Hamarivani.com

Pal-Chhin

मेरेटूटेहुएख़्वाबोंकेसिवाभीहैंजहाँ,तेरेरूठेहुएआशिक़सेअलगलोगभीहैं,मेरेनाकाममुक़द्दरसेबड़ेदर्दकई,तेरेतन्हाईकेज़ख़्मोंसेजुदारोगभीहैं..            कहींइकमाँनेहैंथामेहुएसैलाबकई,केशहादतकामेरेलालकीअपमाननहो,कहींउसबापनेबेटीकीजलीलाशसही,जो...
Pal-Chhin...
Tag :
  April 14, 2015, 12:40 am
आज फिर आँख भर गई होगी,उसको मेरी ख़बर गई होगी..मेरी यांदों की धूल में लिपटी,हाय कैसे वो घर गई होगी..रात ख़्वाबों में देख कर मुझको,सोते-सोते संवर गई होगी..बारहा बेहया सवालों से,जीते जी फिर से मर गई होगी..इक तरफ़ प्यार इक तरफ़ रस्में,नंगे पांवों गुज़र गई होगी..अश्क़ पीकर, नज़र झ...
Pal-Chhin...
Tag :
  May 1, 2013, 1:21 pm
ये ख़लिश दिल से क्यूं नहीं जाती,रूह आराम क्यूं नहीं पाती,है कोई मर्ज़ या कयामत है,दवा कोई दुआ नहीं भाती..बड़ी मुश्क़िल से बड़ी महनत से,हुई नफ़रत हमें मुहब्बत से,ये बला कौन आ पड़ी है गले,नींद अब के ये क्यूं नहीं आती..कल तलक तो सकून देती थी,यही रग-रग को ख़ून देती थी,है ख़फ़ा या ...
Pal-Chhin...
Tag :
  April 28, 2013, 11:35 pm
इश्क़ क्या, क्यूं, कब, कहां, कैसे, वजा* ना मांगिए,मांगिए तो इश्क़ करने का बहाना मांगिए..ज़िंदगी कट जाएगी, चैन-ओ-सुकूं से आपकी,इक बड़े से दिल में, कोने का ठिकाना मांगिए..कामयाबी ख़ुद चली आएगी, चलिए तो सही,घर की दीवारों से, मंज़िल का पता ना मांगिए..है नई शै* की चमक, बस तब तलक, जब तक न...
Pal-Chhin...
Tag :
  November 9, 2012, 6:55 pm
तुम्हारे साथ गुज़रे वक़्त कीयादों भरी गठरीबड़ा लालच दिलाती है,मैं अक्सररुक नहीं पाताज़रा सी गाँठ ढीली करपकड़ लेता हूंपल कोई..कभीजब खोलता हूं मैंबंधी मुट्ठी,तो इक रंगीन सी तितलीचमकते पंख फ़ैलाएमेरे कमरे में सतरंगी उजाला छोड़ जाती है,तुम्हारी झील सी आँखेंतुम्हारी र...
Pal-Chhin...
Tag :
  October 25, 2012, 6:43 pm
दिल में है और कुछ, ज़बां पे और बात है,बन आई है जो मेरी जां पे, और बात है..हाँ आज लिख रहा हूं काग़ज़ों पे हाल-ए-दिल,इक दिन लिखूंगा आसमां पे, और बात है..ताज़ा है ज़ख़्म, दुख रहा है, रो रहा हूं मैं,कल मुस्कुराऊंगा निशां पे, और बात है..सारे जहां को है ख़बर, वो ठग रहा मुझे,मुझको यकीं है ब...
Pal-Chhin...
Tag :
  August 19, 2012, 3:13 pm
सनम, ग़र तुम क़दम इस राह पर, यूंही बढ़ाओगे,भरोसा इश्क़ से, सारे ज़माने का उठाओगे..ख़ुदा हद बेवफ़ाई की, बना सकता तो था लेकिन,उसे मालूम था, क्या फ़ायदा, तुम पार जाओगे..वो सारे ख़त, सभी तोह्फ़े, जला डाले हैं चुन-चुन कर,मुझे दोगे रिहाई कब, मेरा दिल कब जलाओगे..यही क्या कम करम है, रोज़...
Pal-Chhin...
Tag :
  August 16, 2012, 6:37 pm
फिर शाम ढल चुकी है, फिर रात हो रही है,फिर चाँद है रुआंसा, बर्सात हो रही है,मदमस्त सी हवा है, लम्हे उड़ा रही है,दिल की ज़मीं पे देखो, जज़्बात बो रही है..इक हाथ में हैं यादें, इक हाथ में कलम है,अल्फ़ाज़ बह रहे हैं, कुछ आँख फिर से नम है..किसको परे छिटक दूं, किसको ग़ज़ल बना लूं,इस कशमक...
Pal-Chhin...
Tag :
  August 13, 2012, 7:47 pm
ये महफ़िलें मेरे जनाज़े की, हैं कोशिशें उन्हे बुलाने की,जो आए ठीक से नहीं अब तक, जिन्हे लगी हुई है जाने की..फ़िज़ूल में ही मैं परेशां था, ये कोई बात थी छुपाने की,मुझे लगी है याद करने की, उन्हे लगी है याद आने की..अजीब रस्म हैं मुहब्बत की, अजीब इश्क के फ़साने है,जो आग दिल में यां ...
Pal-Chhin...
Tag :
  July 24, 2012, 8:56 pm
हरी धरती, भरा सागर, खुला अम्बर है तन्हाई,कभी जो साथ ना छोड़े, वही रहबर है तन्हाई,यही बस एक साथी है, यही बस एक काफ़ी है,हज़ारों अजनबी चेहरों से तो, बेहतर है तन्हाई..बड़े ही ग़ौर से बैठी, मेरी हर बात सुनती है,मैं सारी रात कहता हूं, ये सारी रात सुनती है,कभी ऐसा भी होता है, मैं लब से ...
Pal-Chhin...
Tag :
  July 20, 2012, 5:35 pm
कभी बादलों से, बरसती हैं बूंदें,कभी अश्क़ बनकर, तरसती हैं बूदें,कभी प्यास सबकी, बुझाती हैं बूंदें,कभी आग़ दिल में, लगाती हैं बूंदें..कभी बन पसीना, हैं ठंडक दिलाती,कभी बन परेशानी, माथे पे आती,हों कम तो हलक को, सुखाती हैं बूंदें,हों ज़्यादा तो सब कुछ, बहाती हैं बूंदें..जो बूंदो...
Pal-Chhin...
Tag :
  June 11, 2012, 6:52 pm
शुकर है आज शुक्करवार है, घर खुश मैं जाऊंगा,हंसूंगा, खूब बोलूंगा, थकन सारी मिटाऊंगा..कोई पिक्चर, कोई नाटक, कोई नॉवल, खबर कोई,या पत्ते दोस्तों के संग, कोई क्वाटर, बियर कोई,मैं पूरी रात जागूंगा, सुबह जाकर मैं सोऊंगा,उठूंगा जब करेगा दिल, नहाऊंगा न धोऊंगा..न कोई शर्ट, ना ट्राउसर, न ...
Pal-Chhin...
Tag :
  June 1, 2012, 6:48 pm
हे शुक्रवार भगवान..हे शुक्रवार भगवान..तू ही हंसाता, पिलाता तू ही है,तू ही हंसाता, पिलाता तू ही है,तू ही बस देता आराम..हे शुक्रवार भगवान..आई.टी. नौकर, का तू स्वामी,आई.टी. नौकर, का तू स्वामी,तेरा ही बस गुणगान..हे शुक्रवार भगवान..तू ही चढ़ाए, तू ही उतारे,तू ही चढ़ाए, तू ही उतारे,वीकें...
Pal-Chhin...
Tag :
  May 18, 2012, 5:43 pm
इक बोतल दो प्याले ले आ,नाटक मत कर साले, ले आ,हाँ सुन, चखने का सामान भी,और दस-बारह धूम्र-पान भी,जल्दी आजा, देर ना करियो,दिन ही दिन, अंधेर ना करियो,आजा कुछ माहौल बनाएं,'शुक्रवार की शाम' मनाएं,दिन हैं पूरे पाँच बिताए,इस इक दिन की आस लगाए,कम्प्यूटर को छोड़ के आजा,टर्न्सटाइल को तोड़...
Pal-Chhin...
Tag :
  May 11, 2012, 6:08 pm
तुझे पाने की खुशी भी कोई भरम ही थी,तेरे जाने का ग़म भी ग़म नहीं है सच्चा सा,तुझे तड़पाने की भी कोई आरज़ू है नहीं,के मैने कुछ नहीं खोया, हैं खोया तूने मुझे..जो खटकती हैं दिल को बार बार रह रह कर,है बात बस दो, एक बीत गई, इक होनी..इक, काबिल नहीं तू मेरे, देर से जाना,तुझे वो सब दिया, थी ज...
Pal-Chhin...
Tag :
  May 4, 2012, 5:17 pm
कुछ हमको अपनी हार से फ़ुर्सत नहीं मिली,कुछ दिल को तेरे प्यार से फ़ुर्सत नहीं मिली..हमने तो छुपाया था बहुत हाल-ए-दिल मग़र,यारों को इश्तिहार से फ़ुर्सत नहीं मिली..दिल दिल से मिले, कोई बड़ी बात तो नहीं,पर इश्क़ को बाज़ार से फ़ुर्सत नहीं मिली..लो रात भी थक हार के बेचैन सो गई,पर ह...
Pal-Chhin...
Tag :
  April 27, 2012, 6:07 pm
कभी तन्हाई में चुपके से रुलाती होगी,कभी थोड़ा, कभी ज़ोरों से सताती होगी,ये माना, मैं नहीं आता हूं अब ख़यालों में,ऐ सनम, तुझको मेरी याद तो आती होगी..बिन मौसम के बरसती हुई बरसातों में,या सर्द दिल के सर्द हो चुके जज़्बातों में,या जनवरी की ठिठरती हुई सी रातों में,मेरे यादों की ...
Pal-Chhin...
Tag :
  April 24, 2012, 9:34 pm
दिल नहीं कमबख़्त कुछ सुनता हमारा, क्या करें,हम सुने दिल की, तो दुनिया में गुज़ारा क्या करें..है समझदारों को-काफ़ी क्या, पता तो है मग़र,बेवक़ूफ़ों के शहर में, हम इशारा क्या करें..हां अग़र सूरत पे जाते हम, तो कर लेते यकीं,आदमी को आँख से पढ़ते हैं सारा, क्या करें..ग़र उभरना चाहत...
Pal-Chhin...
Tag :
  April 12, 2012, 5:46 pm
हमेशा कम उसे पाया, जिसे ज़्यादा समझ बैठे,मुकम्मल वो मिला है बस, जिसे आधा समझ बैठे..चमकती चीज़ जो देखी, समझ बैठे उसे सोना,चमक उसमें मिली असली, जिसे सादा समझ बैठे..जिसे सूरप-नखा समझे थे हम, निकली वही सीता,वही इक पूतना थी, हम जिसे राधा समझ बैठे..हो फ़ितरत या-वो नीयत हो, उमर भर एक रह...
Pal-Chhin...
Tag :
  March 7, 2012, 5:23 pm
मैं तुझको आज बताता हूं, के कमी क्या है,तू मुझको आज ये बता, के ज़िंदगी क्या है..ये ऊंच-नींच, जात-पात, ये मज़हब क्यूँ हैं,ये रंग-देश, बोल-चाल, बंटे सब क्यूँ हैं,तू-ही हर चीज़, तो फिर पाक़-ओ-गंदगी क्या है..किसी पत्थर को पूज-पूज, नाचना-गाना,सुबह-ओ-शाम, तेरा नाम, लेके चिल्लाना,तेरा यकीं ...
Pal-Chhin...
Tag :
  March 1, 2012, 5:14 pm
वो दिल में आ तो गया था, मेरी मर्ज़ी के बिना,ना वो जाने में जो कतराए, तो कुछ बात बने..बड़ी मुद्दत से छुपाया है, दिल के कोने में,मुझे गहने सा भी सजाए, तो कुछ बात बने..मुआ दिल, हां पे मरे है, तो ना से खौफ़ज़दा,ना किसी एक से घबराए, तो कुछ बात बने..वो हर इक बात पे कह देता है, "ढूंढे तो मिले",...
Pal-Chhin...
Tag :
  February 27, 2012, 6:13 pm
अभी आग़ाज़ है महफ़िल का, अभी मौज कहां,ज़रा महौल जो गर्माए, तो कुछ बात बने..नहीं आता मज़ा अब, पी के लुड़क जाने में,मैं पियूं और वो लड़खड़ाए, तो कुछ बात बने..जो कह नही पाता मैं, वो धड़कने कह दें,ज़रा दिल कोई यूं धड़काए, तो कुछ बात बने..वो जितनी बार बदले राहें, मुझसे दूरी को,वो आके म...
Pal-Chhin...
Tag :
  February 15, 2012, 5:15 pm
दिन भर के लैला मजनू ने, गला फाड़ चिल्लाया है,प्यार करो सब, प्यार करो, फिर प्यार भरा दिन आया है..एक हाथ में, एक जेब में, बाकी फूल हैं बस्ते में,एक नहीं तो और सही, बस आज-आज हैं सस्ते में,गज़ब तमाशा, इश्क़-मोहब्बत का क्या ख़ूब बनाया है,प्यार करो सब, प्यार करो, फिर प्यार भरा दिन आया ह...
Pal-Chhin...
Tag :
  February 14, 2012, 8:40 pm
दोराहे पर खड़ा हुआ हूं, किस रस्ते को जाऊं मैं,बड़ी कठिन दुविधा में हूं, किस माँ का कर्ज़ चुकाऊं मैं..इक माँ ने अपने सीने से ला के दूध पिलाया है,इक माँ ने अपने सीने को चीर अन्न उपजाया है,किस माँ को समझूं कमतर, किस माँ का त्याग भुलाऊं मैं,बड़ी कठिन दुविधा में हूं, किस माँ का कर्...
Pal-Chhin...
Tag :
  February 13, 2012, 6:30 pm
बुराई मुझमें भी है, तुझमें भी है, क्या कमी है,बुरी शराब नहीं है, बुरा तो आदमी है..जो नहीं पीता, क्या कुछ बुरा नहीं करता,ख़ता नहीं करता, क्या गुनाह नहीं करता,बिना पिए करे कोई, तो कुछ भी लाज़मी है,कोई पीके भला भी ग़र करे, तो ज़ोख़िमी है..बुरी शराब नहीं है, बुरा तो..जो लखपती हैं, वो च...
Pal-Chhin...
Tag :
  February 10, 2012, 6:15 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163599)