Hamarivani.com

नन्हे सुमन

रंग-गुलाल साथ में लाया।होली का मौसम अब आया।पिचकारी फिर से आई हैं,बच्चों के मन को भाई हैं,तन-मन में आनन्द समाया।होली का मौसम अब आया।।गुझिया थाली में पसरी हैं,पकवानों की महक भरी हैं, मठरी ने मन को ललचाया।होली का मौसम अब आया।।बरफी की है शान निराली,भरी हुई है पूरी थाली,अम्...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :होली का मौसम अब आया
  March 8, 2017, 5:13 am
झूम-झूमकर मच्छर आते।कानों में गुञ्जार सुनाते।।नाम ईश का जपते-जपते।सुबह-शाम को खूब निकलते।। बैठा एक हमारे सिर पर।खून चूसता है जी भर कर।।नहीं यह बिल्कुल भी डरता।लाल रक्त से टंकी भरता।। कैसे मीठी निंदिया आये?मक्खी-मच्छर नहीं सतायें।मच्छरदानी को अपनाओ।चैन-अमन से स...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :बालकविता
  March 1, 2017, 5:51 am
कितना सुन्दर और सजीला।खट्टा-मीठा और रसीला।।हरे-सफेद, बैंगनी-काले।छोटे-लम्बे और निराले।।शीतलता को देने वाले।हैं शहतूत बहुत गुण वाले।।पारा जब दिन का बढ़ जाता।तब शहतूत बहुत मन भाता। इसका वृक्ष बहुत उपयोगी।ठण्डी छाया बहुत निरोगी।।टहनी-डण्ठल सब हैं बढ़िया।इनसे बनत...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :बालकविता
  February 21, 2017, 7:00 am
सीधा-सादा. भोला-भाला।बच्चों का संसार निराला।।बचपन सबसे होता अच्छा।बच्चों का मन होता सच्चा।पल में रूठें, पल में मानें।बैर-भाव को ये क्या जानें।।प्यारे-प्यारे सहज-सलोने।बच्चे तो हैं स्वयं खिलौने।।बच्चों से होती है माता।ममता से है माँ का नाता।।बच्चों से है दुनियादा...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :बालकविता
  February 20, 2017, 5:39 am
तीखी-तीखी और चर्परी।हरी मिर्च थाली में पसरी।।तोते इसे प्यार से खाते।मिर्च देखकर खुश हो जाते।।सब्ज़ी का यह स्वाद बढ़ाती।किन्तु पेट में जलन मचाती।।जो ज्यादा मिर्ची खाते हैं।सुबह-सुबह वो पछताते हैं।।दूध-दही बल देने वाले।रोग लगाते, मिर्च-मसाले।।शाक-दाल को घर में लान...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :बालकविता
  February 15, 2017, 7:31 pm
मैं तुमको गुरगल कहता हूँ,लेकिन तुम हो मैना जैसी।तुम गाती हो कर्कश सुर में,क्या मैना होती है ऐसी??सुन्दर तन पाया है तुमने,लेकिन बहुत घमण्डी हो।नहीं जानती प्रीत-रीत को,तुम चिड़िया उदण्डी हो।।जल्दी-जल्दी कदम बढ़ाकर,तुम आगे को बढ़ती हो।अपनी सखी-सहेली से तुम,सौतन जैसी लड़त...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :सबके प्यारे बन जाओगे
  February 13, 2017, 5:48 am
चित्रांकन - कु. प्राचीमम्मी देखो मेरी डॉल।खेल रही है यह तो बॉल।।पढ़ना-लिखना इसे न आता।खेल-खेलना बहुत सुहाता।।कॉपी-पुस्तक इसे दिलाना।विद्यालय में नाम लिखाना।।मैं गुड़िया को रोज सवेरे।लाड़ लड़ाऊँगी बहुतेरे।।विद्यालय में ले जाऊँगी।क.ख.ग.घ. सिखलाऊँगी।।...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :बालकविता
  February 10, 2017, 7:16 pm
काले रंग का चतुर-चपल,पंछी है सबसे न्यारा।डाली पर बैठा कौओं का, जोड़ा कितना प्यारा।नजर घुमाकर देख रहे ये,कहाँ मिलेगा खाना।जिसको खाकर कर्कश स्वर में,छेड़ें राग पुराना।।काँव-काँव का इनका गाना,सबको नहीं सुहाता।लेकिन बच्चों को कौओं का,सुर है बहुत लुभाता।।कोयलिया की ...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :बालकविता
  February 6, 2017, 7:57 pm
बगुला भगत बना है कैसा?लगता एक तपस्वी जैसा।।अपनी धुन में अड़ा हुआ है।एक टाँग पर खड़ा हुआ है।।धवल दूध सा उजला तन है।जिसमें बसता काला मन है।।मीनों के कुल का घाती है।नेता जी का यह नाती है।।बैठा यह तालाब किनारे।छिपी मछलियाँ डर के मारे।।पंखों को यह नोच रहा है।आँख मूँद कर सो...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :लगता एक तपस्वी जैसा
  January 31, 2017, 11:16 am
पूरब से जो उगता है और पश्चिम में छिप जाता है।यह प्रकाश का पुंज हमारा सूरज कहलाता है।। रुकता नही कभी भी चलता रहता सदा नियम से, दुनिया को नियमित होने का पाठ पढ़ा जाता है। यह प्रकाश का पुंज हमारा सूरज कहलाता है।। नही किसी से भेद-भाव ये बैर कभी रखता है, सदा हितैषी रह...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :बालगीत
  January 27, 2017, 8:20 pm
रंग-बिरंगी पेंसिलें तो, हमको खूब लुभाती हैं। ये ही हमसे ए.बी.सी.डी., क.ख.ग. लिखवाती हैं।। रेखा-चित्र बनाना, इनके बिना असम्भव होता है।कला बनाना भी तो, केवल इनसे सम्भव होता है।। गल्ती हो जाये तो,लेकर रबड़ तुरन्त मिटा डालो।गुणा-भाग करना चाहो तो,बस्ते में से इसे...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :बालकविता
  January 24, 2017, 7:09 am
मई महीना आता है और, जब गर्मी बढ़ जाती है।नानी जी के घर की मुझको, बेहद याद सताती है।।तब मैं मम्मी से कहती हूँ, नानी के घर जाना है।नानी के प्यारे हाथों से, आइसक्रीम भी  खाना है।।कथा-कहानी मम्मी तुम तो, मुझको नही सुनाती हो।नानी जैसे मीठे स्वर में, गीत कभी नही ...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :बालकविता
  January 22, 2017, 8:09 am
 इतनी जल्दी क्या है बिटिया, सिर पर पल्लू लाने की।अभी उम्र है गुड्डे-गुड़ियों के संग,समय बिताने की।।मम्मी-पापा तुम्हें देख कर,मन ही मन हर्षाते हैं।जब वो नन्ही सी बेटी की,छवि आखों में पाते है।।जब आयेगा समय सुहाना, देंगे हम उपहार तुम्हें।तन मन धन से सब सौगातें, देंग...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :मेरी प्यारी मुनिया
  January 21, 2017, 5:31 am
विद्या का भण्डार भरा है जिसमें सारा।मुझको अपना विद्यालय लगता है प्यारा।।नित्य नियम से विद्यालय में, मैं पढ़ने को जाता हूँ।इण्टरवल जब हो जाता मैं टिफन खोल कर खाता हूँ।खेल-खेल में दीदी जी विज्ञान गणित सिखलाती हैं।हिन्दी और सामान्य-ज्ञान भी ढंग से हमें पढ़ाती हैं।।कम...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :विद्यालय लगता है प्यारा
  January 20, 2017, 7:52 am
"उल्लू"उल्लू का रंग-रूप निराला।लगता कितना भोला-भाला।।अन्धकार इसके मन भाता।सूरज इसको नही सुहाता।।यह लक्ष्मी जी का वाहक है।धन-दौलत का संग्राहक है।।इसकी पूजा जो है करता।ये उसकी मति को है हरता।।धन का रोग लगा देता यह।सुख की नींद भगा देता यह।।सबको इसके बोल अखरते।बड़े-बड़े ...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :प्रकाशन
  January 18, 2017, 7:14 pm
यह कुत्ता है बड़ा शिकारी।बिल्ली का दुश्मन है भारी।।बन्दर अगर इसे दिख जाता।भौंक-भौंक कर उसे भगाता।।उछल-उछल कर दौड़ लगाता।बॉल पकड़ कर जल्दी लाता।।यह सीधा-सच्चा लगता है।बच्चों को अच्छा लगता है।।धवल दूध सा तन है सारा।इसका नाम फिरंगी प्यारा।।आँखें इसकी चमकीली हैं।भूरी स...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :बालकविता
  January 18, 2017, 7:39 am
 मैं अपनी मम्मी-पापा के,नयनों का हूँ नन्हा-तारा। मुझको लाकर देते हैं वो,रंग-बिरंगा सा गुब्बारा।।मुझे कार में बैठाकर,वो रोज घुमाने जाते हैं।पापा जी मेरी खातिर,कुछ नये खिलौने लाते हैं।। मैं जब चलता ठुमक-ठुमक,वो फूले नही समाते हैं।जग के स्वप्न सलोने,उनकी आँखों में छ...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :बालकविता
  January 17, 2017, 8:35 am
गुन-गुन करता भँवरा आया।कलियों फूलों पर मंडराया।।यह गुंजन करता उपवन में।गीत सुनाता है कानन में।।कितना काला इसका तन है।किन्तु बड़ा ही उजला मन है।जामुन जैसी शोभा न्यारी।खुशबू इसको लगती प्यारी।।यह फूलों का रस पीता है।मीठा रस पीकर जीता है।।...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :मीठा रस पीकर जीता है
  January 15, 2017, 5:49 pm
बच्चों को लगते जो प्यारे।वो कहलाते हैं गुब्बारे।।गलियों, बाजारों, ठेलों में।गुब्बारे बिकते मेलों में।।काले, लाल, बैंगनी, पीले।कुछ हैं हरे, बसन्ती, नीले।।पापा थैली भर कर लाते।जन्म-दिवस पर इन्हें सजाते।।गलियों, बाजारों, ठेलों में।गुब्बारे बिकते मेलों में।।फूँ...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :बालकविता
  January 13, 2017, 7:52 am
गैस सिलेण्डर कितना प्यारा।मम्मी की आँखों का तारा।।रेगूलेटर अच्छा लाना।सही ढंग से इसे लगाना।।  गैस सिलेण्डर है वरदान।यह रसोई-घर की है शान।। दूघ पकाओ, चाय बनाओ। मनचाहे पकवान बनाओ।। बिजली अगर नही है घर में।यह प्रकाश देता पल भर में।। बाथरूम में इसे लगाओ। गर्म-...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :बालकविता
  January 12, 2017, 5:30 am
मेरा बस्ता कितना भारी।बोझ उठाना है लाचारी।।मेरा तो नन्हा सा मन है।छोटी बुद्धि दुर्बल तन है।।पढ़नी पड़ती सारी पुस्तक।थक जाता है मेरा मस्तक।।रोज-रोज विद्यालय जाना।बड़ा कठिन है भार उठाना।।कम्प्यूटर का युग अब आया।इसमें सारा ज्ञान समाया।।मोटी पोथी सभी हटा दो।बस्ते ...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :बालकविता
  January 11, 2017, 7:29 am
मेरी गैया बड़ी निराली, सीधी-सादी, भोली-भाली। सुबह हुई काली रम्भाई,मेरा दूध निकालो भाई। हरी घास खाने को लाना,उसमें भूसा नही मिलाना। उसका बछड़ा बड़ा सलोना,वह प्यारा सा एक खिलौना।  मैं जब गाय दूहने जाता,वह अम्मा कहकर चिल्लाता।  सारा दूध नही दुह लेना,मुझको भी ...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :सारा दूध नही दुह लेना
  January 10, 2017, 6:00 am
मन को बहुत लुभाने वाली,तितली रानी कितनी सुन्दर।भरा हुआ इसके पंखों में,रंगों का है एक समन्दर।।उपवन में मंडराती रहती,फूलों का रस पी जाती है।अपना मोहक रूप दिखाने,यह मेरे घर भी आती है।।भोली-भाली और सलोनी,यह जब लगती है सुस्ताने।इसे देख कर एक छिपकली,आ जाती है इसको खाने।।आहट...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :बालकविता
  January 9, 2017, 8:35 am
“नन्हे सुमन” ब्लॉग!बच्चों अर्थात् नन्हीं कलियों और सुमनों को समर्पित हैः चिड़िया रानी फुदक-फुदक कर,मीठा राग सुनाती हो।आनन-फानन में उड़ करके,आसमान तक जाती हो।।मेरे अगर पंख होते तो,मैं भी नभ तक हो आता।पेड़ो के ऊपर जा करके,ताजे-मीठे फल खाता।।जब मन करता मैं उड़ कर क...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :बालकविता
  January 8, 2017, 7:42 am
कह दिया मेरे सुमन ने आज सुन्दर।तार वीणा के बजे बिन साज  सुन्दर ।।ज्ञान की गंगा बही, विज्ञान पुलकित हो गया,आकाश झंकृत हो गया, संसार हर्षित हो गया,नाम से माँ के हुआ आगाज़  सुन्दर ।तार वीणा के बजे बिन साज  सुन्दर ।।बेसुरे से राग में, अनुराग भरने को चला हूँ,मैं...
नन्हे सुमन...
nice
Tag :वन्दना
  January 7, 2017, 7:30 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3685) कुल पोस्ट (167998)