Hamarivani.com

माही....

रात भर तकिये से लिपट के सोता रहाऔर तुम कहते हो के मुझे तेरी याद नहीं आतीदिल अब भी तुझे याद करता है,बस इन लबों पे ये बात, हर बा...
माही.......
Tag :mahesh barmate
  April 5, 2017, 4:53 pm
कभी किसी जनम में शायदशायद पिछले ही जनम में शायदतेरा मेरा कोई नाता रहा होगाजिसे लिखना बाकि रह गया होगाके हम दूर हो के भी प...
माही.......
Tag :mahesh barmate
  February 19, 2017, 11:15 pm
देख तेरी तस्वीर कोमुझे एक किस्सा याद आयाज़िन्दगी का मेरीएक हिस्सा याद आया।मेरे हिस्से की ज़िंदगी मेंबस तेरा ही किस्सा ह&...
माही.......
Tag :hissa
  February 14, 2017, 12:08 am
एकअजीब कश्मकश में हूँआज खुद के लिए ही कुछ खास मैं हूँ।के कुछ गलतफहमियां जो थी दरमियान हमारेख़त्म हो गईंख़त्म हुए फासलेपर...
माही.......
Tag :galatfahami
  January 12, 2017, 5:08 pm
पाँच पांडवों के बीच फँसीद्रौपदी सी हो गयी है ज़िन्दगी।किसका कब साथ निभाऊं कुछ समझ में नहीं आता।जहाँ देखूँ वहीँ पे मेरा अपना खड़ा होता है,पर किसके साथ कहाँ जाऊँ कुछ समझ में नहीं आता।मैंने तो चुना था बस एक कोठुकरा के जाने कितने अनेक कोफिर भी मिले साथ में और चारपाँच कश्तिय...
माही.......
Tag :life
  December 17, 2015, 8:30 am
जागता रहा रात भरअपने गुनाहों को याद करता मैंखुद से ही माफ़ी माँगताऔर खुद को ही सजा देता मैं।हर सजा के बादगुनाह खुद मुझसे पूछताक्यों तूने मुझे कियाऔर फिर मुझसे रूठता।न जवाब थान शर्मिंदगीजाने किस मोड़ पे आयीआज ये ज़िन्दगी।मैं जागता रहागुनहगार की तरहसोती रही क़िस्मतजाने ...
माही.......
Tag :hindi poem
  November 21, 2015, 6:28 pm
जब मैं तुमसे मिली थीतब कुछ खास नहीं लगे तुमपर शायद कोई तो बात थी तुममेजिस कारणमैने तुमसेदोस्ती करना चाही।हममेधीरे धीरेबातबातों की शुरुआत हुई।फिर इन्हींबातों बातों मेंमैं तुम्हे जानने लगी।तुम इतना सच बोलते थेकि अक्सर डर लगता था मुझेकि अगरहमारा रिश्ता आगे बढ़ता है ...
माही.......
Tag :love
  November 13, 2015, 4:28 am
ए साहिब!पागल न कहना मुझेके दीवानी हूँ मैं उसके प्यार कीवो माही है मेराऔर मंज़िल हूँ मैं उसके नाम की।क्या कहना अदाओं के उसकेके कभी बड़ा हँसाता है वो मुझकोरो लेता है खुद में हीपर बड़ा गुदगुदाता है वो मुझको।उसकी सारी बातेंऔर वो शरारतेंबड़ा याद आती हैंवो नटखट मुलाकातें।वो म...
माही.......
Tag :diwani
  October 14, 2015, 1:58 am
यादों के झरोखों से एक याद अब भी याद आती हैवो बचपन की अठखेलियाँदोस्तों के साथ की सैकड़ों मस्तियाँमुझे अब भी याद आती है।कोई लौटा नहीं सकताअब वो सुनहरे पल मुझेके ज़िन्दगी की भाग दौड़मुझे अब भी नहीं भाती है।वो कहते थे कि बड़े हो जाओ फिर जी लो ज़िन्दगी अपने हिसाब सेपर इस हिसाब कि...
माही.......
Tag :friendship
  September 20, 2015, 11:13 am
वो...वो प्यार नहीं था,के जब तुमसे दूर जाने की बात मैंने तुमसे कही थीतो तुमने मुझे न जाने कितनी बददुआएं, कितनी बुरी बातें कितने बुरे विचार बस मेरे लिए ही तुम्हारे लबों से कही होगी। उन लबों से हाँ! उन्हीं लबों से जिसकी कभी मैंने अपनी किसी कविता मेंया किसी शायरी में सुर्खी क...
माही.......
Tag :mahesh barmate
  August 16, 2015, 11:42 pm
मुझपे रंग अपना, कुछ ऐसा लगा माही!के अब कोई दूजा रंग मुझपे दिखे नहीं।उतर जाएँ सारे रंग पुरानेके अब कोई दूजा रंग मुझपे बचे नहीं।ऐसे सजूं कुछ अब मैं तेरे रंग सेके अब कोई दूजा रंग मुझपे सजे नहीं।जहाँ भी जाऊं बस तुझको ही मांगूके चाहत अब कोई मुझ में बचे नहीं।कर दे रंगीन ये दुन...
माही.......
Tag :maahi
  December 15, 2014, 12:07 am
काश! तुझसा कोई दूसरा पाना इतना आसान होता।जो हर सुबह मुझेख्वाबों में आकरमुझे नींद से जागने न दे।गर खुल भी जाए नींद सुबह तोख्याल उसका होंठों से मुस्कान भागने न दे।तभी कॉल आये उसका और गुड मॉर्निंग सुनाई देदिन भर हर जगह उसका ही चेहरा दिखाई दे।शाम को कॉल आयेऔर वो पूछे मुझे...
माही.......
Tag :
  December 9, 2014, 9:58 pm
चल आज..बड्डे मनाते हैं।खो गए हैं वक़्त की धुंध में जो दोस्तआज उन्हें ढूँढ के लाते हैं।चल आज..बड्डे मनाते हैं।चंद खुशियाँ भी खो गई हैं संग उनकेचल वो भी बंटोर के लाते हैं।चल आज..बड्डे मनाते हैं।वो मम्मी के हाथ से बना केकवो पापा के दिए नए कपड़े और खिलौनेबड़े भाई-बहनों के हाथों ...
माही.......
Tag :birthday
  October 12, 2014, 9:46 pm
तुम एक सपने में आई थीसपना छोटा सा था और तुम मुस्कुराई थीएक कोई दोस्त भी था साथ तुम्हारेऔर मेरे दोस्तों ने महफ़िल जमाई थी।बैठी थी तुम मुझसे चिपक केऔर हर बात पे अपनी मौजूदगी जताई थी।कुछ शरारतें कीथोड़ी बहुत बातें कीतुम्हारी शरारतों पे कुछहिदायतें मैंने भी समझाई थी।फिर भ...
माही.......
Tag :hindi
  October 8, 2014, 9:50 pm
आ भर लूँ बांहों में तुझेकि आज जी लेने दे मुझे।ये तरसती निगाहेंऔर खुली मेरी बाहेंतू इन धड़कनों की प्यास हैक्या कहती हैं धड़कने तेरीआज सुनने दे मुझे।मेरी प्यास है तूएक अन्जाना एहसास है तूलिखा है नाम मेराहाथों की लकीरों में तेरीएक बार फिर पढ़ने दे मुझे।ये लबों की सुर्खी म...
माही.......
Tag :lab
  October 5, 2014, 2:04 pm
कब रोका था मैंने तुझे माही!मेरी ज़िंदगी में आने से और दिल तोड़ कर फिर जाने से... मुझे अपना बनाने से मुझे पलकों में छुपाने से मेरी दुनिया में आ के कुछ देर रुक के मुझे यूं ही सताने से सता के मुहब्बत में फिर रूठ जाने से रूठ के बस यूं ही मुझसे फिर दूर जाने से कब रोका था मैंने तुझे ज़ि...
माही.......
Tag :hindi kavita
  September 13, 2014, 11:55 pm
कभी कभी तू यूं ही दिख जाता है तस्वीरों में मुझको पर ऐ खुदा!क्यूँ नहीं मिलता वो मेरी तक़दीरों में मुझको।कोई तो खता की होगी गए जनम में हमने के हर पल पाता हूँ जंजीरों में खुद को।प्यार देने आया हूँ प्यार ही देना चाहता हूँ पर जाने हो गई है आज नफरत क्यूँ तुझको। चल जी लें एक बार फ...
माही.......
Tag :kabhi kabhi
  September 12, 2014, 11:44 pm
तुम थे वहाँकरते मेरा इंतज़ारबैठ बिस्तर के कोने मेंथा मेरे आने का एतबार।जाने कितनी देरबैठे थे तुम वहाँमैंने की देरगर्म &...
माही.......
Tag :maahi
  August 13, 2014, 1:13 am
क्या चाहूँऔर क्या हो जाता है,जिसे चाहूँ वो पराया हो जाता है।इश्क़ की आबो-हवामेरी महफ़िल में न थी कभीजीता रहता हूँ ग़लतफ़हमी ...
माही.......
Tag :mahesh barmate
  August 10, 2014, 2:19 am
यकीन नहीं होताकि तू अब मुझसे दूर चली गई हैकि जाते - जाते तू मुझसे भीमशहूर हो गई है।तुझे पाने की चाहत थीअपना बनाने की चाहत थीकुछ – कुछ तेरी भी हसरत थीके तुझे भी मुझसे मुहब्बत थी।मुहब्बत थी ऐसेके एक दूजे का होना थाखो कर तेरी बांहों मेंबस तुझमें ही खोना थाहो कर बस तेरातुझम...
माही.......
Tag :maahi
  August 6, 2014, 9:01 pm
मत भेज अब मेरे जवाब-ए-ख़त माही!के तेरे इंतज़ार में, मैं भी अपना पता भूल बैठा हूँ... दिन भूल बैठा हूँ शाम भूल बैठा हूँ जो रूठा था मैं तुझसे वो खता भूल बैठा हूँ। लिखता रहता था ख़त तेरी याद में आज मैं अपना ही फलसफ़ा भूल बैठा हूँ... अब तू मिल जाये तेरी किस्मत होगी कभी सुना था फरिस्तों से...
माही.......
Tag :hindi poem
  June 27, 2014, 9:52 pm
लिखी थी कहानी तेरे नाम कीमुझमे थी ज़िंदगानी तेरे नाम की हवा में ठंडक, फिजा में रंगत और चुनरी थी धानी तेरे नाम की गुलों में गुलाब, मयखाने में शराबसाकी भी थी दीवानी तेरे नाम की पुकारता चला था मैं, हर गली, हर शहर लबों पे थी कहानी तेरे नाम की एक कहानी, तू पगली दीवानी मेरी भी एक थी...
माही.......
Tag :kahani
  June 26, 2014, 8:01 pm
दिल के किसी कोने में एक दर्द छुपा रखा है अपनी तन्हाइयों को मैंने खुद से बचा रखा है...जाने किस दर्द कीदवा बन के तू आया था के तेरा ग़म भी मैंने अपने इस दर्द-ए-दिल से बचा रखा है। रोता है दिल तन्हाइयों में अक्सर की थी जो दुआ - खुशी की तेरी इसीलिए इन अश्कों को मैंने आँखों में जमा रखा...
माही.......
Tag :hindi
  June 21, 2014, 11:04 pm
तू ज़िंदगी भर बस मुझे ही चाहेगा माही!ये यकीन, तू ने मुझे हर ख़्वाब में दिलाया है। जाने कितनी कवितायें, ग़ज़ल, शेरों-शायरियाँ लिखने के बाद ही मैंने तुझे पाया है। दूरियाँ, रिश्तों पे कभी भारी पड़ भी गई तो क्या ?तू तो बस मेरा, हाँ! बस मेरा सरमाया है। रब जाने के क्या हकीकत होग...
माही.......
Tag :faith
  June 4, 2014, 12:04 am
ज़िंदगी के मायने ज़िंदगी भर ढूंढते रहेंगेअगर तुझे खो दिया तो जाने कहाँ ढूंढते रहेंगे। अब दीदार की तमन्ना हैइक मुलाकात की तमन्ना है। तू अगर किसी और का हो गया तो खुद को हम कोसते रहेंगे। तुझे पाने की ख़्वाहिश नहीं अपना बनाने की ख्वाहिश नहीं, बस तुझमे समाना है,अगर बिखर गया त...
माही.......
Tag :love
  June 1, 2014, 1:44 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163760)