Hamarivani.com

अभिव्यक्ति

पलकोँ का ये शामियाना तेरा,बहुत खूब ये आशियाना तेरा...काजल की काली चटख ये घटा,रंग इनसे भरूँ जिंदगी मेँ सदा,बिजलियोँ सी चमक, रौशनी सी दमक,मैँ निखरता रहूँ देख तेरी अदा,इशारोँ मेँ सब कुछ बताना तेरा,छुपे राज़ दिल के जताना तेरा ....                  पलकोँ का ये शामियाना त...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  October 10, 2012, 12:22 am
इस आँगन में खेले हमने, जाने कितने खेल,धमाचौकड़ी, छुआ-छुई से चोर-सिपाही-रेल...सैर सुहानी, रुत मस्तानी; खूब चली वह नाव, अब याद आती झोंकों वाली, मीठी शीतल छाँव...कोरे कागज़ के पन्नों पर, गीत मधुर जीवन के,रचे गए सब यहीं उजाले, स्नेह-सुमन उपवन के...आशीषों की पुण्य धार में , भींग सींच...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  October 10, 2012, 12:08 am
दूर उस चौराहे पर भीकू ठेला लगाता था,याद है कुछ? जी हाँ, वही जो समोसे बनाता था;साथ में पकोड़े-जलेबियाँ भी तलता था,फुर्सत में हथेली पर खैनी मलता था....दो रुपयों में एक समोसा,दस में पाव जलेबी....बच्चों का वही एक भरोसा,बोली उसकी अलबेली...आलू-मटर नहीं बाबू वह,खुद को रोज उबालता;तपकर-ख...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  October 9, 2012, 11:50 pm
New Year Cards by Scraps123                         दस्तक देता दरवाजे पर, यह कौन अतिथि आया;                            घने कोहरे से झाँका तो, वह अजनबी मुसकाया;                           राम-रहीम हुई उससे, मैंने भीतर बैठाया,                        चाय पियोगे या कॉफी, मैंने आतिथ्य निभाया;New Year Cards by Scraps123                     देवदूत-सी आभा मुख पर, "न...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  December 30, 2011, 4:10 pm
                                       तारे चमकेँ, जुगनू दमकेँ; चंदा की बारात,                       आँखेँ मलके, दुनिया देखे, सजी रुपहली रात...!!                      डोली से चाँदनिया झाँके,    चोरी-से चुपके मुख ढाँपे;मुस्कान मिली सौगात;    सजी रुपहली रात....!!ओस-वृष्टि, आशीष झरे;माणिक-मोती सम बिखरे,युगोँ-युगोँ क...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  December 24, 2011, 2:42 pm
       देखो दीवाली आई आज,       हर्षित नगर-ग्राम-समाज,       छुट्टी पर दैनिक काम-काज,        देखो दीवाली आई आज....   बहती उल्लासमयी रसधार,    घोली उमंगों ने निखार,     गुन-गुन गाती 'बौराई'बयार,       घर-घर पहुँची 'उजली'बहार....                 &n...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  October 26, 2011, 11:23 am
एक नशा दिल पे जैसे छा जाए,जब कभी आपका ख़याल आए...सामने हुस्न के, चाँदनी भी जले,जब भी आए, आपकी मिसाल आएजिंदगी स्याह, काली बेरंग थी,आप आए तो, रंग-गुलाल आए....कोई मकसद नहीं, वजह ना थी,क्यों जिएँ, ऐसे कुछ सवाल आए...नूर तुमसे है, सादगी तुमसे,                                  &nb...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  October 18, 2011, 5:18 pm
दबे पाँव चुपके हवा पास आई,लगा वो तुम्हारा संदेशा हो लाई;झोली थी खाली, झलक कोई ना थी;            न आहट, न खुशबू , खबर कोई ना थी....  जो पूछा पता, चाँद की चाँदनी से;वो बोली ना जानूँ, मैं इस रौशनी को;खिड़की के पल्ले, किए बंद तुमनेया शायद सखी को जलाया हो तुमने....उषा क्या, निशा ...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  October 14, 2011, 6:36 pm
स्वतंत्रता-दिवस की शुभकामनाओं के साथ एक आह्वान.....******************************​****         रण-भेरी बज उठी है यारों, जागो देश पुकारता;                      भ्रष्टों की अब खैर नहीं, बूढा शेर दहाड़ता...लोकपाल एक ब्रह्मास्त्र है,     आज जरुरत आन पड़ी;काले फन फैला फुंफकारती,   ...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  August 15, 2011, 6:32 pm
धूप छत पर जब बिखरती है, हौले-हौले फिजा निखरती है;भँवरे फूलों से बात करते हैं, पत्ते-पत्ते चमक दमकते है;जब हवा झूमकर मचलती है, धूल उड़-उड़ गगन से मिलती है.....दूर तक खिली-खिली धरती,मानो दुल्हन नई-सी लगती है;रेशमी रौशनी की चादर में,लिपटी वो शबनमी सँवरती है... धूप छत पर जब बिखरती ...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  July 17, 2011, 4:47 pm
 इन दिनों मीडिया तथा कुछ लोग खूब हो-हल्ला मचा रहे हैं कि योग-गुरु"बाबा रामदेव"का भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज बुलंद करना; एक राजनीतिक चाल का हिस्सा अथवा एक स्वार्थपरक कृत्य है. मैं प्रस्तुत कविताके माध्यम से इसका विरोध करता हूँ..********************************                    &n...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  June 7, 2011, 1:15 am
********************आरा से है, लगाव पुराना,  फिर भी मुझे, अलगाव निभाना;भूल गया मैं, घर क्या होता,  परदेस में जब, कभी ये मन रोता; पगले को आस बंधाता हूँ,ढाढस दे, चुप करवाता हूँ;  उस नगरी में, तब आयेंगे,    जब पढ़-लिख, कुछ बन जायेंगें; संकल्प ये दृढ़, विश्वास अटल, एक दिन अवश्य, हम हो...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  May 22, 2011, 3:16 pm
"प्रस्तावना"प्रस्तुत 'जीवन-चरित'यादों की फुलवारी से चुनकर एकत्रित पुष्पों से गूंथी हुई वह माला है जिसमें सच्चाई की ताजगी और उमंगों की खुशबू है. यह रचना उस आदर्शवादी, प्रखर, परोपकारी मानव को समर्पित है जो निःस्वार्थ सेवा के लिए निरंतर प्रतिबद्ध रहे. आज की पीढ़ी यदि इस गाथ...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  May 15, 2011, 5:04 pm
                                                                आतंक के साम्राज्य में, बेचारी मानवता रोती,                          भार ऐसे कुकृत्यों का, कैस...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  May 7, 2011, 8:12 pm
      नई दिशा,डगर नई; जिंदगी कहाँ खड़ी;   दूर कितनी आ गई,कश्ती जो बचपन में चली... कल की जैसे बात हो, साथियों के साथ वो; धूल में कपड़े सने, एक-दूजे से भिड़े;चीका-कंचे-गिल्ली-डंडा, मिलजुल हमनें थे खेले;चटकीली-मीठी गोलियाँ, वो इमलियों की चोरियाँ,बागों में मुफ्त दावतें, ...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  May 7, 2011, 9:51 am
आँखों में सपनों की प्यारी,इक बारात सजाई है;साल नए, तुम जल्दी आना,पलकें कब से बिछाई हैं....                    झोली में खुशियाँ भर लाना,                    आशा की किरणें बिखराना;                    जा...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  May 7, 2011, 3:00 am
रंग की भाषा, रंग की बोली,नाम इसी का होली है;झूमे अबीर-गुलाल संग टोली,प्रीत की पावन डोली है....               फागुन की बरात रंगीली,                  रुत मतवाली, बड़ी नशीली;                     भोर किरण करती अ...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  May 7, 2011, 2:36 am
उनसे मिलन की घडी सुहानी,आ ही गई वो रूत मस्तानी;बेताबी अपनी बढती जाए;धडकन बनी दीवानी......                         नयनों से ही बात बढ़ी है,                         एक कड़ी दरम्याँ जुड़ी है;          &nbs...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  May 7, 2011, 2:18 am
                                                                                                                                                                        आज धरा के पावन आँगन,फिर से उषा मुस्काई ह...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  May 7, 2011, 1:13 am
  हम खेतों-से,खलिहानों से;  और हरे मैदानों से,  खट्टी-मीठी अमवारी से;  नीली-पीली फुलवारी से...फिर उधर जरा चलें...        कभी लिपटे हम धूलों में,और झुले कभी झूलों में;लुके-छिपे उन खेलों में,पले-पढ़े उन मेलों में..संगों में रंग भरें...               ...
अभिव्यक्ति...
Tag :
  May 6, 2011, 10:38 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163615)