Hamarivani.com

'सरपंच'

तुझसे से दूर हुआ हूं बेशक,पर मां तेरा हूं।तेरे आंगन आता जाता,नित का फेरा हूं।तुझसे सीखा बातें करनाचलना पग-पग या डम मगतूने कहा तो मान लियाये दुनिया है मिल्टी का घरमिट्टी के घर की खुशबू तू,तू गुलाब सी दिखती हैरूठी-रूठी मुझसे रहतीलेकिन फिर भी अच्छी है।मां मेरी अब मान भी जा...
'सरपंच'...
Tag :मां
  March 24, 2012, 6:41 pm
कल लंदन में देवानंद का अन्तिम संस्कार किया गया। मैं उनका फैन रहा हूं और उनकी फिल्में देखी – समझीं भी हैं। मुझे लगता है कि प्रेम करना देवानंद के लिए उस धागे की तरह रहा , जिसके दोनों सिरे हमेशा उनके पास रहे...जब चाहा प्यार किया और जब लगा कि हवा को मुट्ठी में कैद नहीं कर सकते, त...
'सरपंच'...
Tag :
  December 11, 2011, 8:03 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3693) कुल पोस्ट (169633)