Hamarivani.com

Patali

                  बर्लिन विश्वविध्यालय ने शंख ध्वनि का अनुसंधान  कर के यह सिद्ध कर दिया कि शंख-ध्वनिकी शब्द-लहरें बैक्टीरिया को नष्ट करनेके लिए उत्तम एवं सस्ती औषधि है। प्रति सेकेण्ड सत्ताईस घन फुट वायु-शक्तिके जोर से बजाय हुआ शंख 1200 फुट दूरी के बैक्टीरिया को नष्ट कर डालत...
Patali...
Tag :
  June 24, 2012, 9:17 am
             किसी शहर में एक सेठ रहता था। सेठ  का एक बेटा था। सेठ  के बेटे की दोस्ती कुछ ऐसे लड़कों से थी जिनकी आदत ख़राब थी। बुरी संगत में रहते थे। सेठ को ये सब अच्छा नहीं लगता था। सेठ ने अपने बेटे को समझाने की बहुत कोशिस की पर कामयाब नहीं हुआ। जब भी सेठ उसको समझाने की कोशिस ...
Patali...
Tag :
  May 29, 2012, 8:40 am
              किसी जंगल में एक भील रहता था| वह बहुत साहसी,वीर और श्रेष्ट धनुर्धर था| वह नित्य प्रति बन्य जीव जन्तुओं का शिकार करता था और उस से अपनी आजीविका चलता था तथा अपने परिवार का भरण पोषण करता था| एक दिन वह बन में शिकार करने गया हुआ था तो उसे काले रंग  का एक विशालकाय जंगली ...
Patali...
Tag :
  May 13, 2012, 10:30 am
                     बहुत समय पहले की बात है| किसी जंगल में एक गाय रहती थी| जो जंगल में घास चर कर अपना पेट भरती थी| इसी जंगल में एक शेर भी रहता था जो जंगली जानवरों का शिकार किया करता था| समय आने पर गाय ने एक बछड़े को जन्म दिया| बछड़े को जंगली जानवरों से बचाने के लिए गाय ने एक सुरक्ष...
Patali...
Tag :
  April 3, 2012, 6:04 pm
   विक्रम संवत का आरम्भ चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से होता है, जो इस वर्ष २३ मार्च को है| भारत में कालगणना  इसी दिन से प्रारंभ हुई| ऋतु मास  तिथि एवं पक्ष आदि की गणना भी यही से शुरू होती है| विक्रमी संवत के मासों के नाम आकाशीय नक्षत्रों के उदय अस्त से सम्बन्ध रखते हैं| वे सूर्य च...
Patali...
Tag :
  March 23, 2012, 7:31 am
              पहले  समय मे एक  प्रदेश मे  एक राजा राज्य  करते थे उन का नाम था जयेंदर उन का राज्य काफी दूर दूर तक फैला हुआ था .राजा  दयालु  थे और अपनी  परजा से काफी प्यार करते थे. परजा भी राजा को बहुत चाहती थी | राजा  का  एक बेटा था, जो काफी चतुर  और होनहार युवराज था, वह राजा के साथ र...
Patali...
Tag :
  March 10, 2012, 1:28 pm
हरि खेल रहे हैं होली,देबा तेरे द्वारे में।टेसू के रंग में रंगे कपोल हैं, चार दिशा दिशा फाग के बोल हैं, उड़त अबीर गुलाल, देबा तेरे द्वारे में। हरि खेल ...हाथ लिए कंचन पिचकारी, गावत खेलत सब नर नारी, भीग रहे होल्यार,  देबा तेरे द्वारे में।हरि खेल ...भाग कि मार पड़ी उसके सर,कौन अभाग...
Patali...
Tag :
  March 5, 2012, 7:57 am
          यह  एक कुमाऊ  की पुरानी लोक कथा है| किसी गांव मे  एक गरीब परिवार रहता था | परिवार क्या था एक माँ थी एक बेटी थी| बेटी का नाम पुतइ  था| दोनों माँ बेटी जंगल से फल फूल तोड़  कर उन्हें बेच कर अपना गुजारा चलाती थीं| एक दिन माँ जंगल मे फल फूल तोड़ने गई |बेटी को घर की रखवाली के लिए ...
Patali...
Tag :
  February 29, 2012, 10:42 am
                किसी गांव में  एक गरीब ब्राह्मण  रहता था | ब्राह्मण  गरीब होते हुए भी सच्चा और इमानदार था| परमात्मा में  आस्था रखने वाला था | वह रोज सवेरे उठ कर गंगा में  नहाने जाया करता था| नहा धो कर पूजा पाठ किया करता था| रोज की  तरह वह एक दिन गंगा में  नहाने गया नहा कर जब वापस आ...
Patali...
Tag :
  February 21, 2012, 12:55 pm
                                   नास्ति  विद्यासमं  चक्षुर्नास्ति  सत्यसमं  तप:|                                   नास्ति रागसमं दुखं नास्ति त्यागसमं  सुखम||                                   उत्थातव्यं  जाग्रतव्यं  योक्तव्यं  भूति  कर्मसु |                                   भविष्यतीत्येव   मन:  क...
Patali...
Tag :
  February 6, 2012, 11:44 pm
शक्यो वारयितुं जलेन हुतभुक छत्रेन सुर्यातपो                           नागेन्द्रो निशितान्कुशेन संदो दण्डेन गोगर्दभौ। व्याधिर्भेषजसंग्रहैश्र्च विविधैर्मन्त्रप्रयोगैर्विष                सर्वस्यौषधमस्ती शास्त्रविहितं मूर्खस्य नास्त्यौषधम।।        जैसे आग को पानी से ...
Patali...
Tag :
  January 26, 2012, 3:11 pm
                 वेदों में उसी स्त्री को नारी कहा है जो पतिवल्लभा तथा पति का अनुगमन करने वाली है। ऐसी नारी ही सद-गृहिणी कहलाती है और ऐसी गृहिणी से संपन्न घर ही गृह कहलाता है। लकड़ी पत्थर आदि से निर्मित स्थान गृह नहीं कहलाता, वह तो गृह होते हुए भी शून्य के समान है। कदाचित गृह ...
Patali...
Tag :
  January 20, 2012, 10:29 pm
              कुमाऊ में मनाए जाने वाले घुघुतिया त्यौहार की अलग ही पहिचान है| त्यौहार का मुख्य आकर्षण कौवा है| बच्चे इस दिन बनाए गए घुघुते कौवे  को खिलते हैं| और कहते हैं "काले कावा काले घुघुति मावा खाले"|  बात उनदिनों की है जब कुमाऊ में चन्द्र वंश के राजा राज करते थे| राजा ...
Patali...
Tag :
  January 12, 2012, 10:50 pm
छू लेने दो इन नन्हे हाथों को आसमान          वरना चार किताबें पढके हम जैसे हो जाएँगेजी लेने दो खुशियों में चार पल इन्हेंवरना दुनियां में फस कर गम जैसे हो जाएँगेनाच लेने दो इन्हें आज अपने कदमों परवरना हाथों में नाचने वाली रम जैसे हो जाएँगेछोड़ दो आजाद इन्हें आज जीने कोवरना ...
Patali...
Tag :
  January 3, 2012, 4:49 pm
                साल 2011 कुछ ही घंटों का मेहमान है, कुछ ही घंटों बाद साल 2012 आ  जायेगा| नया  साल 2012 आप लोगों के लिए खुशियों भरा हो मंगलमय हो भगवान आप सब की मनोकामना पूर्ण करे और आप सब नए साल 2012 में दिन दुगुनी रात चौगुनी तरक्की  करें| यह मेरी आप सब के लिए हार्दिक शुभकामना है| कल नए साल ...
Patali...
Tag :
  December 31, 2011, 7:37 pm
               बहुत समय पहले की बात है| किसी गांव में एक किसान रहता था| गांव में ही  खेती का काम करके अपना और अपने परिवार का पेट पलता था| किसान अपने खेतों में बहुत मेहनत से काम करता था, परन्तु इसमें उसे कभी लाभ नहीं होता था| एक दिन दोपहर में धूप से पीड़ित होकर वह अपने खेत के पास ए...
Patali...
Tag :
  December 23, 2011, 11:50 am
              पादौ तौ सफलौ पुंसां यू विष्णु  गृह्गामिनौ|   तौ करौ  सफलौ ज्ञेयौ  विष्णुपुजापरौ तू यौ||              ते  नेत्रे  सफले पुंसां पश्यतो ये जनार्दनम|  सा जिह्वा  प्रोच्यते    सभ्दिर्हरीनामपरा तू या ||              सत्यं सत्यं पुन: सत्यामुदधृत्य भुजमुच्यते|   तत्वं गुरुस...
Patali...
Tag :
  December 9, 2011, 7:12 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163760)