POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: कथा-सागर

Blogger: रेखा श्रीवास्तव
       गाँव में प्रवासी मजदूरों को गाँव के बाहर स्कूल में रखा गया था। वही स्कूल जहाँ वे पढ़े थे । ग्राम प्रधान अपनी जिम्मेदारी पूरी नहीं कर रहा था ।  .        उस स्कूल के हैड मास्टर को पता चला तो वे दूसरे गाँव के थे लेकिन किसी की चिंता बगैर वे स्कूल आ गये । अचानक लॉक... Read more
clicks 47 View   Vote 0 Like   7:53am 27 May 2020 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
दया        बीमारी के चलते सबने संध्या को काम पर जाने से मना कर दिया था ।  वह बाजार से सामान भी लाकर नहीं रख पाई थी ।     .      छत के खोखे में बने घोंसले में मनु  चूजों के लिए रोज ही रोटी लेकर जाता था ।  .          उस दिन माँ ने कहा - "मनु अब आटा खत्म होने वाला है... Read more
clicks 14 View   Vote 0 Like   5:31pm 24 May 2020 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
लॉक डाउन !"माँ इस लॉक डाउन ने तो लोगों के जीवन को पंगु बना दिया है । ये निर्णय पूर्णतया गलत है , जहाँ पर कोई कोरोना वाला नहीं है , वहाँ पर तो ये जनता पर अत्याचार हो गया।"  किशोर बोला ।   "नहीं बेटा ऐसा नहीं है, अगर इटली,चीन और अमेरिका जैसे विकसित देशों में इसकी जरूरत समय पर ... Read more
clicks 15 View   Vote 0 Like   6:12pm 9 Apr 2020 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
             मिश्रा जी की माताजी का सुबह निधन हो गया । बिजली की तरह खबर फैल गई । लोगों का आना जाना शुरू हो गया । अभी मिश्रा की बहनें नहीं आईं थीं , इसलिए उनका इंतजार हो रहा था ।घर का बरामदा औरतों से भरा था । पार्थिव शरीर भी वहीं रखा था । औरतें यहाँ भी पंचायत क... Read more
clicks 81 View   Vote 0 Like   8:39am 28 Aug 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
        गौरव आज गांव आया हुआ था पिताजी ने गांव में एक मंदिर का निर्माण कराया है उसी का रुद्राभिषेक का कार्यक्रम है।पूजा में उसने भी श्रध्दापूर्वक भाग लिया। कार्यक्रम के समापन पर भण्डारे का आयोजन था।  मंदिर के विशाल प्रांगण में  भोजन करने वालों के दो ग्रुप थे उन्... Read more
clicks 75 View   Vote 0 Like   4:57pm 23 Jun 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
        रानू जब सोकर उठा तो माँ वहाँ नहीं थी । आज माँ उसको जगाने भी नहीं आई । वह खोजता हुआ गया तो बाहर बरामदे में माँ लेटी थी और वहाँ सब लोग इकट्ठे थे । वो दादी जो कभी माँ से सीधे मुँह बात नहीं करती थी , माँ के सिर पर हाथ फिरा रहीं थी । बुआ माँ को सुंदर साड़ी पहना चुकी थी । लाल-... Read more
clicks 119 View   Vote 0 Like   5:45pm 21 Jun 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                                          होली जैसे वीणा की जिंदगी में रंगों की जगह राख भर गयी थी।  उसकी पहली ही होली तो थी।  विनीत दोस्तों के साथ होली खेलने निकल गया लेकिन फिर लौटा नहीं। सारा का सारा ठीकरा वीणा के सि... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   1:45pm 4 Feb 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                                          होली जैसे वीणा की जिंदगी में रंगों की जगह राख भर गयी थी।  उसकी पहली ही होली तो थी।  विनीत दोस्तों के साथ होली खेलने निकल गया लेकिन फिर लौटा नहीं। सारा का सारा ठीकरा वीणा के सि... Read more
clicks 108 View   Vote 0 Like   1:45pm 4 Feb 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                                 मीनू अपनी छोटी बहन के को लेकर बहुत परेशां रहती थी क्योंकि उसमें और उसकी बहन में करीब १२ साल का अंतर था और वह जब तक ये समझ पायी कि उसकी बहन आटिज्म की मरीज है , बहुत देर हो  चुकी थी।  फिर भी उसने अपनी पढाई में ... Read more
clicks 113 View   Vote 0 Like   7:45am 18 Apr 2018 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                                                     चिता की राख                                                     -------------रात में अचान... Read more
clicks 136 View   Vote 0 Like   1:35pm 1 Nov 2017 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                                    गाँव में समाधान बैठक होने वाली थी और उसमें मंत्रीजी का आना तय था।  सरपंच गाँव में माहौल बनाने के लिए लोगों को पहले से समझाने में लगा था कि मंत्री जी के सामने कोई भी आदमी किसी बात की शिकायत नहीं करेगा बल्कि मैं जो बता... Read more
clicks 168 View   Vote 0 Like   9:30am 3 Oct 2017 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                 नीति स्कूल से निकल कर साइकिल से घर की तरफ चली जा रही थी।  ऑफिसर क्वार्टर होने के कारन कुछ रास्ता सुनसान भी पड़ता था।  वह उसी रास्ते पर चली जा रही थी कि  उसके बगल में एक गाड़ी रुकती है और उसको वह लोग गाड़ी में खींच लेते हैं और फिर उसके ... Read more
clicks 127 View   Vote 0 Like   7:41am 23 Sep 2017 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                        समर घर से निकला तो पत्नी और बच्चों के लिए गिफ्ट पहले ही खरीदता हुआ होटल पहुंचा था।  रात में प्रोग्राम ख़त्म करके सीधे घर भागेगा क्योंकि कई साल से वह बच्चों के साथ नए साल का स्वागत नहीं कर पाया है।  आज उसने बच्चों से ... Read more
clicks 191 View   Vote 0 Like   5:44pm 31 Dec 2016 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                  माँ   तीन दिनों से बेटी के फ़ोन का इन्तजार कर रही थी और फ़ोन नहीं आ रहा था।  नवजात के साथ व्यस्त होगी सोचकर वह खुद भी नहीं कर पाती थी।  एक दिन उससे नहीं रहा गया और बेटी को फ़ोन किया  - 'बेटा कई दिन हो गए तेरी आवाज नहीं सुनी , कैसी हो ?''... Read more
clicks 247 View   Vote 0 Like   11:08am 29 Dec 2016 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                                    आज इरा अपने बेटे की नौकरी लगने के उपलक्ष्य में एक छोटी सी पार्टी दे रही थी।  इस दिन को लाने में उसने अपने जीवन के २४ साल होम कर दिए।  इतने वर्ष तो उसने अपने पति की बुराइयों के बीच उसकी ज्या... Read more
clicks 236 View   Vote 0 Like   9:12am 23 Dec 2016 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                        रानू जब से माँ बनने की ओर बढ़ी है , रोज ही कुछ न कुछ परेशानियां उसको लगी रहती थीं तो परेशान होकर नौकरी छोड़ने का फैसला कर लिया और घर में रहने लगी।  वह घर में अकेली ही रहती थी लेकिन ऋषिन को उसकी चिंता अपने ऑफिस में लगी रह... Read more
clicks 209 View   Vote 0 Like   9:11am 23 Dec 2016 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
 पूर्वकथा : सावित्री अपने मइके या ससुराल दोनों में दुलारी थी। घर में लक्ष्मी मानी  जाती। उसका पति समझदार और जिम्मेदार युवक था। छोटे भाई की संगती के बिगड़ने से चिंतित रहता और उसके इस बात के लिए रोकने पर उसके साथ कुछ ऐसा बुरा हुआ कि  कई जिन्दगी इसमें पिसने लगी । शशिधर क... Read more
clicks 299 View   Vote 0 Like   12:07pm 21 Jul 2012 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
पूर्व कथा :                        सावित्री अपने मइके या ससुराल दोनों में दुलारी थी। घर में लक्ष्मी मानी  जाती। उसका पति समझदार और जिम्मेदार युवक था। छोटे भाई की संगती के बिगड़ने से चिंतित रहता और उसके इसा बात के लिए रोकने पर उसके साथ कुछ ऐसा बुरा हुआ की कई जिन्दगी इसमें पिसने ... Read more
clicks 300 View   Vote 0 Like   10:50am 2 Jul 2012 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
पूर्व कथा :                  सावित्री अपने मइके या ससुराल दोनों में दुलारी थी। घर में लक्ष्मी मानी  जाती। उसका पति समझदार और जिम्मेदार युवक था। छोटे भाई की संगती के बिगड़ने से चिंतित रहता और उसके इसा बात के लिए रोकने पर उसके साथ कुछ ऐसा बुरा हुआ की कई जिन्दगी इसमें पिसने ला। श... Read more
clicks 334 View   Vote 0 Like   12:33pm 19 Jun 2012 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
पूर्वकथा : नीतूकीबुआसावित्रीबचपनमेंहीशादीकरदी।सातभाइयोंकीइकलौतीबहनऔरससुरालमेंभीलक्ष्मीमानीजातीथी।पतिशशिधरसमझदारयुवकमिलाथ।एकएककरकेबेटोंकीमाँबनीलेकिनशायदकीनजरलगगयीऔरउसकेआवाराहोगएऔरवहीकीबर्बादीकाकारणबननेलगेसाथसावित्रीकेभाग्यपरग्रहणबनगए।गत... Read more
clicks 255 View   Vote 0 Like   10:16am 12 Jun 2012 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                              पूरेमोहल्लेमेंयहखबरबिजलीकीतरहसेफैलगयीकिबनारसमेंनीतूकेफूफाजीकाअचानक निधनहोगया। मोहल्लेकेबड़ेबुजुर्गोंनेतोउनकाबचपनभीदेखाथाऔरफिरव्याह, बच्चेसभीकुछतोसबके सामनेहुआकिन्तुसावित्रीजैसाभा... Read more
clicks 257 View   Vote 0 Like   8:24am 10 Jun 2012 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
पूर्व  कथा:             राशि अपने ६ माह के बेटे को लेकर अपने पिता के घर चली आई थी और फिर उसके बाद वह अपने पति के पास  कभी नहीं गयी. ये बात उसके बेटे ने अपने जीवन में पिता की kami को देख कर महसूस किया की उसे दोनों का ही प्यार की जरूरत है लेकिन उसके मान के अहम्  के आगे कभी संभव  नहीं हो... Read more
clicks 301 View   Vote 0 Like   11:13am 26 Apr 2012 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
पूर्व कथा : छः माह के बेटे को लेकर राशि अपनी माँ के घर आ गयी थी और फिर यही उसका निधन भी हुआ बेटे को अपने पास रख कर उसने सोचा कि वह जीत गयी लेकिन अपनी झूठे अहंकार के चलाते वह उसे स्वीकार न कर सकी जिसको उसे करना चाहिए था। उसने झुकाना नहीं सीखा था और पाती ने हालात से समझौता करन... Read more
clicks 305 View   Vote 0 Like   3:18pm 25 Mar 2012 #kahani with copy right
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
पूर्व कथा:राशि के निधन पर उसके पति के आगमन पर पड़ोसियों ने प्रश्न चिह्न पर विराम लगाती है उसकी बहन निधि। राशि २० साल पहले अपने ६ माह के बेटे को लेकर पिता के घर आ गयी थी और बेटा पिता शब्द के साथ जुड़ा ये न समझ पा रहा था कि उसके पिता क्यों उसके साथ नहीं रहते हें। माँ से झिड़की क... Read more
clicks 282 View   Vote 0 Like   3:25pm 6 Mar 2012 #कहानी with copy right
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3971) कुल पोस्ट (190660)