Deprecated: mysql_connect(): The mysql extension is deprecated and will be removed in the future: use mysqli or PDO instead in /home/hamariva/public_html/config/conn.php on line 13
मनोरमा : View Blog Posts
Hamarivani.com

मनोरमा

आज कहाँ कानून है, कैसा हुआ समाज?मारे जाते, जो करे, अब ऊँची आवाज।।मानवता ही धर्म है, मानवता से प्यार।इस खातिर मरना पड़े, मरने को तैयार।।भले करा दो चुप मुझे, रहे कलम क्या मौन?परिवर्तन की आग को, बुझा सका है कौन??मानवता को रौंदकर, बाँटो नहीं अधर्म।या मानवता से बड़ा, बता कौन सा धर...
मनोरमा...
Tag :
  September 7, 2017, 9:18 pm
मत रहना तू डर से चुपऔर नहीं आदर से चुपघमासान, सच का भीतरक्यूँ रहते बाहर से चुपदुनियावाले अपनों सेपर अपने सोदर से चुपउचित बोलनेवाले कोअब करते खंजर से चुपराजनीति की दहशत कोकर प्यारे मोहर से चुपजरा सोच कितना मुश्किलरहना हो, अन्दर से चुपबाहर अलख जगाने कोनिकल सुमन तू घर स...
मनोरमा...
Tag :
  September 7, 2017, 8:54 pm
अगर चाहिए प्यार तुझे तो, पहले खुद से प्यार करो|खुद की इज्जत खुद से करके, जीवन का श्रृंगार करो||जितनी देर खुलीं हैं आँखें, तेरी दुनिया उतनी है|लेकिन इस दुनिया की सीमा, माँ की ममता जितनी है|और खोल तू मन की आँखें, चिन्तन का विस्तार करो|पहले खुद से प्यार करो| जीवन का श्रृंगार करो...
मनोरमा...
Tag :
  September 7, 2017, 8:51 pm
आपसी मेल का आचरण, नहीं शोषण नहीं हो दमन|कर यकीं ऐ मेरे साथियों,  तभी खिलता रहे ये चमन|मातृभूमि! तुझे है नमन||कई भाषा यहाँ वेष है, गाँव, कस्बों का ये देश है|यूँ तो बढ़ते रहे हम सदा, गाँव में आज भी क्लेश है|हाल बदलो मेरे साथियों, मिलके करना पड़ेगा जतन|मातृभूमि! तुझे है नमन||...
मनोरमा...
Tag :
  September 7, 2017, 8:48 pm
मुहब्बत से चलता संसार,सृजन का प्रेम-मिलन आधार|मन सच्चा तो मिल सकता है, तुझे प्यार ही प्यार|प्यार को छोटा मत कहियो||भगवन से हो प्यार अगर तो कहते उसको भक्ति|परिजन प्यारे अगर मिले तो मिलती रहती शक्ति|जीव जगत भी प्यार का भूखा आँखें खोल निहार|मन सच्चा तो मिल सकता है -------------प्यार ...
मनोरमा...
Tag :
  September 7, 2017, 8:42 pm
कहीं रुकना, कहीं झुकना, कहीं पर मुस्कुराना तुमअगर जीना, सलीके से,  तरीका आजमाना तुमभला कैसे ये मुमकिन है, गलत मैं हो नहीं सकतामिले गलती अगर खुद की, जरा खुद को सुनाना तुमगगन भी झुक रहा देखो, भले वो दूर जितना भीबना किरदार यूँ अपना, गगन को फिर  झुकाना तुमवही टूटेगा तूफां म...
मनोरमा...
Tag :
  September 7, 2017, 8:37 pm
मत छोटाकर देखना, कभी प्यार को यार|ये दुनिया है प्यार से, प्यार सृजन आधार||अक्सर सुनते हम सभी, प्यार एक है रोग|वो भी एक मरीज जो, ऐसा कहते लोग||जीव जगत भी प्यार से, प्यार सभी का मूल|हर रिश्ते से प्यार कर, जो जिसके अनुकूल||विस्तारित हो प्यार तब, अगर मूल में नेह|न्यून रूप है प्यार का...
मनोरमा...
Tag :
  September 7, 2017, 8:33 pm
जिसको भी दिल यहाँ लगाया हैउसने तब से मुझे सताया हैगैर से गैर मिले अपनों साऔर अपना लगे पराया हैशाख से टूट के जुदा जो हुआउसने खोया अधिक न पाया हैघर बचाना तो मिलके जी प्यारेयूँ तो सबने मकां बनाया हैउसकी दुश्वारियां सुमन सुननाजिसने भी घर यहाँ बसाया है ...
मनोरमा...
Tag :
  September 7, 2017, 8:30 pm
हम निकल पड़े जिस रस्ते पर मंजिल का पता चलता ही नहींपाया तुझ में सब कुछ हमने पर दिल का पता चलता ही नहींजो चाहा, खोज लिया हमने, है ओर कहाँ और छोर कहाँआँखों में छुपे समन्दर के साहिल का पता चलता ही नहींखुशियों के अवसर कम होते पर चोट हमेशा मुमकिन हैआँखों से जो भी कतल हुए कातिल क...
मनोरमा...
Tag :
  September 7, 2017, 8:27 pm
धरती ने ली फिर अंगराई, नयी जवानी वापस आई|गुस्सा, बादल का भाया,सुख दुःख दोनों ही शामिल पर स्वागत! सावन आया| स्वागत! सावन आया||किसी की चाहत जम के बरसो, प्यारी बरखा रानी|परदेशी बालम आते ही जाने की जिद ठानी|इसी बहाने रुके वो शायद, सोच सोच शरमाई,झुकी पलक में छुपे प्यार ने साजन को...
मनोरमा...
Tag :
  September 7, 2017, 8:24 pm
उजला तन हैदूषित मन हैमीठा रिश्ताएक सपन हैप्रायः छूटेजो परिजन हैउलझा उलझाहर जीवन हैकितनों के छतखुला गगन हैखाता है परवो जनधन है आने वालाकाला धन हैहे भारत माँतुझे नमन हैजोड़े सबकोसदा सुमन है ...
मनोरमा...
Tag :
  September 7, 2017, 8:21 pm
ऐ जमीन खोदनेवाले!अपनी औकात में ऱहो,सरकार की सुनो,अपनी कुछ मत कहो,तुम्हारे बिरादरीवालों ने,आत्महत्या करके,नरमुण्ड इकट्ठा किया,और सरकार के खिलाफ,एक अलख जगायी है,उसका अंजाम देख लो,कितनों ने सरेआम,सरकारी गोली खायी है|...
मनोरमा...
Tag :
  September 7, 2017, 8:12 pm
शब्द सुमन को चुन चुन करके प्रीत सजाते हैंसच कहता कि मन - वीणा से गीत सुनाते हैंप्यार भले व्यापार किसी  का अपनी खातिर पूजा हैप्यार के बाहर इस जीवन का अर्थ भला क्या दूजा हैआस पास में इसीलिए नित मीत बनाते हैंसच कहता कि ---------जिसे सफल होना जीवन में प्यार जीत की सीढ़ी हैखुले द...
मनोरमा...
Tag :
  September 7, 2017, 8:06 pm
उनसे मिलने की जो चाहत, वो अधूरी रह गयीफिर करूँ किससे शिकायत, वो अधूरी रह गयीपहले रोटी और कपड़े, इक मकां भी चाहिएबाद इसके ही मुहब्बत, वो अधूरी रह गयीचाल दुनिया की अलग है, ज़िन्दगी की चाल सेअपनी चाहत फिर भी जन्नत, वो अधूरी रह गयीज़िन्दगी से प्यार लेकिन मौत से डरता नहींहै कह...
मनोरमा...
Tag :
  September 7, 2017, 8:03 pm
इक दूजे को जोड़ रहे हैंकुछ को लेकिन छोड़ रहे हैंलाख बुझाने पर ना समझेफिर उनसे मुँह मोड़ रहे हैंजीवन में जो प्रेम सुधा रसनिशि दिन उसे निचोड़ रहे हैंकदर नहीं रिश्तों की जिनकोरिश्ता, उनसे तोड़ रहे हैंजो चूके, फिर वही सुमन सेमाथा अपना फोड़ रहे हैं...
मनोरमा...
Tag :
  June 3, 2017, 12:57 pm
झूठ शामिल कर सका ना आजतक किरदार मेंप्यार महसूसा जहाँ, धोखा मिला उस प्यार मेंआँख मिलते, मुस्कुराने का चलन बढ़ता गयाकौन अपना,  खोज पाना, है कठिन संसार मेंऔरतों के जिस्म का व्यापार सदियों से हुआ जिस्म बिकते मर्द के भी आजकल बाजार मेंक्या विरासत छोड़ना है कल की खातिर सोचन...
मनोरमा...
Tag :
  May 19, 2017, 3:10 pm
अगर हो पल पल का सम्मान,तो बनता जीवन इक वरदान।करो फिर चाहे लाख बखान,रहेगी बात अधूरी। कभी होगी ना पूरी।।मिले रस्ते में शायद फूल,जहाँ अक्सर मिलते हैं धूल।सदा मौसम किसका अनुकूल,मगर संघर्ष करे इन्सान।रहेगी बात अधूरी। कभी होगी ना पूरी।।कहीं पर चाँद, कहीं पर रवि,बनो श्रोता, ...
मनोरमा...
Tag :
  May 14, 2017, 7:17 am
सबके प्रश्न समान मुसाफिरक्या होते भगवान मुसाफिरबिनु अनुभव के बाँट रहे सबइक दूजे को ज्ञान मुसाफिरजब संकट में जान मुसाफिर लुप्त वहाँ सब ज्ञान मुसाफिरजाने अनजाने सब कहतेबचा मुझे भगवान मुसाफिररखो सभी का ध्यान मुसाफिरकरना सबका मान मुसाफिरकौन जानता बुरे वक्त मेंकौन ब...
मनोरमा...
Tag :
  May 14, 2017, 7:07 am
नई नई तकनीक से, बढ़े देश का मान।बाँट रहे सब मुफ्त में, WhatsApp पर ज्ञान।।पढ़कर भी संदेश को, मिला न कोई Taste।सभी भेजने में लगे, करके Copy, Paste।।WhatsApp खोला जहाँ, Photo की भरमार।व्यर्थ कई शुभकामना, पढ़ने को लाचार।।डरते, Mobile कहीं, हो जाए ना जाम।कर Delet, Photo सदा, Regular तेरा काम।।WhatsApp के Group में, देखा रोज विव...
मनोरमा...
Tag :
  April 30, 2017, 5:27 pm
कहीं रुकना, कहीं झुकना, कहीं पर मुस्कुराना तुमअगर जीना, सलीके से,  तरीका आजमाना तुमभला कैसे ये मुमकिन है, गलत मैं हो नहीं सकतामिले गलती अगर खुद की, जरा खुद को सुनाना तुमगगन भी झुक रहा देखो, भले वो दूर जितना भीबना किरदार यूँ अपना, गगन को फिर  झुकाना तुमवही टूटेगा तूफां म...
मनोरमा...
Tag :
  April 30, 2017, 5:26 pm
श्रद्धा से घर घर में गाते, सब तेरे  यशगान।तुम्हारा त्याग और बलिदान, नहीं भूलेगा हिन्दुस्तान।।देश की माटी खातिर तू ने, अपना सब कुछ लुटा दिया।और वक्त आया तो लड़के, दुश्मन को भी झुका दिया।इसीलिए पग पग पर पूजित, तेरे अमर निशान।नहीं भूलेगा हिन्दुस्तान।।सबने देखा आजादी क...
मनोरमा...
Tag :
  April 30, 2017, 5:24 pm
टूटा घर हैनंगा सर हैमगर हौसलाजीवन भर हैदेखा रुख पेजो अन्दर हैस्वजन हाथ मेंअब खंजर हैअपनों से हीलगता डर हैकोमल रिश्ताअब जर्जर हैसुमन बदल तूजो मंजर है...
मनोरमा...
Tag :
  April 30, 2017, 5:22 pm
पैसा, अक्सर पास नहीं हैपर पैसे की प्यास नहीं हैअच्छे दिन के अपने जितनेउनसे भी कुछ आस नहीं हैवे प्रायः रोते हैं जिसकोअपने पर विश्वास नहीं हैपीछे वो रह जाता जिसकोकल का कुछ आभास नहीं हैकहलाता वो बहुत अभागाजिसका कोई खास नहीं हैक्या जीवन जब इक दूजे मेंकोमल सा अहसास नहीं है...
मनोरमा...
Tag :
  April 30, 2017, 5:21 pm
रिश्ते - नाते, अमृत धारा,निभ जाए वो तबतक प्यारा,रिश्ते जब रिसने लग जाए,छा जाता तब तब अंधियारा,ऐसा लगता वो जीवन में,जहर गमों के घोल रहा है।सोच! सुमन क्या बोल रहा है?समय के सँग रिश्ते गढ़ते हैं,इक दूजे को नित पढ़ते हैं,लेकिन कुछ स्वारथ के कारण,भूल प्रेम को, सर चढ़ते हैं,आसपास क...
मनोरमा...
Tag :
  April 30, 2017, 5:20 pm
मिलना उन्हीं से जो मन की जरूरतवो झुकना धरा पे गगन की जरूरतजरा देख रिश्तों में ठंडक बढ़ी हैयारो मुहब्बत में अगन की जरूरतकभी हार मिलती कभी हार मिलताअगर जीतना है तो सपन की जरूरतअपने गमों को क्या गिनना, गिनानाचाहत खुशी की तो जतन की जरूरतसुमन बात कहना मुश्किल है सारीहोती न...
मनोरमा...
Tag :
  April 30, 2017, 5:14 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3709) कुल पोस्ट (171447)