Hamarivani.com

अकेला राही

पहचान हमारी हमसे छुपाती है बीते हुए यादो को बार बार याद दिलाती है कभी हसाती है कभी रुलाती है ना दबाओ जज्बातों को खुल कर बताओ पता नहीं कल कोई सुनने वाला हो या ना हो ...
अकेला राही...
Tag :
  January 22, 2012, 9:02 pm

पहचान हमारी हमसे छुपाती है बीते हुए यादो को बार बार याद दिलाती है कभी हसाती है कभी रुलाती है ना दबाओ जज्बातों को खुल कर बताओ पता नहीं कल कोई सुनने वाला हो या ना हो ...
अकेला राही...
Tag :
  January 22, 2012, 9:02 pm
सपने देखना ईस महगाई में कुछ ईस तरह जैसे बज रही हो सहनाई ,तनहाई मेगुजर रही है जिंदगी रोटी कपडे की तलाश में क्या कोइ  देखे सपने सपने भी महंगे हो गए...
अकेला राही...
Tag :
  September 27, 2011, 7:53 pm
आज के  भ्रस्टाचारी युग में , हम सब कुछ से समझौता कर रहे है | चाह कर भी कुछ कर नहीं पा रहे| अगर अन्ना जैसे समाज सेवी ने कुछ करने की ठानी है, तो हमें साथ देना चाहिए , पूंजीपति , राजनेता ,नौकरशाह , अगर ये सही रास्ते पर आ गए तो यह देश वापश सोने की चिड़िया हो जायेगा | चन्द्रगुप्त का भार...
अकेला राही...
Tag :
  August 14, 2011, 7:36 pm
मैं राही  मंजिल की तलाश मेंचलता रहा बिना थके बिना रुकेखोजती रही आँखे उस हमराह कोदो कदम जो साथ चले कुछ लोग मिले भी तो नज़रे चुरा कर चल दिएकोई ना मिला ऐसा जो मंजिल तक साथ दे,खुद मेरा साया भी ना चला दो कदम साथ मेरे!...
अकेला राही...
Tag :
  August 3, 2011, 1:50 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3693) कुल पोस्ट (169634)