Hamarivani.com

रूप-अरूप

ये वक़्त हैसूखने, चटकने, टूटने और मरने काधरती सूखी हैसूरज के प्रचंड ताप से पड़ गईं है दरारेंत्राहि मची है चारों ओर कई रिश्ते भी टूटे इन्हीं दिनोंटूटती पत्तियों की तरह नहींहरी-भरी डाली गिर गईज़रा सी हवा ने सबकी औक़ातउजागर कर दीकई आइने चटके पड़े हैंआदमी बँटा नज़र आ रह...
रूप-अरूप...
Tag :
  June 22, 2018, 9:28 pm
तुम ठहर सकते थेकुछ दिन औरजैसे पेड़ पर पकने की प्रकिया मेंफल ठहर जाते हैं कुछ रोज़किसी के तोड़ लेने और ख़ुद टूटकर गिर जाने केसंशय के बावजूदअपने भीतर भरपूर मिठास समेटेरहना चाहते हैं पकते फलपेड़ पर मज़बूती से टिके, लुभातेहवा के झोकों से ख़ुद को बचातेवैसे हीकोई भी रिश्...
रूप-अरूप...
Tag :
  June 21, 2018, 1:38 pm
अब और कुछ संभव नहीं था कि‍ देखा जा सके। हम होटल की ओर लौट चले। रास्‍ते में स्‍थानीय बाजार का एक चक्‍कर लगाया जहाँ दुकानदार लोग हाथों में छोटे-छोटे धर्म चक्र घुमाते हुए सूखे खूबानी और बाकी दैनि‍क उपयोग की चीजें बेच रहे थे। ज्‍यादातर ड्राई फ्रूट्रस ही थे। ऐसा वि‍शेष कु...
रूप-अरूप...
Tag :
  June 20, 2018, 9:51 pm
सि‍न्‍धु का मोह मन में लि‍ए सीधे पहुँचे हॉल ऑफ फेम । यह शहर से 4 कि‍लोमीटर की दूरी पर है। पर्यटक यहां सुबह नौ से शाम के सात बजे तक जा सकते हैं। दोपहर मे एक से दो तक बंद रहता है। लद्दाख में भारतीय सेना की वीरता व कुर्बानियों का इतिहास समेटने वाले हॉल ऑफ फेम को एशि...
रूप-अरूप...
Tag :
  June 18, 2018, 11:58 am
अब वापस लेह शहर की ओर। हेमि‍स को पीछे छोड़ते ही आगे एक पुल मि‍ला। वहां आगुंतको के लि‍ए धन्‍यवाद लि‍खा था। पुल के नीचे मटमैली सि‍न्‍धु नदी बह रही थी। बौद्ध धर्म के प्रतीक लाल-पीले-नीले पताके फहरा रहे थे। पास ही कुछ पुराने मि‍ट्टी और पत्‍थरों से बने घर थे जि‍नके लकड़ी के ...
रूप-अरूप...
Tag :
  June 16, 2018, 3:28 pm
अब हेमि‍स की ओर। कुछ दूर बाद बेहद खूबसूरत द्वार मि‍ला। रास्‍ते की बेमि‍साल खूबसूरती का जि‍क्र क्‍या करूँ। ऊँची पहाड़ी में हमारी गाड़ी चढ़ती जाती है और हम अभि‍भूत होते जाते हैं। खासकर यह सोचकर कि‍ 16वीं सदी में जब आवागमन की पर्याप्‍त सुवि‍धा भी नहीं थी, तब इतने दु...
रूप-अरूप...
Tag :
  June 15, 2018, 6:25 pm
अब हमे जाना था हेमि‍स की ओर। मगर उसके पहले रास्‍ते में ड्राइवर जि‍म्‍मी ने पूछा- ‘’वो स्‍कूल देखना है आपलोगों को जहाँ थ्री इडि‍यट की शूटिंग हुई थी।” हमने कहा- “हाँ, देखते चलते हैं।” हमारी दि‍लचस्‍पी तो थी ही स्‍कूल देखने के लि‍ए। फि‍ल्‍म का अंति‍म भाग यहीं फि‍ल...
रूप-अरूप...
Tag :
  June 13, 2018, 11:03 pm
सुबह एक बार फि‍र पूरी हि‍म्‍मत सँजो।कर हम नि‍कल पड़े। मगर आज बच्‍चों ने इंकार कर दि‍या। कहा बेहद थके हैं। होटल में ही आराम करेंगे। आपलोग मठ घूम आओ। सबसे पहले हम पहुँचे कर्मा दुप्‍ग्‍युद चोएलिङ्ग मठ जो लेह से करीब 9 कि‍लोमीटर की दूरी पर है। इस मठ की देखभाल ति‍ब्‍...
रूप-अरूप...
Tag :
  June 12, 2018, 12:10 pm
पैंगोग जाते वक्‍त जि‍तना लंबा रास्‍ता लगा था, उतना लौटते में नहीं लगा। जाते वक्‍त हमलोगों को थि‍कसे मठ मि‍ला था; मगर जाने की हड़बड़ी में हमने देखा नहीं था। अब जब वापस आ रहे थे ,तो आश्चर्य था कि‍ जब हम थि‍कसे मठ के समीप पहुँचे तो सूरज अस्‍ताचल की ओर जा ही रहा था,&n...
रूप-अरूप...
Tag :
  June 9, 2018, 8:21 pm
बहुत कुछ दूर और ऐसा ही रास्‍ता मि‍ला...वीरान। कब पहुँचेंगे सह सोचकर हम बेसब्र होने लगे। जि‍म्‍मी ने सांत्‍वना दी, बस अगले मोड़ के बाद बाद हम पैंगोंग होंगे। यहाँ से आपलोगों को झील दि‍खेगी। जैसे मोड़ मुड़े, वाह..दूर से दि‍खती झील की पहली झलक ने हमें पागल कर दि‍या। रास...
रूप-अरूप...
Tag :
  June 8, 2018, 6:04 pm
आज की मंजि‍ल थी पांगोंग झील। चि‍र प्रति‍क्षि‍त, हमारी ही नहीं, बच्‍चों की भी। नीले पानी के झील का आकर्षण हाल-फि‍लहाल के कुछ फि‍ल्‍मों ने बढ़ा दि‍या ,जि‍समें प्रमुख हैं 'थ्री इडि‍यट' और 'जब तक है जान'। हम एक बार फि‍र सिन्धु के कि‍नारे-कि‍नारे चल पड़े बादलों से बात...
रूप-अरूप...
Tag :
  June 4, 2018, 10:38 pm
आज की मंजि‍ल थी पांगोंग झील। चि‍र प्रति‍क्षि‍त, हमारी ही नहीं, बच्‍चों की भी। नीले पानी के झील का आकर्षण हाल-फि‍लहाल के कुछ फि‍ल्‍मों ने बढ़ा दि‍या ,जि‍समें प्रमुख हैं 'थ्री इडि‍यट' और 'जब तक है जान'। हम एक बार फि‍र सिन्धु के कि‍नारे-कि‍नारे चल पड़े बादलों से बात...
रूप-अरूप...
Tag :
  June 4, 2018, 10:38 pm
यह ऐसी पहाड़ी है जि‍से मैग्‍नेटि‍क हि‍ल के नाम से जाना जाता है। यहाँ गाड़ी बंद कर छोड़ दीजि‍ए तो वह खुद ब खुद ऊपर की ओर जाने लगती है। हम भी रुके वहाँ। ड्राइवर ने गाड़ी बंद कर दी। गाड़ी अपने आप चलने लगी ऊपर की तरफ। सभी पर्यटक यहाँ रुककर एक बार जरूर परीक्षण करते हैं ...
रूप-अरूप...
Tag :
  June 3, 2018, 8:33 pm
शाम होने से पहले हम जांस्‍कर-सिन्धु संगम जाना चाहते थे। होटल में अभि‍रूप को छोड़ नि‍कल गए कारगि‍ल वाले रास्‍ते पर। उसी रास्‍ते एयरपोर्ट है और भी कई चीजें हैं देखने के लि‍ए। पर हमें वो संगम देखना था जो लेह से करीब 35 कि‍लोमीटर की दूरी पर है । यह नीमो गाॅँव के ...
रूप-अरूप...
Tag :
  May 30, 2018, 11:31 am
घंटे भर के सफर के बाद हम लेह महल पहुँचे। एक बार फि‍र शहर हमारे आंखों के आगे था। शहर के मध्य में स्थित इस महल का निर्माण सोलहवीं शताब्दी में सिंगे नामग्याल ने करवाया था। अंदर जाने के लि‍ए टि‍कट लेना पड़ा। बच्‍चों का मन नहीं था मगर हमें देखना था लेह महल। प्रवेश द्वार लकड...
रूप-अरूप...
Tag :
  May 27, 2018, 10:47 pm
कुछ दूर आगे बढ़ने पर पता लगा कि‍ सड़क बंद है। रास्‍ते में चट्टान गिर जाने से रास्‍ता बंद हो गया है। दूर तक लंबी कतार थी वाहनों की। पर वह एक खूबसूरत जगह थी। ऊँचे पहाड़, हरे-भरे । वहाँ दूर-दूर तक याक चर रहे थे। बगल में श्‍योक नदी बह रही थी। यह जगह खलसर थी।  हमने मजाक भी ...
रूप-अरूप...
Tag :
  May 25, 2018, 12:56 pm
 हम एक बार फि‍र दि‍स्‍कि‍त मठ की आेर थे। आज कि‍स्‍मत अच्‍छी थी। दलाई लामा थे वहाँ पर आज नीचे उनका सम्‍मेलन था। मठ तक गाड़ी चली गई। मठ दूर से ही बहुत खूबसूरत लग रहा था। मठ समुद्रतल से 10,310 फीट की ऊँचाई पर स्‍थि‍त है। दि‍सकि‍त बौद्ध मठ नुब्रा घाटी में सबसे पुरान...
रूप-अरूप...
Tag :
  May 23, 2018, 12:46 pm
थोड़ी देर बाद ही हम नुब्रा मेें थे। जि‍म्‍मी का कहना था कि‍ पहले हमें ठहरने का इंतजाम कर लेना चाहि‍ए तब हमलोग ऊँट की सवारी करने चलेंगे। उसकी बात मान हम आबादी की ओर गए। कई जगह टेंट लगे नजर आए। इस जगह का नाम हुण्‍ड़ुर था। पता लगा कि‍ लोग यहाँ भी रात रहते हैं पर हमें कि...
रूप-अरूप...
Tag :
  May 21, 2018, 2:52 pm
 हम नुब्रा की ओर बढ़ रहे थे। लेह से इसकी दूरी 130 कि‍लोमीटर है। यह समुद्रतल से 10,000फुट की ऊँचाई पर स्‍थि‍त है। इसे लद्दाख का बाग भी कहते हैं।  हमारी बांयी ओर पहाड़ था तो सड़क के दाहि‍नी तरफ चौड़ी नदी। घाटी में बहती नुब्रा नदी सि‍याचि‍न ग्‍लेशि‍यर से नि‍कलती ह...
रूप-अरूप...
Tag :
  May 19, 2018, 9:36 pm
 हम नुब्रा की ओर बढ़ रहे थे। लेह से इसकी दूरी 130 कि‍लोमीटर है। यह समुद्रतल से 10,000फुट की ऊँचाई पर स्‍थि‍त है। इसे लद्दाख का बाग भी कहते हैं।  हमारी बांयी ओर पहाड़ था तो सड़क के दाहि‍नी तरफ चौड़ी नदी। घाटी में बहती नुब्रा नदी सि‍याचि‍न ग्‍लेशि‍यर से नि‍कलती ह...
रूप-अरूप...
Tag :
  May 19, 2018, 9:36 pm
सुबह उठकर हमलोग नुुबरा के लि‍ए नि‍कले। रास्‍ते में ही खारदुंगला पड़ता है। सर्पीला रास्‍ता, खि‍ली धूप और हरि‍याली। दूर तक शांति‍ स्‍तूप दि‍खता रहा। बहुत खूबसूरत। रास्‍ते में बहुत से घर भी मि‍ले, जि‍नकी छतों पर, सड़क कि‍नारे, पताकाएँ  लगी हुई थी। इससे पता चल...
रूप-अरूप...
Tag :
  May 18, 2018, 12:22 pm
जब हम होटल से नि‍कले तो रास्‍ते मेें लेेेह महल मि‍ला। मगर ड्राइवर का कहना था कि‍ लोग ढलती शाम को शांति‍ स्‍तूप देखना पसंद करते हैं। इसलि‍ए शाम होने से पहले वहाँ पहुँचकर हम वापस आ जाएँगे। पहुँचने पर पाया कि‍ अब आसमान का रंग गहरा नीला न होकर आसमानी या कह लें, फि‍रोजी ह...
रूप-अरूप...
Tag :
  May 17, 2018, 1:47 pm
जहाज से उतरते ही पाया कि‍ यह क्षेत्र सैनि‍क छावनी है। छोटा सा एयरपोर्ट जि‍सका नाम है ' कुशेक बकुला रि‍नपोछे टर्मिनल, लेह'। लेह हवाई अड्डा मुख्यतः सेना के लिए बनाया गया हवाई अड्डा है, जहाँ दिल्ली, चंडीगढ़, जम्मू और श्रीनगर से यात्री तथा मालवाहक विमान आवाजाह...
रूप-अरूप...
Tag :
  May 15, 2018, 3:11 pm
जहाज से उतरते ही पाया कि‍ यह क्षेत्र सैनि‍क छावनी है। छोटा सा एयरपोर्ट जि‍सका नाम है ' कुशेक बकुला रि‍नपोछे टर्मिनल, लेह'। लेह हवाई अड्डा मुख्यतः सेना के लिए बनाया गया हवाई अड्डा है, जहाँ दिल्ली, चंडीगढ़, जम्मू और श्रीनगर से यात्री तथा मालवाहक विमान आवाजाह...
रूप-अरूप...
Tag :
  May 15, 2018, 3:11 pm
आज मदर्स डे है। मातृ दि‍वस अर्थात मां के लि‍ए नि‍र्धारि‍त दि‍न। अब हम सब के लि‍ए यह खास दि‍न बन गया है क्‍योंकि‍ हर कि‍सी को अपनी मां से वि‍शेष लगाव और प्‍यार होता है। कुछ पंक्‍ि‍तयां है....''कभी पीठ से बंध, तो कभी लगकर सीने से मुझे फूलों की खुशबू आती है मां के पसीने सेजब होत...
रूप-अरूप...
Tag :
  May 13, 2018, 12:38 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3766) कुल पोस्ट (178142)