Hamarivani.com

ज़िन्दगी की आरज़ू

दरिया-ए-मोहब्बत में जो कश्ती को उतारोगेसच कहता हूँ मेरे दोस्त बहुत पछताओगेकिसी को जो जब अपने दिल से लगाओगेसच कहता हूँ मेरे दोस्त बहुत पछताओगेजिसके नाम से ज़िन्दा है तुम्हारी दुनियाँउसी को तुम अपने से दूर बहुत पाओगेमसलके-इश्क़ के झंडाबरदारों को तुम 'सलीम'अपने मसलक के...
ज़िन्दगी की आरज़ू...
Tag :
  May 10, 2012, 11:57 pm
कोई शिकवा ना करूँगा लोगोंवो आये या ना आये,कोई गिला ना करूँगा लोगोंवो आये या ना आये. वक़्त के साथ ये इहलाम हुआ अपने वो थे, हैं या पराये.तनहाइयों में तो चले आते हैं उनसे कह दो मेरी महफ़िलों में आ जाएँ.उनके एहसान से दबा हूँ मैंएहसानों से अब वो ना दबाये.ज़िश्त की रौशनी में खो ...
ज़िन्दगी की आरज़ू...
Tag :शिकवा
  May 3, 2012, 9:39 pm
दर्द उसने दिया मुझे फ़स्ल-ए-बहार मेंचैन उसने ले लिया मेरे एक क़रार मेंमेरे दम से अब तो ये क़ायनात हैशब्-ओ-माहताब हैं अख्तियार मेंजुदाई का मज़ा भी क्या अजीब हैऐसा मज़ा कहाँ विसाल-ए-यार मेंआओ एक बार और आ जाओदेखें क्या बचा अब हुस्न यार मेंजीस्त की स्याह मेरी दास्तान में ...
ज़िन्दगी की आरज़ू...
Tag :
  March 2, 2012, 5:03 pm
वक़्त बेपरवाह है वक़्त के साथ चलोकोई क़िस्सा न बनो खुद में हालात बनोवक़्त के साथ चलो.बज़्म में शोर नहीं दिल पे कोई ज़ोर नहींअपना कोई ठौर नहींवक़्त के साथ चलो.नक़ाब-दर-नक़ाब है वोफ़िर भी एक ख़्वाब है वो जाने कैसा जनाब है वो वक़्त के साथ चलो.इक ज़रा हाथ बढ़ादो क़...
ज़िन्दगी की आरज़ू...
Tag :मैं एक अदना सा 'सलीम'
  January 31, 2012, 12:58 pm
वक़्तरुकतानहींपलभरकेलिएकौनआताहैयहाँइसदर केलिएउसकोआयानगयामुझसेबुलायानगयाकौनरखताहैभरमइससरकेलिएआंसुओंऔरअंधेरोंमेंअबरहताहैजानेक्यूँदिलउदासअबरहताहैजानेक्यूँहैख़लाबेख़बरकेलिएमेरीबस्तीमेंऐसासूनापनउसकीमहफ़िलऐसाहंगामाइतनाफ़र्क़रिश्ताअन्दरहैलि...
ज़िन्दगी की आरज़ू...
Tag :वक़्त
  January 19, 2012, 6:16 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3694) कुल पोस्ट (169775)