Hamarivani.com

प्रेमरस

उधर से चिलमन सरकता दिखाई देता हैइधर नशेमन फिसलता दिखाई देता हैतुझे पता क्या तेरे फैसले की कीमत हैमेरा वजूद बदलता दिखाई देता हैउमड़-उमड़ के जो आते हैं मेघ आँगन मेंफटा सा आँचल तरसता दिखाई देता हैकई रातों से भूखा सो रहा था जो बच्चाआज फिर माँ से उलझता दिखाई देता हैझूठे वादो...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :Ghazal
  June 7, 2016, 3:54 pm
कहो कब तलक यूँ सताते रहोगे  कहाँ तक हमें आज़माते रहोगे  सवालों पे मेरे बताओ ज़रा तुम  यूँ कब तक निगाहें झुकाते रहोगे  हमें यूँ सताने को आख़ीर कब तक  रक़ीबों से रिश्ते निभाते रहोगे  वो ग़म जो उठाएँ हैं सीने पे तुमने  बताओ कहाँ तक छुपाते रहोगे  -शाहनवाज़ सिद्दीकी...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :Ghazal
  May 25, 2016, 11:14 am
हज़ारों साज़िशें कम हैं सियासत की अदावत कीहर इक चेहरे के ऊपर से नकाबों को हटाता चलकभी सच को हरा पाई हैं क्या शैतान की चालें?पकड़ ले आइना हाथों में बस उनको दिखाता चलकरो कुछ काम ऐसे भी अदावत 'इश्क़'हो जाएंरहे इंसानियत ज़िंदा, मुहब्बत को निभाता चलभले कैसा समाँ हो यह, बदल के रहने ...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :Ghazal
  February 23, 2016, 10:12 am
यह हमारा हिन्दोस्तां है, जहाँ मज़हब दोस्ती का सबब है, जहाँ विभिन्न धर्मों के लोग साथ रहते हैं, खाते हैं, पढ़ते हैं और साथ ही अपनी-अपनी पूजा भी कर लेते हैं....हज़ारों साज़िशें कमतर हैं दुश्मनी के लिएमेरे वतन में तो 'मज़हब'हैं दोस्ती के लिए- शाहनवाज़ 'साहिल'...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :Gazal
  February 8, 2016, 12:26 pm
हज़ारों साज़िशें कमतर हैं दुश्मनी के लिएमेरे वतन में तो 'मज़हब'हैं दोस्ती के लिए- शाहनवाज़ 'साहिल'...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :Gazal
  February 8, 2016, 12:26 pm
सियाचिन ग्लैशियर में हिमस्खलन से हुई हमारे जवानों शहादत की खबर ग़मगीन कर गई! देश की हिफाज़त की ख़ातिर सरहदों पर लड़ने वाले हमारे जवानों की जज़्बे और शहादत को सलाम...हम यूँ आज़ादियों की हर इक जद में हैंक्योंकि क़ुर्बानियाँ उनके मक़सद में हैउन जवानों का कर्ज़ा चुकाएंगे कब?जो ह...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :Gazal
  February 5, 2016, 10:19 am
यूँ ना देखो दुनियाभर में तब्सिरा हो जाएगाफ़क़्त बस बैठे-बिठाए मसअला हो जाएगाहोंट हिलते ही नहीं हैं आप हो जब सामनेआप ही कोशिश करो तो हौसला हो जाएगारेत पर बच्चे की मेहनत लहरों से टकरा गईपर 'घरौंदा'टुटा तो वो ग़मज़दा हो जाएगादिल अभी महफूज़ है महफ़िल के कारोबार सेआप गर चाहेंगे त...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :
  February 3, 2016, 11:40 am
गणतंत्र दिवस पर आप सभी को ढेरों शुभकामनाएँ!हर दिल लुभा रहा है, यह आशियाँ हमाराहर शय से दिलनशी है, यह बागबाँ हमाराहर रंग-ओ-खुशबुओं से हर सूं सजा हुआ हैगुलशन सा खिल रहा है, हिन्दोस्ताँ हमाराहो ताज-क़ुतुब-साँची, गांधी-अशोक-बुद्धासारे जहाँ में रौशन हर इक निशाँ हमाराहिंदू हो ...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :Ghazal
  January 26, 2016, 1:39 pm
जब भी तेरा ज़िक्र महफिल में हुआमिलने का दिल में बहाना आ गयाउसने जो देखा हमें बेसाख़्तामायूसी को मुस्कराना आ गयाआप क्यों बैठे हैं ऐसे ग़मज़दामिलने-जुलने का ज़माना आ गयाउसने जो महफ़िल में की गुस्ताखियाँहर इक को बातें बनाना आ गयाहम ज़रा सा नर्म लहज़ा क्या हुएदुनिया को आँखे दिख...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :ग़ज़ल
  January 22, 2016, 10:17 am
जो राहे ख़ुदा का निगहबान होगाजहाँ में वही तो मुसलमान होगासमंदर की लहरे थमी थी जहाँ परवहीँ से शुरू फिर से तूफ़ान होगाहर इक का जो दर्द समेटे हुए होनहीं वोह कभी भी परेशान होगाकिया ज़िन्दगी को जो रब के हवालेहर इक सांस फिर उसका मेहमान होगाजो दीदार को उसके तड़पेगा 'साहिल'वही उसक...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :ग़ज़ल
  January 19, 2016, 6:04 pm
पर्यावरण की रक्षा परदिल्ली ने दम दिखलाया है।बदलाव बड़ा लाने हेतु#OddEven अपनाया है।गर आज नहीं कोशिश होगीतो भविष्य तबाह हो जाएगा।आने वाली पीढ़ी कोयह कर्ज़ा आज चुकाया है।जो कहते हैं कुछ नहीं होता,उन्हें दिल्ली राह दिखाएगी।आओ देखो दुनिया वालोबदलाव यहाँ पर आया है।सेहत वाली स...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :
  January 9, 2016, 4:59 pm
बड़ी हैरत की बात है कि जो लोग ऑफिसों में महिलाओं को लेकर डाइवर्सिटी पर ज़ोर देते हैं, बराबरी की बाते करते हैं, इसके नाम पर बड़ी-बड़ी नीतियां बनाते हैं,  आखिर वही लोग महिलाओं की ही तरह सदियों से दबे-कुचले और सामाजिक पिछड़ेपन का दंश झेल रहे लोगों को आरक्षण दिए जाने क...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :समाज
  October 29, 2015, 9:57 am
बड़ी हैरत की बात है कि जो लोग ऑफिसों में महिलाओं को लेकर डाइवर्सिटी पर ज़ोर देते हैं, बराबरी की बाते करते हैं, इसके नाम पर बड़ी-बड़ी नीतियां बनाते हैं,  आखिर वही लोग महिलाओं की ही तरह सदियों से दबे-कुचले और सामाजिक पिछड़ेपन का दंश झेल रहे लोगों को आरक्षण दिए जाने क...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :
  October 29, 2015, 9:57 am
नफ़रत की राजनीति के विरोध का मतलब देश की सहिष्णुता पर संदेह करना हरगिज़ नहीं है, बल्कि देश की सहिष्णुता पर ऊँगली उठाना देश की संप्रभुता पर ऊँगली उठाना है।देश में कैसे भी हालात रहे हो, मगर सांझी संस्कृति हमेशा से हमारी पहचान रही है। देश में सभी वर्गों के अधिकतर लोग सहिष्ण...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :
  October 19, 2015, 8:27 am
आज दादरी में किसी को गौ-मांस के नाम पर मारा है, कल एक को आतंकवादी बता कर मार दिया गया था... इलेक्शन आ रहा है और रोज़ाना गाहे-बगाहे ऐसी ख़बरें भी आती जा रही हैं। इस भुलावे में मत रहना कि यह सब किसी मांस के टुकड़े या आतंक के कारण हो रहा है, क्योंकि अगर यही कारण होता तो हमला इन निर्...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :Social
  October 1, 2015, 11:30 am
'Make in India'की विफलता का कारण ही यही है कि पहले देश के हालात को ठीक नहीं किया गया। अगर घर में कूड़ा पड़ा हो तो आप लोगों को दावत पर नहीं बुला सकते हैं, इसके लिए पहले घर की सफाई करनी पड़ेगी, तब जाकर लोग आएँगे। सौजन्य: 'दा हिन्दू'इसलिए पहली ज़रूरत समाज से नफ़रत, भ्रष्टाचार और अपराध की रा...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :
  September 28, 2015, 11:43 am
स्वामी लक्ष्मी शंकराचार्य पहले लंबे समय तक इस्लाम को आतंकवाद से जोड़कर देखते थे। दरअसल उन्होंने 'हिस्ट्री ऑफ इस्लामिक टेररिज्म'नाम की किताब भी लिखी थी जिसमें उन्होंने क़ुरआन की कुछ आयतों को हिंसा से जोड़ा था। परन्तु जब वह 'इस्लाम के कारण खतरे में अमेरिका'नामक किताब पर ...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :Social
  April 7, 2015, 10:29 am
लोकसभा इलेक्शन ख़त्म हुए अब तो 7 महीने से ज़्यादा समय हो चुका है...भाजपा का नारा था कि "बहुत हुआ भ्रष्टाचार, अबकी बार मोदी सरकार"... तो अब तो सरकारी दफ्तरों में बिना रिश्वतों के काम होने लगा है ना? पुलिस बिना रिश्वत के ही काम करने लगी होगी और नगर निगम वाले सुधर गए होंगे? नहीं?"बहु...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :Politics
  January 6, 2015, 6:33 pm
आया  है नया मौक़ा, रौशन से सितारों कानए साल का है तोहफा, ख्वाबों का खुमारों काऑवसम है बड़ा मौसम, गुलज़ार चमन साराचहकी हैं सभी कलियाँ, मौसम है बहारों कानई ऐसी फ़िज़ा झूमे, रौशन हो हर इक चेहराए काश चलन निकले, ढहने का दीवारों का...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :ग़ज़ल
  January 5, 2015, 11:06 am
मर्यादा पुरषोत्तम राम के अस्तित पर यहाँ कोई सवाल नहीं है, सवाल उनके आस्तित्व पर है भी नहीं... बल्कि देश के बुज़ुर्ग होने के नाते उनके लिए दिलों में मुहब्बत और सम्मान है!सवाल सिर्फ यह है कि आखिर ऐसी क्या वजह रहीं कि हमारे रिश्ते इतने खराब हुए कि हम इस अविश्वसनीय कृत्य को अप...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :समाज
  December 6, 2014, 7:39 pm
पिछले दिनों जिस तरह देश के प्रधानमंत्री ही नहीं बल्कि स्वयं चीनी राष्ट्रपति की मौजूदगी में गुजरात सरकार के द्वारा चीन के साथ व्यापारिक एमओयू पर साइन करने के बाद बाँटे गए नक़्शे में अरुणाचल प्रदेश और अक्साई चिन को विवादित क्षेत्र दिखाया गया, यह बिलकुल चीनी दावे पर हमा...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :
  September 26, 2014, 11:46 am
एक नौजवान, शेर से अपनी जान की भीख मांगता रहा, बेहिस लोग वीडियो बनाने में मशगूल थे और सिक्योरिटी सोती रही... 15 मिनट बाद सुरक्षा कर्मियों की नींद खुली, पर अफ़सोस कि तब तक उस बेचारे के प्राण पखेरू उड़ चुके थे परेशानी का सबब यह एक हादसा भर नहीं है बल्कि यह भी है कि कहीं भी, किसी की...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :
  September 25, 2014, 1:49 pm
सर्वाइकल कैंसर के कारण विश्व में हर साल तक़रीबन 2 लाख महिलाओं की मृत्यु हो जाती है और हमारा देश इसके सबसे ज़्यादा खतरे वाले क्षेत्रों में शुमार होता है। HPV अर्थात Human Papilloma Pirus इसके प्रमुख कारणों में से है, और HPV का प्रमुख कारण है Sexually Transmitted Infections (STIs) - जो कि पुरुष साथी के द्वारा प्राइ...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :
  September 18, 2014, 10:09 am
आज 4th बटालियन, ग्रेनेडियर में तैनात हवालदार अब्दुल हमीद की शहादत दिन है। 1965 युद्ध में पाकिस्तानी सेना का सीना चीर कर उस समय के अपराजेय माने जाने वाले उसके "पैटन टैंकों"को तबाह कर देने वाले 32 वर्षीय वीर अब्दुल हमीद आज ही के दिन खेमकरण सेक्टर, तरन तारण में शहीद हुए थे और उन...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :
  September 10, 2014, 9:59 am
कोई फर्क नहीं पड़ता, चाहे नरेन्द्र मोदी हों या मनमोहन सिंह, वाजपेयी हों या कोई और... कोई भी प्रधानमंत्री, जनता का सेवक तब तक नहीं हो सकता जब तक कि देश की जनता हद दर्जे तक असुरक्षित हो और वोह लाल किले से झंडा फहराने के लिए आए तो 700 से ज़्यादा सीसीटीवी कैमरे और सुरक्षाबलों के 30-35 ह...
प्रेमरस...
Shah Nawaz
Tag :
  August 16, 2014, 3:49 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3661) कुल पोस्ट (164744)