Hamarivani.com

समय से साक्षात्कार

संतोष कुमार राय 2 दिसंबर के राष्ट्रीय सहारा (हस्तक्षेप) में प्रकाशित           पिछले लगभग बीस वर्षों से भारत में किसान लगातार आत्महत्या कर रहे हैं। सरकारी अमले के संज्ञान  में होने के बावजूद आत्महत्याओं का सिलसिला घटा नहीं है। आंकड़ों को सरकारी बाबु...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  December 5, 2017, 9:08 am
सन्तोष कुमार राय           ‘आजादी के बाद जरूरत थी जो था उसे संरक्षित किया जाय, जहां जरूरी हो परिवर्तन किया जाय’यह वक्तव्य पिछले 17 अक्टूबर को अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान के उद्घाटन के अवसर पर प्रधानमंत्री ने दिया। यह वाक्य आज के लिए भी उतना ही प्रासंगिक और ...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  December 5, 2017, 9:03 am
          संतोष कुमार राय           ‘पद्मावती’पर बनी फिल्म को लेकर जैसा विवाद चल रहा है यह किसी भी समाज,देश,कला,कलाकार और उद्योग के लिए कहीं से भी ठीक नहीं है। फिर भी विवाद है तो उसे नजरंदाज नहीं किया जा सकता,बल्कि उसकी वास्तविकता और विवाद में आने ...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  December 5, 2017, 8:56 am
संतोष कुमार राय           प्रदूषण की समस्या दिल्ली और आसपास के इलाकों में जिस तरह धुंध और धुएँ के रूप में फैली है,जिसे स्मोग के नाम से जाना जा रहा है,वह अनायास नहीं है। यदि इसका उचित समाधान नहीं हुआ तो आने वाले समय में यह और खतरनाक रूप ले सकती है। दरअसल इसका सब...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  December 5, 2017, 8:54 am
सन्तोष कुमार राय          आज यह कहना कि गाय भारतीय संस्कृति और सभ्यता में महत्वपूर्ण स्थान रखती है न सिर्फ आज के समय के लिहाज से अप्रासंगिक लगता है बल्कि जमीनी सच्चाई को देखने पर हास्यास्पद भी लगता है। किसी भी संस्कृति और सभ्यता का निर्माण उस समुदाय के रहन-...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  December 5, 2017, 8:51 am
सन्तोष कुमार राय           चंद्रकांत देवताले समकालीन कविता के लोकप्रिय और चहेते कवि रहे हैं। चंद्रकांत देवताले का जाना एक ऐसे कवि का जाना है,जिसने हमारे जीवन के अनेक मोहक और संघर्ष के क्षणों के साथ गहरी संवेदनाओं को पिरोकर कविता बना दिया। आम जीवन के साथ,उन...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  December 5, 2017, 8:49 am
सन्तोष कुमार राय यथावत में प्रकाशित राजेश माहेश्वरी हमारे समय के उन चुनिन्दा कथाकारों में से हैं जो अपने कार्यक्षेत्र की अनेकानेक व्यस्तताओं के बावजूद साहित्य सृजन करते हैं। व्यवसाय और शौक दोनों अलग-अलग हैं। लेकिन आज का समय इसके विपरीत सिद्धांत गढ़ रहा है। आज ...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  December 5, 2017, 8:08 am
सन्तोष कुमार राय            ‘निर्वासन’उपन्यास वर्तमान कथा लेखन से अलग एक नई पृष्ठभूमि के साथ आया है। वैसे तो हिन्दी कथा लेखन में यह परंपरा रही है कि अपने समय के हर कथाकार को अतीत के किसी न किसी कथाकार के साथ जोड़ दिया जाता  है और ऐसा अखिलेश के बारे में भी ल...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  December 5, 2017, 8:02 am
सन्तोष कुमार राययथावत में प्रकाशित           ‘उत्तराधिकार बनाम पुत्राधिकार’पुस्तक के माध्यम से अधिवक्ता और लेखक अरविंद जैन ने भारतीय समाज का एकपक्षीय और विवादास्पद कानून तथा पुरुष वर्चस्व की वास्तविक सच्चाई को सामने रख दिया है। समाज की निर्मिति दो...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  December 5, 2017, 7:58 am
संतोष कुमार राययथावत में प्रकाशित           अपने समय के लोकप्रिय उपन्यासकार गोपालराम गहमरी का उन चुनिंदा कथाकारों में हैं जिन्होंने हिंदी उपन्यास को न सिर्फ लोकप्रिय बनाया बल्कि उनके लेखन को पढ़ने के लिए अनेक गैर हिंदी भाषी लोगों ने हिंदी सीखा । ‘गो...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  December 5, 2017, 7:54 am
आज़ादी के इतने सालों बाद भी पूर्वांचल बुनियादी सुविधाओं के लिए तरस रहा है। किसी भी समाज के विकास जो बुनियादी सुविधाएं है उनमें बिजली, पानी, सड़क, इलाज और शिक्षा है। आप जैसे ही बनारस से पूर्व की ओर बढ़ेंगे आपको सहज विश्वास नहीं होगा कि आप उसी देश या प्रदेश में जा रहे हैं जो भ...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  May 3, 2014, 9:16 am
                                                                                                          सन्तोष कुमार राय          इस बार के चुनाव में नरेंद्र मोदी के नाम को जिस तरह से चर्चा का केंद्र बनाया गया है उस लि...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  March 17, 2014, 9:29 am
 सन्तोष कुमार राय                                                                               लोकतंत्र में परिवर्तन एक सच्चाई है और यह सच्चाई समय-समय पर घटित होती रही है। प्रतिरोध और परिवर्तन का बहुत ही गहरा रिश्ता है। भारतीय राजनीति क...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  February 11, 2014, 9:52 pm
          सन्तोष कुमार रायइसका कुछ हिस्सा रिपोर्ट के रूप मे यथावतके इस अंक में प्रकाशित हुआ है....          दलित चिंतकों और साहित्यकारों ने प्रेमचंद के लेखन पर एकबारगी प्रश्नचिन्ह लगाया है। उन्हें दलित विरोधी घोषित किया है। सामंती और वर्ण-व्यवस...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  November 4, 2013, 11:28 pm
सन्तोष कुमार राय            भारतीय स्वाधीनता संग्राम में सर्वसम्मत भूमिका निभाने वाले लोगों में स्वतंत्रता के बाद अगर किसी को सर्वाधिक नजरंदाज किया गया है तो वे भारत के किसान हैं। किसी भी देश के विकास को तब तक विकास नहीं कहा जा सकता जब तक कि उस देश के अन्...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  September 30, 2013, 12:40 pm
सन्तोष कुमार रायराष्ट्रीय सहारा में प्रकाशित           यह कितनी बड़ी विडंबना है कि जहां हर छोटी बड़ी घटनाओं में लोकतंत्र की दुहाई दी जाती है,वहाँ का श्रमिक वर्ग लगातार उपेक्षा का शिकार होता रहा है। आज यह सवाल उठना स्वाभाविक है कि श्रमिकों के जीवन का आधार...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  September 8, 2013, 11:08 am
सन्तोष कुमार राय मेरे द्वारा रचित एक छोटी सी कविता है जिसे आज ब्लाग पर आप लोगों के लिए प्रकाशित कर रहा हूँ। अगर अच्छी लगे तो.....अब मुझे पहले जैसा दिखाई नहीं देता,लेकिन ये क्या?अभी तो शास्त्रों के अनुसार एक चौथाई ही कटी है जिंदगी। पहले की तरह अब बहुत कुछ बुरा भी नहीं लगता। ...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  June 5, 2013, 5:16 pm
सन्तोष कुमार राय            मित्रों,आजकल फेसबुक पर अपने फ्रेंड्स को ब्लाक करने का मामला खूब चल रहा है। जैसे बचपन में हम अपने किसी दोस्त से नाराज हो जाते थे तो अक्सर कहा करते थे कि मैं तुमसे कट्टी हो गया और बातचीत उस दिन बंद हो जाती थी। उस समय अच्छी बात यह थी कि फिर हम जब अगले ...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  June 5, 2013, 5:12 pm
सन्तोष कुमार राय          तुलसीदास की एक चौपाई है ‘जहां सुमति तंह संपति नाना। जहां कुमति तंह बिपति निधाना।’कर्नाटक के संदर्भ में भाजपा के लिए ये पंक्तियाँ बिलकुल सही और सटीक बैठती है। इसमें संदेह नहीं की भाजपा की चुनावी रणनीति में अनेक खामियाँ रही है,जिसे खत्म करने के ...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  May 9, 2013, 8:43 am
सन्तोष कुमार राय          तुलसीदास की एक चौपाई है ‘जहां सुमति तंह संपति नाना। जहां कुमति तंह बिपति निधाना।’कर्नाटक के संदर्भ में भाजपा के लिए ये पंक्तियाँ बिलकुल सही और सटीक बैठती है। इसमें संदेह नहीं की भाजपा की चुनावी रणनीति में अनेक खामियाँ रही है,जिसे खत्म करने के ...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  May 9, 2013, 8:43 am
सन्तोष कुमार राय           आज भारत के लिए कुपोषण शब्द किसी गाली से कम नहीं है। यह सत्ता के लोगों को सुनने में जरूर हल्का लगता होगा लेकिन देखने में यह बहुत ही भयावह है। ऐसा नहीं है कि सरकार ने इसके लिए कोई प्रयास नहीं किया है। किया है,और कागज पर तो इसके लिए अनेक पेज भरे पड़े ह...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  April 29, 2013, 9:17 am
सन्तोष कुमार राय          मुक्तिबोध की बहुचर्चित लंबी कविता ‘अंधेरे में’की एक पंक्ति है ‘तोड़ने होंगे गढ़ और मठ सब......!’यहाँ इस पंक्ति को उद्धृत करने का कारण साफ है कि भारतीय चिंतन परंपरा की मठाधीशी से कहीं न कहीं रचनाकार नाखुश है और इसे तोड़कर जनवादी विचारधारा को स्थाप...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  April 29, 2013, 9:14 am
                                                                               सन्तोष कुमार राय        ऐसा कहा जाता है कि कई बार बोलना बहुत ही जरूरी होता है लेकिन कहाँ बोला जाय,किसके लिए बोला जाय और कितना बोला जाय,इसकी अगर तमीज़ हो तो बोलना सार्थक होता है । एक कहावत है कि ‘भैंस के आगे बीन बजावे भैंस करे पग...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  January 9, 2013, 9:41 am
सन्तोष कुमार राय  समकालीन सरोकार में प्रकाशित....           किसी शायर ने लिखा है ‘कितना मुश्किल होता है जवाब दे पाना,जब कोई खामोश रहकर भी सवाल करता है’। आज भारत की जनता पर डर और खामोशी दोनों का असर है । पिछले दस वर्षों में बेकाबू महँगाई ने आम जनता की कमर तोड़ दी है । बड़ी-बड़...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  November 9, 2012, 10:59 am
          सन्तोष कुमार राय मुक्तिबोध ने लिखा है कि ‘अभिव्यक्ति के खतरे उठाने होंगे,तोड़ने होंगे गढ़ और मठ सब’... असीम पर देशद्रोह का मुकदमा चलाया गया और उसे गिरफ्तार किया गया,यह कितना सही है ?  समाज कितना बदल गया है,हम कितने छोटे हो गये हैं,हमारा आत्म कितना दूषित हो गया है,हम क...
समय से साक्षात्कार...
Tag :
  September 10, 2012, 9:01 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3755) कुल पोस्ट (175862)