Hamarivani.com

mahir ki kitab

वो माँ होती है ----------------------------------तुम दूर रहो या पास,उसको हर पल होता एहसास,जिसके हृदय में हर पल बस दुआ होती है,वो माँ होती है ,वो मार  भी देती है,जब थोड़ी गुसा होती है ,फिर हमसे  दूर जाकर के जो बहुत रोती है ,वो माँ होती है  ,आती है मुझको याद ,  बचपन की सारी  बातें,म...
mahir ki kitab...
Tag :rajeev
  November 12, 2011, 2:23 am
खून  किसी के जख्म का एक दिन  ,  पोंछ  दिया था  मैंने    तो    देख हाथ मेरी ये दुनिया मुझको ही गुनाहगार कहे.. इश्क बहाना   है बस , दिल को अपने समझाने का सारी दुनिया इस  बहाने को, पता नही क्यूँ प्यार कहे .. हर बार धोखा खाते हैं     इस बेदर्द      जमाने  से&n...
mahir ki kitab...
Tag :dil.zakham
  October 17, 2011, 2:55 am
( Ayodhya mudde par faisle ke waqt likhi mere lekh ka part)   एक हिन्दू होकर के भी मैंने कभी हिंदुयों का साथ नही दिया न ही मुस्लिमों से कोई प्रेम है.और हाँ ना ही कभी ईद  में किसी से गले मिलने से नफरत किया ,ना ही , होली  के रंगों में डूब जाने से कोई दूर रहे . लेकिन हाँ सचाई से मुह मोड़ना शायद हमने सिखा नही कभ...
mahir ki kitab...
Tag :desh
  October 17, 2011, 2:51 am
वक़्त का आप क्या कहेंगे मिजाज ,हमने वक़्त आने पे वक़्त को बदलते देखा है ,कहकहों के गूंज जो हुआ करते थे महफ़िलों की शान ,उन कहकहों की गूंज को  अश्कों में बदलते देखा है /इन्सान भी देखें मैंने कुछ भगवान से बढ़कर ,तो कुछ इंसानों को मैंने इंसानियत को कुचलते देखा है ,कुछ को देखा...
mahir ki kitab...
Tag :waqt.darte
  October 17, 2011, 2:35 am
ये  हमारी  चाहत  है  की  जिसने  आपको  हीरा  बना  दिया  ,वरना  कोयले  में  दबे  हीरे तक   की  कोई  पहचान  नही  होती  ,किसी  ना  किसी  पर   कीजिये  रहम ओ करम  ,वरना  हर  वक़्त  किस्मत  मेहरबान  नही  होती  .हुस्न  है   तो  इश्क  म...
mahir ki kitab...
Tag :heera
  September 21, 2011, 8:19 pm
कल शहर के राह  पर मैंने भीड़ देखा था ,जहाँ एक नवजात कन्या को उसकी माँ ने फेंका था ,मै बेबस था चुपचाप था बहुत परेशान था ,मै उस नवजात की माँ की ममता पे बहुत हैरान था  , मै कुछ नही कह सकता था उस भीड़ से , क्युं कि मै भी एक इंसान था ,पर क्या उस कुछ देर पहले जन्मी बच्ची  का नही कोई भ...
mahir ki kitab...
Tag :fenk
  September 21, 2011, 8:14 pm
कभी हिन्दू तो कभी खुद को मुसलमान  कहते होजो कुछ बोलता नही उसे खुदा तो कभी तुम्ही भगवान कहते हो ? जो खून से खेलता  है उसे तुम हैवान कहते होतो फिर किस वजेह से खुद को तुम इन्सान कहते हो ? किसी पत्थर का कोई धर्म नही होता ,चाहो शिव मान कर पूजा कर लो या फिर इसे मस्जिद के गुम्बद प...
mahir ki kitab...
Tag :sahitya.english
  September 21, 2011, 8:11 pm
नही प्यार तो फिर प्यार जताने की जरुरत क्या है ?दिल मिलता नही तो आगोश में आने की जरुरत क्या है ?दर्द देते हैं जो जानते हैं नब्ज अपनों का ,तो फिर बेदर्द जमाने की जरूरत क्या है ?आँखों में उनकी दिख जाती है इंकार ऐ मुह्हबत ,तो फिर जान-निशार-ऐ-इश्क दिखाने की जरूरत क्या है ?छिपाए बे...
mahir ki kitab...
Tag :muhhale
  September 21, 2011, 8:05 pm
एक दिन दु:शासन से मुलाकात हुई मेरी ,बेबस और परेशान था जब उससे बात हुई मेरी ,क्या हुआ दुशासन  क्या नही करते अब तुम चीर हरण ,क्या अब नही करते तुम किसी अबला का वस्त्र हरण ,दुशासन  मायूस हुआ और मुझसे बोलाअपने ह्रदय में कैद भावों को उसने खोला ,हम अब कसी कौरव दरबार में जाएँ ?वस्...
mahir ki kitab...
Tag :chnita
  September 21, 2011, 8:02 pm
मै   मरघट  में  जब  जाता  हूँ--------------------------------------मै   मरघट  में  जब  जाता  हूँ  , मै  मर-घट  में  मर  जाता  हूँ  , जब  मर  और  घट  न  घट  पाए..  तो  खुद  ही  मै  घट  जाता  हूँ .//मै  मरघट   को  समझाता  हूँ , कि   मर  के  घट  न  पाउँगा&n...
mahir ki kitab...
Tag :rajeev
  September 21, 2011, 8:00 pm
मै नारी हूँअक्सर मै इसी सोच में खो जाती हूँक्या मुझे वो अधिकार मिला है ?मै जिसकी अधिकारी हूँ ?मै नारी हूँ मनु कि  अर्धांगिनी मैविष्णु- शिव कि संगिनी मैमै अक्सर सोचा करती हूँक्या मै लक्ष्मी  और दुर्गा की अवतारी हूँ ?? मै धर्म-धारण की प्रतिमूर्ति हूँमै सहनशक्ति की म...
mahir ki kitab...
Tag :prtimurti
  September 21, 2011, 7:58 pm
उनके गमले में खुशबु हैं बिखरे हुए ,मेरे दामन हैं काँटों से निखरे हुए ,वो मखमल की सेजों पे भी रोते हैं,चेहरे धुल में हमारे रहते हैं निखरे हुए,देख गमों को मेरे वे मुस्कुराते बहुत हैं,चलो इसी बहाने उन्हें मुस्कुराना आ गया,मेरे दर्दों को सुन उन्हें शुकून मिलता है ,इसी बहाने म...
mahir ki kitab...
Tag :rajeev
  September 21, 2011, 7:55 pm
कौन कहता है की गजल गीतों से इतिहास नही बदलता ?कभी गौर से कलम की ताकत तो देखिये ,जब-जब लिखी है हमने इबारत कोई, स्याही के बदले खून से ,तब तब हमने इतिहास के पन्ने बदल दिए .........
mahir ki kitab...
Tag :rajeev
  September 21, 2011, 7:52 pm
ऐ ऊपर  वाले तू मेरी दुआओं का बस एक सिला देना ,मै ये नही कहता की मुझको एक बार फिर से  जिला देना ,जब मौत आये तो बस दुनिया वालों  तुम कलम की चिता बना देनामेरी गजलों के साथ कुछ खाली पन्ने रख, मेरी चिता  को आग लगा देना .......
mahir ki kitab...
Tag :jila
  September 21, 2011, 7:52 pm
तुम दुर्गा की पूजा करते हो तुम काली को याद करते हो ,एक बेटे के लिए फिर क्यूँ तुम किसी नारी से फरियाद करते हो ?कभी सोचा है की अगर तुम्हारी माँ को मारा होता उसके भी माँ-बाप नेतो तुम्हारा वजूद नही होता ,जिस पे तुम इतना नाज करते हो .......
mahir ki kitab...
Tag :tumhara
  September 21, 2011, 7:49 pm
एक दिन कलम ने आके चुपके से मुझसे ये राज खोला ,कि रात को भगत सिंह ने सपने में आकर उससे बोला,कहाँ गया वो मेरा इन्कलाब कहाँ गया वो बसंती चोला ?कहाँ गया मेरा फेंका हुआ, मेरे बम का वो गोला ?आत्मा ने भगत के आकर कहा , ये देख के हम बहुत शर्मिंदा हैं,कि देश देखो आज जल रहा है,और जवान यहाँ ...
mahir ki kitab...
Tag :deshy
  September 21, 2011, 7:47 pm
वो हमे देख के मुस्कुराते हैं अब भी थोडा-थोडा ,और हम ये सोच के रह जाते हैं कि दिल क्यूँ तोडा, जो सीने से लगा करते थे दौड़ के आकर ,वो दूर हुए क्यूँ और आखिर क्यूँ मुह मोड़ा, लगता है मुझको भी अब कुछ-कुछ और थोडा-थोडा ,कि उसने नही मैंने ही उसका दिल तोडा, मुझे पता ना था की वो ख्वाहिस -ए- ज...
mahir ki kitab...
Tag :pyas
  September 21, 2011, 7:45 pm
------------------------------------------------------------------खो गये कहाँ आज गजल कहने वाले ,पत्थर  की दीवारों को ताजमहल कहने वाले,कब्र में दफना कर या फिर चिता को  आग लगाकर ,और सो जाते हैं चैन से  यहाँ मौत  को जिन्दगी का  हमसफ़र कहने  वालेहर रात खौफ में सोता है यहाँ सन्नाटाऔर   दिल को बहलाते हैं   इ...
mahir ki kitab...
Tag :maut aati nhi
  September 21, 2011, 7:44 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163572)