Hamarivani.com

समाज की बात - Samaj Ki Baat

आज से लगभग हजार वर्ष पहले हिंदी साहित्य बनना शुरू हुआ था।  इन हजार वर्षों में भारतवर्ष का हिंदी भाषी जन समुदाय क्या सोच-समझ रहा था, इस बात की जानकारी का एकमात्र साधन हिंदी साहित्य ही है। कम से कम भारतवर्ष के आधे हिस्से की सहस्रवर्ष-व्यापी आशा-आकांक्षाओं का मूर्तिमान्...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  March 19, 2019, 7:34 pm
 अनौपचारिक चर्चाओं में वाणिज्य एवं मैनेजमेंट के वरिष्ठ शिक्षणों की 108 अर्थशास्त्रियों द्वारा उनके बयान को मीडिया पर सार्वजनिक किए जाने की आलोचना करने के बाद ही चर्चा की दिशा शेयर बाजार में आए उछाल की ओर मुड़ गई। इन प्राध्यापकों का कहना था कि अर्थव्यवस्था का मजबूती औ...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  March 19, 2019, 6:39 pm
नापने का पैमाना1 Gaz (एक गज)= 1 Yard (एक यार्ड) = 0.91 Meters (0.91 मीटर) = 36 Inch (36 इंच)1 Hath (एक हाथ)=½ Gaz (आधा गज) = 18 Inch (18 इंच)1Gattha (एक गट्ठा)= 5 ½ Hath (साढे पांच हाथ) = 2.75 Gaz (पौने तीन गज) = 99 Inch (99 इंच)1 Jareeb (जरीब)= 55 Gaz (55 गज)क्षेत्रफल मापने के मात्रक1 Unwansi (एक   उनवांसी)=24.5025 Sq Inch (24.5025 वर्ग   इंच)1 Kachwansi (एक  कचवांसी)=...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  March 19, 2019, 5:48 pm
पुरुष को नहीं है अधिकार, नैतिक रूप सेसबके सामने खुलकर रोने का वैसे भी, घर में दादी, नानी, माँ सहित तमाम बडे-बुजुर्गों का कहना यही रहा है कि, पुरुषों का रोना अपशकुन होता है या पुरुष भी कभी रोते हैं भला!इन सब बातों का यह कत्तई मतलब नहीं हैकि, उसके पास आंसुओं की कमी है या वह कम भ...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  March 9, 2019, 11:29 am
स्त्री में तुमने क्या देखा!उसकी सुंदरता के सिवाक्या देख सके वह कोमल मनजिससे निकले है यह जीवनक्या देख सके उसकी मेह्नतजिससे सजे है तुम्हारा तन-मनतैरते ही रहे सतहों में तुम  गहराई में तो न उतर सकेफिर पाओगे कैसे मोतीकैसे संवरेगा तुम्हारा मधुबनभोर भये से रात गये तक लडती...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  March 9, 2019, 10:54 am
रवा यानि सूजी का हलवा, सूजी की खीर तो आपने कई बार बनाई, खाई और खिलाई होगी, पर क्या कभी आपने इसकी बर्फी बनाई है? अगर नहीं तो एक रेसिपी आपके लिए ही है. एक नज़ररेसिपी क्विज़ीन : इंडियन, डिजर्टकितने लोगों के लिए : 2 - 4समय : 15 से 30 मिनटमील टाइप : वेजसामग्री एक कप रवा (सूजी)आधा कप कद्दू...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  February 22, 2019, 6:09 pm
रसगुल्ले खाने में तभी मजेदार लगते हैं जब ये स्पंजी और रसीले हों. अगर आप भी एकदम रुई जैसे मुलायम और रसीले रसगुल्ले बनाना चाहती हैं तो इस रेसिपी से बनाइए एकदम मुलायम और रसदार रसगुल्ले.सामग्री1 लीटर काऊ मिल्क2 टेबलस्पून नींबू का रस250 ग्राम चीनी1 लीटर पानी1 टीस्पून कॉर्नफ...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  February 22, 2019, 5:45 pm
आश्चर्य की बात यह है कि भारत के सरकारी शिक्षक न केवल प्राइवेट स्कूलों में पढ़ाने वाले अपने समकक्ष शिक्षकों की तुलना में बल्कि कई अन्य देशों की तुलना में अधिक वेतन पाते हैं। चीन की तुलना में इनका वेतन चार गुणा अधिक है। प्रख्यात अर्थशास्त्री और नोबेल प्राइज विजेता अमर्...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  February 22, 2019, 5:15 pm
आवश्यक सामग्री : Besan Barfi Ingredients·         बेसन_Gram flour – 250 ग्राम,·         शक्कर_Sugar – 250 ग्राम,·         देशी घी_Pure Ghee – 200 ग्राम,·         दूध_Milk – 02 बड़े चम्मच,·         काजू_Cashew – 02 बड़े चम्मच (बारीक कतरे हुए),·    &n...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  January 27, 2019, 1:15 am
मावा, मिल्क पाउडर या रेडी मिक्स से गुलाब जामुन तो बनते ही हैं. हम बता रहे हैं रवा और दूध से गुलाब बनाने का तरीका. रेसिपी आसान है और गुलाब जामुन का स्वाद भी उम्दा होता है.कितने लोगों के लिए : 4 - 6समय : 30 मिनट से 1 घंटामील टाइप : वेजसामग्री 1 टीस्पून घी1 कप सूजी\रव...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  January 27, 2019, 1:00 am
वह किसी महान फिल्म की शूटिंग कर रहे थे, जिसमें उनका पात्र मुख्य भूमिका में था. जिसने उन्होने दर्जनों गुंडों को कुछ ही पलों में धूल चटा दी थी और कई गरीबों की मदद की व उन्हें न्याय दिलाया. शॉट बहुत बढ़िया गया था. डायरेक्टर सहित सारी टीम बहुत खुश नजर आ रही थी. कुछ ही देर में प...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  December 4, 2018, 4:33 pm
                                                    सरकारी अस्पताल में घायल जवान की मरहम पट्टी करते हुए नर्स ने पूछा"आप को इतनी सारी चोटें कैसे लगीं!"जवान ने जख्मों के दर्द को दबाते हुए चेहरे पर बनावटी मुस्कान लाते हुए कहा "वतन की मोहब्बत के जख्म है...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  December 4, 2018, 4:23 pm
      दस दिन की गर्मियों की छुट्टियों में विनय नानी के गाँव, बुआ के गाँव और ससुराल भी हो आया था बीवी-बच्चे वहीँ ससुराल में ही रुक गए थे. फिर भी दो दिन की छुट्टियाँ और बच रही थी उसकी.  अचानक ही उसके मन में ख्याल आया कि क्यों न पास के ही गाँव चला जाए जहाँ पर उसके स्कूल के दिन...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  November 30, 2018, 11:02 am
“स्कूल जाते-जाते आज पंडित को जरूर बोल देना कि कल सवेरे कथा सुनाने आ जायेंगे”.“ठीक है माँ, बोलते हुए जाऊंगा”. “वैसे बुढ़ऊ पंडित को ही बोलना है कि बच्चू पंडित को बोल दूंगा”!“तू फ़ालतू की बकवास मत कर. बुढ़ऊ पंडित जब तक जिन्दा हैं हम लोग उन्हीं से ही कथा सुनेंगे.”“ठीक है माँ”. कहक...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  November 30, 2018, 10:55 am
कंपनी के काम से मैं पहले भी बस्तर आ चुका था लेकिन इस बार का अनुभव काफी कड़वा रहा. हालाँकि इससे पहले भी मैंने असंतोष की चिंगारियां देखी थी पर इस बार वह चिंगारियां लपटों का रूप धारण कर चुकी थीं.लौह अयस्क कि खुदाई हो या ढुलाई, किसी भी तरह के कार्य के लिए मजदूरों को उनका उचित? प...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  November 30, 2018, 10:45 am
एक दिन कुछ लोग किसी घटना परभीड़ बनकर बेहद आक्रोशित हुए आक्रोश ने उन्माद की शक्ल ली उन्माद ने भीड़ पर अपना असर किया वह कुसूरवार था या बेकसूर!उन्माद ने भीड़ को सोचने ही न दिया भीड़ ने उसे पीट-पीटकर मार डाला वह भी पिटता ही रहा मरने तक यही सोचकर, कि इतने सारे लोग मिलकर पीट रहे हैं ...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  November 30, 2018, 10:35 am
बूढों के पास बचा ही क्या था कुछ अदद नाती-पोतों के सिवाय जो खिंचे चले आते थे उनके पास सुनने कुछ नए-पुराने किस्से-कहानियां या ढूँढने अपने कुछ अनसुलझेसवालों के जवाब वरना कौन आता है भला उनके पास बड़े बेटे के अलावा जो हफ्ते में छुट्टी के दिन 2 मिनट का समय निकाल पूछ लेता है “कुछ ...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  November 30, 2018, 10:33 am
हरे-भरे और पुराने, छाँव वाले पेड़ों को  घर के बड़े-बूढों और अनुभवी बुजुर्गों को सदियों पुरानी आस्थाओं को, मान्यताओं को बिना जाने उनके फायदे या नुकसान काट देना जड़ों से बेवजह ही क्योंकि उनकी वजह से आती हैं हमारी स्वछंदता में कुछ अडचनें जो कि बनता जा रहा है आजकल विकास का सू...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  November 30, 2018, 10:30 am
हमने तालाबों को पाट-पाटकरबड़े-बड़े आलीशान घर बनाये घरों में सुख-सुविधा के तमाम उपकरण लगाये मगर जब नहीं मिला पानी गुजर-बसर के लिए तब हमें वही पाटे हुए तालाब बहुत-बहुत याद आये    (कृष्ण धर शर्मा, 16.05.2018)...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  November 30, 2018, 10:27 am
तुम्हारी भेड़ियों जैसी भूखी नजरें तुम्हारी गलीज और कामुक भावनाएं तुम्हारी अश्लील और गंदी टिप्पणियां जो, राह चलती किसी की बहन या बेटी को देखकर उपजते हैं तुम्हारे भीतर तुम सोचकर भी देखोगे यही सब अपनी बहन या बेटी के बारे में कभी सिहर जाओगे तुम, गड जाओगे जमीन में कहीं गहरे ...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  November 30, 2018, 10:25 am
इंसान को जिससे-जिससे डर लगता हैवह उन सबको मार देता है या फिर मारने की कोशिश करता रहता हैभले ही वह डर वास्तविक न हो डर काल्पनिक ही सहीमगर इंसान जिससे-जिससे डरता है वह उन सबको मार देता है इंसान जिससे डरता है वह सांप भी हो सकता है बिच्छू भी हो सकता है शेर, भालू, बाघ, चीता सहित त...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  November 30, 2018, 10:23 am
टीवी की आवाज म्यूट कर दो मोबाइल को साइलेंट में डाल दो मन को जरा शांत करके गौर से सुनो तो कभी तुम्हारा घर और घरवाले बहुत बेचैन हैं इन दिनों! वह तुमसे बातें करना चाहते हैं  उन्हें लगता है कि वह भी तुम्हारे जीवन का हिस्सा हैं  टीवी, मोबाइल, गाड़ी, कंप्यूटर तुम्हारे दोस्तों ...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  November 30, 2018, 10:21 am
अल्लसुबह की मीठी नींद का मोह छोड़करलग जाते हैं काम पर जाने की तैयारी में मुंहअँधेरे ही गिरते-पड़ते से सोते हुए बच्चे का माथाचूमकर निकल पड़ते हैं दिनभर काम में अनमने से खटने के लिए निभाने पड़ते हैं कई रस्मो-रिवाजकई रिश्ते भी बेमन से सुननी पड़ती हैं कई-कई बातेंताने-उलाहने भी ...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  November 30, 2018, 10:19 am
अब जिसे राक्षस ही साबित करना होवह भला आपके कहने भर से कैसे हो जायेगा राक्षस उसके बारे में प्रचारित करना होगादुनियाभर का सच-झूठ जैसे कि वह होता है घोर अत्याचारी एक विशालकाय शरीर वाला होते हैं उसके कई सर, कई हाथहो सकते हैं उसके सर पर सींग भी बड़े-बड़े दांत होना तो अनिवार्य ह...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  November 30, 2018, 10:14 am
ओ नदी! तुम कितनी अच्छी तुम हो बिलकुल माँ के जैसी लोगों के संताप तुम हरती सबको तुम निष्पाप हो करती सबकी गंदगी खुद में लेकर तुम लोगों के दुःख हो हरतीबाहर से तुम दिखती चंचल अन्दर से तुम कितनी शीतल तर जाते हैं हम सब प्राणी पीकर तुम्हारा निर्मल जल ओ नदी! तुम कितनी अच्छी तुम तो ...
समाज की बात - Samaj Ki Baat...
Tag :
  June 23, 2018, 5:52 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3875) कुल पोस्ट (188724)