँये न देखा लाडले को माँ दवाई दे रही हैएक रोटी के लिए तरसा द...
My Unveil Emotions...
Tag :
  May 4, 2015, 5:15 pm
शबाब फूलों का शबनम में मिला देते हैं शराब यूं ही हसी रोज बना देते हैंदुआएं करते हैं हम जब भी अमन की खातिरकबूतरों को भी हाथों से उड़ा देते हैं कभी जो आया हमें याद सुहाना बचपनहँसी घरोंदा ही बालू पे बना देते हैं हुए न जब भी चरागा हैं मयस्सर हमको चरागे दिल को यूं ही रोज ...
My Unveil Emotions...
Tag :चमन
  November 21, 2014, 11:08 am
पीना न तुम शराब ये आदत ख़राब है कहती है हर किताब ये आदत ख़राब है बदनाम तुमने कर दिया देखो शराब को पीते हो बेहिसाब ये आदत ख़राब है कोई सवाल पूछे बला से जनाब कीदेते नहीं जवाब ये आदत ख़राब हैइक घूँट जिसने पी कभी कैसे कहे बुरा हरगिज न हो जवाब ये आदत ख़राब हैतकदीर से ये हुस्...
My Unveil Emotions...
Tag :ग़ज़ल
  January 15, 2014, 2:14 pm
पीना न तुम शराब ये आदत ख़राब है कहती है हर किताब ये आदत ख़राब है मुफलिस को भी नवाब जो पल भर में बना दे उसको जहर ख़िताब ये आदत ख़राब है बदनाम कर दिया है खुद तुमने शराब को पीते हो बेहिसाब ये आदत ख़राब है इक घूँट जिसने पी कभी कैसे कहे बुरा हरगिज न हो जवाब ये आदत ख़राब है ...
My Unveil Emotions...
Tag :ग़ज़ल
  January 15, 2014, 2:14 pm
चर्चा में है ईमान अब भी जाग जाईये मुश्किल में है सम्मान अब भी जाग जाईये जिसको न अभी है पता भूगोल देश का नेता है वो नादान अभी जाग जाईये बल्ला न छुआ जिसने हो जीवन में ही कभी बनना उसे कप्तान अब भी जाग जाईये खामोश हवा कर रही थी इंतज़ार ही वो बन गयी तूफान अब भी जाग जा...
My Unveil Emotions...
Tag :
  January 4, 2014, 11:06 am
चर्चा में है ईमान अब भी जाग जाईये मुश्किल में है सम्मान अब भी जाग जाईये जिसको न अभी है पता भूगोल देश का नेता है वो नादान अभी जाग जाईये बल्ला न छुआ जिसने हो जीवन में ही कभी बनना उसे कप्तान अब भी जाग जाईये खामोश हवा कर रही थी इंतज़ार ही वो बन गयी तूफान अब भी जाग जा...
My Unveil Emotions...
Tag :
  January 4, 2014, 11:06 am
रोज तुमसे मिलने की आदत अगर हो जायेगीमौत के दीदार होते रूह भी रो जायेगीआख़िरी पल में क़ज़ा होगी खड़ी जब सामनेजिंदगी इक दर्द के अहसास में खो जायेगीइ पल क़ज़ा जो सामने होगी मेरे जिन्दगी इक हसीन  ख्वाब में खो जायेगी अब ग़ज़ल मेरी खड़ी है बन के साकी बज्म मेंमशविरा रिंदों का पाकर...
My Unveil Emotions...
Tag :साकी
  December 10, 2013, 10:02 pm
रोज आदत जो तुमसे मिल ने की हो जायेगी मौत की रात मेरी रूह भी रो जायेगी आखिरी पल क़ज़ा जो सामने होगी मेरे जिन्दगी इक हसीन  ख्वाब में खो जायेगी आज साकी बनी ग़ज़ल खडी है महफ़िल में रिंद जब देंगे मशविरा  सँवर  वो  जायेगी हार उल्फत का देख मौत होगी शर्मिंदा मौत खुद ...
My Unveil Emotions...
Tag :साकी
  December 10, 2013, 10:02 pm
मौसम-ए-इश्क हसीं प्यास जगा जाता हैहुस्न वालों  का भी ईमान  हिला जाता है धड़कने दिल की बढ़ा सीने मे तूफॉ रखकर मौसम-ए-इश्क दबे पाँब चला जाता  है सर्द हो  रात  हो बरसात का मादक मंजरमौसम-ए-इश्क  सदा सब को जला जाता है  दर्द  ऐसा  भी है, अहसास सुखद है जिसका मौसम-...
My Unveil Emotions...
Tag :दर्द
  December 2, 2013, 2:11 pm
नन्द का लाला मुरली वाला सबको नाच नचाये संग गोपिओं के भी बह जोरा-जोरी कर जाए बांध रही है किसे जसोदा रस्सी के बंधन से मटकी कितनी भी ऊंची हो माखन रोज चुराए भोली-भाली ममता जब कुछ बात समझ ना पाएनन्हे मुख में लल्ला फिर पूरा ब्रह्मांड दिखाए इंद्र देव, देवों के राजा, जब घमंड में आ...
My Unveil Emotions...
Tag :गोपियाँ
  November 20, 2013, 4:48 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3814) कुल पोस्ट (182812)