Hamarivani.com

मेरी दुनिया

क्या तुम आज स्कूल आओगे?अब ये नही होगा.......... कल मुझसे मेरे छोटे भाई ने कहा की दीदी अब तुझसे ये कोई नही कभी कहेगा की आज स्कूल क्यो नही आई या क्या तुम आज स्कूल आओगी? बात बिल्कुल साधारण सी थी पर मे सारा दिन सोचती रही की ये बात कितनी सच हे . बचपन के साथ साथ ये सारे पल भी तो बीत गये जब स...
मेरी दुनिया...
Tag :
  September 10, 2013, 3:23 am
चंपा को आज काम पर जल्दी निकलना था नवरात्रि का अंतिम दिन था और मालकिन ने नौ कन्याओ को भोजन के लिए आमंत्रित किया था. चंपा घर से निकलने लगी तो ६ वर्षीय मीठी भी साथ आने की ज़िद करने लगी चंपा ने उसे भी साथ लिया और काम पर चल दी. मालकिन के घर पहुँच कर चंपा जल्दी जल्दी मालकिन का हाथ ...
मेरी दुनिया...
Tag :
  August 17, 2013, 6:41 pm
भ्रष्टाचार मुक्त देश बनाने के लिए अन्ना हज़ारे आगे आए सरकार का रुख़ हम सबने देखा. अब वो समय आ गया हे की देश मे क्रांति हो और देश नया रूप नया रंग ले एक नई सुबह हो. पूरा देश अन्ना के साथ हे. अन्ना आज एक नाम नही एक क्रांति हे एक आंदोलन हे और हम सभी चाहते हे की ये देश रिश्वत खोरो स...
मेरी दुनिया...
Tag :
  August 17, 2011, 1:38 am
हर साल की तरह इस बार भी जब भाई ने मुझसे पूछा की दीदी तुम्हे राखी पर क्या चाहिए तो आँखे ये सोच कर नम हो आई की मे कितनी खुशकिसमत हू जो मुझे एक समझदार और ज़िम्मेदार भाई मिला हे जो मुझसे उम्र मे बहुत छोटा हे लेकिन अपनी दीदी की हर छोटी बड़ी बातो का ख़याल रखता हे और मान भी देता हे. ...
मेरी दुनिया...
Tag :
  July 20, 2011, 7:12 pm
अब ये नही होगा.......... कल मुझसे मेरे छोटे भाई ने कहा की दीदी अब तुझसे ये कोई नही कभी कहेगा की आज स्कूल क्यो नही आई या क्या तुम आज स्कूल आओगी? बात बिल्कुल साधारण सी थी पर मे सारा दिन सोचती रही की ये बात कितनी सच हे . बचपन के साथ साथ ये सारे पल भी तो बीत गये जब सारी सहेलिया साथ स्कूल ...
मेरी दुनिया...
Tag :
  July 3, 2011, 2:22 am
हाल ही मे जब मे अपने मायके से कोलकाता वापिस आ रही थी तब ट्रेन मे मेरे साथ एक सभ्रान्त परिवार की बुजुर्ग महिला भी सफ़र कर रही थी. अपने पूरे सफ़र के दौरान मेने देखा की वो जब भी कोई नदी या तालाब आता तो सिक्के निकाल कर उसमे डालती थी और एक बार तो उन्होने पूरा १०० रु. का नोट बाहर ड...
मेरी दुनिया...
Tag :
  June 18, 2010, 10:24 am
शुक्रिया मेरी नई जिंदगी मेरे जीवन मे नए रंग भरने का शुक्रिया. तुम्हारी मासूम किल्कारिया नटखट हँसी चंचल आँखे देख कर मुझे महसूस होता हे की मे अभी तक कितने बड़े सुख से वंचित थी. तुमने आकर वो कमी पूरी की. मेरे अधूरेपन को पूरा किया. और मुझे हर दिन नई सीख भी देते हो.आज महसूस होता...
मेरी दुनिया...
Tag :
  June 6, 2010, 2:54 pm
काली ऐ काली चिल्लाते बच्चे पीछे दौड रहे थे और काली इतराती, बलखाती, उछलती कभी दोनों पैर से खडे होकर बच्चो को डराती इधर से उधर दौङ रही थी. हा कलकत्ता की एक तंग बस्ती मे रहने वाले उस्मान भाई की बकरी का नाम काली ही था . दस दिन पहले ही उस्मान भाई बाजार से इसे खरीद कर लाये थे. बकरी ...
मेरी दुनिया...
Tag :
  June 25, 2009, 9:21 am
प्यार का इजहार करने के लिये क्या कोई दिन निश्चित होता हैं यह तो कभी भी किया जा सकता हैं हाँ एक बहाना जरूर मिल जाता हैं रिश्तों को फिर से नवीन करने के लिए. प्यार शब्द में सारी दुनिया समाई हुई हैं.एक मीठा एहसास जो जीवन में ताजगी भर देता हैं. प्यार आदमी को बहुत कुछ सिखाता हैं. ...
मेरी दुनिया...
Tag :
  February 14, 2009, 12:03 am
जब मैं छोटी थी तब तुम मुझे खोज लिया करती थी छुप जाने पर और अपनी गोद में बिठाकर ढेर सारे किस्से कहानियाँ सुनाती थी. बाबूजी जब गुस्सा होते तो तुम झट बच्चों की तरफदारी करती चाहें बाबूजी लाख नाराज हों. पास पड़ोस की तुम अकेली ही वैद्य थी तुम्हारे पास हर बीमारी के लिए एक राम बा...
मेरी दुनिया...
Tag :
  January 20, 2009, 11:15 am
असंतुष्ट हूँ, चिंतित हूँ, परेशान हूँ, कश्मकश में हूँ. बहुत दिनों से लिखने का प्रयास कर रही हूँ मगर जब भी कलम हाथ में लेती हूँ विचार आता है कि क्या मेरी कलम अपना उद्देश्य निभा रही हैं? क्या मेरी आवाज वहा पहुँच रही है जहाँ में पहुँचाना चाहती हूँ. बम ब्लास्ट हों रहे हैं.देश मे...
मेरी दुनिया...
Tag :
  January 10, 2009, 1:06 am
मुंबई पर हुए आतंकी हमले पर बहुत लिखा जा चुका बहुत सुन लिया और बहुत कह भी लिया मगर जिनकी जान गई जो शहीद हुए उनके लिए कितनों ने बात की हैं..? मीडिया हर पल का सीधा प्रसारण दिखा कर अपने चैनल को तेज सबसे तेज घोषित करने की होड़ में लगा हुआ हैं. राजनीतिक दल हमारे तथाकथित नेता इस सम...
मेरी दुनिया...
Tag :
  November 29, 2008, 1:02 am
आज फिर कोई वैदेही को देखने आ रहा था. पूरे घर में साज सजावट और मेहमानों के स्वागत की तैयारियाँ हों रही थी. माँ वैदेही को हर बार की तरह शिक्षा दे रहीं थी __ देख बेटी ये रिश्ता बहुत अच्छे घर से आया हैं इस बार तू कोई नया ड्रामा या हंगामा खड़ा मत करना और वैदेही आशंका और डर से मन ही ...
मेरी दुनिया...
Tag :
  November 24, 2008, 4:16 am
जब भी आकाश में पंछी को देखती हूँ बहुत आनंद मिलता हैं उसकी उड़ान देख कर.खुले मैदान में गाय, बकरी बछड़े जब स्वतंत्रता से विचरते हैं तो खुशी होतीं हैं लगता हैं कि ये जीव हम इंसानो से तो बेहतर हैं प्रकृति के नियमों का पालन करते हैं किसी को बिना वजह तकलीफ नहीं देते. और हम जानवर...
मेरी दुनिया...
Tag :
  November 12, 2008, 1:32 pm
हर वर्ष दीपावली आती हैं और लाखों करोड़ों रुपए पटाखे बन धुएँ में बदल जाते हैं. हर वर्ष यहीं प्रश्न मन में उठता हैं कि क्या यहीं सही तरीका हैं त्योहार मनाने का..?देश में जहाँ आर्थिक रूप से संपन्न लोग हैं वहीं एक वो तबका भी हैं जिसे दो वक्त की रोटी नसीब नही होतीं. कई बच्चे आज भ...
मेरी दुनिया...
Tag :
  October 30, 2008, 5:55 pm
बचपन से बेटी अपने पापा के बहुत नजदीक होती है. पापा के दिल का टुकड़ा. जरा सी खरोंच भी आ जाएँ तो पापा अपनी बिटिया की तकलीफ दूर करने को तत्पर रहते है. मै भी वैसे ही अपने पापा के बहुत नजदीक हूँ. मेरे पापा मेरे आदर्श है. बचपन से ही मेरी दुनिया अपने पापा से शुरु होती है.मेरे हर हुनर ...
मेरी दुनिया...
Tag :
  October 25, 2008, 4:35 pm
मै बहुत खुश थी कि इक नन्हा फरिश्ता मेरी दुनिया मे आने वाला है.उसकी कल्पनाओं से मेरे कई ख्वाब सजने लगे थे. नन्हा सा फरिश्ता जब मुझे माँ कहेगा तो मेरा रोम रोम पुलकित हो जाएगा.जब वो चलेगा तो पुरा घर खुशियों से भर जाएगा.मुझे नही पता कि तुम कैसे दिखाई देते हों.मेरे लिए तुम मेरी ...
मेरी दुनिया...
Tag :
  October 24, 2008, 12:17 pm
सामने की हवेली मे हलचल थी किसी के रोने की आवाज आ रही थी.आठ दस लोग जमा थे. मैने जिज्ञासा वश पता किया तो मालूम हुआ कि सेठ हीरालाल की बहु नही रही. घरवालों ने बताया कि उसने आत्महत्या कर ली. मुझे यकीन नही हुआ सेठ की बहू मानसी इसी शहर के शिक्षक ज्ञान प्रकाश की छोटी लड़की थी .हम उसे ब...
मेरी दुनिया...
Tag :
  October 13, 2008, 10:45 pm
अब उनकी आँखों की रोशनी कम हो गई है. चेहरे पर झुर्रियों हो गई हैं बालों मे सफेदी ने घर कर लिया है.कमर झुक गई हैं. शरीर कमजोर हो गया है. मगर आज भी काँपते हाथों से अपने पोते- पोती की फरमाइश पर वो हर काम करती है. उन पर जान छिड़कती है. अपने पोपले मुँह से जब हँसती है तो लगता है कि सारी ...
मेरी दुनिया...
Tag :
  October 13, 2008, 10:43 pm
अनेक प्रश्न ऐसे है जो कभी दोहराए नही जातेबहुत उत्तर भी ऐसे हैं जो कभी बतलाए नही जातेइसी कारण अभावो का सदा स्वागत किया मैंनेकि घर आए मेहमान कभी लौटाए नही जातेहुआ क्या आँख से आँसू अगर बाहर नही निकलेबहुत से गीत भी ऐसे है जो कभी गाए नही जातेबनाना चाहती हूँ स्वर्ग तक सोपान स...
मेरी दुनिया...
Tag :
  October 13, 2008, 10:38 pm
महफिल पर छा जाने की खूबी मंच को जीत लेने की खूबी क्या आपमें है? इसके लिए आपमें मंच पर बोलने की क्षमता होना चाहिए. ज्यादातर लोग स्टेज पर बोलने से घबराते हैं. ये खूबी हर किसी मे नही होती. लेकिन यदि ये खूबी आपमें हैं तो आप पूरी महफिल मे अपना रंग जमा सकते हैं. अच्छा वक्ता बनने के...
मेरी दुनिया...
Tag :
  October 13, 2008, 10:32 pm
बुजुर्गों को चाहिए अपनापन और प्यार। उनके साथ बात करने से कतराए बल्कि उनका अकेलापन बाँटने का प्रयत्न करे। बुजुर्गो के साथ बातचीत कराने के लिए धैर्य व समय की जरूरत होती है. यहीं वे लोग है जो हमारा आधार हमारी नीव होते है. आज का युवा वर्ग बुजुर्गों का उतना सम्मान नहीं करा प...
मेरी दुनिया...
Tag :
  September 24, 2008, 5:04 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3694) कुल पोस्ट (169759)