Hamarivani.com

चिकोटी

नॉर्थ कोरियाका तानाशाह गजब का 'बमचक'बंदा है। चेहरे से जितना 'भोला-भाला'जान पड़ता है, दिमाग का उतना ही 'टेढ़ा'। किस बात का कब बुरा मान जाए, उसके फरिश्ते भी न जानते। लोग गुस्से को 'नाक'पर रखकर चलते हैं मगर वो 'हाइड्रोजन बम'पर रखता है। तुरंत हाइड्रोजन बम से उड़ाने का अल्टीमेटम ...
चिकोटी...
Tag :
  October 13, 2017, 9:35 am
साहित्यका नोबेल एक दफा फिर से मेरे देश के साहित्यकारों के हाथों से फिसल गया। एक विदेशी साहित्यकार उस पर कब्जा जमा बैठा। यह जितना क्षोभप्रद हमारे साहित्यकारों के लिए है, उससे कहीं ज्यादा बेचैनी का विषय मेरे लिए है। अपनी बेचैनी का आलम मैं शब्दों में बयां नहीं कर सकता। ज...
चिकोटी...
Tag :
  October 10, 2017, 9:58 am
श्राद्धनिपटते ही सेल ने दरवाजे पर दस्तक दे दी है। खरीद-बेच का दौर शुरू हो गया है। ऑफलाइन से अधिक ऑनलाइन मार्केट हमें लुभाने में लगा है। ऑनलाइन मार्केट की सेल में किस्म-किस्म के ऑफर्स हैं। डिस्काउंट्स हैं। जीरो ईएमआई के सुनहरे वादे हैं। सारा जोर इस बात पर टिका है कि कस्...
चिकोटी...
Tag :
  September 29, 2017, 10:03 am
सरकार'अच्छे दिन'लाने को 'कृत-संकल्प'है। हर काम में जी-जान से जुटी है। स्वयं प्रधानमंत्री जी भी अपने प्रत्येक संबोधन में 'अच्छे दिन'लाने की अपनी 'भीष्म-प्रतिज्ञा'को दोहराए बिना नहीं रहते। जनता भी यह सोचकर संतोष कर ही लेती है कि आज नहीं तो कल उसके 'अच्छे दिन'आ ही जाएंगे। जबक...
चिकोटी...
Tag :
  September 25, 2017, 12:28 pm
पहलेमैं वंशवाद और वंशवादियों को ‘हेय दृष्टि’ से देखा करता था। जाने कितने ही लेख मैंने ‘वंशवाद के विरोध’ में यहां-वहां लिख डाले। कितने ही दोस्तों से अपनी दोस्ती सिर्फ इस बात पर एक झटके में ‘खत्म’ कर दी कि वे बहुत बड़े वाले वंशवादी थे। हमेशा वंशवाद के समर्थन में खड़े रह...
चिकोटी...
Tag :
  September 22, 2017, 9:50 am
मैंनेअब कम बोलना। कम लिखना। बहस में कम पड़ना शुरू कर दिया है। समय खराब है। किसी का कोई भरोसा नहीं। कब में किस बात या असहमति पर कोई मेरा भी काम तमाम कर डाले। तो प्यारे मेरी भलाई इसी में है कि मैं ‘मुंह पर टेप’ चिपकाए रहूं।लेखक होकर मेरा यों ‘बिदकना’- जानता हूं- बहुत लोगों ...
चिकोटी...
Tag :
  September 8, 2017, 3:28 pm
देखरहा हूं। बैंच पर जमे एक शिरिमानजी निरंतर मुस्कुराए जा रहे हैं। अखबार उनके हाथों में है। मुस्कुराते वक्त उनके दांतों को देख पा रहा हूं। कुछ पीलापन है उन पर। उम्र का तकाजा कह लीजिए या पान-गुटखे की छाप जो उनकी मुस्कुराहट के बीच खुलते-बंद होते दांतों पर साफ दिखलाई पड़ र...
चिकोटी...
Tag :
  September 5, 2017, 1:39 pm
अखबारों में जूली 2का पोस्टर आया और छा गया। ऐसा छाया कि संस्कारवान लोग भी उतावले हो उठे उसे देखने-समझने को। सुनाई में आया है कि लोगबाग बड़ी तबीयत से जूली 2के पोस्टर को अपने-अपने व्हाट्सएपपर एक-दूसरे को आगे-पीछे सरका रहे हैं। पोस्टर पर ‘चटकारे’ यों लिए जा रहे हैं मानो कोई च...
चिकोटी...
Tag :
  September 4, 2017, 1:29 pm
बहरहाल, निजताओं पर चाहे कितने कानून बना लिए लीजिए। कितनी ही बहस कर लीजिए। एक-दूसरे की निजताओं की कितनी ही दुहाईयां दे लीजिए। मगर फिर भी कुछ सवाल न खत्म हुए हैं। न कभी खत्म हो पाएंगे। ये ऐसे गैर-वाजिब सवाल हैं, जिन्हें हम चाहकर भी 'निजी'नहीं बना सकते। समाज एवं घर-परिवार के ...
चिकोटी...
Tag :
  August 30, 2017, 9:57 am
वोखामोश हैं। इतने खामोश कि उनकी आवाज न जमीन न टि्वटर कहीं पर भी सुनाई नहीं दे रही। देश-दुनिया में इतना कुछ घटते रहने के बाद भी उनका खामोश रहना न केवल मुझे बल्कि उनके चहाने वालों को भी अब खलने-सा लगा है।पहले जब वे लगभग हर मुद्दे पर बोलते या ट्वीट करते रहते थे तब हमारे दिलो...
चिकोटी...
Tag :
  August 29, 2017, 7:35 am
आदेशलड़कियों के लिए आया था कि वे रात में घर से बाहर न निकलें। किंतु लागू इसे मैं खुद पर कर रहा हूं। आज से या कहूं अभी से मैंने रात में घर से निकलना एवं घर की खिड़की से मुंह निकालकर बाहर देखना तक बंद कर दिया है। सुन रहा हूं कि बाहर का माहौल खराब है। छेड़छाड़ की वारदातें बढ़त...
चिकोटी...
Tag :
  August 22, 2017, 7:37 am
सड़ककोच्चि की थी। भीड़ भी कोच्चि की थी। मगर सनी लियोनी कोच्चि की नहीं थी। वो तो वहां किसी शोरूम के उद्घाटन के लिए थी। फिर भी उसकी एक झलक भर पाने भर को कोच्चि की सड़क भीड़ से पट गई थी।सड़क पर इतनी भीड़। कि, लोगों के बस सर ही सर दिखलाई पड़ रहे थे। लोग एक के ऊपर एक कूदे जा रहे थ...
चिकोटी...
Tag :
  August 20, 2017, 7:43 am
लोगभी न फिक्रमंद होने का कोई मौका हाथ से जाने नहीं देते। अब देखिए, लोग इस बात पर फिक्रमंद हैं कि सिक्का ने इंफोसिस को क्यों छोड़ा? किसलिए छोड़ा? काहे इतनी बड़ी नौकरी को दो सेकंड में लात मार दी? आदि-आदि।सिक्का ने अगर इंफोसिस को त्यागा तो उसके पीछे कुछ तो ठोस कारण रहे ही हों...
चिकोटी...
Tag :
  August 19, 2017, 8:45 am
कईसाल पहले की बात है। देश की एक आला कंपनी ने देशवासियों को कर लो दुनिया मुठ्ठी में का मंत्र दिया था। मंत्र को हमने न केवल स-हृदय स्वीकारा बल्कि स्वागत भी किया। फिर तो देश के प्रत्येक आमो-खास की मुठ्ठी में एक बे-तार का यंत्र नजर आने लगा। आलम यह था- जिस ओर निगाह दौड़ा दो, उस ओ...
चिकोटी...
Tag :
  August 14, 2017, 9:51 am
मैं सेंसेक्सऔर निफ्टी दोनों का समान प्रसंशक हूं। यह बात सही है कि मैंने जिस प्रखरता के साथ सेंसेक्स पर लिखा, उतना निफ्टी पर नहीं लिख पाया। निफ्टी पर न लिखने के पीछे किसी प्रकार का किंतु-परंतु नहीं है। पर इससे मेरा निफ्टी के प्रति स्नेह कम नहीं हो जाता। मेरा बचपन से मानन...
चिकोटी...
Tag :
  August 8, 2017, 1:16 pm
दोस्तोंकी किल्लत मुझे बचपन से कभी नहीं रही। लाइफ में एक से बढ़कर एक दोस्त बनाए। जमकर दोस्तबाजियां कीं। स्कूल-कॉलेज के दिनों की दोस्तियों ने नए मुकाम हासिल किए। मोहल्ले में मैं पतंगबाजी के लिए तो खासा बदनाम था ही, नुक्कड़ पर दोस्तों के साथ मजमा लगाने के चर्चे भी कम न थे...
चिकोटी...
Tag :
  August 6, 2017, 7:54 pm
क्याआपके घर में टमाटर है?यह प्रश्न आजकल मुझे इतना ‘असहज’ किए हुए है कि मैं रातों को सो नहीं पा रहा। निगाहें हर वक्त दरवाजे की देहरे पर टिकी रहती हैं कि कहीं कोई पड़ोसी या रिश्तेदार टमाटर मांगने न आ धमके। आलम यह है कि दफ्तर भी न के बराबर ही जा पा रहा हूं। वहां भी यही डर सतात...
चिकोटी...
Tag :
  August 4, 2017, 7:43 am
मैंबुद्धिजीवियोंकेमोहल्लेमेंरहताजरूरहूंमगरखुदबुद्धिजीविनहींहूं।उनसेहमेशादस-बीसकदमकीदूरीरखताहूं।उन्होंनेकईदफाकोशिशकीकिमैंउनकीबुद्धिजीविमंडलीमेंशामिलहोकरउनजैसाबनजाऊंलेकिनहरदफामैंनेखुदकोउनसेबचायाहीलिया।साफशब्दोंमेंउनसेकहदिया- मुझेबुद्धिजी...
चिकोटी...
Tag :
  August 3, 2017, 7:31 am
मेरीआदत है। हर रोज मैं किसी न किसी लेखक-साहित्यकार को याद कर लेता हूं। याद करने में कोई बुराई नहीं। दिल का दिल बहल जाता है। लेखक-साहित्यकार भी प्रसन्न हो लेते हैं। कि, इस भीषण डिजिटल समय में किसी ने हमें याद तो किया। यों, ईश्वर, खुदा, गॉड को तो हम 24X7 याद करते ही रहते हैं।आज स...
चिकोटी...
Tag :
  July 30, 2017, 7:52 am
तोताअब आजाद है। पूरी आजादी से अपने काम को अंजाम दे रहा है। तोते की आजादी बहुत लोगों को बेइंतहा खल रही है। रह-रहकर तमाम सवाल और आरोप तोते की आजादी पर वे लगा रहे हैं। अपने वक्त का हवाला दे रहे हैं। अपनी ईमानदारी पर सवाल खड़े करने वालों को आड़े हाथों ले रहे हैं। बयान दिए जा र...
चिकोटी...
Tag :
  July 11, 2017, 10:02 am
मेरे व्यंग्यमें ‘संस्कार’ नाम की चीज ‘न’ के बराबर है। ऐसा नहीं है कि मैंने कभी कोशिश नहीं की अपने लेखन में संस्कारों को डालने की। किंतु क्या करूं, हर बार मात खा जाता हूं। जब भी संस्कार का ताबिज पहनकर व्यंग्य लिखा, व्यंग्य न बनकर ‘सुभाषित’ टाइप बन गया। तमाम संस्कारशील व...
चिकोटी...
Tag :
  July 8, 2017, 11:48 am
मुझेभी एक अलग राज्य चाहिए। राजनीति करने के लिए नहीं, साहित्य के लिए। हां, मुझे साहित्य के लिए नए राज्य की दरकार है। साहित्य के नए राज्य में मैं आपने हिसाब से चीजें बनाना व करना चाहता हूं। इस राज्य में सिर्फ और सिर्फ मेरी ही चलेगी। राज्य का ‘राजा’ मैं ही बनूंगा। अपनी पसं...
चिकोटी...
Tag :
  July 7, 2017, 10:13 am
कविपरेशान है। कुछ समझ नहीं पा रहा कि जीएसटी पर कविता कैसे लिखे? न उसे शब्द मिल पा रहे हैं। न कोई सीन क्रिएट हो पा रहा। कवि बार-बार जीएसटी के रहस्य को समझने की कोशिश कर रहा है मगर हर बार गच्चा खा जाता है। 5, 12, 18, 28 का फेर उसे समझ नहीं आ पा रहा। झुंझलाहट में कभी वो खुद को गरियाता ह...
चिकोटी...
Tag :
  July 6, 2017, 7:37 am
कई दिनोंसे जीएसटी पर अखबारों, न्यूज चैनलों पर कुछ न कुछ आ ही रहा है। कोई जीएसटी के पक्ष में दिख रहा है तो कोई विरोध में। मतलब, जितने मुंह उतनी बातें। बहती गंगा में वे लोग भी हाथ धोने में लगे हैं, जिन्हें जीएसटी का ‘जी’ भी नहीं मालूम! फिर भी, कहने या बोलने में क्या जाता है? ये ...
चिकोटी...
Tag :
  July 1, 2017, 12:11 pm
राजनीतिअपना रंग गिरगिट से भी तेज बदलती है। गिरगिट कहीं राजनीति को रंग बदलते देख ले- तो कसम से- ‘आत्महत्या’ ही कर ले। राजनीति में रहकर इसका रंग बदलने वाले नेता अपने करियर में हमेशा कामयाब होते हैं। न वे कभी हारते हैं, न किसी को जीतने देते। सीधा-साधारण आदमी अगर राजनीति मे...
चिकोटी...
Tag :
  June 29, 2017, 9:51 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3694) कुल पोस्ट (169775)