Hamarivani.com

iktaaraa

घरकीछोटीसीछतपरजबचुन्नुहाफपैंटऔरबुशर्टमेंदिनढलनेकेबादबल्लेकोघुमाकरशॉट-दर-शॉटलगाताअपनीछोटीसीपिचकीबड़ीपारीखेलताहुआ,अचानकआँगनसेअम्माआवाज़लगाती,'नीचेआजा, सातबाजगयेहैं.'बुझेमन, परचुस्तकदमोंसेवोसीढियाँलाँगतेनीचेभागता,सातजोबाजगयेथे...हाफपैंटजबबेल-बॉटमम...
iktaaraa...
Tag :
  March 27, 2015, 1:45 pm
Har raat chand ke khilane ke bad,Taaron ke chandani bikherne ke bad,Kash ke dhuen ke saath hawa hoti uljhanon ke bad,Itare-kone se nikalte hain yeAsankhya, qataar-dar-qataarPankh kate, antennae ude, cheh ki jahag char pairon par sawarKitane bhinn, fir bhi ek se.Aksar hi hoti hain inse aankhein charJab alsaaye qadam bhaag rahe hote hain ghar ki orTajjub hai, phir bhi ruk hi jate hain mahaj ek laal batti parDo pal ke sukoon ke liye shayad.Aur jaise isi taad mein baithe hote hain ye dheethRengte hue chale aate hain,Chaspa karne apni dincharyaAapke-hamare mastishhk parShoonya mein niharti, cheerti paeni nazarein,Bhinbhinati awazRoz ke usi taqiya-qalam ke saath -bhookhe pet aur beparda jism.Kabhi...
iktaaraa...
Tag :
  March 25, 2015, 1:38 pm
bachpan me us khidki se jhanka karti thi,tumhare kamre ke andar, chhip chhip kezari si aahat par bhaag jati thidar tha, kahi tum dekh na lojhankne, bhaagne, muskurane ka wo khel fir ek dopahar -kya jaane tumhein kya soojhajo tumne wo parda hi hata dia...
iktaaraa...
Tag :
  March 9, 2015, 1:04 pm
कंक्रीटकीये  सड़केंचहलकदमी  करते   पंछीगुनगुनाते  पेड़  और  उनकी  टहनियां. रोज़  ही  होता  हैइनके  साथ  आमना  सामनामेरी  अस्थायी  मंजिलों  केयेमेरे  स्थायी  साथी  हैं.आज  यूं  ही  चलते  चलतेठिठके  मेरे  कदमजब  नज़र  पड़ी  सड़क  के  किनारे  पड़ीइन  चप्पलों  पर.“किसने  और...
iktaaraa...
Tag :
  December 10, 2012, 9:24 pm
यूं ही खिड़की पर बैठकर कई रातें कट जाती हैं घर की याद, अपनों की याद बस यूं ही झकझोर जाती है।तारों को साथ देखकर छत पर सुने वो किस्से जी जाती हूँ चाँद के चहरे में माँ की परियों की झलक पाती हूँ।पत्तों की सरसराहट रात की खामोशी तोड़कर मुझे आज में वापस लाती है।दूर कहीं कल्का...
iktaaraa...
Tag :
  December 3, 2012, 12:14 am
इस फ़ोटो को देख कर कहीं पढ़ी हुई कुछ लाइनें याद आ गईं। अच्छी लगीं तो सोचा यहाँ ब्लॉग पर शेयर करूँ…जो लहरों से आगे नज़र देख पाती तो तुम जान लेते मैं क्या सोचती हूँवो आवाज़ तुमको भी जो भेद जाती तो तुम जान लेते मैं क्या सोचती हूँज़िद का तुम्हारे जो पर्दा सरकता तो खिड़कियों ...
iktaaraa...
Tag :सपने
  August 8, 2011, 8:38 pm
Well, this is my first article. I am a newbie in this great  blogger world. Was just wondering what to write, how to start . kept looking around for a subject, matter to write on when the sound of this song “ anytime you need a friend” reached my ears. Ah!...friends…and tomorrow is friendship day. Couldn’t have found a better subject.             यारों दोस्ती बड़ी ही हसीन है…ये ना हो तो क्या फ़िर बोलो ये ज़िन्दगी है…            F.R.I.E.N.D.S….hmm….friends are those who wipe our tears on our first day to school, friends are those who bring three lunch box...
iktaaraa...
Tag :
  August 6, 2011, 5:59 pm

...
iktaaraa...
Tag :
  January 1, 1970, 5:30 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3667) कुल पोस्ट (166028)