Hamarivani.com

Akanksha

 ममता की छाँव मेंपरवान चढ़ पल्लवित होताप्यारा सा भोला सा बचपन माँ के दुलार में खोया रहता   कुंद के पुष्प सा महकता मीठी लोरी सुनता बचपन |प्यार भरी थपकिया पा चुपके सेआँखें मूंदता  सोने का नाटक करता फिर धीरे से अँखियाँ खोलमाँ को बुद्धू बनाता बचपन |मधुर मुस्कानअधरों पर ला ...
Akanksha...
Asha
Tag :
  May 23, 2013, 1:09 pm
एक हथोड़ा व एक बांसुरी एक साथ रहते जीवन कितना गुजर गयायह तक नहीं सोचते  |था हथोड़ा कर्मयोगी महनतकश  पर हट योगी सदा भाव शून्य रहता खुद को बहुत समझता |थी बांसुरी स्वप्न सुन्दरी कौमलांगिनी भावों से भरी मदिर मुस्कान बिखेरती स्वप्नों में खोई रहती |जब भी ठकठक सुनती तंद्रा उ...
Akanksha...
Asha
Tag :
  May 20, 2013, 11:44 am
प्यारे प्यारे कुछ पखेरू चहकते फिरते वन में पीले हरे  से अलग दीखते पेड़ों के झुरमुट में एक विशेषता देखी उनमें कभी न दीखते शहरों में |वर्षा ऋतु आने के पहिले नर पक्षी तिनके चुनता एक नीड़ बनाने में इतना व्यस्त होता श्रम की अदभुद मिसाल दीखता |उस नीड़ की संरचना  आकर्षित करती...
Akanksha...
Asha
Tag :
  May 17, 2013, 2:59 pm
सृष्टि के अनछुए पहलू उनमें झांकने की जानने की ललक बारम्बार आकृष्ट करती नजदीकिया उससे बढ़तीं वहीं का हो रह जाता आँचल में उसके छिपा रहना चाहता भोर का तारा देख सुबह का भान होता दिन कब कट जाता जान न पाता तारों भरी रात में सब लगते विशिष्ट कहीं जुगनूं चमकते उलूक ध्वनि करत...
Akanksha...
Asha
Tag :
  May 14, 2013, 5:21 pm
 शादी के मौसम मेंव्यस्त सभी बाई रहतींसहन उन्हें करना पड़ताबिना उनके रहना पड़ताउफ यह नखरा बाई काआये दिन होते नागों काचाहे जब धर बैठ जातींनित नए बहाने बनातींयदि वेतन की हो कटौतीटाटा कर चली जातीं लगता है जैसे हम गरजू हैंउनके आश्रय में पल रहे हैंपर कुछ कर नहीं पातेमन मसोस ...
Akanksha...
Asha
Tag :
  May 13, 2013, 4:29 pm
शनेशने बढ़ते जीवन में कई बिम्ब उभरे बिखरे बीती घटनाएं ,नवीन भाव लुका छिपी खेलते मन में बहुत छूटा कुछ ही रहा जिज्ञासा को विराम न मिला  अनवरत पढ़ना लिखना चल रहा था चलता रहा कुछ से प्रशंसा मिली कई निशब्द ही रहे अनजाने में मन उचटा व्यवधान भी आता रहा मानसिक थकान भी जब तब  सत...
Akanksha...
Asha
Tag :
  May 11, 2013, 1:32 pm
खून पसीने से सींचा पालापोसा बड़ा किया जाने कितनी रातें आँखों आँखों में काटीं पर उसे कष्ट न होने दिया पढ़ाया लिखाया सक्षम बनाया जो हो सकता था किया पर रही पालने में कही कमीं बेटी बेटी न रही कितनी बदल गयी जिस पर रश्क होता था कहीं गुम हो गयी जाने कब खून सफेद हुआ संस्कार तक ...
Akanksha...
Asha
Tag :
  May 8, 2013, 11:06 am
एक चिड़िया नन्हीं सी टुवी टुवी करती प्रसंनमना उड़ती फिरती डालियों पर एक से दूसरी पर जाती लेती आनंद झूलने का एकाएक राह भूली झांका खिड़की से भ्रमित चकित कक्ष में आई चारो ओर दृष्टिपात करतीपहले यहाँ वहां बैठी सोच रही  वह कहाँ आ गयी दर्पण देख रुकी टुवी टुवी करती मारी चोंच ...
Akanksha...
Asha
Tag :
  May 6, 2013, 6:57 am
तारों भरे आकाश में ले ज्योत्सना साथ में मयंक चला भ्रमण करने अनंत व्योम के विस्तार में सभी चांदनी में नहाए ज्योतिर्मय हुए क्या पृथ्वी क्या आकाश पर पास के अभयारण्य में यह सब कहाँ धने पेड़ों की टहनियां आपस में बात करतीं आपस की होती सुगबुगाहर विचित्र सी आवाज सेमन में भ...
Akanksha...
Asha
Tag :
  May 4, 2013, 5:21 pm
 सारे पखेरू उड़ गए हुआ घोंसला खाली ठूंठ अकेला रह गया छाई ना हरियाली आँगन सूना देख मेरा मन क्यूं घबराए ना क्यूं गाऊँ मैं गीत मुझे कुछ भी भाए ना सभी व्यस्त अपने अपने में समय का अभाव बताते रहते अपनी दुनिया में उनकी ममता जागे ना मैं अकेली रह गयी अक्षमता का बोध लिए पर डूबी माया ...
Akanksha...
Asha
Tag :
  May 2, 2013, 6:26 pm
जहां देखती हूँ वहीं तुझे पाती हूँ तेरी गूँज सुनाई देती   सृष्टि के कण कण में | ऊंची नीची पगडंडी पर पहाड़ियों से धिरी वादी में बढ़ता कलरव परिंदों का मन हुआ गाने का उनका साथ निभाने का जैसे ही स्वर छेड़ाअपने ही स्वर गूंजे प्रत्यावर्तित हुए |विचारों में खोई आगे बढ़ीएकांत में ...
Akanksha...
Asha
Tag :
  April 30, 2013, 9:15 pm
शाम ढले विचरण करता जा पहुंचा सरिता तट पर वृक्षों की छाँव तलेबहती जल की धारा  था मौसम बड़ा सुहाना मन भी उससे हारा वहीं रुका और बैठ गया जल में पैर डाल अपने अस्ताचल को जाता सूरज  अटखेलियाँ जल से  करता दृश्य ने ऐसा बांधा उठने का मन न हुआ सहसा ठहरी दृष्टि जल में उठता बुलबुल...
Akanksha...
Asha
Tag :
  April 28, 2013, 6:55 am
मैं खोती तो दुःख न होता राह खोज ही लेती मंजिल तक पहुँच मार्ग   बना ही लेती |पर हूँ परेशान इसलिए  कि मेरा सुकून खो गया है अकारण मन बहुत बेचैन हो गया है |अब तो मुस्कुराने पर भी अधिभार लगता है बाहर कदम बढाने पर  परमिट लगता है |यदि भूली कोइ प्रमाणपत्रबहुत शर्म आती है पढ़े लिखे ...
Akanksha...
Asha
Tag :
  April 25, 2013, 9:32 am
 गर्मीं में ये सर्द हवाएं  कितनी अजीब लगतीं बेमौसम की बरसातें जीवन अस्तव्यस्त करती |खेतों में सूखा अनाज था सारा गीला हो गया किसान की चहरे की  खुशी अपने साथ ही निगल गया |बीमारी ने धर दबोचा छोटे बड़े सभी को मौसम में बदलाव रास न आया सब को |जाने क्या है प्रभु की मर्जी शान्ति ...
Akanksha...
Asha
Tag :
  April 23, 2013, 9:54 am
रंगों से खेलता बालक तूलिका ले हाथ में  तन्मय चित्र बनाने में था व्यस्त अपने आप में |आहट से चौंका चेहरे पर सवालिया भाव देख सकुचाया ,शरमाया फिर धीमे से मुस्काया |बिना कुछ कहे अपनी कृति यहीं छोड़ खेलने भाग गया पर उत्सुकता जगा गया |जब देखा क्या बनाया उसने ?बड़ा अद्भुद नजर आय...
Akanksha...
Asha
Tag :
  April 20, 2013, 7:19 am
जिसे जाना था चला गया हो क्यूं उदास इतने छोड़ो सारी बातों को जिनसे दुःख उपजे |वहां जाना अवश्य दुआ भी करना पर आंसूं न बहाना कष्ट उसे ना पहुंचाना |सूक्ष्म रूप धारण किये वह भी तुम्हे निहारता होगा याद भी करता होगा पर तुम्हें बता नहीं सकता |जो यादें वह पीछे छोड़ गया उन्हें जी...
Akanksha...
Asha
Tag :
  April 16, 2013, 9:22 am
है प्रेरित नव विचारों से ना ही बंधा किसी बंधन से  है उद्बोधक सरल सहज नव सोच का उत्साह से परिपूर्ण नव गीत नव विधा में चेतना जागृत करता भाव मधुर मुखरित होते सत्य से पीछे न हटते सद विचारों सेघट भरता जब छलकता बहकताहर तथ्य उजागर करताहै सोच युवा वर्ग का चेतना है जाग्रति...
Akanksha...
Asha
Tag :
  April 13, 2013, 1:47 pm
आप सब को नव वर्ष के शुभ अवसर पर हार्दिक शुभ कामनाएं यहाँ नव वर्ष कैसे मनाया जाता है देखिये :-नव संवत्सर का प्रथम दिवसघर घर सजे दरवाजे साड़ी की गुड़ियों से   शुभ कामनाएं दे रहे परस्पर प्यार से गले मिल कर नौ दिन तक उपवास करते महिमा गाते दुर्गा माँ की जौ,तिल घी लौंग की आहुति द...
Akanksha...
Asha
Tag :
  April 9, 2013, 6:12 pm
अनाज यदि मंहगा हुआ ,तू क्यूं आपा खोय |मंहगाई की मार से बच ना पाया कोय || कोई भी ना देखता , तेरे मन की पीर  |हर वस्तु अब तो लगती ,धनिकों की जागीर ||रूखा सूखा जो मिले ,करले तू स्वीकार |उसमें खोज खुशी अपनी ,प्रभु की मर्जी जान || पकवान की चाह न हो ,ना दे बात को तूल |चीनी भी मंहगी हुई ,उसको ...
Akanksha...
Asha
Tag :
  April 7, 2013, 7:06 am
आँखों की आँखों से बातें ली जज्बातों की सौगातेंकुछ हुई आत्मसातशेष बहीं आसुओं के साथ अश्रु थे खारे जल से साथ  पा कर उनका  हुई नमकीन वे भी यह अनुभव कुछ कटु हुआ वह भाप बन कर उड़ न सका हुई बोझिल तन्हाइयां मलिन मन मस्तिष्क हुआ धीरज कोई न दे पाया कटु सत्य सामने आया कितनी बार क...
Akanksha...
Asha
Tag :
  April 5, 2013, 9:14 am
आज न जाने क्यूँ बाबूजी उदासी धेरे मुझे जैसे ही पलक मूंदता आप समक्ष होतेमेरे आपका हाथ सर पर दे रहा संबल मुझे |हो गया कितना बदलाव पहले में और आज में तब आप अलग से थे जब भी सामना होता था भय आपसे होता  था |पर जाने कब आपका व्यवहार मित्रवत हुआ आपका अनुशासित दुलार गहन प्रभाव छो...
Akanksha...
Asha
Tag :
  April 2, 2013, 6:28 am
बंद करके जुगनुओं को अपने पास रखा है एक छोटे से कमरे में उन्हें छिपा रखा है |जब भी वे चमकें रौशनी करें केवल मेरे ही लिए हो किसी और का सांझा न हो सांझा चूल्हा मुझे नहीं भाता मन  अशांत कर जाता तभी  तो एकाकीपन मैंने सम्हाल कर रखा बड़े यत्न  से सदुपयोग उसका किया एकांत पलों को भी ...
Akanksha...
Asha
Tag :
  February 3, 2013, 7:01 am
आज मुझे आप सब से यह खुशी बाँटते हुए बहुत प्रसन्नता हो रही है कि मेरी तीसरी पुस्तक'" प्रारब्ध"प्रकाशित हो गयी है |इसमें मेरी स्वरचित ११५ कविताओं का संग्रह है |आशा ...
Akanksha...
Asha
Tag :
  February 1, 2013, 4:05 pm
खतरा सर पर मंडराया दिन में स्वप्न नजर आया  किरच किरच हो बिखरा वजूद उसका शीशे सा न जाने कब दरका अक्स उसका आईने  सा अहसास न हुआ टुकड़े कब हुए यहाँ वहाँ बिखरे दर्द नहीं जाना स्वप्न  में खोया रहा जब हुई चुभन गहरे तक दूभर हुआ चलना रक्त रंजित फर्श पर तब भी नादाँ पहचान  नहीं पाया ...
Akanksha...
Asha
Tag :
  January 31, 2013, 7:09 am
अंतःकरण से शब्द निकले चुने बुने और फैलाए दिए नए आयाम उन्हें और जाल बुनता गया थम न सका प्रवाह एक जखीरा बनता गया सम्यक दृष्टि से देखा नया रूप नजर आया जिसने जैसा सोचा वैसा ही अर्थ निकल पाया पहले भाव शून्य से थे धीरे धीरे प्रखर हुए सार्थकता का बोध हुआ उत्साह द्विगुणित हुआ अ...
Akanksha...
Asha
Tag :
  January 28, 2013, 3:57 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163813)