Hamarivani.com

जनमानस परिष्कार मंच

1- उठो, जागो और तब तक रुको नही जब तक मंजिल प्राप्त न हो जाये । ------------------------2- जो सत्य है, उसे साहसपूर्वक निर्भीक होकर लोगों से कहो–उससे किसी को कष्ट होता है या नहीं, इस ओर ध्यान मत दो। दुर्बलता को कभी प्रश्रय मत दो। सत्य की ज्योति ‘बुद्धिमान’ मनुष्यों के लिए यदि अत्यधिक मात्रा ...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :Golden Words
  January 11, 2013, 10:50 pm
कोई मनुष्य यदि कल्पना कर सकता है और बिना विचारे उस पर आसक्त हो जाता है, तो वह एक खतरनाक मार्ग को अपनाता है । ज्यों ही एक कल्पना उठी, त्यों ही उस पर आसक्त होकर कार्य रूप में लाने को तुरंत तैयार हो जाना- एक ऐसा दुर्गुण है, जिसके कारण लोग अकसर धोखा खाते और ठगे जाते हैं । अपनी ही ...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :chintan
  December 20, 2012, 3:42 pm
जो कल्पनाएँ आपके मस्तिष्क में उठें, उनके संबंध में प्रथम विचार कीजिए कि उनसे हमारा कोई लाभ है या नहीं । यदि निरर्थक हानिकर कल्पनाएँ उठती हैं, तो उन्हें अपने मानसलोक से निकाल बाहर कीजिए । प्रथम अपना उद्देश्य और कार्यक्रम निर्धारित कीजिए । फिर मन को आज्ञा दीजिए कि उन्ही...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :chintan
  December 20, 2012, 3:39 pm
भारत को आज मैं उस मन:स्थिति में देख रहा हूँ, जिसमें अवतार की आकांक्षा होती है। यह जरुरी नहीं है कि मनुष्य का अवतार होगा। विचार का भी अवतार होता है।लोग समझते है कि रामचंद्र एक अवतार थे, कृष्ण-बुद्ध अवतार थे। लेकिन उन्हें हमने अवतार बनाया है। वे आपके और मेरे जैसे मनुष्य ह...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :chintan
  December 20, 2012, 3:34 pm
एक बार अमेरिका के राष्ट्रपति जॉर्ज वॉशिंगटन नगर की स्थिति का जायजा लेने के लिए निकले। रास्ते में एक जगह भवन का निर्माण कार्य चल रहा था। वह कुछ देर के लिए वहीं रुक गए और वहां चल रहे कार्य को गौर से देखने लगे। कुछ देर में उन्होंने देखा कि कई मजदूर मिलकर एक बड़ा-सा पत्थर उठा...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :Motivational Stories
  December 10, 2012, 8:55 pm
।।जीते-जी रक्तदान।।                                         ।।जाते-जाते नेत्रदान।।‘‘एक महत्त्वपूर्ण अपील - ब्लड हेल्पलाइन’’आदरणीय स्नेहीजन,सादर वन्दे मातरम्।यह पत्र एक विशेष प्रयोजन हेतु प्रस्तुत है। इसका उद्देश्य जरूरतमंद रोगी को उसके वांछित शहर में वांछित ग्रुप का ब्लड स्वै...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :Articles
  December 6, 2012, 10:43 pm
1- "Words don't have teeth, but they can bite." **************2- GOD is d Best Listener,U Neither Need 2 Shout Nor CRY Loud.Bcoz He Hear's Even d Very silent prayer of a Sincere Heart. **************3- Poet ELIOT said: "Whn u get little u want more, Whn u get more, u desire even more, bt whn u lose it, u realize LITTLE was enough" **************4- Important lessons from a humble pencil-It tells u that everything u do will always leave a mark.U can always correct the mistakes u make. **************To be d best u can be, u must allow urself to be held & guided by the Hand that holds u.. **************5- Make use of opportunities. Str...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :Motivational SMS
  November 7, 2012, 10:01 pm
1- KABHI-KABHI KISI KE JIWAN ME AESA BHEE HOTA H KI 'AEK PAL KA SATSANG' POORE JIWAN KO BADAL DETA H-RAMAYAN ---------------------------2- Life Is A Continuous Challenge And An Unending Struggle.We r Not Made Rich By What Is In Our Pocket ButWe r Rich By What Is In Our Heart & Soul. ---------------------------3- "Success does not depend On making Important Decisions Quickly.!But it Depends On Taking ''Quick Action'' On Important Decisions" ---------------------------4- Jindagi Aisi Na Jeeyo Ki Log..."'FARIYAAD'" Kare.Balki Aisi Jeeyo Ki Log..."'FIR-YAAD'" Kare... ---------------------------5- "Seediyan unke liye ...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :Motivational SMS
  November 7, 2012, 9:56 pm
1- Bat Pte ki-"A person Dreaming of an Ambition without making an Effort, is much similar to a Bird flying with wings and No Legs to Land". ----------------------2- British 2 Vivekanand: Cant U Wear Proper Clothes 2 b A Gentleman ? Swami: In Ur Culture Tailor Makes Gentlemen, Bt In Our Culture CHARACTER Makes Gentlmen. ----------------------3- KOI B KAMNA KISI VYADHI SE KAM NAHI H JITNI BADI KAMNA UTNI BADI VYADHI JEEW JITNI KAM KAMNA RAKHEGA USE UTNI HI SHANTI KI PRAPTI HOGI... ----------------------4- Choose ur Friends & ur Books carefully.Friends influence ur Character & books influence our Thoughts. ----------------------5- Aaj ka happy price ...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :Motivational SMS
  October 12, 2012, 8:55 am
बहुत से लोगों के मन में उमंगें उठती हैं पर वे यह सोचकर चुप रह जाते हैं कि अभी हम उसके योग्य नहीं। जब हम पूर्णतः योग्य और सक्षम हो जायेंगे तब सेवा करेंगे। स्मरण रखा जाना चाहिए कि आज तक संसार में पूर्णतः योग्य न हुआ है और न होगा, क्योंकि जो पूर्ण होता है वह भवबंधनों से ही मुक...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :chintan
  October 10, 2012, 4:03 pm
अपने काम में आने वाली वस्तुओं को साफ-सुथरा रखना, उन्हें सुंदर बनाना और सजाकर रखना यह भी एक छोटा मनोरंजक कार्य है, जिससे चित्त में प्रसन्नता की लहरें उत्पन्न होती हैं। गंदी, टूटी हुई और बेतरतीब पड़े हुए कागजों वाली मेज पर काम करने की अपेक्षा एक साफ-सुथरी, सुंदर और सुसज्ज...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :chintan
  October 10, 2012, 4:00 pm
एक स्थान पर कई प्रकार की चीजें एकत्रित करो, जैसे दो-तीन प्रकार की कलमें, तीन-चार तरह के फूल, कई तरह के बटन, चाकू, पिन, मिठाई की गोलियाँ आदि। आरंभ में इनकी संख्या दस-बारह होनी चाहिए। एक बार ध्यानपूर्वक इन सबको देख लो, फिर आँखें बंद करके बताओ कि कौन वस्तु कहाँ रखी हुई है ? यदि ठी...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :chintan
  October 10, 2012, 3:58 pm
उत्साह, चुस्त स्वभाव और समय की पाबंदी यह तीन गुण बुद्धि बढ़ाने के लिए अद्वितीय कहे गये हैं।इनके द्वारा इस प्रकार के अवसर अनायास ही होते रहते हैं, जिनके कारण ज्ञानभंडार में अपने आप वृद्धि होती है। एक विद्वान् का कथन है -कोई व्यक्ति छलांग मारकर महापुरुष नहीं बना जाता, बल...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :chintan
  October 3, 2012, 5:17 pm
भूल से बुद्धि-विकास होता है।एक भूल का अर्थ है - आगे के लिए अकलमंदी। संसार के अनेक पशु भूल से विवेक सीखते हैं लेकिन मनुष्य उनसे बहुत जल्दी सीखता है। भूल का अर्थ है कि भविष्य में आप अपनी गलती नहीं दुहराएँगे। भूल से अनुभव बढ़ता है। संसार में व्यक्ति के अनुभव का ही महत्व है। ...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :chintan
  October 3, 2012, 5:09 pm
निष्काम सेवा करने से आप अपने हृदय को पवित्र बना लेते हैं। अहंभाव, घृणा, ईर्ष्या, श्रेष्ठता का भाव और इसी प्रकार के और सब आसुरी संपत्ति के गुण नष्ट हो जाते हैं। नम्रता, शुद्ध, प्रेम, सहानुभूति, क्षमा, दया आदि की वृद्धि होती है। भेदभाव मिटजाते हैं। स्वार्थपरता निर्मूल हो ज...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :chintan
  October 3, 2012, 5:00 pm
लगातार असफल होने से आपको साहस नहीं छोड़ना चाहिए। असफलता के द्वारा आपको अनुभव मिलता है। आपको वे कारण मालूम होंगे, जिनसे असफलता हुई है और भविष्य में उनसे बचने के लिए सचेत रहोगे। आपको बड़ी-बड़ी होशियारी से उन कारणों की रक्षा करनी होगी। इन्हीं असफलताओं की कमजोरी में से आप...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :chintan
  October 3, 2012, 4:57 pm
गंदी वासनाएँ दग्ध की जाए तथा दैवी संपदाओं का विकास किया जाए तो उत्तरोत्तर आत्मविकास हो सकता है। कुत्सित भावनाओं में क्रोध, घृणा, द्वेष, लोभ और अभिमान, निर्दयता, निराशा अनिष्ट भाव प्रमुख हैं, धीरे-धीरे इनका मूलोच्छेदन कर देना चाहिए। इनसे मुक्ति पाने का एक यह भी उपाय है क...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :chintan
  October 3, 2012, 4:53 pm
1. "Hard work is A Cup of Milk. Luck is Just Like A Spoon of Sugar, God Always give Sugar to Those who have A Cup of Milk." --------------------2. "Its nt arrogance, nor pride nor attitude.I just love myself bcoz d only person who truly understand me is "me". --------------------3. CHOTE-CHOTE GUNAHO KO KAM NA SAMJNA TUM KYU KI 'PAHAD' TO KANKRIYO SE HI BANTA H. "AEK CHOTE SE BEEJ ME AEK MAHA-VRIKSH CHIPA HUWA H." --------------------4. "Mind Makes Brilliant Decision,With Some Mistakes.But,Heart Takes Cute Decisions,With 100 Percent Satisfaction..." --------------------5. HAR AEK KA APNA AEK 'SAMAY'...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :Motivational SMS
  September 25, 2012, 8:38 am
एक साधू नदी किनारे टहल रहे थे , उन्होंने देखा की एक मछुवारा नदी के तट पर बैठा लोहे के काटे में आटे की गोलिया फसा रहा हैं , उत्सुकता से उन्होंने उससे ऐसा करने का कारण पूछा तो वो बोला कि :- "महाराज ! मैं ये काटा नदी में डालूँगा और आटे की लालच में मछलिया गोलिया खाएगी तो कटे में फ...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :Motivational Stories
  September 8, 2012, 2:51 pm
1- "Just a movement is not a Life But every movement is a turning point of ur Life..." Think sLowLy, U wiLL get actuaL meaning of Life -------------------------2- "Ek Behtreen Insaan Apni Jubaan Se Hi Pahchana Jata Hai... Warna Achhi Baatein To Deewaro Par Bhi Likhi Hoti H. -------------------------3- All d Right Things r Not Possible Always, All d Possible Things r Not Right Always.. so just be True to ur Heart, u'll NEVER Go Wrong. -------------------------4- The Most Important TIME to Hold Your Temper is when the Other Person has Lost it''.... -------------------------5- Zindgi se ap jo bhi behtar-se-behtar le sakte ho, le lo ! Qki... Zindg...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :Motivational SMS
  September 1, 2012, 4:32 pm
कर्म कई प्रकार के है , जिनको हम तीन भागों में बाँट सकते हैं -[ १ ] निषिद्ध कर्म - चोरी , व्यभिचार , हिंसा , असत्य , कपट , छल , जबरदस्ती , अभक्ष्य - भक्षण , प्रमाद आदि |[ २ ] काम्य कर्म - स्त्री , पुत्र , धन आदि प्रिय... वस्तुओं की प्राप्ति के लिए तथा रोग संकट आदि की निवृति के लिए किये जाने वाल...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :Articles
  August 8, 2012, 9:25 pm
कहना न होगा कि समस्त समृद्धि, प्रगति और शान्ति का सद्भाव मनुष्य के सद्गुणों पर अवलम्बित है। दुर्गुणी व्यक्ति हाथ में आई हुई, उत्तराधिकार में मिली हुई समृद्धियों को गवाँ बैठते हैं और सद्गुणी गई-गुजरी परिस्थितियों में रहते हुए भी प्रगति के हजार मार्ग प्राप्त कर लेते ह...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :chintan
  August 4, 2012, 2:04 pm
प्रतिभाएँ वातावरण विनिर्मित भी करती हैं, पर उनकी संख्या थोड़ी सी ही होती है। हीरे भी जहाँ-तहाँ कभी-कभी ही निकलते हैं, पर काँच के नगीने ढेरों कारखानों में नित्य ढलते रहते हैं। अधिकांश लोग ऐसे होते हैं जो वातावरण के दबाव से भले या बुरे ढाँचे में ढलते है। ऐसे लोग अपवाद ही ...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :chintan
  August 4, 2012, 2:01 pm
उपार्जन एक बात है और सदुपयोग दूसरी। शारीरिक और मानसिक क्षमता के आधार पर किसी भी प्रकार उपार्जन किया जा सकता है, किन्तु उसका सदुपयोग दूरदर्शी विवेक के बिना नीति निष्ठा के बिना बन नहीं पड़ता। उस स्तर की क्षमता का होना भी सुसंतुलन बनाये रखने के लिए आवश्यक है।पदार्थ विज्...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :chintan
  August 4, 2012, 1:12 pm
गाय हिंदु धर्म में पवित्र और पूजनीय मानी गई है। शास्त्रों के अनुसार गौसेवा के पुण्य का प्रभाव कई जन्मों तक बना रहता है। इसीलिए गाय की सेवा करने की बात कही जाती है।पुराने समय से ही गौसेवा को धर्म के साथ ...ही जोड़ा गया है। गौसेवा भी धर्म का ही अंग है। गाय को हमारी माता बताय...
जनमानस परिष्कार मंच...
Tag :Articles
  July 29, 2012, 6:39 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163819)