Hamarivani.com

उच्चारण

खिजाओं से बहारों की, कभी उम्मीद मत करनाघटाओं में सितारों की, कभी उम्मीद मत करनाभले हों दूर वे घर से, मगर अपने तो अपने हैंगैरों से सहारों की, कभी उम्मीद मत करना हुए गद्दीनशीं जो हैं, लुटा भरपूर दौलत कोयहाँ उनसे सुधारों की, कभी उम्मीद मत करनागरज से ही डराते हैं, बरसते ज...
Tag :ग़ज़ल
  July 23, 2019, 12:03 pm
चमन के फूल सहमें हैं, नजारा देख मौसम काहुए गमगीन भँवरे हैं, नजारा देख मौसम काफलक में हैं बहुत बादल, नदारत है मगर बारिशबड़ा हैरान है माली, नजारा देख मौसम काकरो जैसा-भरो वैसा, यही कानून कुदरत कामियाँ हलकान क्यों होते, नजारा देख मौसम काजफा करके मिलेगा क्या, यहाँ अहसान क...
Tag :नजारा देख मौसम का
  July 22, 2019, 7:08 am
वही सरिता कहाती है, भरी जिसमें रवानी हैधरा की सब दरारों को, मिटाता सिर्फ पानी हैपनपती बुजदिली जिसमें, युवा वो हो नहीं सकताउसी को नौजवां समझो, भरी जिसमें जवानी हैजहाँ ईमान बिकते हों, वहाँ सब बात बेमानीशिकायत और शिकवों की, वहाँ झूठी कहानी हैइबादत तो जमाने में, सभी दि...
Tag :वही बस पावमानी है
  July 21, 2019, 12:03 pm
सिर छिपाने के लिए, इक शामियाना चाहिएप्यार पलता हो जहाँ, वो आशियाना चाहिएराजशाही महल हो, या झोंपड़ी हो घास कीसुख मिले सबको जहाँ, वो घर बनाना चाहिएदाँव भी हैं-पेंच भी हैं, प्यार के इस खेल मेंइस पतंग को, सावधानी से उड़ाना चाहिएमुश्किलों से है भरी, ये ज़िन्दग़ानी की डगरआ...
Tag :ग़ज़ल
  July 21, 2019, 7:32 am
रंग भी रूप भी छाँव भी धूप भी,देखते-देखते ही तो ढल जायेंगे।देश भी भेष भी और परिवेश भी,वक्त के साथ सारे बदल जायेंगे।।ढंग जीने के सबके ही होते अलग,जग में आकर सभी हैं जगाते अलख,प्रीत भी रीत भी, शब्द भी गीत भी,एक न एक दिन तो मचल जायेंगे।वक्त के साथ सारे बदल जायेंगे।।आप चाहे भु...
Tag :पत्थरों में से धारे निकल आयेंगे
  July 20, 2019, 8:27 am
अधरों को अच्छा लगे, अधरों का इकरार।मन को बहुत लुभा रहा, गोरी का शृंगार।।--लाल रंग के अधर हैं, घुँघराले से बाल। दाड़िम जैसे दहकते, उसके गोरे गाल।।--कजरारे दो नैन हैं, चितवन करें कमाल।कानों में झुमकी सजें, बिन्दिया चमके भाल।। --रत्न-जटित है करघनी, मोती की है माल।मटक-मटक ...
Tag :दोहे
  July 18, 2019, 6:14 pm
वृक्षारोपण की लगी, आज सब जगह होड़।सबने पौधे रोपकर, दिये अधर में छोड़।।--गत वर्षों की पौध का, बचा न नाम-निशान।अधिकारीगण आँकड़े, करते खूब बखान।।--महज दिखावे के लिए, सब सरकारी काम।यहाँ सभी को चाहिए, अखबारों में नाम।।--रोपो पौधे कम भले, लेकिन करो रखाव।लेकिन धरती के लिए, रखिए से...
Tag :दोहे
  July 18, 2019, 4:30 am
मतलब के हैं अब गुरू, मतलब के हैं शिष्य।नेह बिना तब पौध का, कैसे बने भविष्य।।--लेखन-शोधन के लिए, चलकर आते द्वार।चेले मतलब के लिए, करते हैं मनुहार।। --नहीं छिपाये से छिपें, खिलते फूल कनेर।मिलकर चेले राह में, लेते नजरें फेर।।--हो जाये गुरु-शिष्य का, रिश्ता यदि निष्काम।तभ...
Tag :सद्गुरुओं को रंज
  July 17, 2019, 4:30 am
चलो गुरू के द्वार पर, गुरु का धाम विराट।गुरू शिष्य के खोलता, सारे ज्ञान-कपाट।।--इस अवसर पर कीजिए, गुरुसत्ता को याद।गुरुओ को मत दीजिए, जीवन में अवसाद।।--जो गुरु का आदर करे, वो है सच्चा शिष्य।अनुकम्पा से गुरू की,उज्जवल बने  भविष्य।।--गुरू पूर्णिमा दिवस पर, मन को करो पवित्र...
Tag :दोहे
  July 16, 2019, 9:41 am
पत्तों को सब सींचते, नहीं सींचते मूल।नवयुग में होने लगीं, बातें ऊल-जुलूल।।--सबके अपने ढंग हैं, अपने नियम-उसूल।अब आदर-सत्कार को, लोग गये हैं भूल।।--चौमासे में उड़ रही, सड़कों पर अब धूल।वीराना लगता चमन, मुरझाये हैं फूल।।--तू-तू मैं-मैं को यहाँ, लोग दे रहे तूल।आपाधापी मे...
Tag :दोहे
  July 16, 2019, 7:35 am
गरिमा को मत त्यागिए, गरिमा जीवन सार।जग में रहने के लिए, गरिमा है उपहार।।रखना गरिमा को सदा, घर हो या ससुराल।गरिमा जैसे तत्व को, रखना खूब सँभाल।।गरिमा बतलाती हमें, साम-दाम के अर्थ।गरिमा के बिन मनुज के, धर्म-कर्म हैं व्यर्थ।।गरिमा सुख का सार है, गरिमा ही शृंगार।गरिमा ...
Tag :दोहे
  July 15, 2019, 10:44 am
बात का ग़र ग़िला नहीं होतारार का सिलसिला नहीं होताग़र न ज़ज़्बात होते सीने मेंदिल किसी से मिला नहीं होताआम में ज़ायका नहीं आता वो अगर पिलपिला नहीं होतातिनके-तिनके अगर नहीं चुनतेतो बना घोंसला नहीं होतादाद मिलती नहीं अगर उनसेतो बढ़ा हौसला नहीं होताप्यार में बेवफा अ...
Tag :ग़ज़ल
  July 13, 2019, 4:29 pm
ज़िन्दग़ी तार-तार मत करनाकोई वादा-क़रार मत करनाभावनाओं के जोश में आकरराहगीरों से प्यार मत करनाज़लज़ले नाख़ुदा नहीं होतेज़ालिमों से पुकार मत करनाअपने दिल की सफेद चादर कोबेवज़ह दाग़दार मत करनाअपना दामन बचाना फूलों से“रूप” का एतबार मत करना ...
Tag :ज़ालिमों से पुकार मत करना
  July 13, 2019, 4:00 am
कीचड़ से बरसात में, सड़के हैं लवरेज।कोशिश करके घरों को, निर्धन रहे सहेज।।--जगह-जगह होने लगा, पानी का ठहराव।नदियाँ भी तटबन्ध का, करने लगीं कटाव।।--नक्शा बदला नगर का, बिगड़ गया भूगोल।पहली बारिश में खुली, इन्तजाम की पोल।।--उगने लगी जमीन पर, हरी-हरी अब घास।बारिश से पूरी ...
Tag :बनना पानीदार
  July 11, 2019, 6:10 pm
आते मन-मस्तिष्क में, प्रतिदिन नये विचार।शब्दों को दे दीजिए, कविता का आकार।।बनते नवल विचार से, दोहे-कविता-गीत।सतत साधना से मिले, फल भी आशातीत।।उपवन में जाकर मिले, भँवरों को मकरन्द।मोहक वातावरण में, बन जाते हैं छन्द।।रखिए मत मन पर कभी, कुण्ठाओं का भार।मंथन करके की...
Tag :दोहे
  July 11, 2019, 4:00 am
उमड़ घुमड़कर आते बादलजल की बूँदे लाते बादलपड़ी फुहारें रिमझिम-रिमझिमपिघल रहा है पर्वत से हिमअनुपम छटा दिखाते बादलजल की बूँदे लाते बादलबच्चे फूले नहीं लुभातेओढ़ रहे बरसाती-छातेभीग रहे हैं उपवन-काननजल की बूँदे लाते बादलश्याम घटा नभ में गहरातीपौध धान की है ल...
Tag :माटी को महकाते बादल
  July 9, 2019, 11:54 am
चम-चम चपला चमकती, बादल करते शोर।आज हमारे गाँव में, बारिश का है जोर।।अभी भयंकर धूप थी, छाये अब घनश्याम।भीषण गरमी से मिला, लोगों को आराम।।नभ में बादल देखकर, दिनकर है भयभीत।खुशियाँ मेघ मना रहा, देख स्वयं की जीत।।आसमान से गिर रहीं, मोटी जल की बूँद।बया नीड़ में सो रहा, अ...
Tag :दोहे
  July 9, 2019, 4:00 am
बन जाता हो नित्य ही, लिखने का संयोग।मिट जाता है बदन का, मेरे सारा रोग।।रोज सवेरे जागकर, लिखता मन की बात।चलकर आ जाते स्वयं, जुमले और जमात।।तुकबन्दी के साथ में, जब बन जाते छन्द।एक अनोखा तब मुझे, मिल जाता आनन्द।।पढ़ने-लिखने से खुलें, भावनाओं के द्वार।पढ़ना-लिखना सुमन...
Tag :लिखता मन की बात
  July 8, 2019, 4:00 am
नभ में छाये काले बादल।मन भरमाते काले बादल।।दिन में छाया है अँधियारा,बादल से सूरज है हारा,बौराये हैं काले बादल।मन भरमाते काले बादल।।चपला चम-चम चमक रही है,आसमान मॆं दमक रही है,बरस रहे हैं काले बादल।मन भरमाते काले बादल।।बादल होते हैं मतवाले,जीवन जग को देने वाले,ब...
Tag :बालगीत
  July 7, 2019, 4:00 am
गर्मी का मौसम है आया।आड़ू और खुमानी लाया।।आलूचा है या कहो बुखारा।काला-काला कितना प्यारा।।खट्टे-मीठे और रसीले।काले-लाल और हैं पीले।।सूरज जब शोले बरसाता।धरती का पारा बढ़ जाता।।तब ये अपना रूप दिखाते।मैदानों की प्यास बुझाते।।अगर चाहते हो सुख पाना।मौसम के सारे फल खान...
Tag :मौसम के सारे फल खाना
  July 6, 2019, 4:00 am
 लोगों में सम्मान की, लगी हुई है होड़।करते लोग खुशामदें, लिखना-पढ़ना छोड़।।--प्रतिभाओं का हो रहा, दुनिया में अपमान।क्रय करते कुछ लोग हैं, अब झूठे सम्मान।।--सम्मानों की दौड़ से, रखना खुद को दूर।लिख करके साहित्य को, मत होना मगरूर।।--काम कलम का बोलता, नहीं बोलता नाम।छो...
Tag :दोहे
  July 4, 2019, 5:49 pm
प्रीत-रीत-मनुहार के, जिससे खुलते द्वार।अहंकार को छोड़ कर, कर लेना अभिसार।।बिना किसी अनुबन्ध के, मिलते जहाँ विचार।सफल सदा होता वहाँ, जीवन में अभिसार।।दिल की धरती उर्वरा, जिसमें नफरत-प्यार।हो सच्चा अनुराग तो, हो जाता अभिसार।।अधिक देर टिकता नहीं, बाहर का शृंगार।छल-...
Tag :दोहे
  July 4, 2019, 6:00 am
ख्वाहिशें परवान करने को चले हैंचाहतें कुर्बान करने को चले हैंहैं बहुत ज़ालिम ज़माना क्या करेंलेखनी नीलाम करने को चले हैंबढ़ गयी बेरोज़गारी मुल्क मेंकाम को नाक़ाम करने को चले हैंनेक-नीयत से ग़ुजर होती नहींइसलिए कोहराम करने को चले हैं“रूप” है इंसानियत का अब घिनौनाप...
Tag :ग़ज़लियात-ए-रूप से मेरी एक ग़ज़ल
  July 3, 2019, 7:11 am
मुझे आज अपनी मुरलिया बना तोतू एक बार होठों से मुझको लगा तोसंगीत को छेड़ दूँगी मैं दिलवरतू इक बार मुझको उठाकर बजा तो  सुनाऊँगी मैं मेघ मल्हार तुझकोसुराखों को तू कायदे से दबा तोमैं कोयल सी चहकूँगी तेरे चमन मेंतू वीरान गुलशन सजाकर दिखा तोमैं मोहन की प्यारी हूँ मन मोह लू...
Tag :मुरलिया बना तो
  July 2, 2019, 6:29 am
मुझे आज अपनी मुरलिया बना तोतू एक बार होठों से मुझको लगा तोसंगीत को छेड़ दूँगी मैं दिलवरतू इक बार मुझको उठाकर बजा तो  सुनाऊँगी मैं मेघ मल्हार तुझकोसुराखों को तू कायदे से दबा तोमैं कोयल सी चहकूँगी तेरे चमन मेंतू वीरान गुलशन सजाकर दिखा तोमैं मोहन की प्यारी हूँ मन मोह लू...
Tag :मुरलिया बना तो
  July 2, 2019, 6:29 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3889) कुल पोस्ट (190126)