Hamarivani.com

मुसाफ़िर हूँ यारों

इन पुस्तकों का परिचय यह है कि इन्हें जिम कार्बेट ने लिखा है। और जिम कार्बेट का परिचय देने की अक्ल मुझमें नहीं। उनकी तारीफ करने में मैं असमर्थ हूँ क्योंकि मुझे लगता है कि उनकी तारीफ करने में कहीं कोई भूल-चूक न हो जाए। जो भी शब्द उनके लिये प्रयुक्त करूंगा, वे अपर्याप्त हो...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  May 1, 2018, 5:00 am
इस यात्रा की किताब ‘हमसफ़र एवरेस्ट’हमारे भारत में प्रवेश करते ही समाप्त हो जाती है। इसके बाद क्या हुआ, आज आपको बताते हैं।इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें।4 जून 2016तो सीमा पार कर लेने के बाद फरेंदा की तरफ़ दौड़ लगा दी, जो यहाँ से 50 किलोमीटर दूर है। सड़क अच...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  April 26, 2018, 5:00 am
इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें।3 जून 2016हम धीरे से नेपाल के द्वार से बाहर निकल गये। ‘नो मैंन्स लैंड़’ में पहुँचे और उतने ही धीरे से भारतीय द्वार में प्रवेश कर गये। किसी ने हमारी तरफ़ देखा तक नहीं। नेपाली बाइक भारत में और भारतीय बाइक नेपाल में दिनभर आ...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  April 23, 2018, 5:00 am
इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें।1 जून 2016“रास्ते में एक विदेशी और एक भारतीय ट्रैकर मिले। भारतीय का नाम शायद साहिल था और वह नोएड़ा का रहने वाला था। ये दोनों एवरेस्ट मैराथन में भाग लेकर लौट रहे थे। इन्हें वैसे तो लुकला से फ्लाइट से काठमांडू जाना था, ले...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  April 19, 2018, 5:00 am
इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें।30 मई 2016“‘मैं भी भारतीय हूँ, लद्दाख से’ यह सुनते ही जो खुशी हुई, उसे बयाँ नहीं कर सकता। एक ही साँस में मैंने उस पर कई प्रश्न उडेल डाले। वह भारतीय सेना के एवरेस्ट अभियान का एक हिस्सा था। उसने कल मैराथन में भाग भी लिया था...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  April 16, 2018, 5:00 am
इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें।29 मई 2016“यह ठीक है कि यहाँ सारा सामान खच्चरों पर या याकों पर या इंसानों की पीठ पर बड़ी दूर से ढोया जाता है। सामान पहुँचने में कई-कई दिन लग जाते हैं। लेकिन खाने की चीजें कई साल पहले एक्सपायर हो चुकी होती हैं। ज्यादातर वि...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  April 12, 2018, 5:00 am
इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें।28 मई 2016“हम मानसिक और शारीरिक रूप से इतने थक चुके थे कि 5500 मीटर चढ़ने के लिये - अपना एक रिकार्ड़ बनाने के लिये - हम काला पत्थर नहीं जाने वाले थे। यदि मौसम साफ़ होता, तो एवरेस्ट देखने के लालच में जा भी सकते थे, लेकिन ऊँचाई के ल...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  April 9, 2018, 5:00 am
इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें।27 मई 2016“या तो गंगोत्री के पास तपोवन के बराबर में शिवलिंग चोटी ने मुझे इतना सम्मोहित किया था, या फिर आज आमा डबलम ने किया। ये आगे-पीछे दो चोटियाँ हैं। आगे वाली कुछ छोटी है और पीछे वाली ज्यादा ऊँची है। ऐसा लगता कि आमा ने -...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  April 5, 2018, 5:00 am
इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें।26 मई 2016आज का दिन हमारी इस यात्रा का सबसे मुश्किल दिन रहा। बर्फ़बारी के बीच ख़राब मौसम में 5320 मीटर ऊँचा चो-ला दर्रा पार करना आसान नहीं रहा। रही-सही कसर इसके उस तरफ ग्लेशियर ने पूरी कर दी।“बर्फ़ होने के बावज़ूद भी हमें रास्...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  April 2, 2018, 5:00 am
इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें।25 मई 2016“आज पिज़्ज़ा खाने का मन किया। दो पनीर पिज़्ज़ा मँगा लिये। लेकिन इन्हें किस तरह हलक से नीचे उतारा, बस हम ही जानते हैं। इस पिज़्ज़ा का जो एक फोटो हमने खींचा था, उसे अब भी यदि देख लेते हैं तो दिनभर मन ख़राब रहता है। असल मे...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  March 29, 2018, 5:00 am
इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें।24 मई 2016“आज हमारा इरादा गोक्यो-री जाने का था। ‘री’ का अर्थ होता है चोटी। गोक्यो के पास 5300 मीटर से ऊँची एक चोटी है, इसे ही गोक्यो-री कहा जाता है। इस पर चढ़ना आसान है, हालाँकि अत्यधिक ऊँचाई का असर तो पड़ता ही है। दीप्ति ने पह...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  March 26, 2018, 5:00 am
इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें।23 मई 2016आज हम धरती के सबसे खूबसूरत स्थानों में से एक पर थे - गोक्यो झील पर। “हिमालय में 4000 मीटर से ऊपर वाली सभी झीलें बेहद खूबसूरत होती हैं। मुझे ऐसी झीलें बहुत आकर्षित करती हैं। फिर गोक्यो में तो पाँच झीलें हैं।”“अपन...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  March 22, 2018, 5:00 am
इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें।22 मई 2016“याकों के बारे में मैंने कहीं पढ़ा था कि ये आक्रामक होते हैं और इन्हें कभी भी पूरा पालतू नहीं बनाया जा सकता। बस, तभी से इनसे डर लगने लगा था। लेकिन ये याक भी हमारी ही तरह थे। शायद इन्होंने भी कहीं भूलचूक से पढ़ लिय...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  March 19, 2018, 5:00 am
इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें।21 मई 2016और अचानक निर्णय लिया कि हम पहले बेसकैंप नहीं जायेंगे, बल्कि गोक्यो झील जायेंगे। “अगर आपको पैसों की कुछ भी चिंता नहीं है, तो नामचे आपके लिये बेहद शानदार स्थान है। आलीशान होटल हैं, पूर्णरूप से घुमक्कड़ी वाला मा...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  March 15, 2018, 5:00 am
इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें।20 मई 2016“आज हम इस ट्रैक पर पहली बार 3000 मीटर से ऊपर आये हैं। हालाँकि कुछ दिन पहले ताकशिंदो-ला से 3000 मीटर से ट्रैकिंग आरंभ की थी, लेकिन आज तक इससे नीचे ही रहे। 3000 मीटर का एक मनोवैज्ञानिक प्रभाव भी पड़ता है - अब हम ‘हाई एल्टीट...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  March 12, 2018, 5:00 am
इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें।19 मई 2016आज का दिन हमारे लिये भावनात्मक रूप से बड़ा मुश्किल रहा। हमारे साथी कोठारी जी ने वापस जाने का निर्णय लिया। एक बार तो हम भी उनके साथ ही वापस चल देने का मन बना चुके थे।“अक्सर वापस लौटने का भी कई बार मन कर जाता था, ले...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  March 8, 2018, 5:00 am
मुझे नहीं पता कि आप गूगल मैप का कितना इस्तेमाल करते हैं, लेकिन मैं बहुत ज्यादा करता हूँ। मैं इस पर इतना आश्रित हूँ कि अगर मुझे किसी यात्रा में इसकी सहायता न मिले, तो आँखों के सामने अंधेरा छा जाता है और कुछ भी नहीं सूझता। लेकिन मैं यात्राओं के दौरान गूगल मैप का इस्तेमाल कर...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  March 5, 2018, 6:53 am
इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें।18 मई 2016“हम नकारात्मक ऊर्जा से भरे थे। कभी-कभार मन में आता कि वापस चलो। क्या करेंगे बेस कैंप जाकर? हर चोटी का एक बेस कैंप होता है। हमारे यहाँ कंचनजंघा का भी बेस कैंप है, नंदादेवी का भी है, बाकियों का भी है, जहाँ नियमित ट...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  March 1, 2018, 5:00 am
इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें।17 मई 2016“पता नहीं बंदा किस मिट्टी का बना था, आपे से बाहर हो गया - “आपको यहाँ कोई दिक्कत है, तो दूसरे होटल में चले जाईये।” इसके बाद कोठारी जी और उसमें बहस होने लगी। मैंने बीच-बचाव किया - “भाई देख, हम ग्राहक हैं। हमें कोई अस...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  February 26, 2018, 5:00 am
इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें।16 मई 2016“140 रुपये की दो कप चाय और 250 रुपये का एक आमलेट मिला। यह इस ट्रैक की शुरूआत है। अभी इतनी महंगाई है, तो आगे और भी ज्यादा महंगाई मिलने वाली है। वैसे तो हमारे पास पर्याप्त पैसे थे, लेकिन फिर भी हम रोज के ख़र्चे और बाकी ब...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  February 22, 2018, 5:00 am
इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें।12 मई 2016इस पूरी यात्रा पर आधारित किताब ‘हमसफ़र एवरेस्ट’में आपने पढ़ ही लिया होगा कि आज हम परासी से चलकर शाम होने तक काठमांडू पहुँच गये थे और दिल्ली के एक मित्र की बदौलत ठमेल में अच्छे होटल में रुके थे। रास्ते में नाराय...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  February 8, 2018, 5:00 am
यह यात्रा मई 2016 में की गयी थी और इसे अभी तक ब्लॉग पर प्रकाशित नहीं किया गया था। योजना थी कि पहले इसकी किताब प्रकाशित होगी, उसके बाद ब्लॉग पर। आप जानते ही हैं कि इस यात्रा की किताब ‘हमसफ़र एवरेस्ट’नवंबर 2017 में प्रकाशित हो चुकी है। इस पूरी किताब के एक-एक शब्द को अब ब्लॉग में ल...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :Hard
  February 5, 2018, 5:00 am
इस यात्रा का विचार कहाँ से आया?पता नी। लेकिन मुझे बर्फ़ अच्छी तो लगती है, डर भी लगता है। यार लोग चादर ट्रैक, केदारकांठा ट्रैक इत्यादि के बर्फ़ीले फोटो शेयर करते तो आह-सी निकलती। फिर जल्द ही अपनी ‘कैपेसिटी’ भी पता पड़ जाती। “हमारे बस की ना है।” और इस प्रकार बर्फ़ीले ट्रैक बर्...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  January 31, 2018, 5:00 am
इस यात्रा-वृत्तांत को आरंभ से पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें।27 सितंबर 2017नेलांग घाटी के इतिहास के बारे में पिछली पोस्टमें बताया जा चुका है। आज हम अपना यात्रा-वृत्तांत और कुछ फोटो दिखायेंगे।जब हम गरतांग गली देख चुके तो उत्सुकता थी नेलांग घाटी में जाने की। वैसे तो पिछले दो-...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  January 22, 2018, 5:00 am
इस पूरी जानकारी का श्रेय जाता है तिलक सोनीजी को। तिलक जी उत्तरकाशी में रहते हैं और एक विशिष्ट कार्य कर रहे हैं। और वह कार्य है नेलांग घाटी को जनमानस के लिये सुगम बनाना। आप अगर कभी गंगोत्री गये होंगे तो आपने भैरोंघाटी का पुल अवश्य पार किया होगा और इस पुल पर खड़े होकर फोटो ...
मुसाफ़िर हूँ यारों...
Tag :
  January 15, 2018, 5:00 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3773) कुल पोस्ट (176912)