Hamarivani.com

बदनाम शायर

बहुत दराज़ फ़साना है येइक ज़ख्म बहुत पुराना है येकुछ रोग होते हैं लाइलाज़इक ज़ख्म खा के जाना है येगीत विरह का उम्र भर हीहमको बस अब गाना है येकुछ लोग मिलते हैं किस्मतों सेउस से बिछड़ के जाना है येहै इश्क़ नहीं ये सब के लिए"राज"हमने अब माना है ये...
बदनाम शायर...
Tag :Judaai
  December 24, 2016, 10:26 pm
गर्मी-ए-हसरत-ए-नाकाम से जल जाते हैंहम चरागों की तरह शाम से जल जाते हैंबच निकलते हैं अगर अतीह-ए-सय्याद से हमशोला-ए-आतिश-ए-गुलफाम से जल जाते हैंखुदनुमाई तो नहीं शेवा-ए-अरबाब-ए-वफ़ाजिन को जलना हो वो आराम से जल जाते हैंशमा जिस आग में जलती है नुमाइश क लिएहम उसी आग में गुमनाम से ...
बदनाम शायर...
Tag :poetry
  December 17, 2016, 10:43 pm
ना था कुछ तो खुदा था, कुछ ना होता तो खुदा होताडुबोया मुझ को होने ने, ना होता मैं तो क्या होताहुआ जब गम से यूँ बेहीस तो गम क्या सर के काटने काना होता गरजुदा तन से तो जानूँपर धारा होताहुई मुद्दत के 'ग़ालिब'  मरगया पर याद आता हैवो हर एक बात पे कहना के यूँ होता तो क्या होता    &nbs...
बदनाम शायर...
Tag :Love
  December 16, 2016, 8:06 pm
तुम जाओ हम से दूर तो एक काम कर जानाकुछ पल अपने हमारे नाम कर जानाअगर आ जाए मौत हमें आप क आने से पहलेतो आ कर मेरे जनाज़े का एहतराम कर जानाना रोना इशक़दर कितकलीफ़ हो हमेंमौत को भी मज़ाक़ समझ कर अंजन बन जानामैं एक दिन सो जाऊं गा सदा क लिएफिर मुझे बेवफा कह कर बदनाम कर जानाजो गुज...
बदनाम शायर...
Tag :Judaai
  December 15, 2016, 10:33 pm
मैं एक ढ़लती हुई शाम उसके नाम लिख रहा हूँ।एक प्यार भरे दिल का कत्लेआम लिख रहा हूँ।ता उम्र मैं करता रहा जिस शाम उसका चर्चा,मैं आज उसी शाम को नाकाम लिख रहा हूँ ।सोचा था न जाऊँगा जहाँ उम्र भर कभी भी,उस मैकदे में अब तो हर शाम दिख रहा हूँ ।हाँसिल न हुआ जिसमें बस गम के शिवा कुछ भी,...
बदनाम शायर...
Tag :Love
  December 15, 2016, 6:55 pm
 किसी की आँख में आँसू, कहीं ठहरा हुआ होगायकीनन दर्द का दरिया भी वहीँ सूखा हुआ होगाजमाने की रवायत ने जुदा तुमसे किया मुझकोभरी दुनियाँ लुटी होगी, बड़ा सदमा हुआ होगाधुँधले पड़े होंगे वो 'अक्स'जो कभी दिल में थेवक्त की चोट से आईना-ए-दिल चटका हुआ होगाबना तस्वीर यादों की, लिख...
बदनाम शायर...
Tag :Love
  December 2, 2016, 11:18 pm
कठिन है राह-गुज़र थोड़ी देर साथ चलो।बहुत कड़ा है सफ़र थोड़ी देर साथ चलो।तमाम उम्र कहाँ कोई साथ देता हैये जानता हूँ मगर थोड़ी दूर साथ चलो।नशे में चूर हूँ मैं भी तुम्हें भी होश नहींबड़ा मज़ा हो अगर थोड़ी दूर साथ चलो।ये एक शब की मुलाक़ात भी गनीमत हैकिसे है कल की ख़बर थोड़ी...
बदनाम शायर...
Tag :hindi
  November 29, 2016, 10:40 pm
छोटी सी ज़िंदगी हैहर बात में खुश रहो जो चेहरा पास ना होउसकी आवाज में खुश रहो कोई रूठा हो तुमसेउसके इस अन्दाज में खुश रहो जो लौट कर नहीं आने वालेउन लम्हों की याद में खुश रहो कल किसने देखा हैअपने आज में खुश रहो खुशियों का इन्तजार किस लिएदूसरों की मुस्कान में खुश रहो क्यों ...
बदनाम शायर...
Tag :hindi
  November 27, 2016, 7:59 pm
 देखा पलट के उस ने के हसरत उसे भी थीहम जिस पर मिट गए थे मुहब्बत उसे भी थीचुप हो गया था देख कर वो भी इधर उधरदुनिया से मेरी तरह शिकायत उसे भी थी ये सोच कर अंधेरे मे गले से लगा लिया रातों को जागने की आदत उसे भी थीवो रो दिया मुझ को परेशान देख कर उस दिन पता लगा के मेरी ज़रूरत उसे भी...
बदनाम शायर...
Tag :Love
  November 21, 2016, 12:10 am
मार ही डाल मुझे चश्म-ए-अदा से पहलेअपनी मंजिल को पहुँच जाऊँगा कज़ा से पहलेइक नज़र देख लूं आ जाओ कज़ा से पहलेतुम से मिलने की तमन्ना है खुदा से पहलेहश्र के रोज़  मैं पूछूंगा खुदा से पहलेतूने रोका नहीं क्यों मुझको खता से पहलेऐ मेरी मौत ठहर उनको जरा आने देजहर का जाम न दे मुझको दव...
बदनाम शायर...
Tag :poetry
  November 15, 2016, 9:42 pm
तुम  जानो, तुमको  ग़ैर   से  जो  रस्म-ओ-राह  होमझको  भी  पूछते  रहो  तो  क्या  गुनाह  होबचते  नहीं  मुवाखज़:-ए-रोज़े  हश्र  सेकातिल  अगर  रक़ीब  है  तो  तुम  गवाह  होक्या  वो: भी  बेगुनह:  कुश-ओ-हक़  ना  शानस  है?माना  के: तुम  बशर  नहीं,  खुरशीद-ओ-माह  होउभरा  हुआ  निक़ाब  में  है  उनके...
बदनाम शायर...
Tag :
  January 10, 2012, 11:04 pm
मैं  उन्हें  छेड़ूँ  और  कुछ  न  कहेंचल  निकलते, जो मय पिए होतेक़हर हो, या बाला हो, जो कुछ हो काश के तुम मेरे लिए जिए होते!मेरी क़िस्मत में  ग़म  गर इतना था दिल भी या रब, कई  दिए  होते आ ही जाता वो: रह  पर 'ग़ालिब'! कोई   दिन और  भी  जिए  होते                                                 -मिर्ज़ा ...
बदनाम शायर...
Tag :
  December 11, 2011, 12:10 am
बाज़ीचः-ए-अत्फ़ाल  है दुनिया मेरे आगे होता है  शब-ओ-रोज़  तमाशा मेरे आगेइक खेल है औरंगे-ए-सुलेमाँमेरे नज़दीक इक बात है  एजाज़े मसीहामेरे आगे जुज़ नाम, नहीं सूरते आलममुझे मंजूर  जुज़ वहम  नहीं, हस्ति-ए-आशियामेरे आगे होता है निहाँ  गर्द में सहरा, मेरे होतेघिसता है ...
बदनाम शायर...
Tag :
  October 25, 2011, 2:25 am
ज़िक्र  उस  परीवश  का, और  फिर  बयाँ  अपना बन  गया  रक़ीब  आखिर,  था  जो  राज़दाँ  अपना मय  वो:  क्यूँ  बहुत  पीते  बज़्मे  ग़ैर  में  यारब ! आज  ही  हुआ  मंजूर  उन  को  इम्तिहाँ  अपना मंज़र  इक  बुलन्दी  पर  और  हम  बना  सकते अर्श&nb...
बदनाम शायर...
Tag :
  October 11, 2011, 1:30 am
ख़िरद मन्दो  से  क्या पूछूँ कि मेरी इब्तिदा क्या हैकि मैं इस फिक्र में रहता हूँ मेरी इन्तहा क्या हैखुदी को कर बुलंद इतना कि हर तकदीर से पहले  खुदा बन्दे से खुद पूछे बता तेरी रिज़ा क्या हैनज़र आई  मुझे तक़दीर की गहराइयाँ इसमेंन पूछ ऐ हमनशी मुझसे वो चश्मे-सुर्मा-सा क...
बदनाम शायर...
Tag :
  August 14, 2011, 11:48 pm
बे-खुदी  ले  गई  कहाँ  हम  को  देर  से  इंतज़ार  है  अपना  रोते  फिरते  हैं  सारी-सारी  रात  अब  यही  रोज़गार  है  अपना  दे  के  दिल  हम  जो  हो  गए  मजबूर  इसमें  क्या  इख्तियार  है  अपना  कुछ  नहीं  हम  मिसाल-ए-उनका  ले  के...
बदनाम शायर...
Tag :
  July 29, 2011, 2:55 pm
हैराँ  हूँ  दिल  को  रोऊँ,  के:  पीटूँ  जिगर  को  मैंमक़दूर  हो  तो  साथ  रखूँ  नोह: गार  को  मैंछोड़ा  न:  रश्क  ने  के:  तेरे  घर  का  नाम  लूँहर  यक  से  पूछता  हूँ  के:  जाऊँ  किधर  को  मैं ?जाना  पड़ा  रक़ीब  के  दर  पर ...
बदनाम शायर...
Tag :
  July 3, 2011, 4:22 pm
                                           ये:  न:  थी  हमारी  क़िस्मत  के  विसाले  यार  होता अगर  और  जीते  रहते , यही   इंतज़ार  होता तेरे  वादे  पर  जिए  हम , तो  ये:,  जान  झूठ  जाना के  ख़...
बदनाम शायर...
Tag :
  June 29, 2011, 1:51 am
अजब  नशात  से, जल्लाद के चले  हैं  हम आगेके: अपने साये से सर, पाँव से है दो कदम आगेकज़ा  ने  था  मुझे  चाहा  ख़राबे  बादः-ए-उल्फ़तफ़क़त  'ख़राब' लिखा, बस नः चल सका कलम आगे ग़मे  ज़मानःने  झाड़ी नाश्ते  इश्क़  की मस्तीवगर्न: हम भी उठाते थे लज्ज़ते  अलम ...
बदनाम शायर...
Tag :
  June 4, 2011, 2:23 pm
हुई ताखीर, तो कुछ बाइसे ताखीर भी था आप आते थे, मगर कोई इनाँगीर भी था तुमसे बेजा है मुझे अपनी तबाही का गिला उससे कुछ शाइब-ए-खूबी-ए-तकदीर भी था तू मुझे भूल गया हो तो पता बतला दूं कभी फ़ितराक में तेरे कोई नख्चीर भी था ?कैद में है तेरे वहशी की वोही जुल्फ की यादहाँ कुछ इक रंजे गराँ ...
बदनाम शायर...
Tag :
  May 22, 2011, 11:25 pm
                                                                              वो  कहती  है  सुनो  जानममोहब्बत  मोम का  घर  है तपिश ये बदगुमानी  की कहीं  पिघला  न  दे  इस कोमैं  कहता  हूँजिस  दिल  मैं  ज़रा  भी   बदगुमा...
बदनाम शायर...
Tag :
  May 16, 2011, 11:52 pm
ये तो नहीं कि ग़म नहींहाँ! मेरी आँख नम नहीं तुम भी तो तुम नहीं हो आज हम भी तो आज हम नहीं अब न खुशी की है खुशीग़म भी अब तो ग़म नहीं मेरी नशिस्त है ज़मीं खुल्द नहीं इरम नहीं क़ीमत-ए-हुस्न दो जहाँ कोई बड़ी रक़म नहीं लेते हैं मोल दो जहाँ दाम नहीं दिरम नहींसोम-ओ-सलात से फ़िराक़ मे...
बदनाम शायर...
Tag :
  May 14, 2011, 6:23 pm
दोस्त अहबाब की नज़रों में बुरा हो गया मैं वक़्त की बात है क्या होना था क्या हो गया मैं दिल के दरवाज़े को वा रखने की आदत थी मुझे याद आता नहीं कब किससे जुदा हो गया मैं कैसे तू सुनता बड़ा शोर था सन्नाटों का दूर से आती हुई ऐसी सदा हो गया मैं क्या सबब इसका था, मैं खुद भी नहीं जानत...
बदनाम शायर...
Tag :
  May 14, 2011, 3:34 pm
मुझसे  पहली  सी   मोहब्बत  मेरे  महबूब   न  मांग मैंने  समझा  था  के  तू   है  तो  दरख्शां  है  हय्यात तेरा  ग़म   है  तो  शाम -ए-दहर  का  झगड़ा क्या  हैतेरी  सूरत  से  है  आलम  में  बहारों  को  सबात तेरी  आँखों  के  सिवा दुनिया म...
बदनाम शायर...
Tag :
  May 10, 2011, 12:00 am
हुस्न भी था उदास,उदास ,शाम भी थी धुआं-धुआं  ,याद सी आके रह गयी दिल को कई कहानियां |छेड़ के दास्तान-ए-गम अहले वतन के दरमियाँ ,हम अभी बीच में थे और बदल गई ज़बां |सरहद-ए-ग़ैब तक तुझे साफ मिलेंगे नक्श-ए-पा ,पूछना यह फिरा हूं मैं तेरे लिए कहां- कहां |रंग जमा के उठ गई कितने तमददुनो की ब...
बदनाम शायर...
Tag :
  March 26, 2011, 1:22 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163572)