Hamarivani.com

लालित्यम्

*     हे अपार करुणामय अमिताभ बुद्ध ,क्षमा करना -मैं एक मंद-मति  नारी हूँ, जो नर के समान  सहज मानव के रूप में तुम्हें भी स्वीकार्य नहीं थी. तुम्हारा सद्धर्म  मेरे  लिये निषिद्ध रहा ,और जब महाप्रजापति गौतमी के आग्रह पर स्त्रियों को  प्रवेश दे कर इस धर्म ने जो कुठार...
लालित्यम्...
Tag :ऊर्ध्वीकरण
  March 20, 2017, 8:50 pm
  *बहुत समय बाद कबीर भारत आये  तो  देश में अंगरेजी की शान देख कर चकित हो गये  .गुण-गान सुनते रहे  .... कैसा साहित्य -कैसी अधिकारमयी, ज्ञन-विज्ञान के क्षेत्र में में सबसे बढ़ी-चढी दुनिया की निराली  भाषा - पढ़नेवाले का दिमाग़ भी झक्क कर देती है . जानने  की इच्छा बलवत...
लालित्यम्...
Tag :
  January 30, 2017, 11:13 am
*शाम को जब भ्रमण पर निकलती हूँ तो  बहुत लोगआते-जाते मिल जाते हैं.अधिकतर फ़ोन कान से सटाये बोलते-सुनते चलते जाते हैं ,अपने आप में मग्न .सामना हो गया तो हल्का-सा हाय उछाल दिया या सिर हिलाने से ही काम चल जाता है . ऐसा भी  नहीं लगता कि जरूरत आ पड़ने पर अनायास चलती-फिरती बात हो ...
लालित्यम्...
Tag :
  January 13, 2017, 11:32 am
*यहाँ अमेरिका में लोग जिस तरह अंग्रेज़ी बोलते हैं,कभी-कभी सिर के ऊपर से निकल जाती है. रोज़ शाम को टहलने निकलती हूँ.अड़ोस-पड़ोस में कोई साथ का नहीं ,अकेले जाती हूँ .बहुत लोग निकलते हैं . रोज़ राह चलते लोगों से साबका पड़ता है . अधिकतर उसी समय टहलने निकलनेवाले परिचित चेहरे -...
लालित्यम्...
Tag :
  November 13, 2016, 6:58 am
  *'नानी ,काँ पे हो...?''कौन है ?'अनायास मेरे मुँह से निकला,महरी बोली,'आपकी नतनी ,और कौन ?'वैसे मैं जानती हूँ कौन आवाज़ लगा रहा है.और कौन हो सकता है इतना बेधड़क !पहले चिल्ला कर पूछती है ,पता लगते ही दौड़ कर चली आती है.नानी के हर काम में दखल देना जैसे उसका जन्म-सिद्ध अधिकार हो. सोच ...
लालित्यम्...
Tag :
  October 15, 2016, 6:23 am
नवरात्र !कानों में गूँजने लगता है -'यो मां जयति संग्रामे, यो मे दर्प व्यपोहति ।यो मे प्रति-बलो लोके, स मे भर्त्ता भविष्यति ।।'- बात दैहिक क्षमता की  नहीं - देहधर्मी  तो पशु होता हैं ,पुरुष नहीं . साक्षात् महिषासुर ,देवों को जीतनेवाले सामर्थ्यशाली शुंभ-निशुंभ उस परम नारी...
लालित्यम्...
Tag :
  October 1, 2016, 9:12 pm
*अललटप्पू - जिसने यह शब्द नहीं सुना होगा,पूछेगा - इसका मतलब क्या ? मतलब है अटकलपच्चू .अब यह भी समझ में नहीं आया तो समझाना पड़ेगा. सुनिये -अगड़म्-बगड़म्,अटर-शटर या अट्ट-सट्ट .एक शब्द में चाहें तो ऊलजलूल या ऊंटपटाँग . मतलब कुछ कम साफ़ हुआ हो तो और स्पष्ट कर दूँ - अंड-बंड ,अऩाप-...
लालित्यम्...
Tag :अललटप्पू
  September 30, 2016, 9:56 am
*इंग्लैंड की गद्दी के दावेदार  प्रिंस चार्ल्स की रगों में भारतीय रक्त दौड़ रहा है! एडिनबरा यूनिवर्सिटी के जेनेटिसिस्ट, जिम विल्सन ने विलियम के रिश्तेदारों की लार के नमूनो की जांच कर बात इस बात की पुष्टि की है . विल्सन के अनुसार डीएनए का R30b प्रकार बहुत दुर्लभ है.अब त...
लालित्यम्...
Tag :
  September 28, 2016, 4:11 am
अराल(अरल) सागर सूख गया  - कभी दुनिया के समुद्रों में चौथे चौथे नंबर पर रहे  अराल(अरल) सागर का 90 फीसदी हिस्सा, बीते 50 सालों में ,सूख चुका है . यह मध्य एशिया में कजाकिस्तान एवं उजबेकिस्तान के बीच लहराता था। इसके विशाल आकार के कारण इसे सागर माना गया था .स्थानीय भाषाओं के शा...
लालित्यम्...
Tag :करकराती
  September 6, 2016, 1:16 am
*भोजन समापन पर है -मेरा बेटा कटोरी से दही चाट-चाट कर खारहा है .उसकी पुरानी आदत है कटोरी में लगा दही चम्मच से न निकले तो उँगली घुमाकर चाटता रहता है . वैसे जीभ से चाटने से भी उसे कोई परहेज़ नहीं .बाद में तो  तो यह पता लगाना मुश्किल हो जाता है कि इस कटोरी में कुछ था भी.उसके पापा ...
लालित्यम्...
Tag :नज़ाकत.
  August 9, 2016, 7:19 am
*यह दुनिया विरोधों का तालमेल है,जिसमें संतुलन बनाये रखना बहुत ज़रूरी है  - जहाँ यह  बिगड़ा वहाँ गड़बड़ शुरू. एक निश्चित मात्रा में जो वस्तु लाभदायक है ,अनुपात बिगड़ते ही वह अनर्थ करने पर उतारू हो जाती है .और यह अक्ल नाम की बला जो इन्सान के साथ जुड़ी है बड़ी दुनियाबी चीज...
लालित्यम्...
Tag :उचक लेना
  August 5, 2016, 10:14 am
  * उज्जयिनी या उज्जैन , इस धरती की नाभि , जहाँ स्थित है पीयूष पूरित मणिपुर चक्र  .  शून्य देशान्तर रेखा का प्रदेश(अर्थात लंका से उज्जैन एवं कुरूक्षेत्र होते हुए जो रेखा मेरू पर्वत तक पहुंचती है वह मध्य रेखा मानी गई है। ) जिसे परसती  कर्क रेखा कोण  बनाने का साहस न क...
लालित्यम्...
Tag :
  May 16, 2016, 1:38 pm
 *सुना आपने -  पानी के पुराने बिल माफ़ और बिजली के रेट आधे !समझदार थे वे, जिनने बिल नहीं चुकाया . नियमों को मान कर चलेवाले  मूर्ख निकले? मज़े से उपभोग करो  ,मूल्य चुकाने नाम कन्नी काट जाओ .अब  बिजली का दाम भी कम हो  गया डट कर फूँको.देखो न ,बिजली-पानी के लिये शोर मचा रह...
लालित्यम्...
Tag :
  March 29, 2016, 5:22 pm
 *सुना आपने -  पानी के पुराने बिल माफ़ और बिजली के रेट आधे !समझदार थे वे, जिनने बिल नहीं चुकाया . नियमों को मान कर चलेवाले  मूर्ख निकले? मज़े से उपभोग करो  ,मूल्य चुकाने नाम कन्नी काट जाओ .अब  बिजली का दाम भी कम हो  गया डट कर फूँको.देखो न ,बिजली-पानी के लिये शोर मचा रह...
लालित्यम्...
Tag :
  March 29, 2016, 5:22 pm
*ss ? for keyboard shortcuts.राम कहो ...मेरे पति की आदत थी हमारी नन्हीं-सी बेटी की छोटी-सी  गोद में किसी प्रकार सिर टिका कर कहते थे 'निन्ना आ रही है 'और वह दोनों हथेलियों से थपक-थपक कर लोरी गा कर सुलाने लगती थी.कभी ऊँ-ऊँ करेके रोने का नाटक करते तो लाड़ लडाना शुरू कर देती थी.केवल मेरी बेटी नही...
लालित्यम्...
Tag :
  February 29, 2016, 8:06 pm
 *स्मॉग (धुँआसा शब्द  हो सकता है बिलकुल सही न हो) से  ईंट का निर्माण   -आश्चर्य मत कीजिये .चीन के एक कलाकार ने वातावरण में छाये प्रदूषण को समेट कर उसे ठोस रूप में सामने रख दिया.हवा मे समाये कटु-तिक्त कणों को समेट कर उनकी ईंट बना कर सामने रख दी. कलाकार का नाम जिंगोऊ ज़िया...
लालित्यम्...
Tag :
  December 3, 2015, 11:35 am
*सहज-सरस , तोष और पोष देनेवाले बहुत से स्वाद खो गये है. नये निराले अटपटे-लटपटे स्वादों ने जगह ले ली उनकी.न परिचित रूप, न स्वाभाविक रंग .उनकी जगह लेने जाने कितने बनावटी रसायनी घाल-मेल मुख्यधारा में आते जा रहे हैं.अजीनोमोटो जैसा जीव भी  रसोई में प्रवेश पा गया .गहरी मंदी आँच ...
लालित्यम्...
Tag :मुँह लगना
  October 11, 2015, 11:37 pm
* 11.(दृष्य - वही .सूत्रधार नटी और लोकमन .)सूत्र -आपने ऐसी धारा बहाई कवि ,कि हम तो उसी में बहते चले गये ,भूल गये कि हम उस समय से कितना आगे बढ आये हैं .नटी - कितनी -कितनी भिन्नतायें ,लेकिन कैसा सामंजस्य !पर मित्र ,इसके बाद यह कहानी क्या रुक गई ?लोकमन - कहानी कभी नहीं रुकी ,रुकेगी भी नही...
लालित्यम्...
Tag :
  October 8, 2015, 7:40 pm
* कई वर्ष मुज़फ़्फ़रनगर में रही थी. जब वहाँ  से चलना पड़ा तो चिट्ठी-पत्री के लिये अपनी मित्र से उनके घर का डाक का पता पूछा . घर तो कई बार गई थी , बाहर के पत्थर पर निवास के नाम का अंकन भी देखा था -पर कभी गौर नहीं किया ,ज़रूरत नहीं समझी कि देख कर ठीक से पढ़ लूँ. सोचा भी नहीं था कि क...
लालित्यम्...
Tag :
  September 17, 2015, 6:11 am
*छुट्टी ! मतलब नियमों- अनुशासनों से खुली  छूट , लादी गयी व्यवस्था  से मुक्ति , मनमाने मौज से रहने का दिन .सारी चर्या पर ख़ुद का नियंत्रण - नहाने ,खाने, बैठने-उठने सब में !बल्कि छुट्टी का खुमार एक दिन पहले की शाम से चढ़ने लगता है . लगता है कल कौन ड्यूटी बजानी है और आराम-आराम से ...
लालित्यम्...
Tag :खुमार
  September 10, 2015, 5:35 am
*जब पहली बार उलनबटोर का नाम सुना तो मन वैसे ही कौतुक से भर उठा था जैसे झुमरीतलैया का नाम सुन कर .आठ-दस साल बीत गए उस बात को , मन में बार-बार दोनों नामों की गूँज उठती रही .फिर एक बार और उलनबटोर के बारे में एक खास बात पढ़ी - वहाँ के लोग अपनी महिलाओँ को गर्दन में मोच के दर्द से छुटक...
लालित्यम्...
Tag :
  May 18, 2015, 11:34 pm
****नटी - युग की विषम स्थितियों को सम करने के लिये महापुरुषों का आविर्भाव होता है ।भक्ति जिस लहर ने सारे भारत की धरती को को सींच दिया ,आपके विचार में उसका श्रेय किसे जाता है  ?सूत्र - गुरु रामानन्द को !समाज में दलितों और वंचितों के उन्नयन का पथ उन्हीं ने प्रशस्त किया ।क्यों ...
लालित्यम्...
Tag :
  May 12, 2015, 6:14 am
*[ सूत्रधार ,नटी और लोकमन मंच पर - पूर्व दृष्यों की निरंतरता के साथ घटना क्रम आगे बढ़ रहा है . ]सूत्र - अकबर ने मुस्लिम पक्ष की ओर से प्रयत्न किया ,लेकिन वह  राजनीति से संबद्ध था ,और उसके प्रयास बौद्धिक स्तर पर रहे थे अतः,दोनों धर्मों के लोगों की मानसिकता पर प्रभाव न डाल सके.&nb...
लालित्यम्...
Tag :
  May 3, 2015, 6:27 am
*'ऐसे कब तक पड़े रहेंगे ,दोनों तरफ़ के खर्चे और आमदनी का ठिकाना नहीं ,'हैरिस परेशान हैं ,'उधर  मेरे न होने से कितनी गड़बड़ियाँ हो रही हैं .सब चौपट हुआ जा रहा है.'ऐसे पलों में जूली का मनोबल टूटने लगता है कैसी बेबसी है यहाँ भी कोख ने लाचार कर दिया ! सचमुच ,बड़ी मुश्किल है . जू...
लालित्यम्...
Tag :
  April 4, 2015, 8:21 pm
'नमस्कार डॉ.साहब, ये मेरी पत्नी जूली और ये मोनिका जी , संबंधी हैं हमारी  सहायता को तैयार हैं. 'कहते हुये हैरिस दोनों महिलाओं की ओर उन्मुख हुए,'ये डॉ.अमर. इस काम में यहाँ के माने हुए डाक्टर . 'आगे बढ़ आये डॉ.अमर अपने साथी को लक्ष्य कर बोले , 'डॉ. मानस हमारे सहयोगी - सलाह के लिए इ...
लालित्यम्...
Tag :
  March 29, 2015, 10:23 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163584)