Hamarivani.com

राहें जो अनजानी सी थी

अभी अभी मैंने एक वीडियो देखा तो सोचा की आप लोगों से भी इसे साझा करूँ. यह वीडियो  सरकारी लोकपाल के खामियों को उजागर करता है साथ ही साथ  भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने की सरकार की  दोहरी नीति को भी प्रकट करता है. .. यह वीडियो पूरा देखिये.इस वीडियो में आपको निम्न प्रश्नों के उ...
राहें जो अनजानी सी थी...
Tag :
  January 23, 2012, 8:18 pm
राजघाट आज गाँधी जयंती है . आज के दिन हम विशेष रूप से गाँधी जी को याद करते है .  पिछले वर्ष दिल्ली जाना हुआ तो हम राजघाट भी गए थे और वहाँ गांधीजी के विचारों को हमने कैमरे में कैद करने का प्रयास किया . इन विचारों से आप भी लाभ उठायें.इन विचारों के  बाद गांधीजी को याद करत...
राहें जो अनजानी सी थी...
Tag :गाँधी जयंती
  October 2, 2011, 1:14 pm
सबसे पहले आप सभी लोगों को हिंदी दिवस की शुभकामनाएँ  . देश के विभिन्न भागो में इस अवसर पर कई कार्यक्रम आयोजित किये गए . पुरे दुनिया में हिंदी से जुड़े लोगों ने हिंदी दिवस को मनाया और आगे भी मानते रहेंगे. सरकारी बिभागों ने कुछ लोगों की नियुक्ति ही इसलिए कर के रखी है जिसस...
राहें जो अनजानी सी थी...
Tag :राष्ट्र भाषा हिंदी और राष्ट्रीय खेल हॉकी
  September 15, 2011, 8:46 pm
आज जैसे ही लोकसभा में और फिर राज्यसभा में अन्ना के जन लोकपाल  के तीनो मांगो को मेंज  थपथपाकर स्वीकार किया गया और फिर संसद के स्थायी समिति के पास भेजने की अपील की गई , भारतीय लोकतंत्र में एक नया अध्याय जुड़ गया.लोग एक दूसरे को बधाई देने लग गए. बधाई देने का सिलसिला अपने-...
राहें जो अनजानी सी थी...
Tag :
  August 27, 2011, 10:54 pm
इस समय देश लगभग पूरी तरह से अन्ना के साथ में खड़ा हो गया है. देश में लगभग हर जगह लोग अन्ना के  समर्थन  में खड़े हुए नज़र आ रहे है .पूरे देश में   आन्दोलन सा माहौल दिखाई दे रहा है . आन्दोलन का कोई नेतृत्व नहीं है , लोग स्वयं ही नेतृत्व कर रहे है. आखिर आन्दोलन क्यों न हों. ....? ...
राहें जो अनजानी सी थी...
Tag :
  August 17, 2011, 10:30 pm
आज रक्षाबंधन का महत्वपूर्ण दिन है . इसलिए सबसे पहले रक्षाबंधन की शुभकामनाए .रक्षाबंधन श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाने वाला त्यौहार है  . आज के दिन बहने अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती है . यह राखी सूत के कच्चे धागे से लेकर बहुमूल्य रेशमी धागों और सोने चांदी की बन...
राहें जो अनजानी सी थी...
Tag :
  August 13, 2011, 12:24 am
कुछ दिनों पहले मुझे एक व्यक्ति के बारे में पता चला. वह व्यक्तित्व आज के समय में बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि ऐसा व्यक्ति संसार के हर व्यक्ति के लिए प्रेरणा का स्त्रोत बन सकता है. मुझे लगा  यदि हम इस व्यक्ति को देख भर ले तो भी हमारी निराशा गायब हो जाएगी. आज आपको उस व्...
राहें जो अनजानी सी थी...
Tag :ब्रिसबेन
  July 24, 2011, 5:03 pm
आप लोग टेलीविजन के लोकप्रिय हास्य कलाकार जसपाल भट्टी से परिचित तो जरुर होंगे .  वे शुरूआती  दौर में दूरदर्शन पर प्रसारित कार्यक्रम फ्लॉप शो और उल्टा पुल्टा से हम सबके बीच लोकप्रिय हुए.  आज के समय में भी वे अपने नॉनसेंस क्लब के नुक्कड़ नाटक के माध्यम से समय समय...
राहें जो अनजानी सी थी...
Tag :जसपाल भट्टी
  July 19, 2011, 11:49 pm
...
राहें जो अनजानी सी थी...
Tag :
  July 4, 2011, 10:51 pm
हमारा देश सदियों से एक कृषि प्रधान देश रहा है और शायद गरीबी प्रधान देश भी. भारत की जनसँख्या इक्कीसवी सदी के इस दौर में भी प्रायः छोटे छोटे गाँव और कस्बों में जीवन यापन करती है. हमारा देश चुकि एक कृषि प्रधान देश है इसलिए हमारी अर्थव्यवस्था और किसानो का गहरा सम्बन्ध है. ...
राहें जो अनजानी सी थी...
Tag :काला धन
  June 26, 2011, 1:22 am
हम सभी जानते है की बाबा रामदेव का अनशन हो रहा है पहले दिल्ली में हो रहा था लेकिन बाद में सरकार द्वारा दिल्ली से हटाये जाने के बाद इस समय हरिद्वार से जारी है .  लेकिन हमारे देश में ऐसे बहुत से लोग होंगे जो इस अनशन के उद्देश्य को शायद ठीक ढंग से समझ नहीं पा रहे हैं साथ ही यदि&...
राहें जो अनजानी सी थी...
Tag :सत्याग्रह
  June 6, 2011, 9:59 pm
कल सुबह बाबा रामदेव का सत्याग्रह दिल्ली के रामलीला मैदान में शुरू हुआ.सत्याग्रह में शामिल होने के लिए भारत के विभिन्न हिस्सों से लोग दिल्ली पहुंचे थे. सुबह से शाम तक विभिन्न धार्मिक ,आध्यात्मिक संघटनो एवं  समुदायों का भरपूर समर्थन उन्हें मिलता रहा . समर्थन से सत्य...
राहें जो अनजानी सी थी...
Tag :सत्याग्रह
  June 5, 2011, 4:50 pm
इस नदी की धार में ठंडी हवा आती तो है,नाव जर्जर ही सही, लहरों से टकराती तो है।एक चिनगारी कही से ढूँढ लाओ दोस्तों,इस दिए में तेल से भीगी हुई बाती तो है।एक खंडहर के हृदय-सी, एक जंगली फूल-सी,आदमी की पीर गूंगी ही सही, गाती तो है।एक चादर साँझ ने सारे नगर पर डाल दी,यह अंधेरे की सड़क उ...
राहें जो अनजानी सी थी...
Tag :नदी की धार
  June 4, 2011, 5:06 pm
...
राहें जो अनजानी सी थी...
Tag :
  May 31, 2011, 10:57 pm
...
राहें जो अनजानी सी थी...
Tag :
  May 30, 2011, 8:25 pm
...
राहें जो अनजानी सी थी...
Tag :
  January 28, 2011, 11:18 pm
हिंदी साहित्य के लेखकों में प्रमुख लेखक है मुंशी प्रेमचंद. कुछ दिन पहले उनकी एक कहानी पढने का मौका मिला.यह  कहानी हमने अपने अध्ययन काल में भी पढ़ी थी . कहानी का शीर्षक है "कफन ". वैसे तो मैंने मुंशी जी की कई कहानियाँ पढ़ी है .(कफन ,गबन. गोदान ,पूस की रात आदि ). प्रेमचंदजी जितन...
राहें जो अनजानी सी थी...
Tag :
  October 19, 2010, 10:25 pm
सबसे पहले तो दशहरे की शुभ कामनाए . दोस्तों आज के दिन को विजयदशमी और हमारे यहाँ जतरा के नाम से भी जाना जाता है और आज के दिन को बहुत ही शुभ माना जाता है और ये माना जाता है की आज के दिन यदि कोई कार्य आरम्भ किया जाये तो उसमे सफलता निश्चित है . बचपन में इस दिन सुबह से ही हमारे यहाँ ...
राहें जो अनजानी सी थी...
Tag :
  October 17, 2010, 6:00 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3685) कुल पोस्ट (167831)