Hamarivani.com

अनुभूति रस !

सनातन धर्म के अंतर्गत ही बौद्ध सम्प्रदाय की स्थापना करने वाले महात्मा बुद्ध की जयंती #बुद्धपुर्णिमा की ढेरों शुभकामन&#...
अनुभूति रस !...
Tag :
  April 30, 2018, 2:08 pm
चीन को #ड्रैगन का देश कहा जाता है पर क्या कभी किसी ने वास्तव में ड्रैगन देखा है? ड्रैगन कोई जीव था भी क्या? तो फिर ये ड्रैगन न...
अनुभूति रस !...
Tag :
  April 16, 2018, 5:48 pm
आज लोकसभा में जिस तरह से प्रधानमंत्री मोदी जी इतने विरोध के बावजूद भी बिना विचलित हुए, बिना हड़बड़ाहट के और बिना कोई ग़लती किये बोलते रहे ये दिखाता है कि इतना विरोध पर्याप्त नही है उनकी आवाज दबाने के लिए !बल्कि काँग्रेस आज प्रधानमंत्री जी को सदन में बोलने नही दे रही ये उनक...
अनुभूति रस !...
Tag :
  February 8, 2018, 1:41 pm
पाठक मित्रो मैंने सोचा क्यों न सुप्रीम कोर्ट के जजों के उस विवाद का विश्लेषण किया जाय जो 5 दिन बीत जाने के बाद भी नहीं सुलझ&...
अनुभूति रस !...
Tag :चर्चा
  January 17, 2018, 1:33 pm
कल विश्व पुस्तक मेले में फ़िल्मकार श्री #VivekAgnihotri जी से मुलाकात हुई ... अवसर था उनकी आने वाली पुस्तक #UrbanNaxals के मुख्यपृष्ठ के अनावरण का ... ...
अनुभूति रस !...
Tag :Urban
  January 13, 2018, 12:30 pm
दिल्ली MCD के नतीजो के बाद शुरू हुआ आम आदमी पार्टी का घमासान बड़े ही नाटकीय ढंग से सुलह कर ली गई है ऐसा प्रतीत तो हो रहा है । पिछले दिनों उत्तरप्रदेश में मुलायम के समाजवादी कुनबे की नौटंकी हम सभी भलीभाती देख चुके है ऐसे में आपियो की नौटंकी फ्लॉप ही रही ।AAP_का_ड्रामा जिसकी...
अनुभूति रस !...
Tag :आप
  May 4, 2017, 12:44 pm
तथाकथित राष्ट्रवादी आपिये डॉ. कुमार विश्वाससाहब पिछले 4-5 दिनों से अपने एक वीडियो  "हम भारत के लोग"की वजह से चर्चा में है । डॉ साहब सेना के दर्द से अपने को आहात बता रहे है और राष्ट्रवाद पर जमकर ज्ञान दे रहे है, निश्चय ही हर एक देशप्रेमी भारतीय अपने बहादुर जवानों के दर्द ...
अनुभूति रस !...
Tag :आप
  April 19, 2017, 3:11 pm
'सूरज की गर्मी से तपते हुए तन को मिल जाए तरुवर की छाया' सोचकर ही कितना आनंद और सुकून सा मिलता है। लेकिन यह कब संभव है जब जगह-जगह हरे-भरे वृक्ष लगे होंगे और वृक्ष लगाने वाला कोई तो होना चाहिए।हमारे पूर्वजों ने वृक्ष लगाए होंगे तभी आज हमारे आसपास दिखाई दे रहे हैं और हमें छ...
अनुभूति रस !...
Tag :पर्यावरण संरक्षण
  June 5, 2016, 9:49 am
विश्व कविता दिवस के अवसर पर मै आप लोगो के साथ ये छोटी सी कविता साझा कर रहा हू जो मैंने अपने स्कूल के दिनों में वर्ष 1999 में लिखी थी । आया है तू ये जहा में तो कुछ तो कर नया फूल की तरह तू भी खुशबू बिखेर यहाँ ..।।एक बात जान ले तू है नही देवा..करने पड़ेंगे हर करम चाहे हो सज़ा ।इंसान है त...
अनुभूति रस !...
Tag :शुभकामनाएँ
  March 21, 2016, 4:51 pm
राष्ट्रभाषा के रूप में खुद को साबित करने के लिए आज वस्तुतः हिंदी को किसी सरकारी मुहर की जरूरत नहीं है। उसके सहज और स्वाभाविक प्रसार ने उसे देश की राष्ट्रभाषा बना दिया है।वह अब सिर्फ संपर्क भाषा नहीं है, इन सबसे बढ़कर वह आज बाजार की भाषा है, लेकिन हर 14 सितंबर को हिंदी दिव...
अनुभूति रस !...
Tag :
  September 15, 2015, 11:43 am
मित्रो पिछले कुछ समय से दुनिया में पर्यावरण के विनाश को लेकर काफी चर्चा हो रही है। मानव की गतिविधियों के कारण पृथ्वी के वायुमंडल पर जो विषैले असर पड़ रहे हैं , उनसे राजनेता , वैज्ञानिक , धर्मगुरु और सामाजिक कार्यकर्ता भी चिंतित हैं। एक आम इंसान को भी इसका अहसास होने लगा ...
अनुभूति रस !...
Tag :जिम्मेदारी
  October 18, 2014, 12:36 am
हम लोगो ने हर दिन माँ को समर्पित करने वाले इस देश में "मदर्स डे " मनाना शुरू किया है।बात फिर भी ठीक है पर आज कल की मिडिया , टीवी चैनलों और अपने आप को  ज्यादा आधुनिक समझने वाले लोगो ने कौन है परफेक्ट मॉम.... सुपर मॉम कोंटेक्सट... सरीखे प्रोग्राम बनाकर माँ के साथ क्या कर रहे है ?...उ...
अनुभूति रस !...
Tag :
  May 19, 2012, 8:05 pm
श्रीराम के परम भक्त हनुमानजी हमेशा से ही सबसे जल्दी प्रसन्न होने वाले देवताओं में से एक हैं। शास्त्रों के अनुसार माता सीता के वरदान के प्रभाव से बजरंग बली को अमर बताया गया है। ऐसा माना जाता है आज भी जहां रामचरित मानस या रामायण या सुंदरकांड का पाठ पूरी श्रद्धा एवं भक्...
अनुभूति रस !...
Tag :रहस्य
  April 17, 2012, 12:02 pm
आज संपूर्ण विश्व एक संक्रमण काल से गुजर रहा है। कहा जा रहा है कि बदलते समीकरणों के अनुसार 21 वीं सदी भारत और चीन की सदी होगी। एकअनुमान के अनुसार भारत आज विश्व की उभरती हुई आर्थिक महाशक्तिही नहीं है , बल्कि 21 वीं शताब्दी के मध्य तक भारत की जनसंख्याचीन से अधिक और इसका जीडी...
अनुभूति रस !...
Tag :एकता
  March 3, 2012, 7:49 pm
"रिजर्व बैंक की तरफ से हस्तक्षेप के बावजूद रुपये की गिरावट को रोका नहीं जा सका है। कह सकते हैं कि सरकार ने भी एक तरह से स्वीकार कर लिया है कि इस पर पूरी तरह काबू पाना उसके वश में नहीं है, जोकि एक खतरनाक स्थिति होगी "डॉलर के मुकाबले रुपये का लगातार अवमूल्यन यूपीए सरकार की न...
अनुभूति रस !...
Tag :अवमूल्यन
  December 1, 2011, 5:42 pm
दो दशक पहले आधुनिकता की बयार से अछूते भारत के हालात वर्तमान परिदृश्य से पूरी तरह भिन्न थे. बदलती सामाजिक और आर्थिक परिस्थितियों ने पारिवारिक मान्यताओं को भी महत्वपूर्ण ढंग से परिवर्तित किया है. विशेषकर विवाह जैसी संस्था (जो भारतीय समाज में अपना एक विशिष्ट स्थान रख...
अनुभूति रस !...
Tag :समाज
  October 31, 2011, 6:42 pm
आज शिक्षक दिवस है,मतलब शिक्षा और शिक्षकों के योगदान और महत्व को समझने का दिन।पर आज जब शिक्षा का पूरा तंत्र एक बड़े व्यवसाय में तब्दील हो रहा है, क्या हम शिक्षा और शिक्षक की गरिमा को बरकरार रख पाए हैं? वास्तव में पूंजीवादी विश्व के बदलते स्वरूप और परिवेश में हम शिक्षा क...
अनुभूति रस !...
Tag :शिक्षा
  September 5, 2011, 7:12 pm
" कांग्रेस में कोई नितिन गडकरी भी हो सकता है, इसमें मुझे संदेह है। मनमोहन सिंह को मैं अपवाद मानता हूं। मैं तब कांग्रेस को दाद दूंगा, जब राहुल के होते हुए पार्टी अगले चुनाव में किसी और नेता को प्रधानमंत्री के रूप में प्रोजेक्ट करे..."यह सवाल हमेशा ही उठता है कि कांग्रेस और ...
अनुभूति रस !...
Tag :बीजेपी
  July 2, 2011, 6:26 pm
मित्रो आज से योगगुरु बाबा रामदेव जी ने दिल्ली के रामलीला मैदान में अनिश्चितकालीन आमरण अनशन 'सत्याग्रह'शुरू करके भारत के पुनरुत्थान (नवनिर्माण) का शंखनाद कर दिया है। हम बाबा जी के इस महान यज्ञ के सफलता के लिए परमपिता परमेश्वर से प्रार्थना करते है।अभी कुछ दिन पहले ही अ...
अनुभूति रस !...
Tag :सत्याग्रह
  June 4, 2011, 7:23 pm
ओसामाबिन लादेन की मौत को आप क्या मानते हैं? जानलेवा आतंकी लड़ाई का अंत? नई जंग की शुरुआत?या, एक अनिवार्य मध्यान्तर? इंटरवल मानना ज्यादा समझदारी होगी। वजह?लादेन आतंकवाद का सबसे बड़ा चेहरा भले ही बन गया हो, पर उसका पर्याय नहीं था। उसके पहले भी आहत भावनाओं से उपजी दहशतगर्...
अनुभूति रस !...
Tag :आतंकवाद
  May 23, 2011, 7:23 pm
"अगर अन्ना ने लंबी लड़ाई का मन बना लिया है, तो उन्हें विनोबा की तरह देश के कोने-कोने में अलख जगाने के लिए निकलना होगा। उन्हें जयप्रकाश नारायण की तरह युवकों के खून में उबाल लाना होगा। साथ ही युवा शक्ति को सिर्फ उद्वेलित कर देना पर्याप्त नहीं है, उसे तार्किक परिणति तक भी ल...
अनुभूति रस !...
Tag :भ्रष्टाचार
  April 20, 2011, 6:42 pm
२ अप्रैल की रात हमारे खिलाडियों द्वारा प्राप्त ऐतिहासिक विजय ४ अप्रैल से शुरू हुए हिन्दू नव संवत्सर का शानदार तोहफा बन गया है, जिसने नव वर्ष का नव हर्ष और नव उमंग के साथ आगाज कर दिया है।आखिर 28 सालों के बाद हमारा सपना साकार हुआ है। विजय के इस समय का रोमांच कहीं भी महसूस क...
अनुभूति रस !...
Tag :संवत्सर
  April 5, 2011, 3:42 pm
महाभारत कालीन हस्तिनापुर में महाराज धृतराष्ट्र का एक सचिव था, जिसका नाम था कणिक। उसकी विशेषता यह थी कि वह कुटिल नीतियों का जानकार था और धृतराष्ट्र को पांचों पांडवों के विनाश के लिए नित नए-नए तरकीब सुझाया करता था।महाराज ने उसे इसीलिए नियुक्त भी कर रखा था। इसके सिवाय उ...
अनुभूति रस !...
Tag :दिग्विजय
  March 3, 2011, 4:34 pm
ऐसा महसूस हो रहा है कि देश को इस समय कोई जनता के द्वारा चुनी गई सरकार नहीं बल्कि न्यायपालिका चला रही है। सरकार नाम की कोई ताकत सत्ता में है और देश का कामकाज भी निपटा रही है ऐसा लगना काफी पहले से बंद हो चुका है।ऐसा महसूस होने देने के पीछे भी सरकार का ही हाथ है। जनता देख रह...
अनुभूति रस !...
Tag :न्यायपालिका
  February 17, 2011, 2:55 pm
कहा तो यही जाता है कि इंसान अगर संकल्प साध ले तो कुछ भी कर सकता है। पर दिक्कत यह है कि संकल्प साधना इतना आसान नहीं होता। खासकर जब मामला सिगरेट जैसी किसी लत को छोड़ने का हो।हमारे एक दोस्त सिगरेट छोड़ने के मामले में खुद को काफी अनुभवी मानते है, क्योंकि वे सिगरेट पीना कई बा...
अनुभूति रस !...
Tag :सिगरेट
  February 10, 2011, 12:27 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3774) कुल पोस्ट (177015)