POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: कुछ अलग सा

Blogger: Gagan Sharma
कुछेक हिंदी के शब्द, नाम या चीजें अंग्रेजी में ज्यादा प्रचलित, सहज स्वीकार्य और कुछ-कुछ कर्णप्रिय सी हो जाती हैं। उदाहरण स्वरुप जैसे ''महाशयां दी हट्टी,''एम.डी.एच. के रूप में ज्यादा प्रचलित और जाना-माना है। युवाओं द्वारा बहु प्रयोगी  ''शिट, हगीज, बम''जैसे शब्दो... Read more
clicks 0 View   Vote 0 Like   4:42am 12 Oct 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
आज, भले ही सांकेतिक रूप से ही सही, रावण को मारने, उसका दहन करने का जिम्मा किसको दिया जाता है ? आज पार्कों में, चौराहों पर, कालोनियों में या मैदानों में जो रावण के पुतले फूंके जाते हैं उनको फूंकने में अगुवाई करने वाले अधिकांश तो खुद बुराइयों के पुतले होते हैं ! उनकी तो खुद ... Read more
clicks 9 View   Vote 0 Like   4:16am 10 Oct 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
जैसा कि कायस्थ परिवारों में श्रीवास्तव और वर्मा सरनेम लगता है उसी के अनुसार उनका नाम लाल बहादुर वर्मा रखा गया था। शास्त्री जी शुरू से ही जात-पात, ऊँच-नीच, छुआ-छूत जैसी प्रथाओं के विरोधी रहे थे। समय के साथ जब उन्हें गांधी जी के नेतृत्व में काम करने का अवसर मिला तो ... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   9:04am 5 Oct 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
पांच-छह साल के सात-आठ बच्चों का समूह ! जो बिना किसी जंतर-पाती (instruments) के खेलों से लेकर अमरुद की टेढ़ी डालियों से बनी हॉकी, ईंटों के विकेट वाली क्रिकेट, सबसे सस्ता खेल फ़ुटबाल, हर खेल खेलता था। पूरी फौज में हथियार यानी क्रिकेट का बैट मेरे ही पास होता था फिर ऊपर से ... Read more
clicks 4 View   Vote 0 Like   9:31am 26 Sep 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
मानव-हितार्थ आविष्कारों के दौरान बहुतेरी बार ऐसा हुआ कि इस तरह के उपक्रमों में कई-कई तरह की अड़चनें व बाधाएं भी आ खड़ी होने लगीं ! उनको दूर करने के प्रयासों में वैज्ञानिकों ने पाया कि उनकी समस्या का हल कुदरत ने उससे मिलती-जुलती कई चीजों के तत्व, अवयव या न... Read more
clicks 7 View   Vote 0 Like   8:21am 16 Sep 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
मानव-हितार्थ आविष्कारों के दौरान बहुतेरी बार ऐसा हुआ कि इस तरह के उपक्रमों में कई-कई तरह की अड़चनें व बाधाएं भी आ खड़ी होने लगीं ! उनको दूर करने के प्रयासों में वैज्ञानिकों ने पाया कि उनकी समस्या का हल कुदरत ने उससे मिलती-जुलती कई चीजों के तत्व, अवयव या न... Read more
clicks 0 View   Vote 0 Like   8:21am 16 Sep 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
भव्यता के बावजूद इस जगह को ''पार्क या उद्यान''कहना बिलकुल सही नहीं होगा क्योंकि 107 एकड़ के क्षेत्र में फैला यह लता-पादप विहीन एक पथरीला परिसर है, जो पूरी तरह से राजस्थान के लाल बलुआ पत्थरों द्वारा निर्मित है। इस मेमोरियल को वास्तुकला की सुंदरता के लिए नहीं, बल... Read more
clicks 58 View   Vote 0 Like   9:06am 11 Sep 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
लखनऊ की तहजीब, नफासत, पूरतकल्लुफ़, उसकी जुबान, उसकी भव्यता का जिक्र तो बचपन से ही सुनते आए हैं ! शानो-शौकत, सुंदरता से भरपूर, आदिगंगा के नाम से जानी जाने वाली गोमती नदी के किनारे बसे इस शहर की तुलना कश्मीर से की जाती थी। कहा जाता था कि जो सुकून यहां है वह कहीं और&nb... Read more
clicks 7 View   Vote 0 Like   8:39am 6 Sep 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
महाभारत युद्ध समाप्त हो चुका था, पर पांडव अपने भाई बंधुओं और अन्य स्वजनों की हत्या करने के पाप से अत्यंत व्यथित थे। उन्हें दुःखी तथा पश्चाताप की अग्नि में जलते देख श्री कृष्ण जी ने उन्हें पाप मुक्ति के लिए विभिन्न तीर्थ स्थलों के तीर्थाटन की सलाह दी तथा यह भी बत... Read more
clicks 29 View   Vote 0 Like   7:48am 20 Aug 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
#हिन्दी_ब्लागिंग विगतकुछ सालों से शिवरात्रि के अवसर पर शिवलिंग के दुग्धाभिषेक का विरोध फैशन में शुमार हो गया है। उतना तो दूध भी नहीं चढ़ता होगा जितनी प्रवचनों की बरसात शुरू हो जाती है ! खासकर फेसबुक तो इस नूरा कुश्ती का अखाड़ा बन जाता है। जहां वाह-वाही और लाइक की चाह... Read more
clicks 26 View   Vote 0 Like   6:47am 14 Aug 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
हिमाचल के सोलन जिले के जटोली इलाके में स्थित है,भगवान शिव का एक अनूठा मंदिर ! यह मान्यता  चली आ रही है कि पौराणिक समय में भगवान शिव यहां आए थे और कुछ समय यहां रह कर उन्होंने विश्राम किया था। उस समय उन्होंने अपनी जटाएं भी खोल रखी थीं जो उन्मुक्त हो लहराती रहत... Read more
clicks 9 View   Vote 0 Like   8:17am 12 Aug 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
क्या किया जाए कुछ समझ नहीं आ रहा था। रास्ते से गुजरने वाले वाहनों से गाडी को ''टो''करने की गुजारिश की गयी पर एक तो बैल गाडी, ऊपर से पुरानी, कोई भी साथ ले चलने को राजी नहीं हुआ ! इनको नकारा देख, साथ के संगी-साथी भी एक-एक कर, जिसको जहां, जैसे, जो सुविधा मिली उसे ले, इन... Read more
clicks 17 View   Vote 0 Like   8:29am 8 Aug 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
''भैया; बताइये ना ! भले ही उतना समझ ना पाएं पर गर्व से अपना छाती तो फुल्लइये सकते हैं  ! ई तो हमरे देशो के लिए गर्व का बात जो है।'' चैतू मुंह बाए सब सुनता रहा ! कुछ देर बाद उसने पूछा , ''तो भैया ! जो आज सब नाच रहा है, ई लोग भी तो इसी देश का आदमी है ! तो ई लोग तब काहे नहीं ख... Read more
clicks 11 View   Vote 0 Like   6:56am 3 Aug 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
यह गाडी इतनी सुविधाजनक और लोकप्रिय हो गयी कि हर कोई इसकी सवारी करने लगा। इसलिए एक की बजाए दो गाड़ियां चलने लगीं। आमने-सामने आ जाने पर पड़ने वाली मुश्किल का आसान सा हल निकाल लिया गया। जब बीच रास्ते में दो गाड़ियां मिलतीं तो ''मुसाफिर''ट्रालियों को बदल लेते ! गाड़ीवान भी अप... Read more
clicks 8 View   Vote 0 Like   3:04am 26 Jul 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
हमारे यहां तो आस्था, प्रेम, विश्वास की पराकाष्ठा रही है ! प्रेम इतना कि हर जीव-जंतु से अपनत्व बना लिया ! आदर इतना कि पत्थर को भी पूजनीय बना दिया ! ममता इतनी कि नदियों को माँ मान लिया ! जल, वायु, ऋतुओं यहां तक कि राग-रागिनियों तक को एक इंसानी रूप दे दिया गया ! शायद इसलिए क... Read more
clicks 56 View   Vote 0 Like   5:30am 24 Jul 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
''जो सुख छज्जू दे चौबारे, वो बल्ख ना बुखारे।''  यह छज्जू कौन है जिसके चौबारे का जिक्र इस कहावत में किया गया है ! ऐसा ही समझा जाता रहा है कि बात को समझाने के लिए एक काल्पनिक नाम जोड़  दिया गया होगा। जबकि यह कोई काल्पनिक नाम नहीं है ! तक़रीबन साढ़े चार सौ साल पहले लाहौर में एक... Read more
clicks 33 View   Vote 0 Like   2:56am 22 Jul 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
यह एक दिलचस्प बात है कि यहां के एयर पोर्ट ''जॉली ग्रांट''का नाम किसी आदमी का नहीं है ! यह उस जगह का नाम है जिस पर एयर पोर्ट बना हुआ है। कभी नेपाली राजाओं का राज गढवाल तक होता था। उसी समय नेपाल के किसी शाह ने ब्रिटिश साम्राज्य को यह जगह जागीर के रूप में उपहार में दे दी थ... Read more
clicks 10 View   Vote 0 Like   8:27am 19 Jul 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
अंधकार ! जिसकी बात होते आते या दिखते ही एक नकारात्मक भावना दिलों में छा जाती है ! पर सच्चाई तो यही है कि अँधेरा चाहे कितना भी घना हो, उसके पीछे, उसी परिवेश में, उसी के संरक्षण में सृजन, सृष्टि व विकास का क्रम लगातार, अनवरत रूप से सतत चलता ही रहता है ! तभी तो जीवन ... Read more
clicks 10 View   Vote 0 Like   3:18am 12 Jul 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
विज्ञापनों में दादा-दादी बने ये दोनों पति-पत्नी कोई मामूली कलाकार नहीं हैं। वोडाफोन के विज्ञापन के आशा और बाला के रूप में प्रसिद्ध हुए, 73साल की शांता धनंजयन और 78साल के वी.पी. धनंजयन दोनों पति-पत्नी, दिग्गज नृत्य कलाकार हैं, जो चेन्नई के अड्यान में 1968 से ... Read more
clicks 59 View   Vote 0 Like   3:09am 8 Jul 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
''घाघ''जहां खेती, नीति एवं स्वास्थ्य से जुड़ी कहावतों के लिए विख्यात हैं, वहीं ''भड्डरी''की रचनाएं वर्षा, ज्योतिष और आचार-विचार से विशेष रूप से संबद्ध हैं।घाघ के समान ही लोकजीवन से संबंधित कहावतों में कही गई भड्डरी की भविष्यवाणियां भी बहुत प्रसिद्ध हैं। दोनों समकाली... Read more
clicks 61 View   Vote 0 Like   2:30am 4 Jul 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
नन्ही-नन्हीं बूँदों के अलौकिक संगीत के बीच सतरंगी पुष्पों से श्रृंगार किए, धानी चुनरी ओढ़े, दूब के मखमली गलीचे पर जब प्रकृति, इंद्रधनुषी किरणों के साथ हौले से पग धरती है तो नभ के अमृत-रस से सराबोर हुए पृथ्वी के कण-कण का मन-मयूर नाचने-गाने को बाध्य सा हो जा... Read more
clicks 65 View   Vote 0 Like   4:23am 2 Jul 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
आलोचना को भी स्वीकार करने का माद्दा होना चाहिए  ! जो पत्र आपकी मर्जी के  मुताबिक  ना हों उन्हें छापना ना छापना आप के ऊपर निर्भर है , पर किसी भी हालत  में  भेजे गए  पत्र के मजमून से छेड़खानी नहीं होनी चाहिए ! प्रकाशक और पाठक में  फर्क है ! प्रकाशक चाहे ज... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   3:41am 25 Jun 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
वह गायन लय-ताल के साथ अपने में शिक्षा, उपदेश, भजन सब कुछ समेटे था। तक़रीबन सारे यात्रियों का ध्यान उस ओर खिंच कर रह गया था। एक दो घंटे के बाद भोजनोपरांत, सोने के पहले, आधेक घंटे के लिए वही माहौल फिर बना। गीत-भजनों का सार था, सर्वजन हिताय ! सर्व जन सुखाये ! हर जीव ... Read more
clicks 22 View   Vote 0 Like   8:16am 19 Jun 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
क्रिकेट = कंदुक क्रीड़ा।रन       = भावनांक।  चौका   = सिद्ध चतुष्कम।बढ़िया शॉट = पुष्ठु प्रहार। बाउंड्री = कंदुक परिधि लंघनम। कैच     =  ग्रहणम। आउट = निर्गत। #हिन्दी_ब्लागिंग  ये कोई मजाक की बात नहीं हो रही ना ही हिंदी को असमर्थ भाषा बताने की साजिश ... Read more
clicks 53 View   Vote 0 Like   3:33am 15 Jun 2019 #
Blogger: Gagan Sharma
जस्टिस सिन्हा ने अपना फैसला सुनाते हुए श्रीमती गाँधी को चुनावों में भ्रष्ट आचरण का दोषी करार देते हुए उनका चुनाव तो रद्द किया ही साथ ही उन्हें अगले छह वर्ष तक किसी भी संवैधानिक पद के लिए भी  अयोग्य घोषित कर दिया। कोर्ट के बाहर-अंदर सन्नाटा पसर गया। भरी दोपहर... Read more
clicks 26 View   Vote 0 Like   7:04am 12 Jun 2019 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post