Hamarivani.com

व्यंग्यम शरणम गच्छामि

 स्वागत हो तेरा सन बारहसन ग्यारह ने ,अज़ब गज़ब का खेल दिखाया ,इसने खाया -उसने खाया ,मिलकर सबने जमकर खाया |लाख बिठाये पहरे पीछे ,निकलकर कुछ भी बाहर न आया |बाहर गाली देते दीखे ,पीछे सबने हाथ मिलाया |इधर कलह और उधर ज़िरहस्वागत हो तेरा सन बारह .......स्वागत हो तेरा सन बारह .......काले धन ...
व्यंग्यम शरणम गच्छामि...
Dr. Rakesh Sharad
Tag :
  January 1, 2012, 2:14 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3685) कुल पोस्ट (167804)