Hamarivani.com

आवारा बादल

क्या हुआ जो तुमचालीस के पार हो गयी हो,थोड़ी सी झुर्रियां पड़ने लगी हैंपर उतनी ही खूबसूरत हो तुम अब भी,तुम्हारे चेहरे पे नूर हैऔर आँखें नशीली हैं अब भी,तिरछी नज़रों से देखते हैंमनचले तुम्हें अब भी,तुम्हारी खूबसूरती पेमर मिटने को तैयार हैं कई अब भी,जब तुम घर से निकलती होतो आ...
आवारा बादल...
Tag :
  August 11, 2019, 3:54 pm
हथौड़ा चला, चलता रहाछेनी भी मचलती रहीचोट पर चोट माथे से टपकता पसीना,पर वो हाथ रुकते नहींवो हाथ थकते नहींजिन्होने थामी हैहथौड़ा और छेनी,चंद सिक्कों की आस मेंअनवरत चलते वो हाथआग उगलते सूरज कोललकारते वो हाथ,क्या देखे हैं तुमनेकभी ध्यान से वो हाथ??...
आवारा बादल...
Tag :
  July 27, 2019, 2:50 pm
अहंकारी हूँक्योंकि पुरुष हूँ मैं सदियों से अहंकारी रहा है पुरुष और कायम रहेगा ये अहंकार सदा,रावण से मेरी तुलना कर सकते हो तुम लेकिन मेरा वध करने के लिए तुम्हे राम बनना होगा,और राम बनने का सामर्थ्य तुममे भी नहीं हैराम तो छोड़ो हनुमान भी नहीं बन सकते तुमजो मे...
आवारा बादल...
Tag :
  July 20, 2019, 11:04 pm
जागो उठोदेखो सवेरा हो गया हैपंछी गा रहे हैंफूल खिलने लगे हैं,अँधेरी रात बीत गयीअब रौशनी में नहा लोऔर अंतर के मैल को धो करस्वच्छ निर्मल हो जाओ,अब तैयार हो जाओतुम्हारा ही इंतज़ार हैनियति तुम्हारी राह देख रही हैतुम्हे अपनी मंज़िल पर पहुंचना है,अब समय आ गया हैये सोचने काकि ...
आवारा बादल...
Tag :
  July 19, 2019, 7:38 pm
ये जो उलझनें हैं जीवन की मुझे इनके पार जाना हैकुछ पाने की चाहत है कही दूर खो जाना है,थक चुका अब तन और भटक रहा है मनवो कौन सा है पथजहाँ मुझे जाना है और मंज़िल को पाना है,जीवन मरण के इस चक्र से अब मुक्त हो जाना हैफिर नहीं आना है दूर कहीं खो जाना है, अब तक चला ...
आवारा बादल...
Tag :
  August 17, 2018, 1:56 am
हमने भी खून बहाया कुछ तुमने भी बलिदान दिया तब जाकर मिली हमें फिरंगियों से आज़ादी,भगत सिंह ने फंदा चूमा तो असफाकउल्ला भी शहीद हुए हुएक्या हिंदु मुस्लिम करते हो कुछ इंसानियत के काम करो, पाकिस्तान को मारो गोली अब हिंदुस्तान की बात करोपडोसी अगर बदमाश है तो  मिलक...
आवारा बादल...
Tag :
  September 26, 2017, 4:50 pm
ध्यान, साधना, सत्संग से कोसों दूरकंक्रीट के जंगल मेंसांसारिक वासनाओं और अहंकार तलेआध्यात्म रहित वनवासभोग रहा हूँ इन दिनों,मैं फिर से लौट कर आऊँगा जानता हूँ की तुम मुझे माफ करोगे और सहर्ष स्वीकार भी करोगे। ...
आवारा बादल...
Tag :
  June 29, 2016, 8:23 pm
लिखने के लिए बाज़ुओं में ताक़त चाहिए और जिगर भी,वर्ना कलम तो हरेक के पास है।खाली जा सकता है वार तलवार का और बंदूक की गोली भी दे सकती है धोखा पर बहुत गहरा है वार कलम का सीधे जिगर पर वार करती है कलम ,बंदूक थामी है तुमने तो जरूर तुम्हारे बाजुओं में ताक़त होगी और जि...
आवारा बादल...
Tag :
  June 15, 2016, 6:45 pm
आज एक पुरानी रचना फिर से.......एक मुल्क के सीने परजब तलवार चल रही थीतब आसमाँ रो रहा थाऔर ज़मी चीख रही थी,चीर कर सीने कोखून की एक लकीर उभर आई थीउसे ही कुछ लोगों नेसरहद मान लिया,उस लकीर के एक तरफजिस्मऔर दूसरी तरफरूह थी,पर कुछ इंसानजिन्होंने जिस्म से रूह कोजुदा किया थावो होठो म...
आवारा बादल...
Tag :
  August 14, 2015, 4:48 pm
ऐ मेरे खुदा माँ के बालों की सफेदी मुझे अच्छी नहीं लगतीउसके चेहरे की झुर्रियाँ मिटा देउसका हर ग़म दे दे मुझे उसके चेहरे पे मुस्कुराहट सजा दे,उसी की दुआओं का असर है कि गिर गिर के सम्हल जाता हूँ हर बारजानता हूँ हर वक़्त मेरी फिक्र रहती है उसे,ऐ मेरे ख़ुदा अपनी हर तकलीफ ...
आवारा बादल...
Tag :
  May 10, 2015, 6:37 pm
हाँ मजदूर हूँ मैं हाँ हाँ मजदूर हूँ मैं,ढाओ सितम जितना सामर्थ्य हैं तुममे झुका सको जो मेरी पीठ इतना सामर्थ्य नहीं तुममे,हाँ मैं मजदूर हूँ हाँ हाँ मजदूर हूँ मैं  तुम देखो मेरे पसीने की हर बूंद है तुम्हारी तिजोरी मे,वक़्त नहीं शायद तुम्हारे पास मेरे लिए ...
आवारा बादल...
Tag :
  May 4, 2015, 10:06 pm
बरसती हुई आग में अपने वज़न से ज्यादा भार पीठ पर लादकर मुस्कुराता है वो,अपने हाथों के छाले घरवालों से छुपाता है वो,बच्चों के साथ हँसता है खिलखिलाता है वो,वो मौजूद है हर तरफहमारे इस तरफ हमारे उस तरफ,लेकिन क्या उसका हक़ अदा करते हैं हम??...
आवारा बादल...
Tag :
  May 1, 2015, 8:05 pm
क्या सोचा है कभी उन हाथों के बारे में जिन हाथों ने बोए थे बीज, उगाई थी फसल,क्या सोचा है कभी उनके बारे में जिन्होने बहाया था पसीना और बनाए थे वो झरोखेजहाँ से आती है पुरसुकून हवा और धूप,कभी फुर्सत मिले तो झरोखा खोल कर देखनाइसे बनाने वाला कहीं खुले आसमान तले सोत...
आवारा बादल...
Tag :
  November 15, 2014, 9:19 pm
आज फिर से हम दीपावली मनाएंगे जिनके घरों में चूल्हे भी नहीं जलेउन्हें शर्मशार करते हुए घी के दीप जलाएँगे,धमाकों की आवाज मेंछुप जाएंगा रुदन उनका   और वो भूखे पेट निहारेंगे रोशनी से जगमगाते शहर को,आज फिर से हम भूखे नंगों के बीच नए कपडे पहन कर ...
आवारा बादल...
Tag :
  October 23, 2014, 9:43 pm
पूज्य बापू, सादर प्रणाम, आपको गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामना, हमें पूर्ण विश्वास है कि आप कुशलता से होंगे। हम सब भी यहाँ मजे में हैं। गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर देश और समाज की स्थिति से आपको अवगत करवाने के लिए मैंने ये ख़त लिखना अपना कर्तव्यसमझा। कुछ बा...
आवारा बादल...
Tag :
  January 25, 2014, 8:48 pm
मैं एक आम आदमीअब भी नहीं पहुंची हैपरिवर्तन की लहरमेरे जीवन मे,सुबह के इंतज़ार मेगुजरती है हर रातहर सुबह फिर से ले आती हैअनगिनत चिंताओं की सौगात,डरा सहमा सागुजारता हूँ दिन किसी तरहछुपता हूँ मकान मालिक सेऔर सुनता हूँ ताने बीवी के,हर सुबह निकलता हूँ घर सेबच्चों की फीस और...
आवारा बादल...
Tag :
  January 18, 2014, 7:51 pm
मैं एक आम आदमीअब भी नहीं पहुंची हैपरिवर्तन की लहरमेरे जीवन मे,सुबह के इंतज़ार मेगुजरती है हर रातहर सुबह फिर से ले आती हैअनगिनत चिंताओं की सौगात,डरा सहमा सागुजारता हूँ दिन किसी तरहछुपता हूँ मकान मालिक सेऔर सुनता हूँ ताने बीवी के,हर सुबह निकलता हूँ घर सेबच्चों की फीस और...
आवारा बादल...
Tag :
  January 17, 2014, 4:41 pm
प्रेम क्या है?धोखा, फरेब या वफ़ा है,या किसी कि रगों में बहतानशा है,ये महज़ एक खुबसूरत लफ्ज़ हैया भावनाओ सेखिलवाड़ करने का अचूक अस्त्र है,त्याग है बलिदान हैया बहेलिये का जाल है,नहीं नहीं ये तो शायद ईश्वर का वरदान है। ...
आवारा बादल...
Tag :
  January 16, 2014, 9:00 pm
पीने लगा हूँ अब शराब मैंना गम है अब ना दर्द का एहसास है,  जीने लगा हूँ अब जब से पीने लगा हूँ मैं ना उनकी याद आती हैं अब ना ख्वाबों मे सताती है वो,जब से पीने लगा हूँ मैं जी भर के जीने लगा हूँ मैं। ...
आवारा बादल...
Tag :
  January 11, 2014, 6:07 pm
मेरी ऊँगली और अंगूठा व्याकुल हैंअपनी नयी प्रियतमा से मिलने कोक्योंकि आज ही मैंनेनयी कलम खरीदी है ।    ...
आवारा बादल...
Tag :
  January 3, 2014, 9:09 pm
हे नारी  तुम सच कहना क्या समझी है तुमने एक पुरुष की व्यथाएक निर्धारित मानसिकता से परे उसका कोमल मन,सच कहना क्या देखा है तुमने   पसीने से लथपथ थककर चूर हँसते मुस्कुराते हुए रिश्तों की भारी पोटली पीठ पर लादे पुरुष,सच कहना क्या देखा है तुमनेतप...
आवारा बादल...
Tag :
  October 29, 2013, 8:51 pm
साभार गूगल नदियों का रुख मोड़ करपहाड़ों को भेद कर बिजली बनाएँगे बस्तियों को उजाड़ कर इमारतें बनाएँगे खेतों की जगह कारखाने बनाएँगे इन पहाड़ों, नदियों, खेतों, बस्तियों और समूची प्रकृति को रौंद करप्रगति के पथ परबढ़ना है,क्या ये संभव है?? ...
आवारा बादल...
Tag :
  January 15, 2013, 5:58 pm
एक दामिनी के मरने पर इतने मर्द पैदा हुए कि हिल गया हिंदुस्तान कहाँ थे ये मर्द अब तक।  ...
आवारा बादल...
Tag :
  January 7, 2013, 10:07 pm
उनके पसीने कि कमाईहम खाते हैंवो बहाते हैं हम पी जाते हैं वो दो वक़्त की रोटी को तरस जाते हैं और हम पिज्जा बर्गर खाते हैं। ...
आवारा बादल...
Tag :
  January 7, 2013, 1:39 pm
हथौड़ी और छेनी की टंकार है संगीत उनके लिएऔर हम हाथों मे जाम लिए गज़ल सुनते हैं। ...
आवारा बादल...
Tag :
  January 6, 2013, 7:50 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3905) कुल पोस्ट (190762)