साहित्य शिल्पी

भारतीय काव्य में छायावाद का अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान है। द्विवेदी युगीन रचनाकारों ने यद्यपि काव्य को श्रंगार और भक्ति की सीमा से निकाल कर सामान्य जीवन के करीब लाने का महत्वपूर्ण कार्य किया परंतु इस क्रम में वे अत्यधिक वर्णनात्मक होते चले गये। यही कारण है कि उनकी कवि...
साहित्य शिल्पी...
Tag :जयशंकर प्रसाद
  January 25, 2015, 12:00 am
किसे खिड़की से बाहर देखना अच्छा नहीं लगतामुझे उसका बराबर टोकना अच्छा नहीं लगता रचनाकार परिचय:-द्विजेन्द्र ‘द्विज’ का जन्म 10 अक्तूबर,1962 को हुआ। आपकी प्रकाशित कृतियाँ हैं : जन-गण-मन (ग़ज़ल संग्रह) प्रकाशन वर्ष-२००३। आपकी ग़ज़लें अनेक महत्वपूर्ण संकलनों का भी हिस्सा हैं। ...
साहित्य शिल्पी...
Tag :द्विजेन्द्र द्विज
  January 25, 2015, 12:00 am
शहर की पहुँच से पचास किलोमीटर दूर बसा गाँव घाटमपुर। विधायक निधि से बना ग्राम्य संपर्क मार्ग। जो बारिश के संपर्क में आते ही स्खलन का शिकार हो जाता है। यह सड़क घाटमपुर के लिए सहूलियत तो नहीं बन पायी पर पंद्रह सालों से चुनावी मुद्दा ज़रूर बन रही है। उसी सड़क के अंतिम छोर पर ह...
साहित्य शिल्पी...
Tag :पंकज प्रसून
  January 25, 2015, 12:00 am
मैंने स्त्रियों का श्रृंगार-बॉक्स देखा है। काला काजल, लाल रोली, सफेद पाउडर। और न जाने किस-किस रंग के उपकरणों से तो उनका श्रृंगार पूरा होता है। मैं अपने भारत देश की सुन्दरता में भी ऐसा ही कुछ पाता हूँ। पाता हूँ तो लगता है कि सच ही विचित्र विविधता में दृढ़ अस्तित्व कायम कर...
साहित्य शिल्पी...
Tag :गणतंत्र दिवस
  January 25, 2015, 12:00 am
हिंदी साहित्य और ब्लॉग पर संस्मरणात्मक सृजन के लिए चर्चित ब्लॉगर व साहित्यकार एवं सम्प्रति इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव को 15-18 जनवरी 2015 के दौरान भूटान की राजधानी थिम्पू में आयोजित चतुर्थ अन्तर्राष्ट्रीय ब्लॉगर सम्मेलन में ब्लॉगिं...
साहित्य शिल्पी...
Tag :रत्नेश कुमार मौर्या
  January 25, 2015, 12:00 am
बहुत कुछ है जोनहीं दिखता दिल्ली सेरचनाकार परिचय:-28 मार्च, 1968 को पटना में जन्मे सुशान्त सुप्रिय वर्तमान में दिल्ली में संसदीय सचिवालय में कार्यरत हैं। आपके अब तक दो कथा-संग्रह ('हत्यारे'तथा 'हे राम'), एक हिन्दी काव्य-संग्रह 'एक बूँद यह भी'और एक अंग्रेजी काव्य-संग्रह 'इन गाँध...
साहित्य शिल्पी...
Tag :सुशान्त सुप्रिय
  January 25, 2015, 12:00 am
देवघर (झारखण्ड) में आयोजित चौदहवें पुस्तक मेले के उद्घाटन आयोजन के अवसर पर श्री राजीव रंजन प्रसाद को उनकी साहित्यिक उपलब्धियों के लिये प्रतिष्ठित "साहित्य सेवी सम्मान"से अलंकृत किया गया। इस अवसर पर संयुक्त बिहार में मंत्री रहे श्री कृष्णानंद झा,  सांसद श्री निशिका...
साहित्य शिल्पी...
Tag :राजीव रंजन प्रसाद
  January 18, 2015, 12:30 am
श्रीमद्भगवद्गीता मानव सभ्यता और विश्व वाङ्मय को भारत का अनुपम कालजयी उपहार है। गीता के आरम्भ में कुरुक्षेत्र की समरभूमि में पाण्डव-कौरव सेनाओं के मध्य खड़ा पराक्रमी अर्जुन रण हेतु उद्यत् सेनाओं में अपने रक्त सम्बन्धियों, पूज्य जनों तथा स्नेहीजनों को देखकर विषादग्...
साहित्य शिल्पी...
Tag :गीता
  January 18, 2015, 12:00 am
एक शरारती बच्चे की तरह ठंड़ गुदगुदाने के लिये छाँक-छाँककर जगह ढुँढ़ रही थी। सिर के टोपे और कोटे के कालर के बीच, दस्ताने और ऊपर खिसकी बाँह के अंदर, पैर के मोजे और पतलून की मोहरी के बीच। चश्मे के नीचे मेरी लंबी नाक की दो सुरंगों को देख वह ठंड़ तो खिलखिलाकर लगातार गुदगुदाने में ...
साहित्य शिल्पी...
Tag :भूपेन्द्र कुमार दवे
  January 18, 2015, 12:00 am
रचनाकार परिचय:-प्राण शर्मावरिष्ठ लेखक और प्रसिद्ध शायर हैं और इन दिनों ब्रिटेन में अवस्थित हैं। आप ग़ज़ल के जाने मानें उस्तादों में गिने जाते हैं। आप के "गज़ल कहता हूँ'और 'सुराही'काव्य संग्रह प्रकाशित हैं, साथ ही साथ अंतर्जाल पर भी आप सक्रिय हैं।खुशी ज़िंदगी की कहीं ख...
साहित्य शिल्पी...
Tag :प्राण शर्मा
  January 18, 2015, 12:00 am
रमज़ान का महीना है भीड़ में क्या मांगूँ ख़ुदा सेरचनाकार परिचय:-उत्तर प्रदेश के जौनपुर कस्बे में जन्मे क़ैस जौनपुरी वर्तमान में मुम्बई में अवस्थित हैं। आप विभिन्न फिल्मों, टीवी धारावाहिकों आदि से बतौर संवाद और पटकथा लेखक जुड़े रहे हैं। आपने रॊक बैंड "फिरंगीज़"के लिए गी...
साहित्य शिल्पी...
Tag :क़ैस जौनपुरी
  January 18, 2015, 12:00 am
रचनाकार परिचय:-रचना व्यास मूलत: राजस्थान की निवासी हैं। आपने साहित्य और दर्शनशास्त्र में परास्नातक करने के साथ साथ कानून से स्नातक और व्यासायिक प्रबंधन में परास्नातक की उपाधि भी प्राप्त की है। आप अंतर्जाल पर सक्रिय हैं।मध्यमवर्गीय पिता ने जब होने वाले समधी से बेट...
साहित्य शिल्पी...
Tag :लघुकथा
  January 18, 2015, 12:00 am
हैदराबाद, 12 जनवरी 2015तमिलनाडु हिंदी साहित्य अकादमी, चेन्नै और युनाइटेड इंडिया इंश्यूरेंस कं. लि., चेन्नै के तत्वावधान में आज विश्व हिंदी दिवस के अवसर पर तृतीय अंतरराष्ट्रीय साहित्यिक सम्मेलन तथा सम्मान समारोह का आयोजन नुन्गम्बाक्कम स्थित यूनाइटेड इंडिया लर्निंग से...
साहित्य शिल्पी...
Tag :हिन्दी दिवस
  January 18, 2015, 12:00 am
साक्षात ईश्वर के रुप मेँशिक्षक विद्यमान है जिन से प्रकाशित हम सब प्रकाशित यह जहान है ।भविष्य के निर्माता हैँ वेहैँ प्रेम व करुणा के स्त्रोतमानवता हमेँ सिखाते,सदगुणोँ से ओत-प्रोत।उनके द्वारा दी गई सीख को यदि रखोगे याद,तो निश्चय ही पाओगे सफलता रूपी प्रसाद। श्वे...
साहित्य शिल्पी...
Tag :शिक्षक
  January 11, 2015, 12:00 am
मेरे पड़ोसी को कुत्ते पालने का बड़ा शौक है . उसने अपने फार्म हाउस में तरह तरह के कुत्ते पाल रखे हैं . कुछ पामेरियन हैं , कुछ उंचे पूरे हांटर हैं कुछ दुमकटे डाबरमैन है , तो कुछ जंगली शिकारी खुंखार कुत्ते हैं .पामेरियन   केवल भौंकने का काम करते हैं , वे पड़ोसी के पूरे घर में सरे...
साहित्य शिल्पी...
Tag :विवेक रंजन श्रीवास्तव
  January 11, 2015, 12:00 am
रामू चाय की दुकान पर काम करता था  पढने का बहुत शोक था  दिन में काम करता  और रात के समय पढता था , पिता ने उसे काम करने के लिए कहा था ,वह कहते थे की पढने से पैसे नहीं मिलते ,पर झुग्गी छोपडी में एक स्कूल था जो मुफ्त शिक्षा देता था ,तो रामू की लगन से वहां उसे दाखिला मिल गया था ,...
साहित्य शिल्पी...
Tag :शशि पुरवार
  January 11, 2015, 12:00 am
हमने हाथ  लगाकर देखा , ठंडक है , अंगारों में !आज रहा मन उखड़ा उखड़ा,महलों के,गलियारों में !जी करता है,यहाँ से निकलें, रहें कहीं अंधियारों में ! कभी कभी,अपने भी, जाने क्यों  बेगाने लगते हैं  ?आज हमें ,आनंद न आये ,शीतल सुखद बहारों में ! वे भी दिन थे,जब चलने पर,धरती कांपा करत...
साहित्य शिल्पी...
Tag :ठंडक है अंगारों में
  January 11, 2015, 12:00 am
बड़ा महत्वपूर्ण समय है. रूसी प्रधानमंत्री ब्लादिमीर पुतिन अभी अभी भारत का शानदार दौरा कर लौटे हैं और अब अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के स्वागत के लिए राजपथ पर कालीनें बिछाने की तैयारी शुरु हो गयी है. रूस के साथ भारत के सौदौं-समझौतों से अंकल सैम नाराज हैं. वैसे तो वे 26 जन...
साहित्य शिल्पी...
Tag :आलेख
  January 11, 2015, 12:00 am
फूटरहीलालीपल-पल,प्राचीसेहुआउजाला,गयीरात, अबनयीबात,सौगात लिए आ गया प्रात,कलकीनारीनेआजनयेदिनकोबुलावादेडाला.देखरहेनरपुंगवकलके,करामातकुछकरमल-मलके,नारीआजचढ़तीहिमालय,पुन्य-प्रसूता,बनीशिवालय,गण -गौरवकीगाथालिखती,मान-सम्मानपरमरतीदिखती,मर्दित-समर्पितकलकीरातें,ग...
साहित्य शिल्पी...
Tag :दग्ध-विदग्ध
  January 11, 2015, 12:00 am
एक विधा, एक आयाम अथवा एक रास्ता तय करने में ही व्यक्ति को एक जीवन कम लगने लगता है, यह वाक्य डॉ. के के झा जैसे मनीषियों पर लागू नहीं होता है। शिक्षा, पर्यटन, संस्कृति, इतिहास, नृतत्वशास्त्र, पुरातत्व, पर्यावरण, विधि, साहित्य और भी न जाने कितने आयामों को उन्होंने अपना कार्यक्...
साहित्य शिल्पी...
Tag :
  December 31, 2014, 10:27 am
बस्तर के ख्यातिनाम इतिहासकार, प्रख्यात शिक्षाविद, पर्यावरणविद, उपन्यासकार, लेखक और स्वयं बस्तर माटी के अतीत का अभिन्न हिस्सा डॉ. के के झा नहीं रहे। यह अपूरणीय क्षति है। बस्तर के प्रख्यात इतिहासकार, शिक्षाविद और अध्येता डॉ के के झा का निधन जगदलपुर में हो गया है। बस्त...
साहित्य शिल्पी...
Tag :डॉ. के के झा
  December 30, 2014, 4:21 pm
भारतीय उपमहाद्वीप में क्रिस्मस एक बदा त्यौहार है। क्रिसमस या बड़ा दिन ईसा मसीह या यीशु के जन्म की खुशी में प्रतिवर्ष 25 दिसम्बर को मनाया जाता है। 24 दिसम्बर अर्थात क्रिसमस की पूर्व संध्या से ही जर्मनी तथा कुछ अन्य देशों में समारोह आरम्भ हो जाते हैं। भारत और...
साहित्य शिल्पी...
Tag :आलेख
  December 21, 2014, 12:00 am
राजतंत्र के पहिये दरक गये थे। लोकतंत्र को यह दीख नहीं पड़ता था कि बस्तर की पहचान उसके आदिवासी हैं। उन दिनों पूर्वी-पाकिस्तान से भारत की ओर विस्थापन और पलायन के लम्बे दौर जारी थे। किसी ने किसी से भी नहीं पूछा कि हजारो-लाखो की संख्या मे आ रहे विस्थापितों को कहाँ बसाया जाना...
साहित्य शिल्पी...
Tag :राजीव रंजन प्रसाद
  December 21, 2014, 12:00 am
शाम के समय नील नदी के किनारे एक भेड़िए की एक घड़ियाल से मुलाकात हो गई। दोनों ने परस्पर अभिवादन किया। भेड़िए ने पूछा, “कैसी बीत रही है, सर?” “बड़ी बुरी बीत रही है।” घड़ियाल ने कहा, “कभी-कभी तो व्यथा और पीड़ा से मैं रो पड़ता हूँ। और लोग हैं कि कहते हैं – घड़ियाल आँसू बहा र...
साहित्य शिल्पी...
Tag :खलील ज़िब्रान
  December 21, 2014, 12:00 am
एक सवाल जो मैंने पूछा,फ़िज़ा खामोश हो गई क्यों? बच्चे जिन्हें माँकी लोरी कभी देती थी सुकूँआज वे ममत्व पर भरते है ताने क्यूँ?जिन्हें माँ अपना दिल कहा करती थीअपनी भूख से पहले खिलाती थी उनको निवालेआज वे इक पल माँ के साथ नहीं दिखते। जिनका, माँआह भरने से पहले दर्द भांप जाती थ...
साहित्य शिल्पी...
Tag :mother
  December 21, 2014, 12:00 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]
Share:
  गूगल के द्वारा अपनी रीडर सेवा बंद करने के कारण हमारीवाणी की सभी कोडिंग दुबारा की गई है। हमारीवाणी "क्...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3260) कुल पोस्ट (126039)