Hamarivani.com

विचारों का दर्पण

देवेश   हम बूँद बूँद को तरसेतुम वहाँ इतना क्यूँ बरसेहमको मारा बिन पानीउनको मारा पानी पानी मेंतुम कहते हो ये मेरा प्रतिशोध हैमैं कहता हूँ उन निर्दोषों क्या दोष है ॥ ...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  June 23, 2013, 7:43 am
ओस की बूँद जैसी  मासूम होतुमतारे की धीमी रौशनी की साज होतुमफूल की पंखुड़ी जैसी सख्त होतुमसावन के झूले सी मदमस्त होतुममेरी दुनियां में सबसे अनमोल होतुम ,मेरे सपनो की दुनिया कीपहली हकीकत होतुम ॥ ...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  February 22, 2013, 11:56 pm
2012 विदा होते हुए अपनी कई सुख और दुःख भारी यादें दे गया | इन यादों में सबसे दर्दनाक यादें हैं "भारत की बहादुर बेटी की विदाई" इस बेटी के जाने के सदमें में पूरा देश डूबा है तथा अपराधियों के खिलाफ उबरा जनसैलाब भी वाजिब है | अब सवाल ये उठता हैं कि ऐसी घिनौनी हरकत करने वाले होते क...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  December 31, 2012, 11:10 am
भारत की राजधानी दिल्ली, जिसकी महिला मुख्यमंत्री ...उसी राज्य में ..आये दिन महिलाओं के साथ बलात्कार छेड़छाड़ के मामले सबसे ज़्यादा हैं | बड़े दुःख की बात है ...अपराधी कहीं ना कहीं इतने बेकौफ हैं कि कानून और सरकार को अपनी चुटकी में लेकर अपराध को अंजाम देते हैं...| चलती बस में रे...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  December 18, 2012, 7:39 pm
हीरो - हिरोइन पे बहुत लाइक आते हैं ...आज देखते हैं इस शहीद जवान पर कितने लाइक आते हैं" ऐसे कमेन्ट अक्सर फेसबुक पर देखने को मिल जाता है ... मै ऐसे कमेन्ट करने वाले से ये कहना चाहता हूँ ....रील लाइफ के हीरो-हिरोइन से उनकी कोई तुलना नहीं ....उनकी कीमत तो वो भी समझतें और लाइक करतें हैं ज...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  December 17, 2012, 5:14 pm
अक्सर ऐसे फारवर्डड मैसेज आते है कि "इस मैसेज को दस लोगों को फारवर्डड करके देखिए आपके जीवन में तुरन्त खुशियाँ आएगी .....यदि इसे डिलीट किया तो आपके साथ अनहोनी हो जायेगी" मै समझ नहीं पाता ऐसे मैसेज निर्मित कौन करता है ..वो भी भगवान के नाम पर ...ऐसा कौन इंसान होगा जो अपनी ज़िंदगी ...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  December 16, 2012, 10:51 am
देवेश प्रतापभारतकेलोगोंकीएकखासविशेषताहै ....हमउसचीज़को ज़्यादामहत्वदेतेंहै ...जोबाहरसेआईहोतींहै ......येखासकरबॉलीवुडमेंखूबदेखनेकोमिलताहै | आजकलसन्नीलियोनकीचर्चाखूबहै ...शायदइसलिएकि वोपोर्नस्टारहैं | बिगबॉसमेंउनकोभारतआनेकान्योता मिला .....औरअबभारतमेंहीबसगयीं ........
विचारों का दर्पण...
Tag :
  June 6, 2012, 6:20 am
देवेश  प्रताप बहुत दिन बाद लिख रहा हूँ ...लेकिन एक बात तो सत्य है ....कि  इस ब्लॉग को बहुत मिस करता हूँ .....आज  ब्लॉग खोल कर जब लिखने बैठा तो सोचा क्या लिखूं कहाँ  से शुरू करूँ क्या शुरू करूँ .......तो ख्याल आया यदि आधुनिकता की ये दुनिया ना होती तो ये ब्लॉग ना होता यदि ब्लॉग ना होता त...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  June 3, 2012, 6:01 am
देवेशप्रतापघोंसलोंसेनिहारतीआँखोंमेंआस्मांसेलिपटजानेकासपनाहै ,गुलाबकीकलियोंकोखिलकरमुस्कुरानेकासपनाहै,बादलोंमेंलिपटीपानीकी बूंदोंकोज़मींकोछूलेनेकासपनाहै ,कौनजानेइनसपनोकोकबमंजिलमिलेगीफिरभीख्वाहिशोंमेंजगेहरसपनेकोपूराकरलेनेकासपनाहै |...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  March 14, 2012, 10:27 pm
देवेश प्रतापज़िन्दगीकीनईशुरुआतकेसाथ ....फिरसेमुख़ातिबहूँआपसबसे | 25नवम्बर2011कोएकसफलताहासिलहुईजिसकीकसमकसकाफीदिनोंसेचलरहीथी | वोकसमकसथीहमारेप्यारकी ......25नवम्बरकोमैंऔरमेरीजीवनसंगनीसपनाशादीकेअटूटबंधनमेंबंधगए | बसअबआपसबकीशुभकामनयेंऔरप्यारहमारेसाथ ....है |हमार...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  January 3, 2012, 6:04 pm
पाईरेसी रोकने की एक मुहिम । देवेश ,जय तथा मोहन के सहयोग से इस वीडियो को बनाने में सफलता प्राप्त हुई ।...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  September 10, 2011, 1:36 am
देवेश प्रतापये रचना हमारे सभी शिक्षकों को समर्पित है .....धन्यवाद माँ ने ऊँगली पकड़ कर चलना सिखाया किस राश्ते पर कैसे चलना है वो आपने बतलाया ॥ गीली मिटटी के लोए कि तरह कोई अकार न था ज्ञान की चाक पर आपने हमारा अकार बनाया ॥ जब भी बहके , जब लडखडाये अपने कदम से सख्त हो कर आपने हमे...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  September 5, 2011, 7:43 am
देवेशप्रतापबदल देंगे इतिहास ये हुंकार भरते हैं ॥ये जनता की है आवाज जिससे हुकमत संवरती है । बहुत हो गया जुल्म अब हम नहीं सहेंगे ॥ मांग के देखो घूंस तुम्हे हम होश में लायेंगे ॥ शर्त इतनी है ये इरादा न बदले ये बदलाव का सूरज शाम को न डूबे ॥ ...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  August 27, 2011, 9:15 am
देवेशप्रतापभ्रष्टाचार के खिलाफ चल रहे अन्नाहजारेकेआन्दोलनमेंकुछलोगइसकेख़िलाफ़बोलकरअपनी अलगख्यातिबटोररहेंहै। इसीतरहएकफ़िल्मीदुनियाकेमहानुभावमहेशभट्टनिर्मातानिर्देशकदियाकि '' जहाँझूटबोलाजाताहैंजनतावहीँजातीहै ......औरझूटबोलनाहमलोगोंकाकामहै '' मतलबजनता...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  August 23, 2011, 9:11 pm
देवेश प्रतापभारत की जनता अब त्रस्त हो चुकी है भ्रष्टाचार से ......इस भ्रष्टाचार के खिलाफ छिड़ी मुहिम में प्रत्येक वो व्यक्ति शामिल है ...जो आज तक भ्रष्टाचार का शिकार हुआ है ...और जो करता आया है ..सिर्फ चन्द नेताओं को छोड़ कर . जो भ्रष्टाचार का शिकार है ..उसका शामिल होना तो स्वभ...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  August 21, 2011, 12:30 am
देवेश प्रताप यदि किसी तीसरी दुनिया से चंद्रशेकर आज़ाद , महात्मा गांधी ,सरदार बलभ भाई पटेल तथा वो तमाम क्रांतिकारी जिनका नाम इतिहास के पन्नों में भी नहीं वो भारत की इस दसा को देख रहे होंगे तो ....वो क्या सोच रहे होंगे ? वो आपस में यही चर्चा करते होंगे की जिस देश को आज़ाद करने ...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  August 18, 2011, 9:48 pm
देवेश प्रताप इस भ्रष्टाचार पर पेश है एक नाटक ....... जिसका विस्तार कुछ इस तरह है .......''चारों तरफ भ्रष्टाचार के खिलाफ आन्दोलन फैला ऐसे में सबसे बड़ी समस्या कांग्रेस के नेताओं को है..... राहुल देखता है कि चारो तरफ सरकार के खिलाफ नारेबाजी हो रही है ...ऐसे में परेशान होकर दौडकर अपनी म...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  August 16, 2011, 6:25 pm
देवेश प्रतापआज भारत 64 वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है .....आज़ाद भारत जहाँ हरभारतीय आजादी की सांस ले रहा है | बीते 64 सालों में भारत अपनी तरक्की काफी तेज़ी सी की है | शिक्षा , व्यसाय ....तथा तमाम क्षेत्रों में तरक्की हुई . ये हमारे लिए खुशी की बात है. जिस भारत की कमर टूटचुकी थी वह अ...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  August 15, 2011, 9:27 am
रक्षाबंधन के पावन अवसर ''विचारों का दर्पण''कि ओर से आप सब को ढेर सारी बंधाइयां . ...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  August 13, 2011, 1:39 pm
देवेश प्रतापबहुत दिन हो गए ब्लॉग पर राजनीति , समाज पर कोई चर्चा नहीं हुई क्यूंकि समय नहीं मिला .....और जब समय मिला तो आलस्य से लैपटॉप के कीबोर्ड पर उंगलिया नाचने से मन कर दी खैर आज लिखने का मन किया तो सोचा कुछ लिख ही देता हूँ .......भ्रष्टाचार पिछले कुछ दिनों से सबसे ज्वलनशील मु...
विचारों का दर्पण...
Tag :मन की भड़ास
  August 9, 2011, 8:32 pm
देवेश प्रतापबहुत दिन हो गए ब्लॉग पर राजनीति , समाज पर कोई चर्चा नहीं हुई क्यूंकि समय नहीं मिला .....और जब समय मिला तो आलस्य से लैपटॉप के कीबोर्ड पर उंगलिया नाचने से मन कर दी खैर आज लिखने का मन किया तो सोचा कुछ लिख ही देता हूँ .......भ्रष्टाचार पिछले कुछ दिनों से सबसे ज्वलनशील मु...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  August 9, 2011, 8:32 pm
देवेश प्रताप जब कांच का घर थातो लोग पत्थर मारा करते थेआज पत्थर का घर है !तो लोग कांच से वार किया करते है !!जब उनके शहर से दूर थातब वो मिलने के लिए तरसते थेआज उनके दरवाजे पे खड़ा हूँ !अब वो पहचानने से इनकार किया करते है !!...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  August 8, 2011, 9:31 am
देवेशप्रतापकहते है आज ''फ्रेंडशिप डे'' है ....यानी दोस्ती का दिन ...वैसे भावनाओ के रिश्तो का कोई दिन नहीं होता ! यहाँ हर रात हर सुबह दोस्तों के बिना नहीं होती एक वास्तविकता होती है... बचपन में बच्चा अपने माँ -बाप की ऊँगली छोड़ पहला हाथ दोस्ती का पकड़ता है ! कहते है हर रिश्ते की डो...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  August 6, 2011, 10:04 pm
देवेश प्रतापघर से निकला था कुछ कोरा कागजलेकरसोचा था एक दास्ताने ब्याँलिखूंगावक्त एक कलम बनकर हाथमें आगईकोरे कागज पर वक्त की कलमचलने लगीज़िन्दगी ख़ुद अपनी दास्ताँब्याँ करने लगीहर मोड़ पर एक नई कहानियाँबनने लगी...
विचारों का दर्पण...
Tag :
  August 3, 2011, 12:42 pm
नया साल , नई उमंग , नई तरंग आप सब के जीवनमें खुशियाँ भर दे कुछ इस कदर कि इन खुशियों के बीच बीत जाए ये साल आप सब को नए वर्ष की ढेर सारी बंधाइयां , नया वर्ष आप सब के लिए खुशियाँ भरा हो .........
विचारों का दर्पण...
Tag :
  January 1, 2011, 8:55 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163595)