Hamarivani.com

अपनी अपनी बातें..........

निरंतर कह रहा .......: प्रेम का समुद्र: पानी की बूँद था , अपने प्रेम से तुमने उसे समुद्र बनाया अब तुम ही विछोह चाहती हो भाप जैसे उड़ा कर आकाश में मिलाना चाहती हो......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  May 6, 2012, 5:07 pm
निरंतर कह रहा .......: उगते सूर्य का उजाला: तुम्हें उगते सूर्य का उजाला समझा था कुछ पलों के लिए तुमने उसमें नहलाया भी था मन इतना उजला हो गया जिधर देखता उधर उजाला ही दि......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  May 6, 2012, 5:06 pm
निरंतर कह रहा .......: सृजन और विध्वंस: किस्मत मिट्टी की अच्छी या खराब निर्भर करेगा उस पर जिसके के हाथों में जायेगी मिट्टी उसकी जैसी नियत वैसा ही करेगा वो एक ब......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  May 2, 2012, 7:11 pm
निरंतर कह रहा .......: झूठ का आवरण: किसी ने तुम्हारे प्रशंसा में दो मीठे शब्द बोल दिए , तुम पचा नहीं पाए फूल कर कुप्पा गए बिना यह सोचे समझे कहने वाले का मंतव्य क्या था क्या व......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  May 2, 2012, 7:10 pm
निरंतर कह रहा .......: क्रोध पर कविता -मैं नहीं कहता तुम मेरी मानो: मैं नहीं कहता तुम मेरी मानो पर ध्यान से सुन तो लो मुझे प्रतीत होता है तुम्हें क्रोध बहुत आता है आवेश में जो नहीं कहना चाहि......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  May 2, 2012, 1:16 pm
निरंतर कह रहा .......: जी का वन ही तो जीवन है: जीवन के सृजन कर्ता से पूछा मैंने एक दिन क्यों आपने संसार में सांस लेने वालों का नाम जीव रखा वो मुस्कारा कर बोला जी का व......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  May 2, 2012, 1:02 am
निरंतर कह रहा .......: नींद मानो रूठ कर बैठ गयी: रात नींद को बुलाता रहा करवटें बदलता रहा पर   नींद मानो   रूठ कर बैठ गयी , बहुत कशमकश और मिन्नतों के बाद भी नहीं आयी जब आयी तो मुझे पता ही......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  April 20, 2012, 11:58 am
निरंतर कह रहा .......: खूबसूरत आवरण: किताबों की दूकान में घुसते ही शो केस में लगी रंग बिरंगे खूबसूरत आवरण वाली किताब पर  नज़रें अटक गयी जब आवरण इतना खूबसूरत किताब भी  बहुद सुन्......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  April 19, 2012, 11:55 pm
निरंतर कह रहा .......: क्यों बेफिक्र हो जाते हो ?: क्यों बेफिक्र हो जाते हो ? जब जब चलता है सब ठीक ठाक हँसते हो खिलखिलाकर भूल जाते हो आते हैं अवरोध सबके   जीवन में जब दिए हैं इश्वर ने आँखों......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  April 19, 2012, 11:54 pm
निरंतर कह रहा .......: क्यों बेफिक्र हो जाते हो ?: क्यों बेफिक्र हो जाते हो ? जब जब चलता है सब ठीक ठाक हँसते हो खिलखिलाकर भूल जाते हो आते हैं अवरोध सबके   जीवन में जब दिए हैं इश्वर ने आँखों......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  April 18, 2012, 5:59 pm
निरंतर कह रहा .......: कल का कल देखा जाएगा: कभी सोचता आज कल जैसा ना हो कभी मन कहता आज जैसा कल ना हो जो आज सोचता कल नहीं सोचा था जो परसों सोचा था कल नहीं सोचा समझ नहीं आता हर दिन सोच......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  April 18, 2012, 5:58 pm
निरंतर कह रहा .......: आज इतना हँसो: आज इतना हँसो कि हँसी तुमसे खुद पूछे तुम्हें हुआ क्या है ? क्या बात हुयी ऐसी  जो दिल इतना खुश है क्यूं छिपा कर रखा है ? मुझे भी बता दो वो रा......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  April 17, 2012, 5:20 pm
निरंतर कह रहा .......: माँ की चिंता: सर्दी की रात थी घड़ी की सूइयां बारह बजा रही थी दोस्तों की महफ़िल सजी थी घर जाने की ज़ल्दी ना थी माँ बेसब्री से इंतज़ार करती होगी जानते हुयी......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  April 17, 2012, 5:19 pm
निरंतर कह रहा .......: क्या यह प्यार नहीं है ?: कैसे कह दिया तुमने ? मैं तुम्हें प्यार नहीं करता तुम्हें गले नहीं लगाता तुम्हें चूमता नहीं हूँ अपनी बाहों में नहीं लेता तुम्हारे करीब नहीं......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  April 17, 2012, 5:18 pm
निरंतर कह रहा .......: बिना माँ के: साधन संपन्न , धनाढ्य ने कमरे की खिड़की से घनघोर बरसात का आनंद लेते हुए देखा माँ स्वयं भीग रही थी पर पुत्र के सर पर छोटी सी छतरी ताने उसे बरस......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  March 20, 2012, 6:32 pm
निरंतर कह रहा .......: अति से विनाश: उसने  बहुत आशाओं से  घर के बागीचे  में गुलमोहर का पेड़ लगाया दिल से  उसकी रखवाली करी निरंतर पानी से सींचा भर भर कर उसमें खाद डाली मन में ख......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  December 22, 2011, 12:12 am
चिंतन........निरंतर का.......: सुनी सुनायी बातें: सुनी सुनायी बातों पर विश्वास नहीं करें किसी के कहने भर से , बिना अच्छी तरह से जाने किसी व्यक्ति के बारे में अपने विचार ना बनाएं , क्या पता क......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  December 20, 2011, 7:05 pm
चिंतन........निरंतर का.......: अच्छा समय: जीवन जैसे आये उसे जियें किस्मत को कोसने से भला नहीं होता ना ही अवांछित कार्य करें    समय कभी एक सा नहीं रहता कर्म करें , सब्र रखें एक दिन अच......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  December 20, 2011, 7:04 pm
चिंतन........निरंतर का.......: ह्रदय और मष्तिष्क में सामंजस्य आवश्यक है: महत्वपूर्ण विषयों पर फैसला लेने के लिए ह्रदय और मष्तिष्क में सामंजस्य आवश्यक है केवल भावना या व्यवहारिक सोच से फैसला नहीं करन......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  December 13, 2011, 11:32 pm
निरंतर कह रहा .......: ना ज़मीं तेरी ना आस्मां तेरा ,तूं इक मुसाफिर यहाँ: ना ज़मीं तेरी ना आस्मां तेरा तूं इक मुसाफिर यहाँ फिर क्यूं करता है तेरा मेरा देखता है सपने निरंतर रखता है इच्छाएं अपार पालता है बैर मन में......
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  December 13, 2011, 11:11 am
चिंतन........निरंतर का.......: अनुकूलन,या समंजन: अनुकूलन , या समंजन (Adjustment) के लिए खुद को भी झुकना पड़ता है 011-12-2011-47 डा राजेंद्र तेला ," निरंतर ”...
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  December 11, 2011, 5:40 pm
चिंतन........निरंतर का.......: मन की शांती और चैन: अथाह धन भी मन की शांती और चैन नहीं खरीद सकता 07-12-2011-46 डा राजेंद्र तेला ," निरंतर ”...
अपनी अपनी बातें.............
Tag :
  December 7, 2011, 5:59 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3685) कुल पोस्ट (167898)