Ghotoo ki Kavitaye

 मै- स्वामी डा.मोम बाबा बी.टेक.मेरे पिताजी चाहते थे मै इंजीनियर  बनू,मैंने बी.टेक.पास कियामेरी माताजी चाहती थी मै डॉक्टर बनू,सो मैंने करेस्पोंडेंस कोर्स सेहोमियोपेथी पढ़ कर अपने नाम के आगे डॉक्टर लगाया.मेरे दादाजी चाहते थे कि मै  कर्मकांडी पंडित बनू,तो उन्होंने मुझेबच...
Ghotoo ki Kavitaye...
Tag :
  May 12, 2012, 12:02 pm
अभी तो मै जवान हूँसिर्फ बाल रंगाने से आदमी जवान नहीं होताताक़त की दवा खाने से आदमी जवान नहीं होताफेशियल कराने से ,आदमी जवान नहीं होताझुर्रियां नाशक क्रीम लगाने से,आदमी जवान नहीं होताजींस,शर्ट पहनने से ,आदमी जवान नहीं होतालड़कियों से फ्लर्ट करने से ,आदमी जवान नहीं होत...
Ghotoo ki Kavitaye...
Tag :
  May 4, 2012, 8:20 am
 अनिवासी  भारतीय-------------------------पहाड़,जंगल और गावों को लांघते हुए,अपने देश की माटी की खुशबू से महकती नदियाँ,रत्नाकर  की विशालता देख ,उछलती कूदती ,ख़ुशी ख़ुशी,समंदर में मिल तो जाती हैपर उन्हें जब,अपने गाँव और देश की याद आती है,तो उनकी आत्मा,समंदर की लहरों की तरह,बार बार उछल कर,क...
Ghotoo ki Kavitaye...
Tag :
  December 21, 2011, 8:58 am
रसोई घर-सबसे बड़ी पाठशाला------------------------------------रसोईघर, सबसे बड़ी पाठशाला है जहाँ,हर कदम आपको ज्ञान मिलता  निराला है आपने ,ठीक से गर खाना बनाना सीख लियातो समझ लो,सारे जहाँ को जीत लियारोटी बनाने की कला,जिंदगी जीने की कला जैसी है  होती क्योंकि आटे की और पानी की, होती है अलग अलग संस्...
Ghotoo ki Kavitaye...
Tag :
  December 19, 2011, 2:03 pm
पूजना पाषाण का,पाषाण युग से चल रहा,पुजते पुजते बन गए ,पाषाण भी है देवता ये जो नदियाँ बह रही है ,पहाड़ो के बीच से,चीर  कर पत्थर को पानी ने बनाया रास्ता आदमी को कोशिशें ,करना निरंतर चाहिये,रस्सियाँ भी पत्थरो पर ,बना देती है निशांप्यार का अपने प्रदर्शन,करो तुम करते रहो,एक दिन ...
Ghotoo ki Kavitaye...
Tag :
  December 17, 2011, 1:31 pm
लगे उठने अब करोड़ों हाथ है----------------------------------करोड़ों  के पास खाने को नहीं,                 और नेता करोड़ों में खेलतेझूंठे झूंठे वादों की बरसात कर,                 करोड़ों की भावना से खेलतेकरोड़ों की लूट,घोटाले कई,                  करोड़ों स्विस बेंक में इनके जमापेट फिर भी इनका भरता ही ...
Ghotoo ki Kavitaye...
Tag :
  December 15, 2011, 9:35 am
शिकवा-शिकायत-------------------देख कर अपने पति की बेरुखी,                   करी पत्नी ने शिकायत इस तरहहम से अच्छे तुम्हारे 'डॉग' है,                  घुमाते हो संग जिनको हर सुबहगाजरों का अगर हलवा चाहिये,                   गाजरों को पहले किस करना पड़े,इन तुम्हारे गोभियों के फूल से,                   भ...
Ghotoo ki Kavitaye...
Tag :
  December 14, 2011, 10:06 am
        बदनसीबी        --------------मुफलिसी की मार कुछ ऐसी पड़ी,               भूख से बदहाल था सारा बदन सोचा जाए,धूप खायें,बैठ कर,               कुछ तो खाया,सोच कर बहलेगा मनबेमुरव्वत सूर्य भी उस रोज तो,               देख कर आँखें चुराने लग गयाछुप गया वो बादलों की ओट में,                बेरुखी ऐसी  दिखान...
Ghotoo ki Kavitaye...
Tag :
  December 14, 2011, 9:36 am
आपने हमको बुलाया,आगये,आपने दुत्कार दी,हम चल दियेहम तो है वो पेड़ जिस पर आपने,फेंका जो पत्थर तो हमने फल दियेफलो,फूलो ,और हरदम खुश रहो,हमने आशीर्वाद ये हर पल दियेभले ही हमको सताया,तंग किया,भृकुटियों पर नहीं हमने बल दियेसीख चलना,थाम उंगली हमारी,अंगूठा हमको दिखा कर चल दियेक...
Ghotoo ki Kavitaye...
Tag :
  December 13, 2011, 2:21 pm
मैंने तो अपने इस घर में---,-----------------------------मैंने तो अपने इस घर में,जाने क्या क्या क्या ना देखाखुशियों को भी हँसता देखा,तन्हाई को बसता देखा  उगते सूरज की किरणों से,मेरा घर रोशन होता थाफिर दोपहरी में धूप भरा,सारा घर आँगन होता था   बगिया में खिलते फूलों की ,खुशबू इसको महकाती थीहर स...
Ghotoo ki Kavitaye...
Tag :
  December 13, 2011, 1:48 pm
पत्थरों के दिल पिघल ही जायेगे---------------------------------------छोड़ नफरत,बीज बोओ प्यार के,चमन में कुछ फूल खिल ही जायेगेपत्थरों के कालेजों में मोम के,चंद कतरे तुम्हे मिल ही जायेंगेसमर्पण की सुई,धागा प्रेम का,फटे रिश्ते,कुछ तो सिल ही जायेंगेअगर कोशिश में तुम्हारी जोर है,,कलेजे हों सख्त,हिल ...
Ghotoo ki Kavitaye...
Tag :
  December 12, 2011, 3:53 pm
थोड़ी सी तुम भी पहल करो--------------------------------शृंगार-------यह मधुर मिलन की प्रथम रात,ऐसे ही बीत नहीं जायेतुम्हारे मधुर अधर का रस,मै पी न सकूँ,मन ललचायेये झिझक निगोड़ी ना जाने,क्यों खड़ी बीच में बन बाधा चन्दा सा मुखड़ा घूंघट से,बस दिखता है आधा आधाजो ललक ह्रदय में है मेरे,तुम्हारे मन में ...
Ghotoo ki Kavitaye...
Tag :
  December 12, 2011, 3:28 pm
ग़ज़ल-प्यार की------------------भावना में ज्वार होना चाहियेतब किसी से प्यार होना चाहियेये नहीं वो चीज जो बंटती फिरे,एक से ,एक बार होना चाहियेजिधर भी जाए तुम्हारी  ये नज़र,यार का दीदार होना  चाहियेबुढ़ापा हो या जवानी उम्र की,ना कोई दीवार होना चाहियेएक दूजे के लिए ही है बने,सोच ये हर ब...
Ghotoo ki Kavitaye...
Tag :
  December 12, 2011, 3:05 pm
हे जगदीश ,चतुर्भुज धारी------------------------------हे जगदीश,चतुर्भुजधारी,आपका ये रूप ,अनूप हैऔउर बड़ी प्रेरणा दायक  है,ये छवि तुम्हारीआप जो हाथों में धारण किये हुए है,शंख,चक्र,गदा और पद्मजीवन की राजनीती में,सफलता के है ये ही मूल मन्त्रसबसे पहले शंख बजाओअपनी उपस्तिथि का अहसास कराओजित...
Ghotoo ki Kavitaye...
Tag :
  December 12, 2011, 10:49 am
एक थैली के चट्टे बट्टे ---------------------------बी जे पी हो या कांग्रेसये सब के सब है एक जैससब दल जनता को भरमाते,है बदल बदल कर अलग भेषमन बहलाते इनके वादे,भाषण लम्बे लम्बेपर हमने देखा ये सब है,एक बेल के तुम्बेसत्ता मिलते ही ये देखा,सब करते है ऐशबी जे पी हो या कांग्रेसये कर देंगे,वो कर दें...
Ghotoo ki Kavitaye...
Tag :
  December 12, 2011, 9:40 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]
Share:
  गूगल के द्वारा अपनी रीडर सेवा बंद करने के कारण हमारीवाणी की सभी कोडिंग दुबारा की गई है। हमारीवाणी "क्...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3074) कुल पोस्ट (108954)