Hamarivani.com

पलाश

लघुकथा का रचना विधानभगीरथ जिन्हें व्यंग्य एवं लघुकथा का फर्क मालूम नहीं है उन्हें परसाई की लघुकथाएं और व्यंग्य रचनाओं को साथ - साथ रख कर पढ़ना चाहिए।अव्यवसायिक क्षेत्रों में यथार्थ के साथ व्यंग्य था। लेकिन जब हम किसी विधा का अंक प्रकाशित कर रहे हो तो इतना तो ध्यान ...
पलाश...
Tag :
  June 20, 2015, 6:39 pm
 'पड़ाव व पड़ताल'का खण्ड चार  'पड़ाव व पड़ताल'का खण्ड चार दिशा प्रकाशन ,दिल्ली से प्रकाशित हो गया है इस खण्ड का संपादन भगीरथ ने किया है इसमें लघुकथा लेखकअशोक भाटिया ,पृथ्वीराज अरोड़ा ,माधव नागदा ,मोहनराजेश ,श्यामसुन्दर अग्रवाल व सुभाष नीरव की लघुकथाओं पर चर्चा की गई है। च...
पलाश...
Tag :
  October 24, 2014, 9:00 am
हिन्दी - उर्दु गंगा जमुनी भाषा की सेतु डाँ शुक्ल की लघुकथाएंइन्दौर ! 22 जून 2014जून ! "मंत्र छोटा होता है परन्तु विश्वास के साथ फ़ल देता है डा योगेन्द्रनाथ शुक्ल की लघुकथाएं भी ऐसी होती है जो आकार में छोटी है लेकिन उनमें राष्ट्र, समाज और मानव आरोह - अवरोह के साथ चित्रित हुए है ! य...
पलाश...
Tag :
  July 4, 2014, 9:48 am
 okxFkZ          vkyksd dqekj lkriqrs       og tSls gh cl&LVS.M ig¡qpk] mldh cl fudy x;h A og ml cl dks dkslus yxk& ^^lkyh jkbZV&VkbZe ij NwV x;h**A rHkh mlds vUnj dgha ls vkokt+ vk;h&^eaSus fdruh ckj rqEgas le; dk egRRo crk;k gS] ij rqe gks fd cl---A cl ugha NwVh I;kjs] NwV rks vki x;s gSaA* ^^pqi jg] tc Hkh cksysxh] cqjk cksysxhA** mlus ml vkokt+ dks QVdkjrs gq, dgk A bl ij og vkokt+ O;aX;kRed g¡lh eas rCnhy gks x;h] vkSj og [kh>rk&>hadrk gqvk okil vius ?kj dh vksj ykSVus yxkA vge~og vge~ ds ioZr dh pksVh ij [kM+k Fkk A mls ogk¡ ls uhps viuh pkjksa vksj [kM+s yksx ckSus ut+j vk jgs Fks A uhps...
पलाश...
Tag :
  March 23, 2014, 4:06 pm
फेस बुक की एक पोस्टभगीरथफेसबुक की न्यूजफ़ीड पर एक फ़्रेंड  ने एक युवती का फोटो पोस्ट किया। जींस और टांप पहने,एक हाथ में सुलगती सिगरेट और दूसरे हाथ में थमी बोतल ओठों से लगाकर सुरापान कर ती हुई।कुछ ही मिनटों मे 312बार लाइक बटन दब गया,पचास लोगों ने शेयर किया चालीस लोगों ने ...
पलाश...
Tag :
  October 29, 2013, 2:55 pm
जयपुर। सोमवार। 07 जनवरी को जयपुर के भट्टारकजी की नसियां स्थितइन्द्रलोक सभागार में पं. झाबरमल्ल शर्मा स्मृति व्याख्यान समारोह काभव्य आयोजन किया गया। आयोजन का शुभारम्भ माँ सरस्वती के समक्ष जनरलवी.के. सिंह जी और गुलाब कोठारी जी द्वारा दीप प्रज्ज्वलन से हुआ। इसकार्यक्...
पलाश...
Tag :साहित्य समाचार
  January 15, 2013, 6:51 pm
परावर्तनरमेश जैनअब नहीं पसीजता मनकिसी के रोने परक्यों मुट्ठियां नहीं कसतीकिसी पर होता अत्याचार देखकरक्यों नहीं किटकिटाते दांतपीठ पर बरसते कोडे देखकरक्यों गुस्सा नहीं आताकिसी के तिलमिलाने परजब मैं पीछे मुडकरअसमीपस्थ काली दुर्गम घाटी देखता हूंतब मुझे सहसा/बीता ...
पलाश...
Tag :
  March 7, 2012, 6:07 pm
हिन्दी लघुकथाओं में दलित संघर्ष : भगीरथवर्तमान हिन्दी साहित्य में मुख्यत: तीन विमर्श लोकप्रिय है – भूमंडलीकरण , स्त्री व दलित विमर्श । भूमंडलीकरण का मुख्य आयाम आर्थिक है जबकि स्त्री एवं दलितका सामाजिक। सदियों से पोषित भेदभाव पूर्ण धारणाएँ हमारे सामाजिक जीवन में रच ...
पलाश...
Tag :
  December 15, 2011, 7:39 pm
 भगीरथ आज उसके समानान्तरचल रहा है मौत का शिकंजाखूनी पंजा ! कुर्सियों से उठी हुई प्रेतात्माएं पूरे   शमशान     में   चीखतीं /चीत्कारती डोल रही है।  और वह मेमने सा भयभीत /आंतंकित होकर             /शक्ति संचित करने की  कोशिशकरता है  लेकिन वे प्रेततात्माएं एक जादुई शक्ति से उ...
पलाश...
Tag :कविता
  October 29, 2011, 12:43 pm
सचिनकुमारजैनहमारीसरकारजीडीपीयानीसकलघरेलूउत्पादमें 8 और 9 और 10 प्रतिशतकीवृद्धिकीतानपरअपनारागअलापतीरहतीहै. उनकेआलापकाआनंदयहहैकियहवृद्धिहासिलकरनाबहुतआसानऔरबहुतखतरनाकएकसाथहै. बहुतआसानइसलिएकिजोकुछभीखरीदाऔरबेचाजाताहै, उसमेंधनकालेन-देनहोताहै. सरकारकेखज...
पलाश...
Tag :
  September 5, 2011, 9:57 pm
  नागफनी                       उंचे कंकरीले टीले पर        किसने जड़ दिये हैं                             मोटे , मोटे        नुकीले कांटो से भरे        हाथ                तमाम भदेसपन  के बावजूद                कंकरीले टीले की रेतीली माटी से        जल के बूदों से प्राण ग्रहण करता        जीवन                ...
पलाश...
Tag :कविता
  August 7, 2011, 11:43 am
थोर                पहाड़ी चट~टानो के बीच                 उगी लम्बी देहवाली                थोर                अभावों के बीच पली                कुरूप, कांटो भरी                किंतु ,हरित देह की                संवेदनशीलता                कितनी गहन है                खरोंच भर से ही        दूध की तरह उफन कर      ...
पलाश...
Tag :कविता
  July 27, 2011, 7:49 pm
भगीरथ की कविता      जब लबों को बींध दिया जायया जबानें काट दी जाये तब भी जीजीविषा  जिन्दा होती है चेतना तो फिर लपलपाती है डसे कुन्द होने से बचा सकते थेलेकिन नहीं, तुमने जबानें खुद काट ली हैघर के चाकू सेजो इतना मजबूत और ताकतवर नजर आता हैकहीं पेपर टाइगर तो नहीं है?जरा उसके ख...
पलाश...
Tag :कविता
  July 10, 2011, 10:56 pm

...
पलाश...
Tag :
  January 1, 1970, 5:30 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163593)