Hamarivani.com

दिशा

जिस युग में तुलसीदास जी का जन्म हुआ था उस युग में धर्म, समाज, राजनीति आदि क्षेत्रों में पारस्परिक विभेद और वैमनस्य का बोलबाला था। धर्म के क्षेत्र में एक ओर हिंदू-मुस्लिम तथा दूसरी ओर शैव-शाक्त, वैष्णव मतों में आपसी ईर्ष्या-द्वेष बढ़ता जा रहा था। हिन्दू समाज अवर्ण-सवर्ण क...
दिशा...
Tag :
  May 15, 2016, 7:55 pm
भूल न पाएँगे ए यारों, यूँ हम तुमकोहै यकीं तुम भी, न भुला पाओगे हमकोजब-जब यादों का, हंसी कांरवाँ गुजरेगाहर एक मंजर तब, फिर से जी उठेगाचेहरे की मुसकान सब, राज़ खोल देगीहम सबके दिलों के, तार छेड़ देगीवो मस्ती के पलछिन, वो गुज़रा जमानाहम रखेंगे याद, और तुम भी न भूल जाना    ...
दिशा...
Tag :
  July 31, 2014, 3:47 pm
मन के बंद दरवाजों परआज फिर दस्तक हुई हैगम की अंधेरी रात बीतीखुशियों की सुबह हुई हैजहाँ शब्द मौन हुए थेवहाँ अब हलचल हुई हैनाउम्मीदी का डेरा हटाएक नई पहल हुई है...
दिशा...
Tag :
  May 31, 2014, 9:40 am
खुद को सौभाग्यशाली मानती हूँ कि मेरे माता पिता एक शिक्षक हैं और मैं उनकी पुत्री । छोटेपन में जब कभी भी हम मोहल्ले में सहेलियों के घर जाया करते थे या कभी बाज़ार में कोई अनजाना मिल जाता था तो अक्सर उनसे ऐसे पहचान होती थी हमारी- "अरे ये गुरुजी की बिटिया है ।"बात-बात में पता चलत...
दिशा...
Tag :
  January 31, 2014, 9:22 pm
एक सपना हुआ है पूराजो कब से था अधूराआज मेरे अल्फाज़ों को एक नाम मिल गयावर्षों पहले हुए आगाज़ को अंजाम मिल गयाअब तो यह सिलसिला चलता ही रहेगामंजिल की तरफ़ कारवाँ बढ़ता ही चलेगाकुछ और नई कोंपलें फूटेंगी, मस्तिष्क की जमीं परले कल्पनाओं की उड़ानें, पहुँचेंगी दूर, कहीं क्षितिज प...
दिशा...
Tag :
  November 16, 2013, 4:34 pm
सुडौल बनावट अक्षरों की,वैज्ञानिकता से जो भरी ।ब्राह्‌मीलिपि से है जन्मी,हिन्दी की लिपि देवनागरी ॥सहज, सरल और सुंदर,शब्दों का अथाह समुंदर ।खींचे शब्दों के चित्रहिन्दी भाषा है विचित्ररस, छंद, या अलंकारसाहित्य में इनकी भरमारभावनाओं का ज्वार-भाटाप्रकट करे हिन्दी भाषा...
दिशा...
Tag :
  September 15, 2013, 1:24 pm
कश्मीर हो या कन्याकुमारीसभी जगह ले जाती रेलहिंदू-मुस्लिम, सिख-ईसाईसभी धर्मों का करती मेलबच्चा बूढ़ा और जवानकोई ज़मींदार कोई किसानकरते हैं सब इसकी सवारीसबको प्यारी रेल हमारीरेल से सबकी दोस्ती हैयही देश को जोड़ती हैइसमें सफ़र करे हिंदुस्तानरेल हमारे देश की शान...
दिशा...
Tag :
  September 2, 2013, 7:49 pm
दोस्तों कुछ लोग होते हैं बड़े ही विचित्रहर शुक्रवार को बदले सिनेमाहॉल में जैसे चलचित्रइसी कारण तो सभी कहें इनको बरसाती मेढकआते ही मुसीबतों की वर्षा करते दोस्तों संग बैठकअक्सर ये सच्ची दोस्ती का राग अलापते हैंइसी के नाम पर अपना काम निकालते हैंरंग बदलना इनकी फितरत म...
दिशा...
Tag :
  August 22, 2013, 11:23 pm
इस धागे में बँधा है प्यार अपारबहन की भाई के लिए दुआएँ हज़ारअपनों के लिए सुरक्षा का विश्‍वासहमेशा करीब बने रहने का अहसासयह डोर सुदूर भी दिल के तारों को जोड़ देती हैहमारी ज़िन्दगी में दूरियों को पाट नित नए मोड़ देती हैखोल देती है भावनाओं के बंद द्‍वारहटाए उपजी हुई द्‍व...
दिशा...
Tag :
  August 22, 2013, 4:57 pm
पलखों के बंद झरोखों सेबहुत से ख़्वाब देखे थे मैंनेआकाश पर टिमटिमाते अनगिनततारों की तरह सुनहरे, सुंदर,रुपहले, झिलमिलाते ख़्वाबइस डर से कभी न उठाई पलखेंकहीं माँग न ले कोई इनका हिसाबघुटने की आदत हो गई है इन ख़्वाबों कोअब ये नहीं पुकारतेलेकिन ये भी सच है कि अपनी खामोशियो...
दिशा...
Tag :
  July 21, 2013, 12:22 pm
बदलाव की बयार भली लग रही हैजो न थे तैयार उन्हें खल रही हैअक्सर भूल जाते हैं पायदानों पर चढ़ने वालेतरक्की की पहली सीढ़ी नीचे से ही चढ़ी हैबोए थे जो बीज कभी एक उम्र पहलेउसकी फसल आज पक कर  खड़ी हैहो रहे हैं पस्त अब हौंसले दुश्मनों केउम्मीद की किरण ए दिशा दिख रही है...
दिशा...
Tag :
  July 20, 2013, 7:45 pm
देर ही से सही हर एक ख्वाब सच होता हैसच ही तो है कर्मों का हिसाब यहीं होता हैयूँ तो ग़मों के दौर में कई बार एतबार टूटा मेराये अब जाना इंतजार का फल भी मीठा होता हैकोई कितना ही समझे कि वो खुदा हो गया हैए दिशा सबके चेहरे का नकाब यहीं हटता है...
दिशा...
Tag :
  July 18, 2013, 5:06 pm
काश ये नांदा समझ पाते इन इशारों कोहमने गिरते देखा है कितनी ही बुलंद मीनारों कोआज जो जर्रा है कल फलक पर पहुँच सकता हैआसमान पर चमकते चाँद को भी ग्रहण लग सकता हैवक्‍त का ऊँट कहो कब इक करवट बैठा हैबिन पेंदी का लोटा है कहीं भी लुढ़क सकता हैसमझो इन हवाओं के रुख को ए नासमझोघमंड ...
दिशा...
Tag :
  June 30, 2013, 9:45 am
सीना फटा आकाश काया धरती ने करवट ली हैए दोस्तों समझो इसकोये प्रकृति ने दस्तक दी हैखिलौने के जैसे खेलते हैं हमजब तब इन प्राकृतिक उपादानों सेतंग आ गई है अब कुदरत भीहम धूर्त, कपटी और नादानों सेकब तलक चुप बैठे, सिसकेऔर तड़पती रहे अपने हाल पेचाख हृदय लेकर झपटी तोग्रास बन गए ह...
दिशा...
Tag :कविता
  June 20, 2013, 6:09 pm
सघन वन और घटा घनघोरनभ पे छाई लालिमा चहुँ ओरपर्वतों से नदियाँ निकलतीडालियों पर कलियाँ खिलतीदेखकर सब दंग हैंये सब पर्यावरण के अंग हैंपंछियों का डेरा चमन मेंसौंधी सुगंध बसे पवन मेंबादलों से गिरता पानीकहता कुदरत की कहानीफूलों के जितने रंग हैंये सब पर्यावरण के अंग हैंय...
दिशा...
Tag :कविता
  June 4, 2013, 10:56 pm
तंत्र मंत्र के चक्‍कर सेअभी तक हम न निकल पाएदेखो हमारे मदारी नेताघूमते हैं गणतंत्र का झुनझुना बजाएजो स्वयं न समझ पाए कभीइस तंत्र का सही मतलबवही आज सरेआम फिरते हैंवतन परस्ती का तमगा लगाएतो सोच लो ए आम जनताये गणतंत्र है इक ताश का पत्‍तानेता बनकर बैठा जुआरीइस देश की बाज...
दिशा...
Tag :कविता
  January 26, 2013, 7:05 pm
है प्रश्न बहुत गंभीरकर देता है मुझे अधीरदेता है दिन रात दस्तकपूछता है-क्या मैं स्वतंत्र हूँ ?कक्षा में पढ़ाए गए थे जब गणतंत्र के विचारतब शिक्षक ने बताए थे हमारे मौलिक अधिकारइस गणतंत्र में सभी स्वतंत्र हैं कुछ भी कहने के लिएसहमति या विरोध का मत देने के लिएलेकिन आज जब भ...
दिशा...
Tag :कविता
  January 25, 2013, 11:37 am
तन और मन का आपसी संतुलनया फिर आत्मा का परमात्मा से मिलनहैं संदेह और प्रश्न बहुत सेकुछ दूसरों से कुछ स्वयं सेजब पढ़ा, समझा तो जानायह तो है सदियों पुरानाहर युग से, हर परम्परा से इसका नाता हैहिन्दी में योग तो अंग्रेजी में योगा कहलाता हैजिसको जिस रूप में भी भा जाएवह इसे अपन...
दिशा...
Tag :कविता
  January 18, 2013, 6:14 pm
YrÉÉ Wæû rÉWû rÉÉåaÉ?iÉlÉ AÉæU qÉlÉ MüÉ AÉmÉxÉÏ xÉÇiÉÑsÉlÉrÉÉ ÌTüU AÉiqÉÉ MüÉ mÉUqÉÉiqÉÉ xÉå ÍqÉsÉlÉWæÇû xÉÇSåWû AÉæU mÉëzlÉ oÉWÒûiÉ xÉå MÑüNû SÕxÉUÉåÇ xÉå MÑüNû xuÉrÉÇ xÉå eÉoÉ mÉÄRûÉ, xÉqÉfÉÉ iÉÉå eÉÉlÉÉrÉWû iÉÉå Wæû xÉÌSrÉÉåÇ mÉÑUÉlÉÉWûU rÉÑaÉ xÉå, WûU mÉUqmÉUÉ xÉå CxÉMüÉ lÉÉiÉÉ WæûÌWûlSÏ qÉåÇ rÉÉåaÉ iÉÉå AÇaÉëåeÉÏ qÉåÇ rÉÉåaÉÉ MüWûsÉÉiÉÉ WæûÎeÉxÉMüÉå ÎeÉxÉ ÃmÉ qÉåÇ pÉÏ pÉÉ eÉÉLuÉWû CxÉå AmÉlÉå eÉÏuÉlÉ qÉåÇ AmÉlÉÉLiÉlÉ AÉæU qÉlÉ MüÐ zÉÉÇÌiÉ Måü ÍsÉLLMü lÉL rÉÑ...
दिशा...
Tag :कविता
  January 14, 2013, 12:50 pm
qÉÉð, oÉWûlÉ, mÉilÉÏ, oÉåOûÏ AÉæU mÉëåÍqÉMüÉlÉ eÉÉlÉå MæüxÉÉ-MæüxÉÉ ÃmÉ qÉæÇlÉå kÉUÉCxÉMåü MüSqÉÉåÇ iÉsÉå AÎxqÉiÉÉ qÉåUÏ MÑücÉsÉiÉÏ UWûÏÌTüU pÉÏ CxÉ AÉSqÉÏ MüÐ iÉÌoÉrÉiÉ oÉWûsÉiÉÏ lÉWûÏÇMæüxÉå ÎeÉFÆ AoÉ qÉæÇ, MüWûÉå eÉÉFÆ MüWûÉð?Wæû MüÉælÉ eÉaÉWû LåxÉÏ, oÉcÉ mÉÉFÆ eÉWûÉð?WûU iÉUMüÐoÉ qÉæÇlÉå AmÉlÉÉ Måü SåZÉ sÉÏWûÉsÉÉiÉ mÉå qÉåUå MÑüSUiÉ pÉÏ UÉå SÏWæû mÉëpÉÑ iÉÑqÉ oÉiÉÉAÉåå, qÉæÇ YrÉÉ MüWÕðû AoÉ? MüU SÉå iÉÑqÉ pÉxqÉ qÉåUå rÉå ÃmÉ xÉoÉqÉæÇ MÑüNû pÉÏ lÉWûÏÇ ÍxÉTïü LM...
दिशा...
Tag :कविता
  December 30, 2012, 10:37 pm
आत्मा तो तभी मर गई थीजब वो छली गई थीहाँ बचे थे कुछ प्राण शेषतड़पते हुए बचे-खुचे अवशेषहो गए अब वो भी विसर्जितकरके मानव समाज को तिरस्कृतछोड़ कर एक टीस वो गईउठाकर बड़े-बड़े प्रश्न कईनर का नारी से हर रिश्ता झूठा हैतुमने ज़िस्म नहीं आत्मा को लूटा हैसिर्फ एक शरीर ही तो बन कर ...
दिशा...
Tag :कविता
  December 30, 2012, 11:25 am
ExÉ mÉÉU xÉå AÉiÉÏ LMü AÉuÉÉÄeÉ UÉåeÉ fÉMüfÉÉåUiÉÏ Wæû qÉÑfÉålÉ eÉÉlÉå ÌMüiÉlÉÏ iÉÉMüiÉ Wæû ExÉqÉåÇ AÇSU iÉMü iÉÉåÄQûiÉÏ Wæû qÉÑfÉåMüÉåÍzÉzÉåÇ sÉÉZÉ MüUiÉÏ WÕðû qÉaÉUrÉWû mÉWåûsÉÏ lÉWûÏÇ xÉÑsÉfÉiÉÏ WæûmÉëzlÉÉåÇ MüÐ pÉUÏ qÉWûÌTüsÉ qÉåÇqÉÉælÉ MüU SåiÉÏ Wæ rÉWûû qÉÑfÉåAcÉÉlÉMü xÉå AoÉ rÉWû AÉuÉÉÄeÉ eÉÉlÉÏ mÉWûcÉÉlÉÏ sÉaÉlÉå sÉaÉÏ WæûrÉå iÉÉå qÉ×aÉ MüÐ lÉÉÍpÉ qÉåÇ NÒûmÉÏ MüxiÉÔUÏ MüÐ iÉUWû WûÏ WæûWûÉð rÉWû WûqÉÉUÏ AÉiqÉÉ MüÐ AÉuÉÉÄeÉ WæûeÉÉå WûqÉÉUå xÉqÉÏmÉ WûÉ...
दिशा...
Tag :कविता
  November 23, 2012, 7:58 pm
नाज़ुक उँगलियों में देकर कलम की ताकतबढ़ा देते है वो हौंसले हमारेशरीर के रोम-रोम में ज्ञान फूँक करमिटा देते हैं वो अंधकार सारेनिराशा में हैं वो उम्मीद का दियामाटी को दें नित रूप नयामस्तिष्क की खाली तख्ती पर उन्होंनेन जाने कितने ही अक्षर उभारेजीवन की हर नई डगर पर राह ह...
दिशा...
Tag :कविता
  September 6, 2012, 6:21 pm
एक था कालू भालूथा बड़ा ही चालूशैतानी करता थासबसे वो लड़ता थातब जानवरों ने ठानीउसे याद दिलाएँ नानीढूँढ रहे थे मौकाकब मिलके मारें चौकाजल्दी ही वो दिन आयाशिकारी ने जाल बिछायाकालू फँस गया उसमें कुछ नहीं था उसके वश मेंउसने आवाज़ लगाईकोई जान बचाओ भाईचिंकू चूहा बोलातुमने...
दिशा...
Tag :बाल कविता
  August 26, 2012, 5:33 pm
खून से नहीं है जुड़ा लेकिन खून से भी बड़ादोस्ती का रिश्ता ऐसा जो है सबसे खरावक्त आने पर होती हैपहचान अपनों कीदोस्तों से ही तो हैउड़ान सपनों की...
दिशा...
Tag :कविता
  August 25, 2012, 10:19 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3685) कुल पोस्ट (167831)