Hamarivani.com

" अल्फ़ाज़ - ज़ो पिरोये मनसा ने "

ताउम्र कोसता रहेगा , हाथ यूँ लकीरों को ><क्यूँ लकीरों को, हाथ में 'वो' रास ना आयी :(  (function(d, s, id) { var js, fjs = d.getElementsByTagName(s)[0]; if (d.getElementById(id)) return; js = d.createElement(s); js.id = id; js.src = "//connect.facebook.net/en_US/all.js#xfbml=1&appId=196308810431154"; fjs.parentNode.insertBefore(js, fjs); }(document, 'script', 'facebook-jssdk'));...
" अल्फ़ाज़ - ज़ो पिरोये मनसा न...
Tag :ताउम्र
  December 19, 2011, 1:07 am
वो सर्दी की एक रात एक मोटी रज़ाई मिली जुली गरमाहटमन में कुछ यादों के सायेबस तेरे अक्स को समाये कुछ उछलते सवालजो मैंने तूझे कभी पूछे नहीं वो अनकही बातेंजो तूने कभी सुनी नहीं कुछ टूटी कसमेंजो हमने साथ खाई थीमेरी इक़रार भरी गज़लेंजो कभी मैंने तूझे सुनाई थी वो प्रीत के ...
" अल्फ़ाज़ - ज़ो पिरोये मनसा न...
Tag :sanam
  December 19, 2011, 1:07 am
oye abhi page baki hai mere dost.......
" अल्फ़ाज़ - ज़ो पिरोये मनसा न...
Tag :ताउम्र
  December 15, 2011, 4:48 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163666)